गुरुवार, 20 अगस्त 2015

खनिज विभाग की लापरवाही से 196.58 करोड़ का नुकसान

कैग की रिपोर्ट में खुलासा

- खदानों के किराए व प्रदेश सरकार के अंश का नहीं किया गया आरोपण


- ग्रामीण संरचना व सड़क विकास कर का निर्धारण नहीं किया



- संतोष जैन

ग्वालियर।
अधिकारियों की लापरवाही, उदासीनता और सही करारोपण नहीं किए जाने से खनिज विभाग को 196.58 करोड़ रुपए का नुकसान उठाना पड़ा। विभाग ने 328 प्रकरणों में 188.97 करोड़ रुपए की वसूली न होने, कम वसूली होने, सही करारोपण नहीं करने सहित अन्य कमियों को स्वीकार किया है। यह नुकसान महालेखा परीक्षक द्वारा की गई जांच में सामने आया।

महालेखा परीक्षक ने वर्ष 2013-14 के दौरान खनन प्राप्तियों से संबंधित 23 इकाइयों के दस्तावेजों की नमूना जांच में पाया कि 531 प्रकरणों में 196.58 करोड़ रुपए की वसूली नहीं की गई या कम वसूली की गई। इसके अलावा कई अन्य अनियमितताएं भी उजागर हुईं। विभाग की आंतरिक नियंत्रण प्रणाली भी कमजोर पाई गई।

इस तरह हुई अनियमितताएं
- बड़वानी, भिंड, भोपाल, छिंदवाड़ा, दतिया, धार, ग्वालियर, होशंगाबाद, नीमच, झाबुआ, खरगौन, मंडला, रीवा, शिवपुरी, सिंगरौली व उमरिया जिलों में अगस्त 2013 से फरवरी 2014 के बीच पट्टेदारों की फाईलों की जांच में पाया गया कि 625 पट्टेदारों में से 107 ने जनवरी 2007 से दिसंबर 2013 की अवधि के लिए देय अनिवार्य राशि 3.32 करोड़ रुपए में से मात्र 26.53 लाख रुपए का ही भुगतान किया। बकाया राशि वसूलने की कोई कार्रवाई नहीं की गई।

- छिंदवाड़ा जिले में 18 पट्टेदारों में से एक ने अनिवार्य किराए के 5.23 लाख रुपए का भुगतान नहीं किया। इस मामले में खनिज अधिकारी ने वसूली नोटिस तक नहीं दिया।

- बड़वानी, भोपाल, छिंदवाड़ा, दतिया, धार, ग्वालियर, खरगोन, मंडला, रीवा, शिवपुरी व नरसिंहपुर जिलों में 219 खदानों की जांच में पाया गया कि 2011-13 में संविदा राशि 4.08 करोड़ रुपए बकाया थी, इसमें से ठेकेदारों ने 1.07 करोड़ रुपए का ही भुगतान किया। इसके बावजूद विभाग ने ठेका निरस्ती और वसूली की कार्रवाई नहीं की।

- छिंदवाड़ा, झाबुआ व नरसिंहपुर जिलों में ठेकेदारों ने डोलोमाइट, चूना पत्थर तथा रॉक फॉस्फेट की राज्यांश की राशि 55.12 लाख रुपए का भुगतान नहीं किया। इनसे वसूली की कार्रवाई नहीं की गई।

- बड़वानी, भिंड, दतिया, ग्वालियर, नरसिंहपुर, होशंगाबाद, नीमच, शिवपुरी व सिंगरौली जिलों में पट्टेदारों ने 67.84 लाख रुपए का भुगतान नहीं किया। इसी तरह नरसिंहपुर में एक ठेकेदार ने परिवहन किए गए खनिज की संविदा राशि 6.74 लाख रुपए का कम भुगतान किया।

- बड़वानी, भोपाल, छिंदवाड़ा, दतिया, धार, ग्वालियर, झाबुआ, नरसिंहपुर, रीवा तथा शिवपुरी जिलों में 65 ठेकेदारों ने अनिवार्य किराए का भुगतान 20 से 1415 दिन की देरी से किया। विभाग द्वारा इस देरी पर लिए जाने वाले पेनल्टी ब्याज के 10.92 लाख रुपए कम वसूल किए। भोपाल, दतिया, झाबुआ, नरसिंहपुर व रीवा जिलों के अधिकारियों ने बताया कि प्रकरणों की समीक्षा के बाद वसूली की जाएगी।

- बड़वानी, भोपाल, छिंदवाड़ा, दतिया, धार, ग्वालियर, मंडला, नरसिंहपुर, शिवपुरी, सिंगरौली व उमरिया जिलों में 49 ठेकेदारों ने संविदा राशि के भुगतान में 5 से 530 दिन की देरी की। इन जिलों के खनिज अधिकारियों ने उनसे से विलंबित ब्याज के 30.94 लाख रुपए की वसूली नहीं की।

- मंडला और झाबुआ जिलों में सीमा से अधिक अवैध उत्खनन करने वाले ठेकेदारों से खनिज की लागत के 99.08 लाख रुपए वसूल नहीं किए गए। शिवपुरी जिले में सड़क विकास कर के 6.07 लाख रुपए कम लिए गए।

- बड़वानी, छिंदवाड़ा, दतिया व मंडला जिलों में 14 पट्टेदारों ने शिथिल खदानों पर सड़क विकास कर के 5.16 लाख रुपए का भुगतान नहीं किया।

- खनिज विभाग के मंडला और नीमच कार्यालयों में 20 से 30 वर्ष की अवधि के खदानों के पट्टे स्वीकृत करते समय प्रस्तावित उत्पादन के औसत के बजाए माइनिंग प्लान में बताए गए प्रथम 5 वर्ष के औसत उत्पादन के आधार पर पंजीकृत/निष्पादित डोलामाईट व चूना पत्थर के ठेकेदारों ने मुद्रांक शुल्क एवं पंजीयन फीस के 7102 करोड़ रुपए के विरुद्ध मात्र 47.48 लाख का भुगतान किया, जिससे 6.54 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ।

- भिण्ड एवं दतिया जिलों में मार्च 2013 से मार्च 2015 के मध्य मप्र राज्य खनिज निगम लिमि. ने 7 ठेकेदारों से 123.77 करोड़ रुपए में दो वर्ष का अनुबंध किया था। इस अनुबंध में मुद्रांक शुल्क के 6.18 करोड़ व पंजीयन फीस के 4.64 करोड़ रुपए लिए जाने थे, लेकिन निगम ने 100 रुपए के स्टांप पेपर पर अनुबंध किए, जिससे 10.82 करोड़ रुपए की हानि हुई।


काल सर्पदंश दोष निवारण शिविर सम्पन्न


डबरा। महाशक्ति बगुला मुखी उपासक द्वारा साहू धर्मशाला में प्राचीन शिव मंदिर पर सभी जातको का काल सर्प दोष निवारण आचार्य परसराम शास्त्री, शशि पाण्डेय, हरस्वरूप शास्त्री एवं अन्य विद्यमानों के सहयोग से बेदोमंत्रों द्वारा विधिवत पूजा कर सर्प दोष निवारण शिविर का आयोजन किया गया ।

प्रतिभाशाली छात्र छात्राओं एवं बुजुर्गो का सम्मान समारोह रविवार को

डबरा। भार्गव समाज के प्रतिभाशाली छात्र छात्राओं व वृद्धजनों का सम्मान समारोह भार्गव समाज द्वारा किया जा रहा है जिसको लेकर एक बैठक का आयोजन कर उनका सम्मान किया जाएगा। यह जानकारी भार्गव समाज के अध्यक्ष अशोक गौतम ने दी है। श्री गौतम ने आगे बताया कि भार्गव समाज की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक 23 अगस्त रविवार की  प्रात: 10 बजे  से 12 बजे तक गौतम मैरिज हाउस पर  की जाएगी । वहीं समाज द्वारा प्रतिभाशाली भार्गव समाज के छात्र- छात्राओं एवं बुजुर्गो का सम्मान किया जाएगा। इस बैठक मेें प्रदेश के प्रतिनिधि भाग लेंगे, दोपहर दो बजे से समाज के प्रतिभाशाली छात्र छात्राओं एवं बुजुर्गो का सम्मान किया जाएगा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप मेें भार्गव समाज के प्रदेश अध्यक्ष रमेश शर्मा उपस्थित रहेंगे । साथ ही विशिष्ट अतिथि के रूप में मध्य प्रदेश गौ संवर्धन बोर्ड  के अध्यक्ष शिव चौबे शामिल रहेंगे । उक्त बैठक मेें भार्गव समाज के अध्यक्ष अशोक गौतम, सचिव रामशाह पाठक ने समाज बन्धुओं से अपील की है कि वह अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित हेाकर कार्यक्रम को सफल बनाए ।

रेत का अवैध परिवहन करते दो ट्रेक्टर-ट्रोली पकड़े


-बेहट रेंज के अंतर्गत वनविभाग ने की कार्रवाई


- देवेन्द्र कौरव
ग्वालियर।
बेहट रेंज के अंतर्गत गिजौर्रा क्षेत्र में वन अमले ने रात्रि में रेत का अवैध परिवहन करते दो ट्रेक्टर-ट्रोली को धर दबोचा। कार्रवाई के दौरान परिचालक भाग खड़े हुए। वनविभाग ने वनअपराध के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है।  ग्वालियर सर्किल के एसडीओ जीके चन्द्र ने बताया कि बुधवार रात्रि में सूचना मिली कि गिजौर्रा के पास कुछ ट्रेक्टर-ट्रोली अवैध रूप से रेत का परिवहन कर रहे हैं। खबर मिलते ही बेंहट रेंजर आरके चौहान मय वनअमले के साथ मौके पर पहुंचा और रेत से भरी टे्रक्टर-ट्रोली का पीछा किया। इस दौरान  रेत माफियाओं ने ट्रेक्टर-ट्रोली को भगाने की कोशिश की। लेकिन वनअमले ने गिजौर्रा के पास उन्हें धर दबोचा। वन अमले को देखकर ट्रेक्टर परिचालक भाग खड़े हुए। पकड़े गए ट्रेक्टर का नम्बर क्रमांक एमपी 07 एचबी 6717 है। जब कि दूसरे टे्रक्टर बिना नम्बर प्लेट के था। उक्त ट्रेक्टर बारकरी गांव के बताए गए हैं। विभाग उक्त ट्रेक्टर मालिकों का पता लगा रही है। पकड़े गए दोनों ट्रेक्टरों को वनअमले ने गिजौर्रा थाने में रख दिया गया है और उनके खिलाफ वन अपराध के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है।

24 अगस्त को जैन समाज रखेगा कारोबार बंद


- राजस्थान हाईकोर्ट द्वारा संथारा पर लगाई गई रोक के विरोध में सकल जैन ने लिया निर्णय

- इन्दरगंज जैन मंदिर पर धरना देकर निकालेंगे मौन जुलूस

- जैन समाज की महिलाऐं संभालेंगी मौन जुलूस की कमान

- संतोष जैन
ग्वालियर।
जैन संतों द्वारा जैन धर्म के नियमानुसार ली जाने वाली संथारा /सल्लेखना (समाधि) पर राजस्थान हाईकोर्ट द्वारा लगाई गई रोक के विरोध में जैन समाज देशभर में 24 अगस्त को धरना, रैली कर अपने प्रतिष्ठान बन्द रखेगा। इसी क्रम में ग्वालियर में भी दिगंबर एवं श्वेताम्बर जैन समाज की मीटिंग गुरुवार को स्वर्ण जैन मंदिर में आयोजित की गई। इसमें निर्णय लिया गया कि संथारा पर लगाई गई रोक के विरोध में ग्वालियर का सकल जैन समाज 24 अगस्त को इन्दरगंज जैन मंदिर के सामने धरना देकर मौन जुलूस निकालेगा। साथ ही समाज के सदस्य इस दिन अपना कारोबार बंद रखेंगे।  आयोजन समिति के संयोजक पारस जैन ने बताया कि बैठक में निर्णय लिया गया कि 24 अगस्त को जैन समाज सुबह 8 से 10 बजे तक इंदरगंज जैन मंदिर के सामने धरना देगा। इसमें जैन समाज के पुरुष, महिलाएं एवं बच्चे शामिल होंगे। धरने के बाद इन्दरगंज चौराहे से मौन जुलूस निकाला जाएगा, जो गस्त का ताजिया, सराफा बाजार होता हुआ महाराज बाड़ा पहुंचेगा,  जहां प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन दिया जाएगा। समिति के प्रशान्त गंगवाल ने बताया कि जुलूस में सभी पुरुष सफेद एवं महिलाएं केसरिया साड़ी ड्रेस कोड में शामिल होंगे। बैठक में जैन मिलन, जैन महिला परिषद, जैन मिलन महिला, पुलक जनचेतना मंच, जैन महिला जाग्रति मंच, जैन बालिका मंच, मुनि सेवा समिति, महिला मंडल के सदस्य एवं सभी जैन मंदिर कमेटियों के पदाधिकारीगण शामिल थे।

क्या है संथारा/सल्लेखना
जैन धर्म के अनुसार जब साधक का शरीर साथ नहीं देता, उम्र के अन्तिम पड़ाव में जब शरीर को भोजन की आवश्यकता नहीं होती यानी ऐसी स्थिति ऐसी आ जाए, जब साधक का शरीर आहार लेने की स्थिति में नहीं रहता और भोजन से अरुचि हो जाती है, तब साधक स्वयं के मर्र्जी से समाधि की ओर अग्रसर होता है। जीवन की इस अंतिम क्रिया में कई चरण होते हैं। पहले भोजन की मात्रा कम की जाती है, फिर एक दिन छोड़कर आहार लिया जाता है, इसके बाद अन्न का त्याग कर दिया जाता है। ऐसे में साधक सिर्फ फलाहार पर निर्भर रहता है, अंत में वह भी छोड़ देता है और किसी भी तरह के भोजन का पूरी तरह त्याग कर सिर्फ जल पर निर्भर हो जाता है। अंतिम सोपान में एक अवस्था ऐसी आती है, जब साधक एक आसन ग्रहण कर लेता है और उसी आसन पर विराजे हुए ही ध्यानमग्न होकर अपने प्राण छोड़ता है। इस पूरी प्रक्रिया में किसी पर कोई दबाव नहीं डाला जाता, न ऐसा कोई आदेश-निर्देश जारी किया जाता कि फलां व्यक्ति सल्लेखना समाधि लेगा। समाधि की सारी प्रक्रिया स्वेच्छा एवं स्वप्रेरणा से ही पूर्ण की जाती है। लाइलाज बीमारी की अवस्था में भी संत सल्लेखना को स्वीकार कर समाधि की ओर बढ़ते हैं।

फेल हुई स्टेशन पर पेंटिंग्स बनाने की योजना


- सौंदर्यीकरण के लिए तत्कालीन डीआरएम ने दिया था सुझाव



- शिवसिंह चौधरी
ग्वालियर।
रेलवे स्टेशन दिखने में खूबसूरत दिखे इसके लिए रेल प्रबंधन आए दिन निरीक्षण कर नए-नए सुझाव देकर जाते हैं, लेकिन उनके द्वारा दिए जाने वाले सुझाव केवल कागजों में ही सिमट कर रह जाते हैं। तत्कालीन डीआरएम नवीन चौपड़ा ने गंदगी वाले क्षेत्रों को साफ-सुथरा रखने के लिए पौधरोपण तथा वॉल पेंटिंग्स कराने का सुझाव दिया था, लेकिन आज तक उनकी यह योजना पूरी नहीं हो सकी है। उल्लेखनीय है कि डीआरएम ने स्टेशन पर वॉल पेंटिंग्स बनाने की योजना फाइन आर्ट कॉलेज के चित्रकारों के साथ मिलकर बनाई थी। जिसमें स्टेशन पर बेटी बचाओ और ग्वालियर पर्यटन से संबंधित पेंटिंग्स तैयार करना था जो स्टेशन के सौंदर्यीकरण के साथ-साथ यहां पर आने वाले यात्रियों को संदेश और जानकारी दे सकें।
डवलप नहीं हो सका पार्क
तत्कालीन डीआरएम ने प्लेटफॉर्म नंबर चार के पास यात्रियों द्वारा फैलाई जाने वाली गंदगी को दूर करने के लिए उस जगह पर गार्डनिंग कर पौधरोपण करने का सुझाव दिया था जिसे संबंधित अधिकारियों ने जल्द तैयार कराने के आश्वासन दिया था, लेकिन आज तक न तो जगह साफ हो सकी और न ही कोई पौधा लग सका है।
पेंटिंग्स कलाकारों ने नहीं दिखाई दिलचस्पी
स्टेशन पर वॉल पेंटिंग्स बनाने के लिए फाइन आर्ट कालेज के कलाकारों के साथ मिलकर योजना तैयार की थी। जिसके लिए राजा मानसिंह तोमर फाउंडेशन के अधिकारियों ने आश्वासन दिया था वह फरवरी माह में स्टेशन पर पेंटिंग्स बनाकर यात्रियों को ग्वालियर के पर्यटक स्थलों की जानकारी देंगे, लेकिन स्थानीय अधिकारियों तथा कलाकारों के बीच आपसी समन्वय न होने के कारण आज तक एक भी वॉल पेंटिंग्स तैयार नहीं हो सकी है।

लोकार्पण कार्यक्रम में भीड़ जुटाने दिया टारगेट


—कार्यक्रम को लेकर विधानसभावार मंडलों की बैठकेंआयोजित


- देवेन्द्र कौरव
ग्वालियर।
नगर निगम के प्रशासनिक भवन के लोकार्पण कार्यक्रम को लेकर भाजपा द्वारा गुरूवार को विधानसभावार बैठकों का आयोजन किया गया। इस दौरान कार्यकार्तओं को भीड़ जुटाने के लिए टारगेट दिया गया। आगामी 23 अगस्त को नगर निगम के प्रशासनिक भवन के लोकार्पण एवं पूर्व महापौर स्व.नारायणकृष्ण शेजवलकर की प्रतिमा अनावरण कार्यक्रम को लेकर गुरूवार को भाजपा की विभिन्न मंडलों में बैठकें आयोजित की गई। इस दौरान भाजपा जिला अध्यक्ष अभय चौधरी ने सभी मंडल पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं से अधिक से अधिक संख्या में पहुंचने की अपील की। इस अवसर पर कार्यकर्ताओं को विभिन्न जिम्मेदारियां भी सौंपी गई। भाजपा ग्वालियर एवं दक्षिण विधानसभा की बैठक मुखर्जी भवन में आयोजित की गई। वहीं ग्वालियर पूर्व विधानसभा एवं युवामोर्चा एवं महिला मोर्चा की बैठक 38 नं. बंगले पर संपन्न हुई। इस अवसर पर कमल माखीजानी,राजकुमार परमार, दीपक शर्मा,अजयपाल सिंह,ओमप्रकाश शेखावत, राजू समाधिया, मनीष तोमर, प्रमोद जैन, महेश जायसवाल,मुरारीलाल मित्तल, नीरज त्यागी, विवेक शर्मा, विनती शर्मा, जगदीश राय, शैलेन्द्र बैस,त्रिलोक शर्मा,हरी सिंह तोमर, योगेन्द्र सिंह तोमर, अखिलेश शर्मा,धर्मेन्द्र राणा, राजीव कुशवाह, अनिल त्रिपाठी, संजय चौहान,अवधेश कौरव,सतीश साहू,जयंत शर्मा, गोविंद पटसारिया, विनोद पवैया,अलकेन्द्र शर्मा,राजेश जैन,राम सिंह तोमर एवं विनय जैन आदि कार्यकर्ता उपस्थित  थे।

बिलौआ-टेकनपुर-आंतरी में विकसित होगा नया निवेश क्षेत्र



-ग्वालियर के समीप विकसित होगा एक नया संयुक्त निवेश क्षेत्र

-कलेक्टर की अध्यक्षता में हुई निवेश समिति की बैठक

 - राजलखन सिंह
ग्वालियर।
ग्वालियर शहर के समीप एक नया संयुक्त निवेश क्षेत्र विकसित किया जाएगा। नगर तथा ग्राम निवेश विभाग के दिशा-निर्देशों के तहत इसका मास्टर प्लान तैयार करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इस सिलसिले में गुरुवार को कलेक्टर डॉ. संजय गोयल की अध्यक्षता में निवेश समिति की बैठक हुई। जिसमें अगले 25 वर्षों की जरूरत को ध्यान में रखकर संयुक्त निवेश क्षेत्र का मास्टर प्लान तैयार करने पर गहन विचार मंथन हुआ। साथ ही निवेश क्षेत्र गठित करने के प्रस्ताव का अनुमोदन किया गया। नया संयुक्त निवेश क्षेत्र राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक-75 के दोनों ओर जौरासी से शुरू होकर बिलौआ, टेकनपुर व आंतरी क्षेत्र में प्रस्तावित है। इसमें गंगापुर, जहानपुर, चिरूली, मकोड़ा, कल्याणी व बैरागढ़ गांव का क्षेत्र भी शामिल होगा। प्रस्तावित संयुक्त निवेश क्षेत्र की वर्तमान आबादी लगभग 45 हजार है और रकबा 11 हजार 425 हैक्टेयर से ज्यादा है। बैठक में बताया गया कि एक वर्ष के भीतर नए संयुक्त निवेश क्षेत्र के प्लान को अंतिम रूप दिया जाना है। टीसीपीओ (टाउन एंड कंट्री प्लानिंग ऑफ इंडिया) के दिशा-निर्देशों के तहत जनगणना-2011 के आधार पर ग्वालियर जिले में भी नए निवेश क्षेत्रों का गठन किया जा रहा है। जिला पंचायत अध्यक्ष मनीषा यादव की मौजूदगी में आयोजित हुई निवेश समिति की बैठक में भितरवार व पिछोर निवेश क्षेत्र के मास्टर प्लान पर भी चर्चा हुई। निवेश समिति ने विचार मंथन के बाद सर्वसम्मति से ग्वालियर शहर के समीप संयुक्त निवेश क्षेत्र और भितरवार व पिछोर निवेश क्षेत्र गठित करने के प्रस्ताव स्वीकृति के लिए भोपाल भेजने का निर्णय लिया गया। राज्य शासन से अनुमति मिलने के बाद एक वर्ष के भीतर यह निवेश क्षेत्र अस्तित्व में आ जाएंगे। बैठक में संयुक्त संचालक नगर एवं ग्राम निवेश बीके शर्मा, अपर आयुक्त नगर निगम एमएल दौलतानी, जिले के नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी तथा लोक निर्माण सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

निवेश की संभावनाओं से भरपूर है क्षेत्र
बैठक में कलेक्टर डॉ. संजय गोयल ने कहा कि नया निवेश क्षेत्र संभावनाओं से भरपूर है। इस क्षेत्र में भविष्य में बड़े निवेश की संभावनाए हैं। इसलिए भविष्य की जरूरतें और विकास के सभी पहलुओं का ध्यान रखकर मास्टर प्लान तैयार करें। उन्होंने संयुक्त संचालक ग्राम एवं नगर निवेश को निर्देश दिए कि मास्टर प्लान में इस बात का स्पष्ट उल्लेख हो कि कितना ग्रीन एरिया होगा, कहां-कहां पर शासकीय संस्थाओं के लिए भूमि चिन्हित है और कौन सी जमीन औद्योगिक निवेश के लिए आरक्षित रहेगी। कलेक्टर ने निर्देश दिए कि सर्वे ऑफ इंडिया की टोपो शीट और जियो रिफरेन्स मैप पर गठित किए जा रहे नए निवेश क्षेत्र का ब्यौरा अंकित करें। उन्होंने कहा सेटेलाईट मैप और जियो रिफरेंस मैप के जरिए तत्काल पता लगाया जा सकता है कि कौन सी जमीन सरकारी है, कौन सा वन क्षेत्र है और वर्तमान में कौन-कौन सी अधोसंरचनाएं मौजूद हैं। 

हर लिहाज से उपयुक्त है नया संयुक्त निवेश क्षेत्र
बिलौआ-टेकनपुर-आंतरी संयुक्त निवेश क्षेत्र विकास के लिहाज से अत्यंत महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इसकी वजह साफ है कि यह न केवल ग्वालियर शहर के समीप है अपितु राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों ओर स्थित है। बता दें इसकी सीमा ग्वालियर के समीप स्थित अडूपुरा विद्युत केंद्र के निकलते ही जौरासी क्षेत्र से शुरू हो जाएगी। साथ ही यह सीमा सुरक्षा बल अकादमी के समीप स्थित है। जाहिर है सुरक्षा के लिहाज से भी यह उपयुक्त निवेश क्षेत्र होगा।  मालूम हो हाल ही में बिलौआ के समीप सार्वजनिक और निजी क्षेत्र की भागीदारी से स्टील प्रोसेसिंग यूनिट शुरू हुई है। इसी के समीप प्लास्टिक पार्क भी प्रस्तावित है। प्लास्टिक पार्क के लिए जमीन भी चिन्हित कर ली गई है। इस प्रकार यह क्षेत्र औद्योगिक निवेश के लिहाज से भी पूरी तरह मुफीद है।

यह क्षेत्र शामिल होंगे
भितरवार निवेश क्षेत्र में भितरवार सहित नयागांव, धाकड़ खिरिया, सहारन, आदनपुर, घाटनपुर व सांखिनी शामिल किए गए हैं। इसी तरह पिछोर निवेश क्षेत्र में पिछोर सहित खेरिया, करही, धई, जनकपुर, धुना, पथरियापुरा व सहोना शामिल रहेंगे।

काल सर्पदंश दोष निवारण शिविर संपन्न


डबरा।
महाशक्ति बगुला मुखी उपासक द्वारा साहू धर्मशाला में प्राचीन शिव मंदिर पर काल सर्प दोष निवारण शिविर का आयोजन किया गया। इसमें आचार्य परसराम शास्त्री, शशि पांडेय, हरस्वरूप शास्त्री एवं अन्य विद्वानों ने वेदोमंत्रों द्वारा विधिवत पूजा कर सर्प दोष निवारण शिविर का आयोजन किया गया।

सम्मान समारोह रविवार को
डबरा। भार्गव समाज द्वारा समाज के प्रतिभाशाली छात्र छात्राओं व वृद्धजनों का रविवार को सम्मान किया जाएगा। यह जानकारी भार्गव समाज के अध्यक्ष अशोक गौतम ने दी है। गौतम ने बताया कि भार्गव समाज की प्रांतीय कार्यकारिणी की बैठक 23 अगस्त रविवार की प्रात: 10 बजे से 12 बजे तक गौतम मैरिज हाउस पर की जाएगी। वहीं समाज द्वारा प्रतिभाशाली भार्गव समाज के छात्र-छात्राओं एवं बुजुर्गो का सम्मान किया जाएगा। इसमें प्रदेश के प्रतिनिधि भाग लेंगे, दोपहर दो बजे से समाज के प्रतिभाशाली छात्र छात्राओं एवं बुजुर्गो का सम्मान किया जाएगा। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप मेें भार्गव समाज के प्रदेश अध्यक्ष रमेश शर्मा उपस्थित रहेंगे। साथ ही विशिष्ट अतिथि के रूप में मध्य प्रदेश गौ संवर्धन बोर्ड के अध्यक्ष शिव चौबे शामिल रहेंगे। उक्त बैठक मेें भार्गव समाज के अध्यक्ष अशोक गौतम, सचिव रामसहाय पाठक ने समाज बन्धुओं से अपील की है कि वह अधिक से अधिक संख्या में उपस्थित हेाकर कार्यक्रम को सफल बनाएं।

क्राइम ब्रांच प्रभारी सहित 10 पर एफआईआर के आदेश


मुकेश राठौर एनकाउंटर मामला

-हाईकोर्ट ने एसपी को दिए कार्रवाई के आदेश

-क्राइम ब्रांच पर मृतक की पत्नी ने लगाया था गोली से मारने का आरोप


- राजलखन सिंह
ग्वालियर।
मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ के न्यायमूर्ति शील नागू की एकलपीठ ने गुरुवार को मुकेश राठौर एनकाउंटर मामले में अहम फैसला देते हुए क्राइम ब्रांच की एएसपी प्रतिभा मैथ्यू सहित टीम के 10 सदस्यों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं। हाईकोर्ट ने कार्रवाई के लिए एसपी को निर्देशित किया है। याचिकाकर्ता के अधिवक्ता अवधेशसिंह भदौरिया ने बताया कि हजीरा निवासी मुकेश राठौर का 21 अक्टूबर 2014 को क्राइम ब्रांच ने एनकाउंटर कर दिया था। एनकाउंटर करने के पीछे राठौर को क्राइम ब्रांच की एएसपी ने चैन स्नेचिंग का आरोपी बताया था। इस एनकाउंटर को मुकेश की पत्नी कुसमा राठौर ने फर्जी बताते हुए क्राइम ब्रांच पर उसे मारने का आरोप लगाया। इसको लेकर उसने हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसमें क्राइम ब्रांच की एएसपी प्रतिमा मैथ्यू, महाराजपुरा थाना प्रभारी जनवेदसिंह, क्राइम ब्रांच के एसआई सुदेश तिवारी, एएसआई संतोषसिंह भदौरिया व टीम के 6 अन्य पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला कायम करने का आवेदन दिया था। साथ ही याचिका में पूरे मामले की सीबीआई से जांच कराने और पीडि़ता को 30 लाख रुपए की राशि शासन से दिलाने का जिक्र किया था।  मुकेश राठौर मामले की सुनवाई गुरुवार को हाईकोर्ट के न्यायमूर्ति शीलनागू की एकलपीठ में हुई। जिसमें याचिकाकर्ता के वकील अवधेशसिंह भदौरिया ने तर्क दिया कि शासन बार-बार न्यायालय को गुमराह कर रहा है कि इस मामले को सीबीआई को भेज दिया गया है, जबकि ऐसा कुछ नहीं किया गया। यहां तक कि इस एनकाउंटर में शामिल पुलिस अधिकारियों व टीम के खिलाफ अभी तक एफआईआर दर्ज नहीं की गई। पूरे मामले की सुनवाई के बाद न्यायमूर्ति ने क्राइम ब्रांच की एएसपी प्रतिमा मैथ्यू सहित 10 सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज करने के निर्देश एसपी को दिए। साथ ही न्यायालय ने इस मामले के प्रमुख गवाह को सुरक्षा देने के लिए भी निर्देशित किया है।

बुधवार, 19 अगस्त 2015

विवाह के लिए बायोडाटा




नाम - राहुल गुप्ता       (मांगलिक)
रंग - गोरा
हाइट - 5 फुट 5 इंच
व्यवसाय - व्यापार
शैक्षणिक योग्यता - बी.कॉम (फाइनल)
जन्म तिथि - 15 अक्टूबर 1989
समय -  6.15 सुबह
दिन - रविवार
स्थान - भोपाल
गोत्र - भाल
आंकना - खांगर

पिता का नाम - जगदीश गुप्ता (खांगर)
कार्यकारिणी सदस्य - श्री गहोई वैश्य समाज
माता का नाम - श्रीमती संध्या गुप्ता

 
भाई - नहीं
बहन -  नहीं
मामा - श्री राजेश बिचपुरिया (बबलू)
मामा का आंकना - बिचपुरिया
मामा का गोत्र - गोल

लड़के के पिता की फर्म - 

गुप्ता ट्रेडर्स, छोला मंदिर रोड, भोपाल (मप्र)
स्थाई पता - छोला हनुमान मंदिर कॉलोनी मेन रोड, छोला रोड, भोपाल (मप्र)
मोबाइल नं. - 099934-97175, 096302-52020
फोन नंबर - 0755-2710412
ईमेल -  shivnarayan17@gmail.com

रविवार, 16 अगस्त 2015

समाज विकास के लिए परिवर्तनशील बनना होगा : प्रदेशाध्यक्ष



- मीना समाज सेवा संगठन की प्रदेश कार्यकारिणी बैठक आयोजित

(भोपाल) समाज को विकास की दिशा में तेजी से अग्रसर करने के लिए हम सबको देश, काल, परिस्थिति यानि वर्तमान दौर के अनुसार परिवर्तनशील बनना होगा। अपने बच्चों को शिक्षा, व्यापार और राजनीति के साथ ही आधुनिक तकनीक की व्यवस्थाओं से रूबरू कराना होगा। ये विचार रविवार को मप्र मीना समाज सेवा संगठन की प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में संगठन के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व न्यायाधीश लालाराम मीणा ने व्यक्त किये। उन्होंने समाज में एकजुटता और संगठनात्मक सक्रियता पर विशेष जोर देते हुए कहा कि जब तक हम स्वयं को इस दिशा में संघर्षशील नहीं बनाएंगे, कोई भी पार्टी या सरकार हमें सहयोग  क्यों करेंगी? इसलिए प्रदेश में निवासरत मीना समाज के सभी 26 लाख रहवासियों को पूर्ण विवेकशीलता के साथ एकजुटता और संगठन शक्ति का परिचय देना होगा। हमीदिया रोड बालविहार स्थित मीना भवन में आयोजित इस बैठक में संगठन के मुख्य संरक्षक ओमप्रकाश चांदा, प्रदेश महामंत्री लक्ष्मीनारायण पचवारिया, संगठन महामंत्री संतोष मीना(एडवोकेट), संगठन मंत्री भगवानसिंह मीना, प्रदेश प्रवक्ता बृजेश मीणा, सहित मस्तानसिंह मारण, बटनलाल मीणा, गुलाबसिंह मीना, जादवसिंह धनावत, बगदीराम रावत, प्रहलादसिंह रावत, भारत सिंह, रामस्वरूप मीणा, दातारसिंह मीणा और महिला संगठन की अध्यक्ष शीला मीणा के अलावा इंदौर, रतलाम, मंदसौर, उज्जैन, विदिशा, रायसेन, होशंगाबाद, सीहोर, राजगढ़, शाजापुर, देवास आदि जिलों से आए समाजबंधु मौजूद थे। 
प्रांतीय सम्मेलन की रूपरेखा बनी :
बैठक में मुख्य रूप से आगामी 10 अक्टूबर को भोपाल में होने वाले समाज के प्रदेश प्रतिनिधि सम्मेलन की रूपरेखा तैयार की गई। इस अवसर पर सम्मेलन की विभिन्न व्यवस्थाओं को लेकर उत्साहित पदाधिकारियों ने अध्यक्ष की अनुमति से अपनी इच्छा व्यक्त करते हुए सम्मेलन में आने वाले लोगों के भोजन, आवास सहित मंच, प्रचार-प्रसार, वाहन आदि सभी व्यवस्थाओं का जिम्मा ले लिया। 
अन्य मुद्दों पर हुआ विचार :
बैठक में एजेंडे के अनुसार मीना समाज को मंत्रिमंडल/निगम मंडलों आदि में प्रतिनिधित्व देने के विषय पर भी विस्तार से चर्चा हुई। इसके अलावा समाज के शासकीय अधिकारियों/कर्मचारियों के विरुद्ध जाति प्रमाण पत्र को लेकर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दी गई राहत और भविष्य में ऐसी परिस्थितियों से निपटने के लिए संवैधानिक रणनीति बनाने पर भी चर्चा हुई।

शुक्रवार, 14 अगस्त 2015

ग्वालियर बिजनेस न्यूज

 - आईपीएस में बताया देश का डिजिटल भविष्य

ग्वालियर। आई.पी.एस. महाविद्यालय के इंजीनियरिंग संकाय के कम्प्यूटर साइंस इंजीनियरिंग एवं इन्र्फोमेशन टेक्नोलॉजी विभाग द्वारा कम्प्यूटर सोसायटी ऑफ इंडिया के स्टूडेंट चेप्टर के अंतर्गत अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता के रूप में नेशनल इन्र्फोमेटिक सेन्टर के टेक्नीकल डायरेक्टर संजय पाण्डेय ने भारत सरकार की नयी योजना डिजीटल इंडिया पर प्रकाश डाला। पाण्डेय ने बताया कि किस तरह आज जनता डिजीटल इंडिया के अंतर्गत आने वाली कई योजनाओं का लाभ उठा सकती हैं। उन्होंने इस योजना के अंतर्गत कई सेवाओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी जैसे अब एम्स हॉस्पिटल में मरीज डॉक्टर से अपाइंटमेंट्स ऑनलाइन ले सकते हैं। पेंशनरो के लिए एक योजना जीवन प्रमाण शुरू की गयी है जिसके माध्यम से अब पेंशनर्स डिजीटल लाइफ सर्टिफिकेट का उपयोग कर सकेगें। इसी तरह शिक्षकों के लिए पोर्टल उपलब्ध हैं जिस पर उन्हें आवश्यक शिक्षण सामग्री तथा नोट्स उपलब्ध कराये गये हैं। उन्होंने इस तरह की कई छोटी बडी योजनाओं। जैसे ई-क्रांति, ई-चालान, ई-गर्वनेंस, ब्राडबेड हाइ-वे आदि पर प्रकाश डाला।



आईटीएम में यूनिफेस्ट फेमिली मीट आज

ग्वालियर। आईटीएम यूनिवर्सिटी में यूनिफेस्ट फेमिली मीट का आयोजन 15 अगस्त को शाम 7 बजे से आयोजित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में भारत में इस वर्ष हुए यूथ फेस्टीवल में प्रथम स्थान प्राप्त करने कलाकार अपनी-अपनी विधाओं में प्रस्तुतियां देगे। आईटीएम यूनिवर्सिटी और एसोसिएशन ऑफ इंडिया यूनिवर्सिटीज के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित किए जा रहे यूनिफस्ट फेमिली मीट में भजन, शास्त्रीय संगीत, नृत्य आदि की प्रस्तुतियां यूथ फेस्टीवल के विनर्स अपनी-अपनी विधाओं में अपने ही अंदाज में देंगे। आईटीएम यूनिवर्सिटी में आयोजित होने जा रहा यूनिफेस्ट फेमिली मीट आयोजन मध्यप्रदेश में पहली बार हो रहा है।

आर्यन स्कूल में हुई देशभक्ति गीतों की अंतर्सदन प्रतियोगिता

ग्वालियर। आर्यन स्कूल ऑफ संस्कार में देश भक्ति के रस में डूबे हुये गीतों का गायन विभिन्न हाउस के मध्य हुआ। ब'चों द्वारा प्रस्तुत किये गये गीतों से जहां देश के प्रति अपने कर्तव्यों का स्मरण हुआ वहीं देश भक्तों की शहादत को सुन आंखें नम हो गयी। सभी ने मन ही मन संकल्प लिया कि देश की आन बान तथा शान कम न होने देगें। इस अवसर पर स्कूल संचालिका दीपिका अनिल जैन, प्रधानाचार्या अंजलि गुप्ता, पूनम कुशवाह, आशीष चौहान, राखी मिश्रा, स्वाती शर्मा तथा ममता माथुर समेत समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।


जैन इंटरनेशनल स्कूल में हुआ राष्ट्रभक्ति कार्यक्रम

ग्वालियर । जैन कॉलेज ग्वालियर की यूनिट जैन इंटरनेशनल स्कूल में स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष में एक दिन पूर्व राष्ट्रभक्ति से ओतप्रोत सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर झण्डावंदन के साथ साथ नन्हे मुन्नों को स्वंतत्रता का महत्व बताया गया स्कूल की शिक्षिकाओं ने स्वतंत्रता दिवस पर प्रकाश डालते हुये बताया कि हम किस प्रकार अंग्रेजों की गुलामी से मुक्त होकर स्वतंत्र हुये । इस सांस्कृतिक कार्यक्रम में स्कूल के छात्र छात्राओं ने राष्ट्रभक्ति के गीतों पर शानदार प्रस्तुति देकर सबका मन मोह लिया । प्राचार्या मयूरी जैन ने छात्रों को सम्बोधित करते हुये कहा कि हमें हमारे शहीदों ने अंगे्रजों के जुल्म सह सह कर आजादी दिलायी है। हमें 15 अगस्त का दिन कभी नहीं भूलना चाहिये। उसके पश्चात नीले आसमान में तीन कलर के गुब्बारे उड़ाकर देश में शांति खुशहाली का संदेश दिया गया। सभी को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी गयीं व मिष्ठान वितरण किया गया।

गुरुवार, 13 अगस्त 2015

बनिये ट्रेनी पायलेट : 12वीं पास के लिए 80 हजार रुपए सैलरी



नई दिल्ली। एयर इंडिया ने 180 पदों पर ट्रेनी पायलटों की भर्ती के लिए विज्ञप्ति जारी की है। विज्ञापित पदों मे आईजीआरयुए द्वारा सीपीएल धारक श्रेणी के 90 पद और अन्य सीपीएल धारक श्रेणी के 90 पद रिक्त हैं। विज्ञापित पदों में आईजीआरयुए द्वारा सीपीएल धारकों की श्रेणी में 12 पद अनुसूचित जाति, 08 पद अनुसूचित जनजाति, 50 पद ओबीसी एवं 20 पद सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए हैं।? अन्य सीपीएल धारकों की श्रेणी में 12 पद अनुसूचित जाति, 08 पद अनुसूचित जनजाति, 50 पद ओबीसी एवं 20 पद सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए निर्धारित हैं।
आवेदकों को शैक्षिक योग्यता के तहत किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड अथवा विश्वविद्यालय से गणित, भौतिक शास्त्र एवं रसायन शास्त्र के साथ 12वीं पास होना अनिवार्य है। चयनित ट्रेनी पायलटों को वेतनमान स्वरूप 80,000 रुपये प्रति माह देने का प्रावधान है। उड़ान भत्ता अलग से दिया जाएगा। उम्मीदवारों को प्रशिक्षण के दौरान 25,000 रुपये स्टाइपन के रूप मे दिया जाएगा।

पुरानी वाहन को सरेंडर करने पर मिलेंगे डेढ़ लाख रुपये : गडकरी

नई दिल्ली। अब आपकी पुरानी गाड़ी पर सरकार डेढ़ लाख रुपये तक दे सकती है. 10 साल से पुरानी गाडिय़ों को सरेंडर करने पर सरकार डेढ़ लाख रुपये तक की प्रोत्साहन राशि देने पर विचार कर रही है. केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस बारे में जानकारी दी. इस नीति का उद्देश्य प्रदूषण में कमी लाना एवं भीड़भाड़ घटाना होगा. इस संबंध में एक प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है और इस पर वित्त मंत्रालय की मंजूरी ली जाएगी. गडकरी ने कहा, 'हम एक ऐसी स्कीम ला रहे हैं जिसमें अगर आप अपना पुराना वाहन बेचते हैं तो आपको एक प्रमाण पत्र मिलेगा जिसे नया वाहन खरीदते समय प्रस्तुत करने पर आपको 50,000 रुपये तक की छूट मिलेगी.

कार पर मिलेंगे 30 हजार रुपये!
सार्वजनिक परिवहन क्षेत्र में नवप्रवर्तन पर एक वैश्विक सम्मेलन के दौरान मंत्री ने कहा, 'कार जैसे छोटे वाहनों के लिए यह 30,000 रुपये तक होगा. इसके अलावा, करों में छूट भी मिलेगी. ट्रक जैसे बड़ वाहनों के लिए कुल लाभ डेढ़ लाख रुपये तक होगा. गडकरी ने कहा कि कांडला जैसे बंदरगाहों के निकट 8 से 10 औद्योगिक इकाइयां स्थापित करने की योजना है जो न केवल पुराने वाहन स्वीकार करने के लिए प्रमाण पत्र देंगी, बल्कि भारत एवं विदेशों से वाहनों को रिसाइकिल करेंगी जिससे रोजगार सृजन को बढ़ावा मिलेगा व अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी।


15 अगस्त पर दिल्ली पर है आतंकियों की नजर


- दफ्तरों को निशाना बना सकते हैं आतंकी, नौसैनिक ठिकाने भी निशाने पर

नई दिल्ली। सुरक्षा एजेंसियों ने 26/11 जैसे आतंकी हमले की चेतावनी जारी की है. अलर्ट जारी किया गया है कि आतंकी स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बीजेपी के दफ्तरों को भी निशाना बना सकते हैं.

पैरा ग्लाइडर भी इस्तेमाल कर सकते हैं आतंकी
गृह मंत्रालय ने यह भी आगाह किया है कि आतंकवादी हमला करने के लिए हवाई मार्ग का इस्तेमाल कर सकते हैं और हमले के लिए पैरा ग्लाइडरों का प्रयोग भी हो सकता है. मंत्रालय ने सुरक्षा बलों से कहा है कि वे ऐसे किसी गड़बड़ी के प्रयास और विशेष रूप से उच्च जोखिम वाले गणमान्य लोगों को निशाना बनाने वाले ऐसे किसी प्रयास को लेकर सतर्क रहें.

यहां भी है खतरा
एडवाइजरी में कहा गया है कि हाल में गुरदासपुर में आतंकवादी हमला , 2013 में नरेंद्र मोदी की चुनावी रैली को निशाना बनाते हुए पटना में किये गए श्रृंखलाबद्ध विस्फोटों सहित विभिन्न आतंकवादी घटनाओं से यह संकेत मिलता है कि खतरा पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों तथा उनके भारतीय संबद्ध संगठनों जैसे इंडियन मुजाहिदीन एवं पूर्व सिमी सदस्यों से उत्पन्न होता है जिसके निशाने पर संभावित रूप से लोटस टेंपल, नोएडा स्थित मॉल, मेट्रो स्टेशनों, लाल किला एवं राजनीतिक हस्ती रहते हैं. सभी बलों और राज्य पुलिस को भेजे गए पत्र में मंत्रालय ने 16 अप्रैल के उस इनपुट का उल्लेख किया है जिसमें कहा गया था कि 'अलकायदा इन द इंडियन सब कॉन्टिनेंटÓ भारत के खिलाफ उसके नौसैनिक ठिकानों पर हमले की योजना बनाने में सक्रिय रूप से लिप्त है. इसके साथ ही असुरक्षित तटीय स्थल संभावित रूप से उनके निशाने पर हैं.

नौसैनिक ठिकाने भी निशाने पर

मंत्रालय ने पत्र में कहा है, 'इस संबंध में कोच्चि स्थित दक्षिणी नौसैनिक कमान (आईएनएस वेंदुरथी), मुंबई स्थित पश्चिमी नौसैनिक कमान और करवार स्थित नौसैनिक ठिकाने (आईएनएस कदंबा) को निशाना बनाया जा सकता है. गुजरात को भी निशाना बनाया जा सकता है।

केआरएच: सिलेंडर में लगी आग से मची भगदड़

-फायर बिग्रेड ने मौके पर पहुंचकर बुझाई आग



- दीपक तोमर

ग्वालियर।
कमलाराजा अस्पताल परिसर में अटेडरों के लिए बनाए गए टीन शेड में गुरुवार दोपहर भगदड़ मच गई। यहां 4 बजे छोटे गैस सिलेंडर पर अटेंडर खाना बना रहे थे, जिसमें गैस लीक होने से आग लग गई। अचानक हुई इस घटना के बाद अटेंडरों ने सिलेंडर को गिराकर आग बुझाने का प्रयास किया, लेकिन वह कामयाब नहीं हुए। आग का गोले बने सिलेंडर को देखकर अटेंडर भाग खड़े हुए। तत्काल इसकी जानकारी फायर बिग्रेड को दी गई। मौके पर पहुंची फायर बिग्रेड ने सिलेंडर की आग बुझाई। अगर जरा सी भी देर हो जाती, तो बड़ा हादसा घटित हो सकता था। कमलाराजा अस्पताल परिसर में वाहन स्टैंड के सामने जीडीए द्वारा विश्राम गृह बनाया गया है। यहां अटेंडरों के लिए टीन शेड डला हैं।




जेएएच में जल्द शुरू होंगी बच्चों की हार्ट सर्जरी



-शासन ने पीडियाट्रिक कार्डियक यूनिट खोलने के लिए पहली किस्त के रूप में स्वीकृत किए 50 लाख रुपए


-संभागायुक्त केके खरे ने एनआरएचएम एवं जीआरएमसी के अधिकारियों से बैठक में की चर्चा


-बिना वजह मरीजों को जेएएच रैफर करने वाले डॉक्टरों के खिलाफ कार्रवाई के दिए निर्देश


-जेएएच में पदस्थ स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टरों से पीएम कराने के निर्देश







- दीपक तोमर

ग्वालियर।
जयारोग्य अस्पताल में जल्द ही छोटे बच्चों के दिल के ऑपरेशन शुरू हो सकेंगे। शासन ने यहां पीडियाट्रिक कार्डियक यूनिट शुरू करने का निर्णय लिया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत इस यूनिट के लिए धनराशि मुहैया कराई जा रही है। प्रथम चरण के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत किए जाएंगे। पीडियाट्रिक सर्जन का खर्च भी राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत ही वहन किा जाएगा। यह जानकारी संभागायुक्त केके खरे की अध्यक्षता में आयोजित हुई बैठक के दौरान स्वास्थ्य अधिकारियों ने दी। कलेक्ट्रेट में हुई इस बैठक में एनआरएचएम के अधिकारी, जीआरएमसी डीन, जेएएच अधीक्षक, मानसिक आरोग्य शाला संचालक एवं कलेक्टर उपस्थित थे।

चिकित्सा सेवाओं को बेहतर करने के उद्देश्य से बुलाई गई इस समीक्षा बैठक में जेएएच पर बढ़ते मरीजों के बोझ को सबसे बड़ी परेशानी बताया गया। जेएएच अधीक्षक ने कहा कि जरा-जरा सी तकलीफों के मरीज जेएएच आते हैं, जिससे परेशानी बढ़ रही है। अगर जिला अस्पताल सहित अन्य शासकीय चिकित्सालयों में ऐसे मरीजों को उपचार हो जाए तो जेएएच पर लोढ़ कम होगा और बेहतर उपचार मिलेगा। संभागायुक्त ने निर्देशित किया कि अगर बिना किसी वजह के जिला अस्पताल सहित अन्य किसी भी स्वास्थ्य संस्थान से मरीज जेएएच रैफर किया गया, तो संबंधित चिकित्सक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बैठक में कलेक्टर डॉ. संजय गोयल ने कहा कि जेएएच समूह में रेफर होकर आने वाले मरीजों के लिए पृथक से रजिस्टर संधारित करें। इस रजिस्टर में मरीज को रैफर करने वाले चिकित्सक का नाम और कारण स्पष्ट दर्ज करें।

स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर करें पीएम
बैठक में संभागायुक्त् ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के 13 डॉक्टर जेएएच में संलग्न हैं। रोस्टर के हिसाब से इनकी ड्यूटी भी पीएम में लगाई जाए। इससे जेएएच के डॉक्टरों का बोझ कम होगा। कलेक्टर डॉ. संजय गोयल ने कहा कि जो चिकित्सक पोस्टमार्टम करने में आनाकानी करें, उन्हें भारमुक्त कर दें। भारमुक्त किए गए चिकित्सकों की पदस्थापना जिले के दूरस्थ ग्रामों में स्थित सरकारी अस्पतालों में की जाएगी।

यह रहे उपस्थित


कलेक्टर डॉ. संजय गोयल, जीआरएमसी डीन डॉ. जीएस पटेल, जेएएच अधीक्षक डॉ. जेएस सिकरवार, जेडी डॉ. अर्चना शिंगवेकर, भोपाल से आए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से डॉ. प्रभाकर तिवारी, डॉ. मनीष सिंह, डॉ. विशाल जायसवाल, मानसिक आरोग्य शाला संचालक डॉ. ज्योति बिंदल, मुख्य अभियंता सिविल विपिन शर्मा सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद थे।

यह भी हुआ

-जेएएच समूह में नसबंदी पर विशेष ध्यान देने की हिदायत।

-एमपीब्ल्यू को भी दें नसबंदी का लक्ष्य, लक्ष्यपूर्ति न करने वाले एमपीडब्ल्यू की वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश।

-क्लीनिकल प्रशिक्षण पर विशेष ध्यान दिया जाए। नर्सिंग कॉलेजों का नियमित रूप से करें निरीक्षण।

-एनआरएचएम एवं एनएचएम के तहत वर्ष 2006-07 से वर्ष 2014-15 तक जीआरएमसी को विभिन्न स्वास्थ्य सेवाओं के लिए मुहैया कराई गई राशि का पूरा हिसाब किताब प्रस्तुत किया। का लिया गया हिसाब-किताब।


दिनांक...13 अगस्त


'माई नेशन, माई प्राइड में दुल्हन की तरह सजेगा थीम रोड

-स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर थीम रोड पर होंगे रंगारंग कार्यक्रम





- रतन मिश्रा

ग्वालियर।
स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर थीम रोड को दुल्हन की तरह सजाया जाएगा तथा शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाएगी। यह बात पत्रकारों से रूबरू होते हुए लायन्स क्लब ग्वालियर के अध्यक्ष रमेश श्रीवास्तव ने कही। कार्यक्रम में अतिथि के रुप में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर, महिला एवं बाल विकास मंत्री माया सिंह, महापौर विवेक शेजवलकर तथा पूर्व महापौर समीक्षा गुप्ता को बुलाया गया है।

उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम में नगर निगम ग्वालियर एवं समर्पण हेल्थ केयर इंस्टीट्यूट अहम भागीदारी निभा रहा है। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त को धूमधाम से मनाने का निश्चय किया है। संस्था के मानसेवी सचिव राजश्री वर्मा एवं जन संपर्क अधिकारी नीरज मंगल ने संयुक्त रुप से जानकारी देते हुए बताया कि कार्यक्रम में रॉक स्टार प्रवेश अपने रॉक बैंड के साथ, एसएएफ सेकंड बटालियन का पाइप बैंड एवं ग्वालियर का मशहूर दयाल बैंड भी अपनी प्रस्तुतियां देंगे। गुब्बारे के ट्राई कलर गेट बनाए जाएंगे एवं स्वतंत्रता सेनानियों के कटआउट्स लगाए जाएंगे तथा उन्हें श्रद्धांजलि दी जाएगी।


धूप + अंधेरा + बारिश = उमस

- झमाझम के बाद उमस ने निकाला पसीना






- संतोष जैन

ग्वालियर। एक सप्ताह बाद फिर इंद्रदेव की मेहरबानी से शहर तरबतर हो गया। गुरुवार को सुबह से ही उमस से बेहाल शहरवासियों को उस समय कुछ राहत महसूस हुई, जब दोपहर शुरु होने के कुछ मिनट पहले ही तेज हवा के साथ झमाझम बारिश होने लगी, लेकिन 20 मिनट बाद ही यह दौर रुक जाने से उमस ने लोगों को पसीना-पसीना कर दिया। इस दौरान 15.3 मिमी वर्षा दर्ज हुई।
गर्मी और उमस से बेहाल शहरवासियों को बादलों की स्थिति देखकर उम्मीद बंधी थी कि जोरदार वर्षा होने वाली है, क्योंकि लगभग 11.45 बजे काले घने बादलों की गिरफ्त में आने से शहर अंधेरे में डूब गया। इसके करीब 10 मिनट बाद बादल कम हुए और झमाझम बारिश शुरू हो गई। यह सिलसिला अधिक देर नहीं चला और वर्षा थम गई। इसके बाद उमस ने आमजन को बेचैन कर दिया। दिनभर शहरवासी पसीने में तर रहे। बाद में निकली धूप ने स्थिति और खराब कर दी। अगस्त माह में अब तक 43.5 तथा सीजन में कुल 471.1 मिमी वर्षा हो चुकी है, लेकिन उमस में कमी नहीं आई, जिससे हर व्यक्ति परेशान है। हालांकि इस वर्षा से दिन के तापमान में 1.7 डिग्री सेल्सियस की कमी आई, फिर भी मौसम में ठंडक नहीं है। मौसम विभाग का अनुमान है कि शुक्रवार को भी ग्वालियर-चंबल संभाग में अनेक स्थानों पर बौछारें आ सकती हैं।





तापमान
 अधिकतम- 33.2 डिसे (+0.7)

न्यूनतम- 27.1 डिसे (+1.7)
आद्र्रता- सुबह- 83 प्रतिशत (+01)

शाम- 78 प्रतिशत (+03)
वर्षा - 15.3 मिमी

अगस्त की वर्षा - 43.5 मिमी
सीजन की वर्षा - 471.1 मिमी

मुरार नदी का मामला : डीपीआर बनाने वाली कंपनी को कैसे कर दिया भुगतान

- महापौर ने बताया हवाहवाई तो फिर किसने बनाया प्रोजेक्ट


- कांग्रेस नेता मुन्नालाल ने उठाए सवाल

- प्रदीप तोमर
ग्वालियर।
मुरार नदी के सौंदर्यीकरण के लिए नगर निगम द्यारा बनाए गए प्रोजेक्ट से कई घर तोड़ दिए गए, लेकिन आखिर में एनजीटी ने प्रोजेक्ट को ही रद्द कर दिया। ऐसे में सवाल उठता है कि जिनके मकान तोड़े गए हैं उनके नुकसान की भरपाई कौन करेगा? इस प्रोजेक्ट को महापौर ने भी हवाहवाई बताया है तो फिर किसके कहने पर प्रोजेक्ट बनाया गया और कंसलटेंट कंपनी को भुगतान किस तरह किया गया, इसकी जांच की जानी चाहिए। उक्त आरोप कांग्रेस नेता मुन्नालाल गोयल ने पत्रकारो से चर्चा करते हुए लगाए।

गोयल ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए बताया कि नगर निगम सिर्फ मुरार नदी में सीवर का पानी एवं कचरा डालने पर रोक लगा दें तो सौंर्यीकरण का काम तो मुरार नदी संघर्ष समिति कर देगी। गोयल ने बताया कि भाजपा ने सिर्फ गरीबों को उजाडऩे का काम किया है। उनका कहना था कि जिनके मकान तोड़े गए है उनके विस्थापन एवं मुआवजे की मांग को लेकर संघर्ष समिति न्यायालय की शरण में जाएगी। गोयल ने बताया कि मुरार नदी के प्रोजेक्ट को महापौर स्वंय हवाहवाई बता रहे है, तो ऐसा में सवाल उठता है कि आखिर प्रोजेक्ट बिना महापौर की अनुमति के कैसे ओर किसने बनाया, उसके खिलाफ कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही। गोयल ने बताया कि महापौर प्रोजेक्ट को हवाहवाई बताकर अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते, उनको जनता के सामना इसका जवाब देना होगा, क्योंकि चुनाव के समय विवेक नारायण शेजवलकर ने स्वंय जनता से वादा किया था कि अब शहर में कोई मकान नहीं तोड़े जाएगे फिर चुनाव वाद वह अपने वादे से कैसे मुकर गए? गोयल ने जानकारी दी कि मुरार नदी की सफाई एवं सौन्दर्यीकरण की प्लानिंग एवं अभियान को जन आंदोलन का रूप देने के लिए पांच सदस्यीय समिति बनाई है। इस समिति में अजय श्रीवास्तव, पुरुषोत्तम बनोरिया, अनिल शर्मा, मान सिंह, सुन्दरलाल जाटव को शामिल किया गया है।

.......................

कांग्रेस ने बिजलीघर पर हल्ला बोल किया प्रदर्शन


-बिजली कटौती, आंकलित खपत के विरोध में दिया ज्ञापन




- प्रदीप तोमर
ग्वालियर।
शहर में बिजली कटौती एवं आंकलित खपत जोड़कर दिए जाने वाले बिल के विरोध में गुरुवार को कांग्रेस ने रोशनीघर बिजलीघर पर हल्ला बोल आंदोलन किया। इस आंदोलन को देखते हुए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे ओर मेन गेट बंद करा दिया था। कांग्रेसियों ने रोशनीघर पर सरकार एवं बिजली अधिकारियों के खिलाफ नारेबाजी कर बिजली कटौती बंद करने की मांग की। प्रदर्शन के बाद प्रतिनिधिमंडल ने अंदर जाकर मुख्य अभियंता विद्युत मंडल को ज्ञापन दिया।

शहर कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. दर्शन सिंह ने मप्र विद्युत वितरण कंपनी के अधिकारी अरूण शर्मा को चेतावनी देते हुए कहा कि भाजपा सरकार अटल बिजली कटौती योजना चला रही है। आंकलित खपत लगाकर जनता को लूटने का काम किया जा रहा है। वहीं सरकार से अनुबंध कर ज्यूपीटर कंपनी युवा बेरोजगार से 11 हजार रुपए ले रही है जो युवाओं के साथ धोखाधड़ी है। मुख्यमंत्री एवं ऊर्जा मंत्री के नाम दिए ज्ञापन में उल्लेख किया गया कि बिजली विभाग 15 सालों तक सेवा करने वाले दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को निकाल रहा है। इससे उनके परिवार के सामने संकट खड़ा हो गया है।
हल्लाबोल आंदोलन में कांग्रेस के प्रदेश महामंत्री रमेश अग्रवाल, पूर्व विधायक रामवरन सिंह, प्रदेश सचिव सुरेन्द्र शर्मा, वीरेन्द्र तोमर, महाराज सिंह पटेल, काशीराम देहलवार, लतीफ खां, वीर सिंह तोमर, अमर सिंह माहौर, जेएच जाफरी, सुरेन्द्र ंिसह, कुलदीप कौरव, रमेश पाल, प्रमोद पांडे, अनिल गुप्ता आदि शामिल थे ।

इन बिन्दुओं के निराकरण की मांग

- भाजपा सरकार द्वारा जिस प्रकार से ज्यूपीटर कंपनी के 500 अस्थायी कर्मचारियों को नौकरी से निकालकर इनके परिवारो को भुखमरी की कगार पर पहुंचाने का खेल खेला जा रहा है उसे रोका जाये।
- बिजली की अघोषित कटौती बंद की जाये।

- बिजली बिलों में हो रही वृद्धियां, लूट-खसोट को रोका जाये।
- टूटे हुए तार, के0िबल एवं झुके खंबो को दुरूस्त कर मकानों से दूर किया जाएं।

- गरीब, मजदूर, एवं दलित बस्तियों में बिजली के नवीन कनेक्शन के लिए शिविर लगाएं जाएं तथा पुराना बिल माफ किया जाएं।
- विद्युत केंद्रों पर आमजन के साथ की जा रही बदसलूकी को रोका जाये।

- बिजली के सामान एवं स्टॉफ की कमी को दूर किया जाएं।
- विद्युत वितरण कंपनी के ग्वालियर महानगर में स्थापित जोन में जो जूनियर अधिकारी है उन्हे तत्काल हटाकर अनुभवी अधिकारी को पदस्थ किया जाये।

इधर हल्ला बोल उधर प्रेस कान्फ्रेंस
कांग्रेस कई चुनाव हारने के बाद भी एकजुट होकर काम नहीं कर पा रही है। मुन्नालाल एवं दर्शन सिंह में छत्तीस का आंकड़ा बना हुआ है। शहर कांग्रेस जहां रोशनीघर पर हल्लाबोल आंदोलन कर रही थी वहीं मुन्नालाल एक होटल में बैठकर अपनी अलग रणनीति बनाने के लिए पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। इन दोनों में ही श्रेय लेने की होड़ मची हुई है, यही कारण है को मुन्ना जहां समानांतर कांग्रेस चला रहे है वहीं दर्शन बाद में उसी मुद्दे को उठा रहे है जो मुन्ना पहले उठा चुके है।



चोरों ने तीन जगह से पार किया लाखों का माल




आनंद पाठक 

ग्वालियर,13 अगस्त। जनकगंज थाना क्षेत्र स्थित भाऊ का बाजार में रहने वाले नंद किशोर शर्मा के घर से अज्ञात चोरों ने 12 व 13 अगस्त की मध्य रात करीब एक लाख का माल साफ किया है। उधर चोरों ने जागृति नगर में रहने वाले दिनेश बंसल के घर से अज्ञात चोरों ने डेढ लाख से अधिक का माल साफ किया है। पुलिस ने दोनों ही मामलों में शिकायत दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरु की है। उधर ग्वालियर थाना क्षेत्र स्थित तानसेन टॉकीज के पास रहने वाले महेश शर्मा के घर से चोरों ने 9 हजार से अधिक का माल साफ किया है। पुलिस ने अज्ञात चोरों के खिलाफ माला दर्ज कर तलाश शुरु कर दी है।
------------------
Time : 12.7PM

6 लाख हजम करना चाहता था पवन, इसलिए तीनों को उतारा मौत के घाट





- पवन की बुआ के बेटे सूरज ने दो साथियों के साथ दिया था तिहरे हत्याकांण्ड को अंजाम


- लूट के माल व हथियारों के साथ दिल्ली से दबोचे तीनों आरोपी





- आनंद पाठक 
ग्वालियर। फ्लेट खरीदने के लिए बुआ के बेटे सूरज द्वारा पवन को छह लाख की रकम को लेकर तिहरे हत्याकाण्ड को अंजाम दिया गया। पुलिस गिरफ्त में आए आरोपी सूरज ने पवन को 6 लाख की रकम फ्लेट खरीदने के लिए दी थी। लेकिन पवन ने न ही तो फ्लेट खरीदा और न ही रकम वापस कर रहा था। उल्टे सूरज को धमका रहा था। महज आईसक्रीम का ठेला लगाने वाले सूरज ने जिन लोगों से कर्ज लेकर रकम पवन को दी थी, वह उस पर रकम वापसी को लेकर दबाव बना रहे थे। इधर पवन उल्टा सूरज को धमका रहा था। इसी पशोपेस में आकर सूरज ने अपने मामी सरोज, उसके बेटे पवन और बहू रुचिका की अपने दो साथियों के साथ मिलकर निर्मम हत्या कर दी। पुलिस ने वारदात को अंजाम देने वाले तीनों आरोपियों को दबोच लिया है। उन्हें रिमाण्ड पर लेकर पूछताछ की जा रही है। यह जानकारी पत्रकारों से चर्चा के दौरान पुलिस अधीक्षक हरिनारायणचारी मिश्र ने दी।

ज्ञात हो कि 6 अगस्त की रात थाना ग्वालियर क्षेत्र के अन्तर्गत कोटेश्वर के पास चंद्रनगर के ठाकुर मोहल्ले में रहने वाले कैलाश गुप्ता की पत्नि सरोज, उसकी बहू रुचिका तथा बेटे पवन की कुछ अज्ञात बदमाशों ने बेरहमी से हत्या कर दी थी। पुलिस को घटना स्थल देखकर यह आभास था कि वारदात को अंजाम देने वाले बदमाश गुप्ता परिवार के परिचित रहे होंगे तथा व्यक्तिगत रंजिश के चलते हत्या की गई होगी। इसी एंगल से पुलिस ने अपनी जांच आगे बढ़ाई। मुखबिरों की मदद से मिली सूचना पर पुलिस की एक टीम नई दिल्ली से हत्याकांड के आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए रवाना हुई। पुलिस ने मुखबिर के बताये स्थान नई दिल्ली रेल्वे स्टेशन के पास से दो आरोपियों सूरज गुप्ता एवं बेटू उर्फ एहसान खान को दबोच लिया। उन्होंने पूछताछ में तिहरे हत्याकांड को अंजाम देना स्वीकार किया। पूछताछ में उन्होंने घटना के बाद भिण्ड भागना बताया। भिण्ड में इनकी निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त हथियार और लूटे गए जेवरात एवं रक्त से सने हुए कपड़े बरामद हुए हैं। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से दो पिस्टल बरामद की है। गिरफ्तार आरोपियों ने बताया कि उनका एक अन्य साथी रामदीन पुत्र लोटन उम्र भिण्ड का रहने वाला है। पुलिस टीम ने तत्काल भिण्ड से रामदीन को धरदबोचा और उसके कब्जे से लूटे गये सोने के जेवरात बरामद कर लिए।

पकड़े गए आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि सूरज ने करीब डेढ़ वर्ष पूर्व आवास योजना के तहत फ्लैट लेने के लिए अपने परिचितों से लगभग छह लाख रुपए उधार लेकर पवन को दिए थे। पवन गुप्ता ने डेढ़ वर्ष बीतने पर भी न तो सूरज के लिए फ्लेट खरीदा और न हीं रकम वापस की। सूरज ने जब पवन और उसके रिश्तेदारों से रुपए वापस मांगे तो वह देने में आनाकानी करने लगा और फोन पर ही गाली गलौच कर जान से मारने की धमकी देता था। पवन ने सूरज से जनवरी माह में फ्लेट मिल जाने की बात कही थी। जब फ्लेट नहीं मिला तो सूरज ने पुन: अपनी रकम मांगी। तब पवन ने एक अगस्त को फ्लेट देने की बात कही। उसके बाद भी फ्लेट नहीं मिला तो बेटू खान एवं सूरज गुप्ता अहमदाबाद से चलकर भिण्ड पहुंचे। उसके बाद रामदीन कोरी को भिण्ड से लेकर बस में बैठकर ग्वालियर आये।

मानहढ़ से ली पिस्टलें व कारतूस

आरोपियों ने मेहगांव के पास स्थित ग्राम मानहढ़ से दो पिस्टलें व कारतूस खरीदे। भिण्ड से आने के बाद सूरज, बेटू खान एवं रामदीन ने मिलकर गोले का मंदिर कलारी पर शराब पी और फिर तीनों ऑटो में बैठकर हजीरा गए। हजीरे पर कलारी में फिर से शराब पी। उसके बाद ऑटो में बैठे कर तीनों चन्द्रनगर स्थित कैलाश गुप्ता के मकान पर पहुंचे।

रकम वापस नहीं देंगे, कर्ज ले लो

कैलाश के घर में पहुंचने के बाद आरोपी नीचे वाले कमरे में बैठकर पवन से अपने पैसे वापस लेने की बात करने लगे तो पवन ने कहा कि अभी पैसे नहीं हैं। इस पर उसकी मां सरोज ने कहा कि यदि तुम्हे पैसे की आवश्यकता है तो दस प्रतिशत ब्याज पर जितने पैसे चाहिए, मुझसे ले लो। ब्याज पर पैसे नहीं चाहिए तो न अभी पैसे मिलेंगे और न ही फ्लेट मिलेगा। जब पैसे होंगे तब मिल जाएंगे।

पहले की पवन की हत्या

सरोज की बात सुनकर पवन ने पवन ने सूरज व बेटू से बोला चलो ऊपर वाले कमरे में बैठकर बात करते हंै तो तीनों तीसरी मंजिल पर बने कमरे में बैठकर बात करने लगे। वहां पवन ने भी पैसे देने से स्पष्ट मना कर दिया और कहा कि जब होंगे तो दे दूंगा, अभी कुछ नहीं है। इतनी बात पर सूरज ने एक चांटा पवन को मारा फिर बेटू खान ने गोली चला दी और सूरज ने भी दो गोलियां पवन पर चलाई। जिनमें से एक गोली दीवार अथवा जमीन से टकराकर सूरज के बांए पैर में लग गई। गोलियां लगने से पवन की मौके पर ही मौत हो गई।

मां, बहन की गालियां देती हुई पहुंची सरोज

गोली की आवाज सुनकर पवन की मां सरोज एवं नीचे बैठा हुआ रामदीन ऊपर आ गए। तब सरोज ने सूरज को मां बहिन की गाली देते हुए पूछा क्या हो गया। तो उसने कहा कि गिरने से चोट लग गई। जब पवन की मां सरोज कमरे की तरफ बढ़ी तो पवन को जमीन पर पड़ा देखकर बोली यह क्या किया। तभी सूरज ने एक हाथ से सरोज के बाल पकड़कर अपनी पिस्टल से तीस से चालीस बट उसके सिर में मारे। जिससे वह जमीन पर गिर गई।

चिल्लाने की वजह से दुष्कर्म की कोशिश हुई नाकाम

ऊपरी मंजिल से आई चीखों की आवाज सुनकर पवन की पत्नि रुचिका जीने से ऊपर कमरे की तरफ आई तो खून देखकर वह चिल्लाती हुई वापस नीचे कमरे में घुसकर कमरे का गेट बंद कर लिया। सूरज व बेटू दौड़कर नीचे आए और खिड़की से कमरे में घुसे, इस बीच ख्ींचतान में रुचिका की साड़ी उतर गई। दोनों ने सउसें साथ रेप करने की कोशिश की, लेकिन वह चिल्लाती रही, तभी सूरज ने एक गोली पिस्टल से उसके सिर में मार दी। जिससे वह वहीं गिर गई।

कोई जिंदा न रह जाए इसलिए रेते तीनों के गले

आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि पवन की पत्नी में गोली मारने के बाद वह वापस उस कमरे में गए। जहां पर पवन पड़ा हुआ था। वहां चाकू लेकर पहुंचे और पवन को अलट-पलट कर देखा कि यह जिंदा तो नहीं है। उसके बाद चाकू से सूरज ने पवन का गला रेत दिया और उसके शरीर को चाकुओं से गोद दिया। इसके बाद सरोज को पलटकर देखा तो उसकी सांस चल रही थी। फिर सूरज ने उसका भी गला रेत कर पेट में चाकू मारे और पिस्टल से एक गोली मारी। इसके बाद सबसे आखिरी में पवन की पत्नी रुचिका का भी गला रेत दिया।

कपड़े बदलकर निकला सूरज

तीनों को मौत के घाट उतारने के बाद आरोपियों ने सरोज एवं रुचिका के शरीर के जेवरात उतार कर बैग में रख लिए। सूरज व बेटू ने अपने खून से सने हुए कपड़े चाकू, चप्पल, जूते, एवं पिस्टल एक बैग में रखकर व अपने कपड़े बदल लिए थे। इसके बाद ही वह घर से बाहर निकले।

पवन के चारित्रिक गिरावट से थी पवन को ईष्र्या

सूरज के अनुसार उसे पवन के चारित्रिक गिरावट की वजह से भी काफी ईष्र्या थी। सूरज और उसके मिलने वालों से 6 लाख रुपए लेकर वापस न करने के अलावा पवन व उसकी मां सरोज ने कई लोगों से पैसे ऐंठ रखे थे। पैसे वापस मांगने पर लेनदारों को या तो धमका देते थे या अधिक ब्याज पर पैसे उल्टे पवन व सरोज से लेने के लिये ही बाध्य करते थे।


आइसक्रीम का ठेला लगाता है सूरज

पुलिस की गिरफ्त में आया सूरज पुत्र रामऔतार गुप्ता उम्र 25 वर्ष निवासी सरस्वती नगर वार्ड नंम्बर 36 भिण्ड, बेटू उर्फ इरफान खांन पुत्र एहसान खांन उम्र 22 वर्ष,निवासी मेहदोली थाना गौरमी मजदूरी करता है। वहीं रामदीन पुत्र लोटन कोरी उम्र 42 वर्ष निवासी 17वी वाहिन विसबल, इटावा रोड भिण्ड मिस्त्री का काम करता है।

आरोपियों से बरामद सामान

पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 32 वोर की दो पिस्टल मय दो जिंदा कारतूस, एक जोडी चांदी की पायल एवं एक जोडी सोने की कान की झुमकी, दो जोडी सोने की कान की वाली व एक मंगल सूत्र सोने का छोटा पेण्डल बरामद किया है। अभी वारदात में प्रयुक्त की गई छुरी अथवा चाकू व मृतकों के मोबाइल बरामद नहीं हुए हैं। पुलिस अब शेष सामान रिमाण्ड के दौरान बरामद करेगी।

किस अस्पताल में हुआ था सूरज का इलाज
पवन के फुफेरे भाई को उक्त हत्याकाण्ड में पैर में गोली लग गई थी। इसकी वजह से वह घायल हो गया था। सूरज ने वारदात को अंजाम देने के बाद शहर के किस अस्पताल में अपना इलाज कराया था। पुलिस यह पता लगाएगी। इलाज करने वाले अस्पताल के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी।

दो को लिया रिमाण्ड पर, एक की हालत खराब
पुलिस ने उक्त वारदात के आरोपी सूरज व बेटू खान को पांच दिन की रिमाण्ड पर लिया है। जबकि तीसरे आरोपी रामदीन की रिमाण्ड नहीं मांगी गई है। बताया गया है कि तीसरा आरोपी स्वास्थ्य की नजरिए से बहुत दुर्बल है। इस वजह से उसे रिमाण्ड पर नहीं लिया गया है। वहीं पुलिस उससे अब तक सभी प्रकार की पूछताछ कर चुकी है।

संगीता ने पहले दिन ही जाहिर किया था संदेह

पवन की बहन संगीता ने पहले ही दिन अपने फुफेरे भाई सूरज पर संदेह जाहिर किया था। पुलिस ने संगीता के संदेह पर सूरज की तलाश शुरु की थी। उसी आधार पर आरोपियों को पकड़ा गया।

पुलिस अधीक्षक ने दिया मीडिया का धन्यवाद
प्रेसवार्ता में पुलिस अधीक्षक हरिनारायणचारी मिश्र ने मीडिया को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि वारदात के बाद मीडिया ने गंभीरता दिखाते हुए जो साथ दिया। उसके लिए मैं धन्यवाद देता हूं। मीडिया के साथियों ने भी हमें कई ऐसी जानकारियां दीं। जिनकी वजह से मामले को ट्रेस करने में मदद मिली है।






भोपाल में वल्र्ड फोटोग्राफी डे पर चित्र प्रदर्शनी 18 से



भोपाल। हम रोज अखबार में किसी न किसी फोटो को देख खबर की वास्तविकता का अंदाजा लगाते हैं, लेकिन उस फोटो को खींचने के लिए एक फोटोग्राफर को कितनी मशक्कत करने पड़ती है। हर फोटो के पीछे क्या कहानी होती है। यह सिर्फ फोटोग्राफर ही जानता है। यह बात अप्सरा रेस्टोरेंट में हुई एक पत्रकार वार्ता में मप्र फोटो जर्नलिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष पृथ्वीराज सिंह ने कही।

वल्र्ड फोटोग्राफी डे पर एग्जीबिशन का आयोजन
वहीं इस अवसर पर उन्होंने बताया कि 18 और 19 अगस्त को वल्र्ड फोटोग्राफी डे के अवसर पर एक प्रदर्शनी का आयोजन मप्र फोटोजर्नलिस्ट वेलफेयर समिति द्वारा आंचलिक विज्ञान केन्द्र में किया जा रहा है। इस प्रदर्शनी में भोपाल के अखबारों में काम करने वाले फोटो जर्नलिस्ट अपनी कुछ चुनिंदा फोटो को प्रदर्शित कर सकते हैं। इस एग्जीबिशन में भाग लेने वाले फोटो जर्नलिस्ट को प्रदर्शनी के समापन अवसर पर सम्मानित किया जाएगा। वहीं पत्रकारिता में विशेष योगदान के लिए 10 फोटोग्राफर और 5 वीडियोग्राफर को फोटो रत्न अवार्ड से भी सम्मानित किया जाएगा। इस मौके पर सभी को शाल, श्रीफल और मोमेंटो देकर सम्मानित किया जाएगा।

फोटोग्राफर करता है समाज को जागरुक
वहीं संस्था के सचिव शमीम खान ने बताया कि इस आयोजन का उद्देश्य राजधानी वासियों को फोटो पत्रकारों की वास्तविकता से परिचित कराना है। वहीं संयोजक विवेक पटेरिया ने बताया कि यह आयोजन फोटोग्राफर को उनके पेशे के प्रति जागरुक कराने के लिए है, ताकि  वे यह जान सकें कि उनके द्वारा किए गए कार्यों के कारण ही समाज में जागरुकता फैलती है। इस अवसर पर शिवनारायण मीना, अशरफ अली, रविन्द्र सिंह, भूपेन्द्र सिंह, अमित भारद्वाज, तबरेज खान, ताजनूर खान,  और आशीष श्रीवास्तव सभी प्रमुख समाचार पत्रों के फोटोग्राफर उपस्थित थे।

व्लर्ड फोटोग्राफी डे पर चित्र प्रदर्शनी 18 से

भोपाल। हम रोज अखबार में किसी न किसी फोटो को देख खबर की वास्तविकता का अंदाजा लगाते हैं, लेकिन उस फोटो को खींचने के लिए एक फोटोग्राफर को कितनी मशक्कत करने पड़ती है। हर फोटो के पीछे क्या कहानी होती है। यह सिर्फ फोटोग्राफर ही जानता है। यह बात अप्सरा रेस्टोरेंट में हुई एक पत्रकार वार्ता में मप्र फोटो जर्नलिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष पृथ्वीराज सिंह ने कही।
वल्र्ड फोटोग्राफी डे पर एग्जीबिशन का आयोजन
वहीं इस अवसर पर उन्होंने बताया कि 18 और 19 अगस्त को वल्र्ड फोटोग्राफी डे के अवसर पर एक प्रदर्शनी का आयोजन मप्र फोटोजर्नलिस्ट वेलफेयर समिति द्वारा आंचलिक विज्ञान केन्द्र में किया जा रहा है। इस प्रदर्शनी में भोपाल के अखबारों में काम करने वाले फोटो जर्नलिस्ट अपनी कुछ चुनिंदा फोटो को प्रदर्शित कर सकते हैं। इस एग्जीबिशन में भाग लेने वाले फोटो जर्नलिस्ट को प्रदर्शनी के समापन अवसर पर सम्मानित किया जाएगा। वहीं पत्रकारिता में विशेष योगदान के लिए 10 फोटोग्राफर और 5 वीडियोग्राफर को फोटो रत्न अवार्ड से भी सम्मानित किया जाएगा। इस मौके पर सभी को शाल, श्रीफल और मोमेंटो देकर सम्मानित किया जाएगा।
फोटोग्राफर करता है समाज को जागरुक
वहीं संस्था के सचिव शमीम खान ने बताया कि इस आयोजन का उद्देश्य राजधानी वासियों को फोटो पत्रकारों की वास्तविकता से परिचित कराना है। वहीं संयोजक विवेक पटेरिया ने बताया कि यह आयोजन फोटोग्राफर को उनके पेशे के प्रति जागरुक कराने के लिए है, ताकि  वे यह जान सकें कि उनके द्वारा किए गए कार्यों के कारण ही समाज में जागरुकता फैलती है। इस अवसर पर शिवनारायण मीना, अशरफ अली, रविन्द्र सिंह, भूपेन्द्र सिंह, अमित भारद्वाज, तबरेज खान, ताजनूर खान,  और आशीष श्रीवास्तव सभी प्रमुख समाचार पत्रों के फोटोग्राफर उपस्थित थे।

मंगलवार, 11 अगस्त 2015

245 आरोपियों की जांच करेगी एसटीएफ

-एसटीएफ को फिर मिली जांच की जिम्मेदारी



- रतन मिश्रा
ग्वालियर।
व्यापमं घोटाले की जांच सीबीआई के पास चली गई, लेकिन पर्याप्त जांच अधिकारियों के न होने के कारण अब इसमें एसटीएफ की सहायता फिर से ली जाएगी। इस संबंध में एसटीएफ के एडीजी सुधीर साही ने उच्च न्यायालय के महाधिवक्ता कार्यालय को पत्र लिखकर बताया है कि व्यापमं फर्जीवाड़े में नामजद 245 आरोपियों की जांच अब एसटीएफ करेगी तथा उनकी सुनवाई भी उच्च न्यायालय में की जाएगी जिसमें पैरवी शासकीय अभिभाषक करेंगे।
उपरोक्त जानकारी देते हुए शासकीय अभिभाषक प्रबल प्रताप सिंह सोलंकी ने बताया कि एसटीएफ एडीजी ने लिखे पत्र में बताया है कि जिन प्रकरणों में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है तथा 24 जुलाई तक जो केस सीबीआई को हेण्डओव्हर हो चुके हैं उनकी जांच सीबीआई करेगी। इसके अलावा अन्य 1 से लेकर 245 तक नामजद आरोपियों के केसों की जांच एसटीएफ करेगी तथा इन केसों की पैरवी भी पहले की तरफ शासकीय अधिवक्ता करेंगे।

बिजली नहीं दोगे,तो नहीं खुलेगा जाम


तीन सैकडा किसानों ने लगाया लोहगढ़ पहाडिय़ा पर जाम.......


मौके पर पहुंचे एसडीएम और विद्युत कम्पनी के आला अफसर......

एसडीएम के आश्वासन के बाद खुला जाम.......


नामजद सहित 200 किसानों पर मामला दर्ज


डबरा।
सुबह नौ बजे एक दर्जन गांव की तीन सैकडा किसानों ने बिजली न मिलने के को लेकर भितरवार मार्ग स्थित लोहगढ़ की पहाडिया के पास आम सड़क पर जाम लगा दिया, जिससे सैकडों वाहनों के पहिए थम गये, विद्युत वितरण कम्पनी के आलाधिकारियों और प्रशासनिक तथा पुलिस अधिकारियों को जाम लगने की सूचना मिली तो मौके पर एसडीएम पहुंचे और उन्होंने किसानों को आश्वासन दिया कि धान की फसल के लिए पर्याप्त मात्रा में बिजली मिलेगी, तब जाकर किसानों ने चार घंटे से लगाया जाम खोला ।

बिजली अधिकारियों की वादाखिलाफी.........
दरअसल, भितरवार मार्ग पर सुबह 9 बजे सालबई, लिधौरा, नुन्हारी,सिमरिया,चिटौली,काशाीपुर, बेरखेडा,भैसनारी, दौलतपुरा, जतरथी, सर्वा कोसा गांव तीन सैकडा से ऊपर किसानों को पर्याप्त धान की फसल के लिए बिजली नहीं मिल पा रही थी नौ अगस्त को किसानों ने 132/33 के व्ही सब स्टेशन को घेरा था जिसमें एई, एमएल मिश्रा द्वारा किसानों को यह आश्वासन दिया गया था कि किसानों को धान की फसल के लिए पर्याप्त बिजली दी जाएगी। परन्तु दो दिन गुजर जाने के बाद विद्युत विभाग के अधिकारियों ने किसानों के साथ सौतेला व्यवहार करते हुए किये गये वायदे से मुकर गये जिससे किसानों का आक्रोश मंगलवार की सुबह देखने को मिला जब उन्होंने भितरवार मार्ग पर चक्का जाम कर आने जाने वाहनों के पहियों पर रोक लगा दी

जाम के बीच पहुंचे आला अधिकारी......

किसानों द्वारा भितरवार मार्ग पर लगाए गये चक्का जाम की सूचना मुख्य प्रशासनिक अधिकारी एसडीएम आर.सी. मिश्रा और एसडीओपी सुधीर ङ्क्षसह कुशवाह, देहात थाना प्रभारी एस.एस. चौहान विद्युत वितरण कम्पनी के उप महाप्रबंधक नितिन छीपा तथा कम्पनी के आला अधिकारी किसानों के बीच पहुंचे , किसानों के बीच पहुंचकर एसडीएम आर.सी. मिश्रा ने किसानों को आश्वासन दिया कि धान की फसल के लिए बिजली की कमी नहीं आने दी जाएगी । 12-12 घंटे बिजली देने के लिए लोहगढ़ फीडर और काशीपुर फीडर से दी जाएगी, किसान की फसल नहीं सूखेगी, तब जाकर किसानों ने जाम खोला ।

पानी समय पर न मिलने से धान की पौध सूखी.......
14 -15 गांव का किसान बिजली और पानी के लिए एक माह से विद्युत अधिकारियो के साथ जद्दोजहद कर रहा है । उसके उपरांत भी इन गांव की ओर जाने वाली विद्युत लाइनों से किसानों को सही सप्लाई नहीं मिल रही है । जिसके कारण किसानों के खेतों में खडी धान की फसल पीली पडऩे लगी है । आसमान से पानी बरस नहीं रहा और किसानों ने भारी भरकम लग्गत लगाकर धान की पौध रोप दी, ऐसी स्थिति में अगर बिजली बक्त पर किसानों को नहीं मिली तो किसान लाखों रूपये के कर्जदार हो जाएंगे ।

फुंक रही है मोटरे और ट्रान्सफार्मर......
किसानों ने अधिकारियों से गुहार लगाई कि जिस तरह हम लोगों को विद्युत सप्लाई कुछ समय के लिए मिल रही है वह सप्लाई इतनी निम्न श्रेणी की है कि हमारे बोर बैल के अंदर डली मोटरे और ट्रान्सफार्मर तक फुं क रहे है ऐसी स्थिति में हमारे सामने अब और कोई दूसरा विकल्प नहीं है ।

35 से 40 हजार हैक्टेयर में रोपी है धान की पौध.....
गौरतलब है कि तीन वर्षो से किसान उपज में पिट रहा है कभी प्राकृतिक आपदा से तो कभी धान के गिरते हुए दामों से इस बार किसान ने बडी आस के साथ 35 से 40 हैक्टेयर भूमि में धान की पौध की रोपाई की है धान की पौध को समय पर पानी नहंीं मिल रहा है तो ऐसी स्थिति में किसानों के अंासूओं पर विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारियों को बिलकुल रहम नहीं है तो अब बेचारे किसान करें भी तो क्या ।

चार घंटे तक थम गया आवागमन......
जब सुबह नौ बजे से लेकर बारह बजे तक जाम लगा रहा, जिसके कारण भितरवार की ओर से आने वाले वाहन चालको को अपने गन्तव्य स्थानों तक पहुंचने में कई परेशानियो का सामना करना पडा, यहां तक की जाम के बीच एम्बुलेंस भी फंसी रही ।

नामजद सहित 200 किसानों पर मुकदमा दर्ज ........ 
विद्युत समस्या को लेकर तीन सैकडा किसानों ने मंगलवार की प्रात: विद्युत समस्या को लेकर भितरवार रोड़ स्थित लोहगढ़ पहाडी के पास जाम लगाया जिससे सैक डों वाहनों में सवार हजारों लोगों को बेबजह परेशानी का सामना करना पडा और चार घंटे तक जाम में फंसे रहे ।देहात थाना पुलिस ने जाम लगा रहे सुनील सिंह रावत, दिलवाग सरदार, पप्पू कुशवाह, कादर खांन,तरसेन सरदार, मोहन सिंह बघेल, बृजभूषण सहित दो सैकडा लोगों के खिलाफ धारा 341, 147 का प्रकरण दर्ज कर लिया है।
इनका कहना.....

विद्युत अधिकारियों की लापरवाही के बजह से हमें समय पर बिजली नहीं मिल पा रही है क्या अधिकारियों को यह पता नहीं था कि धान की फसल पर हमें किसानों को बिजली देना है । सब कुछ जानते हुए भी लाइन फॉल्ट का होना अधिकारी रो रहे हेै, ऐसी स्थिति में तो हमारी फसले बगैर पानी के बर्वाद हो जाएगी
ठा. सूरज प्रताप सिंह, किसान

किसानों से दो दिन का समय मांगा है । चूंकि लोड 'यादा है इसलिए लाइन फॉल्ट हो रही है । हकीकत अगर देखी जाए तो किसान एक कनेक्शन पर तीन से चार मोटरे चला रहा है । फिर भी हमारे विभागकी ओर पूरे ऐतिहात बरतने जा रहे है । किसान चाहता है कि 24 घंटे सप्लाई मिले, जबकि शासन से कृषि भूमि के लिए 10 घंटे बिजली देने के आदेश है ।
- जेई श्री लखोरे

विद्युत समस्या को लेकर किसानों ने भितरवार रोड़ पर जाम लगाया जिसके कारण हजारों लोगों को बेबजह परेशानी का सामना करना पडा, जाम लगा रहे दो सैकडा लोगों के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर लिया है ।
एस.एस. चौहान, देहात थाना प्रभारी

फोटो - 8 डबरा। डबरा- भितरवार मार्ग लोहगढ की पहाडिया पर टे्रक्टर ट्रॉली आडी लगाकर जाम लगाते किसान

नक्शे नहीं खा रहे मेल, नहीं हो सका सीमांकन



-हड्डी मिल का सीमांकन करने पहुंचा वन और राजस्व अमला



- देवेन्द्र कौरव
ग्वालियर। वनविभाग और राजस्व विभाग का अमला मंगलवार को कुलैथ स्थित हड्डी मिल की जमीन का सीमांकन करने पहुंचा। इस दौरान दोनों विभागों के नक्शे मेल खाते नजर नहीं आए। इस कारण सीमांकन का कार्य पूर्ण नही हो सका।

गौरतलब है कि एक शराब फैक्ट्री मालिक की जेसीबी को वन विभाग के अमले ने बीलपुर चौकी स्थित कुलैथ बीट स्थित हड्डी मिल में चलते हुए पकड़ी थी। जिसके विरुद्ध वन अपराध प्रकरण दर्जकर पुरानी छावनी थाने में रखा गया। फैक्ट्री मालिक का कहना था कि उसने यह जमीन खरीदी है। इस कारण जो जेसीबी पकड़ी गई है वह लगत है। लेकिन वन विभाग का कहना था कि उक्त जमीन वन भूमि के अंतर्गत आती है इसलिए कार्रवाई की गई है। बताया जाता है कि उक्त मामले को निबटाने के लिए फैक्ट्री मालिक की मांग पर वन विभाग और राजस्व विभाग का अमला उक्त जमीन का सीमांकन करने पहुंचा। इस दौरान वन विभाग के नक्शा और राजस्व विभाग का नक्शा मेल खाता नहीं दिखा। इन दोनों नक्शों में जमीन किसकी है स्पष्ट रूप से नहीं दिखाई दी। इस कारण फिलहाल इस भूमि का सीमांकन नहीं हो सका। बताया जाता है कि अब दोनों की विभाग पुराने दस्तावेज खंखालकर यह जानने की कोश्शि करेंगे कि आखिरी यह हड्डी मिल की जमीन किसके खाते में आती है। सीमांकन के दौरान एसडीओ जीके चन्द्र, डिप्टी रेंजर सत्यप्रकाश गौड़, बाबू अली खान, एसएलआर, आरई एवं पटवारी मौजूद थे।








व्यवसायी को चुकाना पड़ा 11 लाख का टैक्स


ग्वालियर।
वाणि'यकर विभाग सर्किल 3 ने गिरवाई नाके पर स्थित जीडीसी एग्रो पर टैक्स चोरी के शक में रूटीन सर्वे के तहत छापामार कार्रवाई कर व्यवसाई से 11.30 लाख रुपए की टैक्स वसूली की है। विभाग के एचडी भालेराव के निर्देशन में रुटीन सर्वे के तहत दिनभर चली कार्रवाई के दौरान दिल्ली के व्यवसाई सुधीर श्रीवास्तव को आखिरकार यह राशि चैक से जमा करनी पड़ी।

मौउ जिम ने होनोमेनू कलेक्शन के जरिये एविएटर्स के क्लासिक स्टाइल को समकालीन बनाया

- पोलराइज्डप्लस2 लेंस टेक्नोलॉजी तथा मौउग्रेडिएंट टेक्नोलॉजी की विशएषता वाला यह कलेक्शन अपने हाई टेक्नोलॉजी लेंसों की बदौलत सबसे स्पष्ट और सबसे तीक्ष्ण दृष्टि प्रदान करता है

 

- अनिल शर्मा
भोपाल।
आधुनिकता के समावेश के साथ क्लासिक स्टाइल! मौउ जिम के एविएटर सनग्लास का नवीनतम कलेक्शन होनोमेनू अपने उत्कृष्ट डिजाइन की बदौलत सर्वश्रेष्ठ दृष्टि प्रदान करता है और दिन के वक्त ज्यादा देर तक बाहर रहने के दौरान भी आराम का अनुभव देता है।
पोलराइज्डप्लस2 लेंस टेक्नोलॉजी और मौउग्रेडिएंट लेंस की विशेेषता से लैस नया कलेक्शन हवाई स्थित मशहूर हाना हाईवे पर अवस्थित होनोमेनू खाड़ी से प्रेरित है। इस खाड़ी में खूबसूरत हरियाली के ताजगी भरे रंग नजर आते हैं और इसी तरह मौउ जिम का होनोमेनू एविएटर वास्तविक तथा चटक रंगों की सबसे स्पष्ट दृष्टि प्रदान करता है।
यह एविएटर विश्व में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले और पसंदीदा स्टाइल वाले सनग्लासेज में से एक है जिसे सुसभ्य रहने के साथ ही सादगी पसंद करने वाले लोगों ने सराहा है। होनोमेनू एविएटर डिजाइन का एक नया अवतार है जिसमें समकालीन टेंपल्स के साथ ही जांचा-परखा गया फ्रेम लगा है। आधुनिक अपडेटेड एविएटर हवा, धूप, तीखी चमक और यूवी सुरक्षा के लिए एक बेहतरीन विकल्प है क्योंकि यह आंखों के पूरे घेरे को ढंकता है।
इस सनग्लास का अत्यंत हल्का वजन इसके विशुद्ध टाइटेनियम फ्रेम के कारण बना है। हर दृष्टिकोण से टिकाऊ तथा आरामदेह होने के साथ ही एविएटर के डबल नोज ब्रिज खास प्रकार के जंगरोधी परंपरागत हिंज (कब्जा) से बने होते हैं जो इसे साधारण मेटल फ्रेम से अलग स्टाइल का सनग्लास बनाता है।
एविएटर फ्रेम छोटे और मझोले आकार के चेहरों के लिए उपयुक्त है। इसमें लगे रबड़-पैडेड और एडजस्टेबल नोज ब्रिज भी पूरे दिन धूप में घूमते रहने के दौरान आरामदेह होते हैं। आपको अधिक विकल्प देने के लिए यह कलेक्शन दो रंगों- ग्लॉस ब्लैक तथा एंटीक गोल्ड में पेष किया गया है।
मौउ जिम इंडिया के प्रबंध निदेशक आई. रहमतुल्लाह कहते हैं, एविएटर पुरुषों के लिए सबसे चहेते सनग्लास डिजाइनों में से एक है और हमने जब इसमें आधुनिकता का समावेश किया तो ग्राहकों द्वारा इसे और ज्यादा पसंद किया जाने लगा। ग्लॉस ब्लैक तथा एंटीक गोल्ड जैसे दो रंगों में उपलब्ध होनोमेनू का कोई भी पसंदीदा सनग्लास फॉर्मल और कैजुअल दोनों परिस्थितियों के अनुकूल है। इस सनग्लास की चमकदार फिनिश इसे आकर्षक लुक देता है और इस कलेक्शन का प्रत्येक एविएटर उपभोक्ताओं की अलग-अलग जरूरतें पूरी करने के लिए विशेष रूप से डिजाइन किया गया है। होनोमेनू एविएटर के क्लासिक स्टाइल की एक समकालीन पेशकश है। मौउग्रेडिएंट टेक्नोलॉजी से डिजाइन किया गया होनोमेनू एविएटर आपके रोजमर्रा की लाइफस्टाइल के लिए उपयुक्त है। इसके लेंस मौउप्योर टेक्नोलॉजी से बने होने के कारण आप दिनभर धूप में रहने के बावजूद इसके हल्के वजन के अनुभव के साथ आराम पा सकते हैं। इसमें इस्तेमाल की गई खरोंच और परावर्तन प्रतिरोधक टेक्नोलॉजी आपको बेपरवाह और पारदर्षी दृष्टि प्रदान करती है। इसके लेंस के आगे और पीछे ऑप्टिकली दुरुस्त की गई क्लियरशेल पद्धति आपके सनग्लास को और ज्यादा मजबूत बनाती है। इतना ही नहीं, पोलराइज्डप्लस2 लेंस टेक्नोलॉजी की विशेषता इस सनग्लास को 99.9 प्रतिशत चकाचौंध मुक्त और हानिकारक यूवी किरणों से 100 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान करती है तथा विशेष रूप से डिजाइन किए गए लेंसों से रंगों को देखने की स्पष्टता मिलती है जिससे रंगों की तीक्ष्णता और चटख का अनुभव होता है।  इस स्टाइल में आई साइज 57एमएम, ब्रिज साइज 18 एमएम, टेंपल लेंथ 137 एमएम और छह-बेस कर्वेचर रखा गया है।
उपलब्धता: देश के सभी प्रमुख ऑप्टिकल स्टोर्स में उपलब्ध।
वेबसाइट: http://www.mauijim.com/shop/en/india
कीमत: अधिकतम खुदरा दर 17,990/
अधिक जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें

प्रीति रावत
9899011283

मौउ जिम ने होनोमेनू कलेक्षन के जरिये एविएटर्स के क्लासिक स्टाइल को समकालीन बनाया


पोलराइज्डप्लस2 लेंस टेक्नोलॉजी तथा मौउग्रेडिएंट टेक्नोलॉजी की विषेषता वाला यह कलेक्षन अपने हाई टेक्नोलॉजी लेंसों की बदौलत सबसे स्पष्ट और सबसे तीक्ष्ण दृष्टि प्रदान करता है।

भोपाल। आधुनिकता के समावष के साथ क्लासिक स्टाइल! मौउ जिम के एविएटर सनग्लास का नवीनतम कलेक्षन होनोमेनू अपने उत्कृष्ट डिजाइन की बदौलत सर्वश्रेष्ठ दृष्टि प्रदान करता है और दिन के वक्त ज्यादा देर तक बाहर रहने के दौरान भी आराम का अनुभव देता है।
पोलराइज्डप्लस2 लेंस टेक्नोलॉजी और मौउग्रेडिएंट लेंस की विशेेषता से लैस नया कलेक्षन हवाई स्थित मषहूर हाना हाईवे पर अवस्थित होनोमेनू खाड़ी से प्रेरित है। इस खाड़ी में खूबसूरत हरियाली के ताजगी भरे रंग नजर आते हैं और इसी तरह मौउ जिम का होनोमेनू एविएटर वास्तविक तथा चटक रंगों की सबसे स्पष्ट दृष्टि प्रदान करता है।
यह एविएटर विष्व में सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले और पसंदीदा स्टाइल वाले सनग्लासेज में से एक है जिसे सुसभ्य रहने के साथ ही सादगी पसंद करने वाले लोगों ने सराहा है। होनोमेनू एविएटर डिजाइन का एक नया अवतार है जिसमें समकालीन टेंपल्स के साथ ही जांचा-परखा गया फ्रेम लगा है। आधुनिक अपडेटेड एविएटर हवा, धूप, तीखी चमक और यूवी सुरक्षा के लिए एक बेहतरीन विकल्प है क्योंकि यह आंखों के पूरे घेरे को ढंकता है।
इस सनग्लास का अत्यंत हल्का वजन इसके विषुद्ध टाइटेनियम फ्रेम के कारण बना है। हर दृष्टिकोण से टिकाऊ तथा आरामदेह होने के साथ ही एविएटर के डबल नोज ब्रिज खास प्रकार के जंगरोधी परंपरागत हिंज (कब्जा) से बने होते हैं जो इसे साधारण मेटल फ्रेम से अलग स्टाइल का सनग्लास बनाता है।
एविएटर फ्रेम छोटे और मझोले आकार के चेहरों के लिए उपयुक्त है। इसमें लगे रबड़-पैडेड और एडजस्टेबल नोज ब्रिज भी पूरे दिन धूप में घूमते रहने के दौरान आरामदेह होते हैं। आपको अधिक विकल्प देने के लिए यह कलेक्षन दो रंगों- ग्लॉस ब्लैक तथा एंटीक गोल्ड में पेष किया गया है।
मौउ जिम इंडिया के प्रबंध निदेषक आई. रहमतुल्लाह कहते हैं, “एविएटर पुरुषों के लिए सबसे चहेते सनग्लास डिजाइनों में से एक है और हमने जब इसमें आधुनिकता का समावेष किया तो ग्राहकों द्वारा इसे और ज्यादा पसंद किया जाने लगा। ग्लॉस ब्लैक तथा एंटीक गोल्ड जैसे दो रंगों में उपलब्ध होनोमेनू का कोई भी पसंदीदा सनग्लास फॉर्मल और कैजुअल दोनों परिस्थितियों के अनुकूल है। इस सनग्लास की चमकदार फिनिष इसे आकर्षक लुक देता है और इस कलेक्षन का प्रत्येक एविएटर उपभोक्ताओं की अलग-अलग जरूरतें पूरी करने के लिए विशेष रूप से डिजाइन किया गया है। होनोमेनू एविएटर के क्लासिक स्टाइल की एक समकालीन पेशकश है।”
मौउग्रेडिएंट® टेक्नोलॉजी से डिजाइन किया गया होनोमेनू एविएटर आपके रोजमर्रा की लाइफस्टाइल के लिए उपयुक्त है। इसके लेंस मौउप्योर® टेक्नोलॉजी से बने होने के कारण आप दिनभर धूप में रहने के बावजूद इसके हल्के वजन के अनुभव के साथ आराम पा सकते हैं। इसमें इस्तेमाल की गई खरोंच और परावर्तन प्रतिरोधक टेक्नोलॉजी आपको बेपरवाह और पारदर्षी दृष्टि प्रदान करती है। इसके लेंस के आगे और पीछे ऑप्टिकली दुरुस्त की गई क्लियरशेल पद्धति आपके सनग्लास को और ज्यादा मजबूत बनाती है।
इतना ही नहीं, पोलराइज्डप्लस2 लेंस टेक्नोलॉजी की विशेषता इस सनग्लास को 99.9 प्रतिशत चकाचौंध मुक्त और हानिकारक यूवी किरणों से 100 प्रतिशत सुरक्षा प्रदान करती है तथा विशेष रूप से डिजाइन किए गए लेंसों से रंगों को देखने की स्पष्टता मिलती है जिससे रंगों की तीक्ष्णता और चटख का अनुभव होता है। 
इस स्टाइल में आई साइज 57एमएम, ब्रिज साइज 18 एमएम, टेंपल लेंथ 137 एमएम और छह-बेस कर्वेचर रखा गया है।
उपलब्धताः देश के सभी प्रमुख ऑप्टिकल स्टोर्स में उपलब्ध।
वेबसाइटः http://www.mauijim.com/shop/en/india
कीमतः अधिकतम खुदरा दर 17,990/
अधिक जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें
प्रीति रावत
9899011283