मंगलवार, 17 फ़रवरी 2015

गायकों के अब अच्छे दिन लद गए : रिचा शर्मा



भोपाल।
बॉलीवुड की मशहूर गायिका रिचा शर्मा ने कहा कि अब गायकों के अच्छे दिन लद गए हैं। वे बॉलीवुड में उभर रहे नये ट्रेंड से बेहद नाराज हैं। रिचा शर्मा ने तय कर लिया है कि यदि किसी फिल्म का एक ही गाना कई लोगों से गवाया जाता है तो वे नहीं गाएंगी। गायिका रिचा शर्मा ने यह बात महाशिवरात्रि पर्व पर भोजपुर महोत्सव में अपनी प्रस्तुति देने भोपाल आने पर मीडिया से बात करते हुए कही। उन्होंने कहा कि वे इस चलन के खिलाफ पुरजोर तरीके से आवाज उठाती रहेंगी।
एक ही गाना कई गायकों से गवाने के चलन पर रिचा शर्मा ने कहा, मैं ही नहीं बॉलीवुड में 20 सालों से गायकी कर रहे बड़े-बड़े गायक भी इस चलन से नाराज हैं। हम कोई न्यू कमर्स नहीं हैं। हर गायक गाने को अपना सब कुछ डालकर उसे अपना बनाता है। चार लोगों के गाने से उसकी नैसर्गिकता खत्म हो जाती है, क्योंकि उसमें हर गायक का कुछ-कुछ पुट होता है। एक ही गाने को चार लोग गा लेते हैं और आपको पता ही नहीं चलता कि कौन सा गाना मार्केट में आने वाला है। पचास पंक्चर वाला टायर ज्यादा दिन नहीं चल सकता। हम गायकों के लिए यह अच्छे दिन नहीं हैं।
मैं भी हो चुकी हूं शिकार : रिचा ने बताया, मेरे साथ एक बार ऐसा हो चुका है। फिल्म और गाने का नाम नहीं बताऊंगी, लेकिन मुझसे गाना गवाया गया। मैंने लोगों को भी गाने के बारे में बता दिया, लेकिन जब फिल्म आई तो पता चला वह गाना मेरी आवाज में नहीं बल्कि किसी और की आवाज में मार्केट में आया है। यह मैं सहन नहीं कर सकती। यह संगीत का अपमान भी है।
गंगाजल-2 में गाये गाने : रिचा ने बताया, प्रकाश झा की गंगाजल-2 में मैंने कुछ गाने गाए हैं। इसके अलावा एक सूफी एलबम भी अगले महीने लांच होगा।

भोपाल में धूमधाम से मनाई गई महाशिवरात्रि







भोपाल। महाशिवरात्रि पर मंगलवार को शिवालयों में महामंगल योग में भगवान शिव की विशेष पूजा-अर्चना, अभिषेक आदि अनुष्ठान हुए। अपनी मनोकामना लिए शिव के चरणों में पहुंचे भक्तों ने विशेष पूजा-अर्चना कर अपने दिन की शुरुआत की। सोमवारा स्थित महादेव मंदिर समेत कई स्थानों से शाम को शिव की बारात निकाली गई। महाशिवरात्रि इस बार महामंगल योग में मनाई गई। महानिशा काल में महाकाल का पूजन राष्ट्र मंगल की दृष्टि से शुभ फल प्रदान करने वाला है। 20 साल बाद शिवरात्रि के तीन दिनों में तीन शुभ संयोग आ रहे हैं। इससे पहले 1994 बना था। ज्योतिषाचार्य पं.धर्मेन्द्र शास्त्री के अनुसार फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी महाशिवरात्रि के रूप में मनाई जाती है। इस बार शिवरात्रि मंगलवार के दिन श्रवण नक्षत्र की साक्षी में है। इसके स्वामी शिवजी हैं। धर्म सिंधु के अनुसार यदि महाशिवरात्रि का पर्वकाल मंगलवार को आता है, तो अतिशुभ माना जाता है। योग गणना के अनुसार महामंगल योग में आने वाली शिवरात्रि विशेष फल प्रदाता कही गई है।

बर्फ के शिवलिंग की पूजा
मां संतोषी सेवा मंडल द्वारा ऐशबाग स्थित संतोषी माता चौराहा पर सुबह 11 बजे बर्फ के शिवलिंग की स्थापना कर पूजा-आरती की गई। इसके साथ ही पुष्पा नगर चौराहे पर भी बर्फ के शिवलिंग की स्थापना की गई, जहां भक्तों ने धूमधाम से भगवान शिव की पूजा-अर्चना की।

इन मंदिरों में है विशेष आयोजन
शिवरात्रि को ध्यान में रखते हुए, शहर के गुफा मंदिर, नेवरी, गिन्नौरी, कमाली, छोला, बिड़ला, पशुपतिनाथ अन्य मंदिरों में अभिषेक, महामृत्युंजय मंत्र जाप पूजा-आरती का विशेष आयोजन किया गया। इसके साथ ही भोजपुर के ऐतिहासिक शिव मंदिर में भक्तों का मेला लगा है, जिसे देखने के लिए दूर-दूर से लोग यहां पहुंच रहे हैं।

भोजपुर में लगी भक्तों की भीड़
महाशिवरात्रि पर भगवान शिवशंकर की आराधना के लिए शिवालयों पर आज सुबह से ही भीड़ उमड़ पड़ी। शिव मंदिरों में जहां भोलेनाथ को दूध से स्नान करने के बाद श्रृंगार किया गया और उन्हें बेल, बेल पत्री, धतुरा, बैर चढ़ाया गया। भांग का भोग लगाया गया। भोजपुर में शिवलिंग के दर्शन के लिए हजारों की संख्या में लोग पहुंचे। राजधानी के शिवालयों में आज सुबह से ही महिला-पुरुष, नौजवान-बच्चे और बूढ़े सभी हिंदू धर्मावलंबी पूजा-अर्चना के लिए पहुंचने लगे थे। गुफा मंदिर, बड़वाले महादेव और बिड़ला मंदिर पर विशेष इंतजाम किए गए थे जिससे भक्तों को कोई परेशानी का सामना नहीं करना पड़े। राजधानी के समीप स्थित भोजपुर के शिवमंदिर पर शिवभक्तों का सैलाब से उमड़ा। मंदिर से कई किलोमीटर पहले ही वाहनों को रोककर पार्किंग कराई गई जिससे मंदिर के आसपास व्यवस्था बनी रहे। मंदिर परिसर में पॉलीथिन और पन्नी की सामग्री को वर्जित कर दिया गया। यहां भंडारे का आयोजन भी किया गया जिसमें प्रदेश के अलावा अन्य राज्यों के भक्त भी शामिल हुुए।

विधानसभा का बजट सत्र 18 से, अभी तक 4439 प्रश्न आए


- राज्यपाल को अभिभाषण का नैतिक अधिकार नहीं : जीतू पटवारी

भोपाल। विधानसभा का बजट सत्र बुधवार से शुरू होने जा रहा है। सत्र की शुरुआत राज्यपाल रामनरेश यादव के अभिभाषण से होगी। इसके पहले ही इसे लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं। कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी का कहना है कि राज्यपाल को अभिभाषण का नैतिक अधिकार नहीं है। गौरतलब है कि राज्यपाल रामनरेश यादव के बेटे का नाम व्यापमं घोटाले में आ चुका है। सत्र के दौरान विधानसभा में कांग्रेस द्वारा व्यापमं घोटाले को लेकर व्यापक तैयारी की गई और मुख्यमंत्री से इस्तीफे की मांग के साथ वह सदन में हंगामा करेगी। कांग्रेस विधायक व्यापमं घोटाले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को घेरने की व्यापक तैयारी कर रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा सोमवार को एसआईटी में पेश किए गए शपथ पत्र के दस्तावेजों के आधार पर सीएम की कांग्रेस विधायक घेराबंदी करेंगे। इस रणनीति को सोमवार को पत्रकार वार्ता में कांग्रेस नेताओं ने बताया भी था। मतलब इस बार भी कांग्रेस विधायक सदन की कार्रवाई को शांतिपूर्वक नहीं चलने देगी। वहीं विधानसभा में अभी तक विधायकों द्वारा 4439 सवाल पूछे जा चुके हैं जिनमें तारांकित 2623 और अतारांकित 1816 हैं। यह सवाल विधानसभा सचिवालय को प्राप्त हो चुके हैं। इनके अलावा 32 अशासकीय संकल्प, पांच स्थगन प्रस्ताव, 99 ध्यानाकर्षण सूचनाएं और 29 शून्यकाल के प्रस्ताव विधानसभा को मिल चुके हैं।
विधानसभा अध्यक्ष ने लिया तैयारियां का जायजा
भोपाल। विधानसभा के बजट सत्र की बुधवार से शुरुआत होने जा रही है जिसकी तैयारियों का विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा ने लिया। उन्हें विधानसभा की व्यवस्थाओं के बारे में प्रमुख सचिव भगवानदेव इसरानी ने अवगत कराया। विधानसभा अध्यक्ष ने भवन की गैलरियों और कक्षों का भी निरीक्षण किया।

युवा कांग्रेस कार्यकर्ता 18 को विधानसभा घेरेंगे


भोपाल। व्यापम घोटाले और केंद्रीय भूमि अधिग्रहण कानून को लेकर बुधवार को प्रदेश युवा कांग्रेस द्वारा विधानसभा का घेराव किया जाएगा। विधानसभा घेराव आंदोलन में व्यापम घोटाला व केंद्रीय भूमि अधिग्रहण कानून के विरोध सहित प्रदेश में बिजली संकट-यूरिया की कालाबाजारी, स्वाइन रोकथाम में नाकामी, कच्चे तेल की कीमत के बाद भी उपभोक्ताओं को मिलने वाले लाभ पर सरकारों के कब्जे सहित कई अन्य मुद्दों पर केंद्र व राज्य सरकार को घेरा जाएगा। इस आंदोलन में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव, युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमरिंदर सिंह बरार, नेता प्रतिपक्ष सत्यदेव कटारे और कांग्रेस के विधायक व संगठन के पदाधिकारी शामिल होंगे। युवा कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कुणाल चौधरी ने बताया कि सुबह लिली टाकीज जहांगीराबाद पर विधानसभा का घेराव किया जाएगा। इसके पहले लिली टॉकीज पर सभा भी होगी जिसे कांग्रेस नेताओं द्वारा संबोधित किया जाएगा। युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव व प्रदेश प्रभारी केशवचंद यादव और डॉ. राजेंद्र मूंड ने इस आंदोलन के लिए प्रदेश के कई हिस्सों में सभाएं ली हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का पलटवार, कहा- हार से बौखला गई है कांग्रेस


भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह द्वारा लगाए गए व्यापमं घोटाले के आरोपों पर पलटवार किया। शिवराज ने कहा कि दिग्विजय की विश्वसनीयता कम है और इसलिए वो अपने आरोपों को विश्वस्त बनाने के लिए राज्य के सारे कांग्रेसी नेताओं को ले आए हैं। उन्होंने कहा कि राजा-महाराज मिलकर सरकार पर आरोप लगा रहे हैं। यहां तक कि दिग्विजय सिंह तो नींद में भी मेरे इस्तीफे के सपने दिखते है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वो दिग्विजय और उनके साथी कांग्रेसी नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई पर विचार कर रहे हैं। गौरतलब है कि सोमवार को मध्यप्रदेश के कांग्रेस नेताओं ने मिलकर 2013 में हुए व्यापमं घोटाले के सबूतों के साथ कथित तौर पर छेड़छाड़ करने का आरोप लगाया था। वहीं उज्जैन पहुंची राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने व्यापमं मामले पर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि वो विज्ञप्ति जारी करके अपना पक्ष रखेंगी।

व्यापमं में मेरा नाम राजनीतिक साजिश : उमा भारती


भोपाल। सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा व्यापम घोटाले में संविदा शिक्षक मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम को काटकर उमा भारती का नाम जोड़े जाने का शपथ पत्र दिए जाने के बाद आज केंद्रीय मंत्री उमा भारती भोपाल पहुंची और उन्होंने इसको लेकर एक लिखित बयान जारी किया। उन्होंने कहा कि अचानक छह महीने बाद मेरा नाम उछाला जाना साजिशी राजनीति का सबसे घिनौना चेहरा है। लिखित बयान में सुश्री भारती ने कहा कि डेढ़ साल पहले जब मुझे व्यापम घोटाले की जानकारी हुई थी तब ही मैंने इसको गंभीर और गहरा मानते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इस मामले को सीबीआई को सौंपने का सार्वजनिक रूप से सुझाव दिया था। बाद में स्वयं मुख्यमंत्री महोदय ने इस मामले की गंभीरता को समझते हुए राज्य की सबसे विश्वनीय जांच एजेंसी एसटीएफ को सौंपने का फैसला किया। सुश्री भारती ने कहा कि अब जब मामला न्यायालयीन प्रक्रिया में है तब अचानक मेरे नाम की फिर चर्चा होना, मेरी नजर में साजिशी राजनीति का सबसे घिनौना और भयंकर चेहरा है। मैं इस मामले में इतनी आत्मविश्वास से परिपूर्ण हूं कि मैं स्वयं पिछले वर्ष पुलिस मुख्यालय में जाकर अपना बयान दर्ज कराने को तैयार थी किन्तु एसटीएफ के आईजी ने मेरी संलग्नता नहीं होने का बयान जारी किया तथा स्वयं डीजीपी ने मेरे निवास पर आकर मुझे इसकी जानकारी दी। अंत में सुश्री भारती ने कहा कि क्योंकि यह मामला न्यायालय के अधीन है इसलिए मैं इस विषय में सार्वजनिक रूप से कोई बयान नहीं दूंगी।

लंगर का चंदा के नाम पर ठगी करने वाले दो गिरफ्तार


- अनिष्ट का भय और उसका निवारण करने का झांसा देकर करते थे वारदात

भोपाल। गांधी नगर पुलिस ने दो ऐसे शातिर जालसाजों को गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है जो अनिष्ट का भय व उसका निवारण करने का झांसा देकर नकदी व जेवरात पर हाथ साफ कर देते थे। आरोपियों ने पांच दिन पूर्व गांधी नगर इलाके में ही एक महिला व उसके परिजनों को पूजा-पाठ करने के बहाने हजारों रुपए का चूना लगा दिया था। दोनों आरोपी सिख वेश में लंगर का चंदा वसूलने के नाम ठगी की वारदातों को अंजाम दे रहे थे।
पुलिस के मुताबिक अब्बास नगर रोड स्थित लेक पर्ल गार्डन गांधी नगर निवासी पुष्पा चंचलानी पत्नी दौलतराम चंचलानी (52) विगत 13 फरवरी की दोपहर करीब ढाई बजे परिवार के अन्य सदस्यों के साथ घर में थीं। इसी बीच सिख वेशभूषा में दो युवक लंगर का चंदा लेने के बहाने वहां पहुंचे। घर के भीतर प्रवेश करते ही दोनों युवकों ने महिला से कहा कि आपके घर के पूजा घर में कुछ गड़बड़ है। प्रेत का छाया भी है घर पर, अनिष्ट की आशंका बनी रहेगी। परेशानियां दूर करने और संभावित अनिष्ट का निवारण करने के लिए पूजा-पाठ करनी होगी। इतना कहने के बाद महिला व अन्य परिजनों के साथ दोनों अनजान युवक पूजा घर तक जा पहुंचे और पूजा-पाठ का स्वांग रचने लगे। इस बीच उन दोनों ने पुष्पा चंचलानी से दस हजार रुपए नकद समेत एक सोने की अगूंठी व सोने की चेन भी पूजा सामग्री के साथ रखवा ली। पूजा-पाठ के दौरान दोनों युवकों ने घर में मौजूद सभी लोगों से आंखें बंद कर ध्यान लगाने को कहा। जैसे ही उन लोगों ने आंखें बंद की उक्त दोनों शातिर ठग दस हजार रुपए नकदी समेत सोने की चेन व अगूंठी लेकर रफूचक्कर हो गए। पुलिस ने महिला की शिकायत पर धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज किया है।

शहर में गिरोह है सक्रिय
थाना प्रभारी जितेन्द्र पटेल ने बताया कि हुलिए के आधार पर पुलिस ने एक दर्जन से अधिक संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी थी और सफलता भी जल्द ही मिल गई। पुष्पा चंचलानी के घर ठगी करने वाले दोनों युवकों को गिरफ्तार कर लिए गए हैं। उनसे नकदी व आभूषण भी बरामद हुए हैं। पूछताछ में पता चला है कि एक दर्जन से अधिक उक्त गिरोह के सदस्य शहर में ठगी की वारदातों को अंजाम देने की नीयत से घूम रहे हैं। उनकी तलाश की जा रही है। शहर के अन्य थाना पुलिस को भी उक्त आरोपियों की तलाश है।

बीएमसी को मिला इंडिया मोस्ट प्रॉमिसिंग सिटी अवार्ड


- महापौर और कमिश्नर अवार्ड अवार्ड लेने पहुंचे दिल्ली


भोपाल। नगर निगम भोपाल को द्वितीय स्मार्ट सिटी सम्मिट 2015 के तहत इंडिया मोस्ट प्रॉमिसिंग सिटी अवार्ड से नवाजा गया है। यह अवार्ड शहर को स्मार्ट सिटी बनाने और नागरिक सुविधाएं सहित विकास कार्यों के लिए दिया जाता है। यह अवार्ड स्मार्ट सिटीज काउंसिल यूएसए के कार्यपालक निदेशक फ्लिप बेन और शहरी विकास मंत्रालय के सचिव सुधीर कृष्णा ने मंगलवार को महापौर आलोक शर्मा और निगम कमिश्नर तेजस्वी एस नायक को दिया। जानकारी के अनुसार नई दिल्ली के इण्डिया हैबिटेट सेंटर में आयोजित दो दिवसीय द्वितीय स्मार्ट सिटी सम्मिट -2015 के पहले दिन मंगलवार को सम्मिट के शुभारंभ सत्र में नगर निगम भोपाल को इंडिया मोस्ट प्रॉमिसिंग सिटी अवार्ड से नवाजा गया। यह अवार्ड भोपाल शहर को स्मार्ट सिटी बनाने के मद्देनजर बेहतर नागरिक सुविधाएं और विकास कार्यों के लिए दिया गया। महापौर आलोक शर्मा ने स्मार्ट सिटीज काउंसिल यूएसए के कार्यपालक निदेशक फ्लिप बेन और शहरी विकास मंत्रालय के सचिव सुधीर कृष्णा से लिया। इस अवसर पर नगर निगम के प्रभारी जनसंपर्क प्रेम शंकर शुक्ला, सहायक कम्प्यूटर प्रोग्रामर अंदलीब वारसी आदि साथ रहे।

बीमारी से विवाहिता की मौत


भोपाल। अशोका गार्डन थाना इलाके में एक विवाहिता की बीमारी के कारण मौत हो गई । पुलिस के मुताबिक सरस्वती साहू पति कमलेश (22) गायत्री कालोनी देवरी सागर की रहने वाली थी वह शहर में किराये से सी 59 सुभाष कालोनी में अपने पति के साथ रहती थी। वह पिछले कई दिनो से बीमार थी। 31 जनवरी को उसका पति कमलेश 1250 में इलाज के लिए उसे लिए जा रहा था। कि रास्ते में ही विवाहिता की मौत हो गई । मृतिका का पति शव लेकर अपने गांव चला गया। वहां के थाने में जीरो पर कायमी करते हुए डायरी अशोका गार्डेन थाने में भेज दी।

न्यू मार्केट व्यापारी महासंघ के चुनाव 3 मार्च को


- आज से नाम निर्देशन फार्म का होगा वितरण

भोपाल।  न्यू मार्केट व्यापारी महासंघ के चुनाव 3 मार्च को होंगे। इसके लिए मतदाता सूची का प्रकाशन हो गया है। तीन वर्ष के लिए होने वाले इस चुनाव में अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, सहसचिव व कोषाध्यक्ष पद के लिए एक-एक और कार्यकारिणी सदस्य के लिए पांच लोगों का चुनाव किया जाएगा।
व्यापारी महासंघ के वर्तमान सचिव मुकेश गोयल ने बताया कि महासंघ के लिए नाम निर्देशन पत्र फॉर्म का वितरण कल बुधवार 18 फरवरी को होगा। 19 फरवरी को फॉर्म जमा होंगे और उनकी जांच की जाएगी। 20 फरवरी को वैध फॉर्मों की सूची जारी होगी और 21 फरवरी को नाम वापस लिए जा सकेंगे। चुनाव प्रचार के बाद 3 मार्च को न्यू मार्केट टीटी नगर में सुबह 11 से शाम 5 बजे तक मतदान होगा और फिर मतगणना के बाद परिणामों की घोषणा की जाएगी।

वेंकैया नायडू से मिले महापौर आलोक शर्मा


- जेएनएनयूआरएम की बाकी किस्तें जारी करने का रखा प्रस्ताव

भोपाल। महापौर आलोक शर्मा ने मंगलवार को केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू से नई दिल्ली में मुलाकात की। मुलाकात के दौरान श्री शर्मा ने केन्द्रीय मंत्री से भोपाल के विकास के संबंध में चर्चा करते हुए जेएनएनयूआरएम की किस्तें जारी करने का प्रस्ताव रखा। बताया जाता है कि महापौर श्री शर्मा द्वितीय स्मार्ट सिटी समिट 2015 में इंडिया मोस्ट प्रॉमिसिंग सिटी अवार्ड लेने पहुंचे थे।  जानकारी के अनुसार महापौर आलोक शर्मा ने केन्द्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू से भेंट की। इस दौरान महापौर श्री शर्मा ने भोपाल शहर के विकास के लिए नगर निगम द्वारा किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी और झीलों के संरक्षण एवं सौंदर्यीकरण सहित राजा भोज की तरह मध्यप्रदेश के महापुरुषों की प्रतिमाएं लगाने एवं ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के संबंध में भी चर्चा की। बताया जाता है कि मंत्री श्री नायडू ने भोपाल के बीआरटीएस को बेहतर बताते हुए मध्यप्रदेश में हुए विकास एवं सुधार कार्यों की सराहना भी की और भोपाल के झीलों की सुंदरता को निहारने की इच्छा जताई। मुलाकात के दौरान महापौर श्री शर्मा ने जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय शहरी नवीनीकरण मिशन के तहत विभिन्न परियोजनाओं की किस्तों को जारी करने, जेएनएनयूआरएम परियोजना के तहत जबलपुर नगर निगम द्वारा नहीं ली जा रही 125 बसों को भोपाल नगर निगम को दिए जाने की मांग की, जिस पर केन्द्रीय मंत्री ने शहरी विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव मुकुल जोशी से भोपाल को यह बसें दिलाने के संबंध में परीक्षण कराने को कहा है, वहीं निगम कमिश्नर से मंत्री ने झीलों के संरक्षण, संवर्धन तथा ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के संबंध में प्रस्ताव भेजने को भी कहा।
केन्द्रीय मंत्री श्री तोमर से की भेंट
महापौर आलोक शर्मा ने नई दिल्ली प्रवास के दौरान केन्द्रीय इस्पात एवं खान मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर से भेंट की। केन्द्रीय मंत्री ने आलोक शर्मा को भोपाल का महापौर बनने पर बधाई एवं शुभकामनाएं दी और भोपाल के विकास में हरसंभव सहयोग के लिए आश्वस्त भी किया।

युगांधर बने भेल के नए मुखिया


- भावे जगदीशपुर, इड़की को हरिद्वार का जिम्मा

भोपाल। बीएचईएल भोपाल के नए कार्यपालक निदेशक को लेकर बरकरार असमंजस अंतत: समाप्त हो गया है। सीएफएफपी हरिद्वार के कार्यपालक निदेशक एएमवी युगांधर को भोपाल इकाई का जिम्मा सौंपा गया है, जबकि महाप्रबंधक विश्वास भावे को जगदीशपुर का यूनिट हेड बनाया गया है। इस संबंध में भेल के कॉरपोरेट कार्यालय द्वारा आदेश भी जारी कर दिया गया है। गौरतलब है कि भेल भोपाल के वर्तमान कार्यपालक निदेशक शशिरंजन प्रसाद इसी माह 24 फरवरी को सेवानिवृत्त हो रहे हैं, ऐसे में भेल का नया कार्यपालक निदेशक कौन होगा यह विषय पिछले कई दिनों से बीएचईएल के गलियारों में चर्चा का मुद्दा बना हुआ था। कर्मचारी अपने नए ईडी के नाम के ऐलान का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। सूत्रों की माने तो इस बीच श्री प्रसाद को एक्सटेंशन दिए जाने का मुद्दा भी चर्चा में बना रहा। खबरें तो यहां तक आई कि प्रसाद को छह माह का एक्सटेंशन दिए जाने संबंधी फाइल कॉरपोरेट कार्यालय से भारी उद्योग मंत्रालय को भेजी गई है, नतीजतन प्रसाद को एक्सटेंशन मिलेगा या फिर भेल भोपाल का कोई नया मुखिया नियुक्त होगा, इसको लेकर असमंजस बना हुआ था। इसके साथ ही कॉरपोरेट स्तर पर भोपाल इकाई के लिए नए चेहरे की तलाश भी जारी थी। आखिरकार प्रबंधन की तलाश पूरी हुई और उसने ईडी को लेकर असमंजस को समाप्त करते हुए मंगलवार को नए कार्यपालक निदेशक के नाम का ऐलान कर आदेश जारी कर दिया है। इसके तहत सीएफएफपी हरिद्वार के कार्यपालक निदेशक एएमवी युगांधर को भेल भोपाल का कार्यपालक निदेशक नियुक्त किया गया है। श्री युगांधर प्रसाद की सेवानिवृत्ति पर 24 फरवरी को भोपाल ईडी के रूप में कार्यभार ग्रहण करेंगे। इसके साथ ही प्रबंधन द्वारा दो और वरिष्ठ अधिकारियों को इधर से उधर किया गया है। इसमें भोपाल में एमएम विभाग के महाप्रबंधक विश्वास भावे का महाप्रबंधक प्रभारी के रूप में पुन: पदनामित करते हुए जगदीशपुर स्थानांतरित किया गया है। श्री भावे जगदीशपुर यूनिट हेड के रूप में कार्य ग्रहण करेंगे, जबकि जगदीशपुर के कार्यपालक निदेशक एनआर इड़की को यूनिट हेड सीएफएफपी हरिद्वार भेजा गया है।

शादी का झांसा देकर नाबालिग से ज्यादती


भोपाल। हनुमानगंज थाना इलाके में एक नाबालिग किशोरी से युवक द्वारा शादी का झांसा देकर ज्यादती करने का मामला सामने आया है। टीआई भूपेंद्र सिंह के मुताबिक आरोपी गुड्डू उर्फ इदरीश (35) देवकी नगर थाना निशातपुरा में रहता है। उसने चार शादियां की हैं। इदरीश पिछले तीन-चार महीने से लगातार किशोरी को शादी का झांसा देकर ज्यादती कर रहा था। जब किशोरी ने उसे शादी करने को कहा तो वह मुकर गया। इतना ही नहीं घटना की जानकारी किसी से बताने पर जान से मारने की धमकी भी दी। सोमवार को किशोरी अपने परिजनों के साथ घटना की शिकायत थाने में की।

पूर्व अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह तोमर का मकान व बैंक खाता अटैच


- उपायुक्त सहकारिता ने जारी किए निर्देश

- मामला मंत्रालय कर्मचारी गृह निर्माण समिति में हुई गड़बड़ी का

- एक करोड़ में बेच दी थी सदस्यों की जमीन

भोपाल। मंत्रालय कर्मचारी गृह निर्माण समिति के पूर्व अध्यक्ष व संचालक का मकान व बैंक खाता सहकारिता न्यायालय ने अटैच कर लिया है। इस संबंध में उपायुक्त सहकारिता द्वारा आदेश भी जारी कर दिए गए हैं।
ज्ञात हो कि समिति के पूर्व अध्यक्ष श्री तोमर ने समिति की बावडिय़ांकलां स्थित कुल जमीन 2.74 एकड़ में से 2.36 एकड़ को समिति के गैर सदस्यों को बेच डाली थीं। इस मामले में समिति के तत्कालीन संचालक मोती सिंह रावत भी दोषी हैं। इनके द्वारा समिति की भूमि 1 करोड़ 1 लाख 36 हजार रुपए में बेच दी गई। सदस्यों की शिकायत के बाद हुई जांच में इस फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ था। खुलासे के बाद सहकारिता उपयुक्त आरएस विश्वकर्मा ने न्यायालयीन प्रकरणों का निराकरण होने के लिए यह आदेश जारी किया। आदेश के तहत श्री तोमर के फाच्र्यून ग्लोरी गेट के सामने बावडिय़ाकलां के मकान नंबर दस और बैंक खातों को संस्था से अटैच किया गया है।
परिसमापक के दौर में थी समिति
बताया जा रहा है कि जब इस समिति की जमीन बेची गई तो समिति परिसमापक की कार्रवाई के दौर से गुजर रही थी, इसके चलते समिति में परिसमापक का काम प्रभारी अधिकारी कर रहे थे। इस बीच समिति के पूर्व अध्यक्ष ने अधिकार न होने के बावजूद समिति की जमीन बेच दी और संस्था को नुकसान पहुंचाया। इस मामले में अब सहकारिता अधिनियम की अलग-अलग धाराओं के तहत कार्रवाई की गई है।

पहली पत्नी को धोखे में रखकर रची दूसरी शादी


- मुख्यमंत्री कन्यादान योजना के तहत किया था विवाह

भोपाल। पहली पत्नी को धोखे में रखकर एक युवक ने मुख्यमंत्री कन्यादान योजना कार्यक्रम में दूसरी शादी रचा ली। घटना का खुलासा उस समय हुआ जब पति से अलग रह रही पहली पत्नी अपने ससुराल पहुंची और उसे वहां पति की दूसरी शादी का फोटो मिला। पहली पत्नी का आरोप है कि दहेज के लिए उसका पति प्रताडि़त कर रहा था इसलिए वह अपने मायके आ गई थी। पीडि़त पत्नी ने अपने पति समेत सास व ससुर के खिलाफ महिला थाने में प्रकरण दर्ज कराया है। पुलिस के मुताबिक आनंद नगर स्थित बिजली कॉलोनी निवासी 25 वर्षीय चांदनी रायकवार का विवाह 2011 में छह नंबर स्टॉप के पास रहने वाले मनोज रायकवार से हुआ था। उनकी एक दो साल की बेटी भी है। शादी के कुछ दिन बाद से ही पति-पत्नी के बीच विवाद शुरू हो गए थे। इस बीच मनोज समेत प्रेमलता व रामदयाल उससे 50 हजार रुपए दहेज की मांग कर भी परेशान करने लगे। करीब सवा साल पहले सहमति से दोनों अलग हो गए। चांदनी अपने मायके आकर रहने लगी थी। इसी दौरान चांदनी को बताए बगैर मनोज ने मई 2014 में कमला नगर क्षेत्र में आयोजित मुख्यमंत्री कन्यादान योजना कार्यक्रम में नेहा नामक एक अन्य युवती से दूसरा विवाह कर लिया।

अलमारी में मिला शादी का फोटो
महिला थाना पुलिस के मुताबिक करीब चार-पांच माह पूर्व चांदनी अपने पति से मिलने अपने ससुराल पहुंची थी। उस समय मनोज की दूसरी पत्नी नेहा अपने नाना-नानी के घर गई हुई थी। चांदनी को अपनी अलमारी में मनोज व नेहा की शादी का फोटो व नेहा के कपड़े मिले। पूछने पर मनोज ने दूसरी शादी करना स्वीकार कर लिया। मनोज का कहना है कि समाज के मुखिया के सामने उसकी तलाक हो चुकी है, जबकि पहली पत्नी चांदनी का कहना है कि तलाक नहीं हुआ था, सिर्फ अलग-अलग रहने के लिए राजी हुए थे। पुलिस ने दस्तावेज जब्त कर उनकी जांच शुरू कर दी है। यदि दस्तावेज सही नहीं पाए गए तो मनोज के खिलाफ धोखाधड़ी की धारा बढ़ा दी जाएगी। फिलहाल मनोज समेत किसी भी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

बर्खास्त सिपाही ने कमरा बंद कर खुद को फूंका


- नशे में धुत होकर पत्नी व बच्चों को पीटा था

-  शिकायत करने थाने आई तो केरोसिन छिड़ककर लगा ली आग

भोपाल। छोला मंदिर थाना क्षेत्र के खेजड़ा बरामद इलाके में मंगलवार शाम एक बर्खास्त सिपाही ने केरोसिन छिड़ककर खुद को फूंक लिया। पुलिस जब तक मौके पर पहुंची तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। आग लगाने से पहले शराब के नशे में धुत सिपाही ने अपनी पत्नी व बच्चों के साथ मारपीट की थी।  पुलिस के मुताबिक खेजड़ा बरामद छोला मंदिर निवासी सुरजीत सिंह पुत्र गुरमेल सिंह (40) आरक्षक था और करीब छह साल पहले नरसिंहपुर के एक थाने से बर्खास्त हुए था। अत्याधिक शराब पीने के कारण अक्सर उनका परिजनों से विवाद होता था। पिछले कुछ दिनों से सुरजीत सिंह के माता-पिता अपने पैतृक गांव पंजाब गए हुए हैं। मंगलवार शाम करीब साढ़े 6 बजे सुरजीत सिंह व उनकी पत्नी-बच्चे घर में अकेले थे। इसी दौरान शराब के नशे में धुत सिपाही ने पत्नी व बच्चों की पिटाई शुरू कर दी। रोज-रोज की मारपीट से तंग आकर उनकी पत्नी शिकायत करने छोला मंदिर जाने के लिए घर से निकल गईं। थोड़ी देर बाद जब पुलिस सुरजीत सिंह की पत्नी के साथ घर पहुंची तो दरवाजा भीतर से बंद मिला। घर के भीतर से धुआं निकल रहा था। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने दरवाजा तोड़कर भीतर प्रवेश किया तो सुरजीत सिंह की जली लाश जमीन पर पड़ी थी।
पहले भी कर चुका था प्रयास
पुलिस के मुताबिक कई बार पहले भी सुरजीत सिंह ने आत्महत्या करने की कोशिश की थी लेकिन हर बाद माता-पिता समझाइश देकर मामला शांत करा देते थे। बताया जाता है कि आग लगने के कारण घर में रखा गृहस्थी का सामान भी जल गया है।

शिकारी को पकड़कर छोडऩे वाला डिप्टी रेंजर निलंबित


भोपाल।
20 दिन पहले दो शिकारियों को रंगे हाथ शिकार करते पकड़कर छोडऩे के मामले में एक डिप्टी रेंजर को वन विभाग ने मंगलवार को निलंबित कर दिया है। डिप्टी रेंजर ने मांस सहित दो शिकारियों को भोपाल डिवीजन में पकड़ा था। इस मामले की शिकायत वन्य प्राणी एवं पर्यावरण प्रेमी आसिफ हसन ने उच्च अधिकारियों से की थी। इसके बाद जाँच में डिप्टी रेंजर दोषी पाए गए। जिसके बाद उन्हें सस्पेंड कर दिया गया है। भोपाल रेंज की समरधा सर्कि ल के डिप्टी रेंजर आईबी सिंह को डीएफओ एम कृष्णमूूर्ति ने ने सोमवार को निलंबित करने के आदेश दिए हैं। सिंह पर आरोप है कि उन्होंने 27 जनवरी को नत्थूलाल और राम स्नेह को प्रेमपुरा में शिकार करते हुए जंगल में पकड़ा था। इसके बाद सूखी सेवनियां चौकी में बंद रखा। शाम को दोनों शिकारियों को भगा दिया। इस पूरी घटना की जानकारी हसन को लग गई थी। उन्होंने घटना की शिकायत डीएफओ को की। जिसके बाद डिप्टी रेंजर को जाँच के बाद दोषी पाए जाने पर निलंबित कर दिया है। जिसकी पुष्टि डीएफओ कृष्णमूर्ति ने की है।.

लुटेरों ने घर में घुसकर युवक को मारी गोली


-  सूने घर में महिला को बंधक बनाकर कर रहे थे लूटपाट

- देवर ने एक लुटेरे को दबोचा तो दूसरे ने चला दी गोली

भोपाल। हबीबगंज थाना क्षेत्र के अरेरा कॉलोनी इलाके में मंगलवार शाम उस समय सनसनी फैल गई जब एक महिला को अकेला पाकर दो सशस्त्र लुटेरे घर में घुस गए और लूटपाट करने लगे। ऐन मौके पर महिला का देवर घर पहुंच गया और बहादुरी का परिचय देते हुए एक लुटेरे को दबोच लिया। अपने साथी को छुड़ाने के लिए दूसरे लुटेरे ने देवर के हाथ पर गोली दाग दी और फरार हो गए। गंभीर हालत में उसे फ्रेक्चर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। लुटेरे अलमारी में रखी नगदी लूटकर फरार हुए हैं।

पुलिस के मुताबिक नालंदा स्कूल के पास अरेरा कॉलोनी निवासी प्रमोद सिंह (29) अपनी पत्नी मिथिलेश सिंह (25) व देवर हीलेन्द्र प्रताप सिंह (24) के साथ रहते हैं। वह अपने भाई हीलेन्द्र के साथ एक पशु चिकित्सक के यहां नौकरी करते हैं। पत्नी मिथिलेश सिंह की डॉग फूड्स इंटरप्राइजेज के नाम से दुकान है। मंगलवार शाम करीब सवा सात बजे मिथिलेश घर में अकेली थीं, तभी दो अज्ञात युवकों ने दरवाजा खटखटाया। काम पूछने पर वे बोले कि भैया से काम हैं, उनसे 80 हजार रुपए लेना है। इस पर महिला ने दरवाजा खोले बिना उनसे कहा कि अभी वह घर पर नहीं हैं, बाद में आ जाना। इसी बीच साइड वाला दरवाजा खुला देख दोनों युवक घर में घुस गए और जेब से रिवाल्वर निकालकर उसमें कारतूस डालने लगे। रिवाल्वर में कारतूस डालने के बाद उन लोगों ने महिला को धमकी देते हुए कहा कि शोर मचाया तो यहीं गोली मारकर ढेर कर देंगे। इसके बाद उन दोनों ने महिला को बंधक बनाकर अलमारी की तलाशी ली और उसमें रखी नगदी निकाल ली। इसके बाद वह मिथिलेश सिंह को घसीटते हुए बाथरूम की तरफ ले जाने लगे।

अचानक पहुंच गया देवर
जानकारी के मुताबिक पति प्रमोद व देवर हीलेन्द्र रात नौ बजे के आसपास ही घर लौटते थे लेकिन मंगलवार को संयोगवश हीलेन्द्र किसी काम से जल्दी घर आ गया। हीलेन्द्र के आते ही लुटेरों के होश उड़ गए और वह भागने का प्रयास करने लगे। इस बीच उसने एक बदमाश को बुरी तरह दबोच लिया। काफी कोशिश के बाद भी वह खुद को छुड़ा नहीं पा रहा था। अपने साथी को मुश्किल में देख दूसरे लुटेरे ने उसे छुड़ाने के लिए हीलेन्द्र के बाएं हाथ पर गोली दाग दी और दोनों बदमाश फरार हो गए।

गुरुवार, 12 फ़रवरी 2015

मुख्यमंत्री शिवराज की लाडली सोना का ब्याह


- स्वामी अवधेशानंद ने दिया वर-वधू को आशीर्वाद

- प्रदेश के दिग्गज नेताओं ने की शिरकत

भोपाल/विदिशा। मां सुंदर देवी सेवा आश्रम में पली-बढ़ी अनाथ बेटी सोना का विवाह गुरुवार को धूमधाम से हुआ। सीएम की बिटिया सोना और उनके दूल्हे त्रिलोकचंद को स्वामी अवधेशानंद महाराज ने आशीर्वाद दिया। बाद में स्वामीजी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनकी पत्नी साधना सिंह को भी बधाई दी। गौरतलब हैं कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अपनी पालक बेटी का विधि-विधान से कन्यादान किया। समारोह में 10,000 मेहमान शामिल हुए। सोना को शुभाशीष देने के लिए जूनापीठाधीश्वर जगद्गुरु स्वामी अवधेशानंद महाराज विशेष रूप से उपस्थित रहे।


विदाई के वक्त नम हुई सीएम की आंखें
जिस बेटी को पिछले 15 बरस से पाल-पोषकर बड़ा किया, उसकी शादी के बाद जब विदाई की बेला आई तो मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की आंखें भी नम हो गईं। सोना आश्रम की 7 बेटियों में सबसे बड़ी है। उसकी शादी के लिए सीएम की पत्नी साधना सिंह चौहान ने वर के रूप में ग्राम बकतरा तहसील बुधनी निवासी युवक त्रिलोकचंद मेहरा उर्फ नीलेश का चयन किया था। गुरुवार को जब सोना की बारात विदिशा आई तो मुख्यमंत्री ने सपत्नीक बारातियों का जोरदार स्वागत किया। सीएम एवं उनकी पत्नी ने कन्यादान की रस्म भी निभाई। बेटी की गृहस्थी के लिए जरूरत का सारा सामान भी साथ में दिया।

भेजे गए थे तीन हजार से ज्यादा निमंत्रण पत्र

प्रदेश सरकार के आधा दर्जन से ज्यादा मंत्री और सैकड़ों अफसरों के साथ 10 हजार से अधिक लोग इस विवाह समारोह के साक्षी बने। वर-वधू को शुभ आशीष देने के लिए जूनापीठाधीश्वर स्वामी अवधेशानंद महाराज, गृहस्थ संत आचार्य देवप्रभाकर शास्त्री और रंगई हनुमान मंदिर विदिशा के महंत विश्वंभरदास महाराज रामायणी विशेष रूप से पधारे थे। मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पत्नी साधना सिंह चौहान के साथ अतिथियों की खातिरदारी कर रहे थे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की ओर से पालक की बेटी की शादी में शामिल होने के लिए 3 हजार से अधिक निमंत्रण पत्र भेजे गए थे।

प्रभारी मंत्री ने की बारात की अगवानी-
आश्रम की बेटी सोना की बारात एक बस और एक दर्जन कारों के साथ सीहोर जिले के ग्राम बकतरा से विदिशा आई थी। बारात में करीब 80 लोग शामिल थे। जिले के प्रभारी और प्रदेश के राजस्व मंत्री रामपाल सिंह चौहान ने रायसेन कलेक्टर जेके जैन और एसपी दीपक वर्मा के साथ सांची रेस्ट हाउस पहुंचकर बारातियों की अगवानी की। वहीं, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने बारातियों के विदिशा पहुंचने पर उनका जोरदार स्वागत किया।

नारियों का संरक्षण श्रेष्ठ कार्य
: अवधेशानंद महाराज
वर-वधू को आशीर्वाद देते हुए जूनापीठाधीश्वर अवधेशानंद महाराज ने मंच से कहा कि नारियों का संरक्षण श्रेष्ठ कार्य है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में बेटियों को बढ़ावा देने के लिए अनुकरणीय कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि, एक बेटी दोनों कुलों को तारती है और घर में सुख तथा समृद्धि को बढ़ाती है। वहीं बुंदेलखंड के गृहस्थ संत आचार्य देव प्रभाकर शास्त्री दद्दाजी ने कहा कि, अनाथ कन्या का धूमधाम से विवाह करवाना मंगल कार्य है। मुख्यमंत्री बखूबी पूरे प्रदेश में परमार्थ के कार्यों को बढ़ावा दे रहे हैं।

सीएम की पत्नी ने करवाई सारी तैयारियां

यूं तो मप्र की सारी बेटियां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की भांजियां हैं, लेकिन विदिशा के सुंदर सेवा आश्रम में रहने वाली सात बेटियों के वो धर्म-पिता हैं। सोना इनमें सबसे बड़ी है। सोना के ब्याह को खास बनाने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पत्नी साधना सिंह कई दिनों से यहां सक्रिय थीं।

साधना सिंह ने अपने हाथों से रचाई थी मेहंदी

मंगलवार को गणेशजी ओर मातारानी के पूजन के साथ वैवाहिक रस्मों की शुरुआत हुई थी।साधना सिंह ने अपने हाथों से सोना के हाथों पर मेहंदी रचाई और इसके बाद महिला संगीत का भी आयोजन किया गया था।

आनंद के साथ वेदन का समय : मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने बुधवार शाम को विदिशा पहुंचकर रंगई स्थित गणेश मंदिर में अपनी पालक बेटी की शादी की तैयारियों का जायजा लिया। भोजन व्यवस्था से लेकर मंच तक सभी तैयारियों को लेकर कार्यकर्ताओं से चर्चा की। भास्कर से चर्चा में सीएम ने कहा, आश्रम की बेटियों को अपनी बेटी की तरह लाड़-प्यार दिया है। अब आश्रम की बड़ी बेटी सोना के विवाह और परिवार से विदाई का समय आ गया है। यह विवाह के आनंद के साथ विदाई की वेदना का भी समय है।

बेटी का विवाह एक बड़ी जिम्मेदारी
इस मौके पर सीएम ने कहा, तैयारियों का जायजा लेने आया हूं। बेटी के विवाह की हमारे ऊपर बड़ी जिम्मेदारी थी। इसमें विदिशा के सभी लोग बराती और घराती बने। शादी में कोई कमी ना रह जाए और मेहमानों को कोई दिक्कत ना हो, इस बात का पूरा ख्याल रखा गया।

साधना ने चुना था सोना के लिए जीवनसाथी
रंगई स्थित बाढ़ वाले गणेश मंदिर में सोना की शादी हुई। सुंदर सेवा आश्रम में पली-बढ़ी और हाईस्कूल तक पढ़ी सोना की शादी उसी के समाज के त्रिलोकचंद से हुई। सीहोर जिले के बुदनी तहसील के ग्राम बक्तरा निवासी त्रिलोक को खुद साधना सिंह ने अपनी मुंहबोली बेटी के लिए पसंद किया था। त्रिलोक पेशे से टेक्निशियन है।

विस अध्यक्ष समेत कई मंत्री शादी में हुए शरीक
मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान की ओर से बेटी की शादी का न्योता मिलने के बाद जो खास लोग शादी में शामिल हुए उनमें विस अध्यक्ष डा.सीतासरन शर्मा, वित्तमंत्री जयंत मलैया, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव, वनमंत्री डा. गौरीशंकर शेजवार, तकनीकी शिक्षामंत्री उमाशंकर गुप्ता, राजस्व मंत्री रामपालसिंह, परिवहन मंत्री भूपेंद्रसिंह ठाकुर, राज्य मंत्री दीपक जोशी, भाजपा के संगठन मंत्री अरविंद मेनन, पूर्व सांसद कैलाश सारंग, भोपाल विधायक विश्वास सारंग, रामेश्वर शर्मा, भोपाल महापौर आलोक शर्मा, विदिशा विधायक कल्याणसिंह दांगी, कुरवाई विधायक वीरसिंह पंवार, शमशाबाद विधायक सूर्य प्रकाश मीणा, प्रदेश के मुख्य सचिव एंटानी डिसा, डीजीपी सुरेंद्रसिंह, एडीजीपी सरबजीतसिंह, एडीजीपी प्रशासन सुधीर सक्सेना, जनसंपर्क आयुक्त एसके मिश्रा सहित प्रदेश भर के अनेक अधिकारी और जनप्रतिनिधि शामिल थे।

उस वक्त दौरे पर थे सीएम
खोआ गांव के एक मजदूर की बेटी सोना जब 7 साल की थी, तब उसकी मां का निधन हो गया। उसके बाद पिता घर छोड़कर चले गए। वर्ष 2000 में तत्कालीन सांसद (अब मुख्यमंत्री) शिवराज सिंह चौहान उस गांव के दौरे पर थे। उस वक्त सोना की परवरिश उसके चाचा-चाची कर रहे थे। लोगों ने शिवराज सिंह से सोना की जिम्मेदारी उठाने का आग्रह किया। शिवराज सिंह ने सहर्ष यह आमंत्रण स्वीकारा और सोना को अपनी बेटी मान लिया।













लड़कियां बिगडऩे के बाद अमीर होती हैं : अन्नू कपूर


- नूतन कॉलेज में आयोजित सम्मान समारोह में दिया विवादास्पद बयान

भोपाल। बॉलीवुड अभिनेता अन्नू कपूर ने लड़कियों को लेकर एक विवादास्पद बयान दिया है। राजधानी के नूतन कॉलेज में छात्राओं को संबोधित करते हुए अन्नू कपूर ने कहा, लड़के अमीर होने के बाद बिगड़ते हैं और लड़कियां बिगडऩे के बाद अमीर होती हैं। अन्नू कपूर के इस बयान को लेकर अब हंगामे के आसार हैं। नूतन ओल्ड गल्र्स एसोसिएशन की ओर से अन्नू कपूर का कॉलेज में सम्मान किया गया था।

दीपिका-कैटरीना से प्रभावित मत होना
अन्नू कपूर ने कहा कि फिल्मों में दीपिका पादुकोण या कैटरीना कैफ के रोमांस को देखकर महिलाओं को उससे प्रभावित होने की जरूरत नहीं है। दीपिका या कैटरीना तभी अच्छी कलाकार मानी जाएंगी, जब वे समाज में कुछ सकारात्मक योगदान देंगी। फिल्मों में जो रोमांस दिखता है, प्रेम वैसा नहीं होता।

लड़कों को मर्यादा सिखाने की जरूरत
अन्नू कपूर ने कहा कि महिलाओं के प्रति बढ़ते अत्याचार को देखते हुए अब भारतीय परिवारों को लड़कों के प्रति व्यवहार में थोड़ा बदलाव करना चाहिए। आमतौर पर भारतीय समाज में लड़कियों को मर्यादा सिखाई जाती है, लेकिन अब समय आ गया है, जब लड़कों को यह बताया जाए कि महिलाओं का सम्मान करें और बलात्कारी न बनें।

माफी मांगे, नहीं तो शिकायत करेंगे : कांग्रेस

कांग्रेस ने अन्नू कपूर के इस बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता दीप्ति सिंह ने कहा-'इस तरह के बयान शोभा नहीं देते हैं। वो भी एक महिला कॉलेज में ऐसा बयान देना निंदनीय है। अन्नू कपूर को तुरंत माफी मांगना चाहिए, वरना कांग्रेस उनके खिलाफ महिला आयोग और पुलिस में शिकायत करेगी।

इसमें कुछ आपत्तिजनक नहीं : शोभना
नूतन कॉलेज की प्रिंसीपल शोभना वाजपेयी मारू अन्नू कपूर बयान को आपत्तिजनक नहीं मानती। वे बोलीं-अन्नू कपूर लड़कियों को समझाइश दे रहे थे।


चोरों ने सूने घर को बनाया निशाना, पांच लाख की चोरी


- शादी से लौटकर आए परिवार को साफ मिला घर

- थाने से 200 मीटर की दूरी पर है मकान

भोपाल। तलैया थाने से 200 मीटर की दूरी पर स्थित एक सूने मकान में बुधवार देर रात कुछ बदमाशों ने धावा बोल दिया। वारदात के वक्त पूरा परिवार अपने एक रिश्तेदार की शादी में शामिल होने के लिए गया हुआ था। अज्ञात चोर अपने साथ लाखों का माल एवं कुछ कैश भी लेकर फरार हो गए है। सूचना के बाद मौके पर पहुंची तलैया पुलिस ने मामला दर्ज कर अज्ञात चोरों की तलाश शुरू कर दी है।
तलैया पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार नेशमन अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर 4 में कलीम पिता खलील अहमद रहते हैं। कलीम पेशे से डॉक्टर है। कलीम ने गुरुवार सुबह तलैया थाने में शिकायत दर्ज करवाई है कि उनके घर बुधवार देर रात चोरी हो गई। वारदात के वक्त वे पूरे परिवार के साथ अपने एक रिश्तेदार के घर शादी में गए थे। जब वह देर रात को शादी से लौटे तो घर का मुख्य द्वार का ताला टूटा हुआ था। शंका होने पर उन्होंने घर के अन्य कमरों में जाकर देखा। घर का सामान अस्त व्यस्त था और अलमारी में रखा सामान भी बाहर पड़ा हुआ था। उन्होंने पुलिस को बताया कि, जब वे घर में दाखिल हुए, तो उन्होंने देखा कि, अलमारी का लॉकर टूटा हुआ था एवं उसमें रखा सोने का हार, चांदी की पायलें, सोने के कंगन और नगद रुपए भी गायब थे। सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने मौका मुआयना कर मामला दर्ज कर लिया है।

नगर निगम के अतिक्रमण अधिकारी पर बदमाशों ने किया धारदार हथियारों से जानलेवा हमला


भोपाल।
गुरुवार को भोपाल नगर निगम के अतिक्रमण अधिकारी पर जानलेवा हमला करने का मामला सामने आया है। जानकारी के अनुसार अतिक्रमण अधिकारी के कार्यालय में घुसकर कुछ बदमाशों ने उन पर जानलेवा हमला किया है।
गुरुवार सुबह नगर निगम के अतिक्रमण प्रभारी कमर साकिब अपने कार्यालय में बैठे हुए थे। इसी दौरान कुछ अज्ञात लोग जबरन उनके ऑफिस में आए और अतिक्रमण हटाने के लेकर नाराजगी जताने लगे। कमर साकिब ने जब इसका विरोध किया, तो उन्होंने धारदार हथियार निकालकर उन पर हमला कर दिया। हमला करने के बाद सभी बदमाश मौके से फरार हो गए। हमले में घायल कमर साकिब ने तलैया थाने में अपनी शिकायत दर्ज कराई है। अतिक्रमण प्रभारी कमर साकिब ने बताया कि, मैं गुरुवार को अपने समय पर ऑफिस पहुंचा, जब मैं रोजाना की तरह अपना कामकाज निपटा रहा था, तभी कुछ युवक आए और अतिक्रमण करने को लेकर विवाद करने लगे, जब मैंने विरोध किया तो उन्होंने मुझ पर हमला कर दिया।

सर सर सरला का मंचन 21 को


- बॉलीवुड अभिनेता मकरंद देशपांडे पहली बार भारत भवन में देंगे नाट्य प्रस्तुति

भोपाल। बॉलीवुड अभिनेता और प्रसिद्ध कलाकार मकरंद देशपांडे भारत भवन में पहली बार अपने नाटक की प्रस्तुति देने भोपाल आ रहे हैं। भारत भवन के 33वें स्थापना दिवस समारोह के तहत 21 फरवरी को मकरंद देशपांडे के प्रसिद्ध नाटक सर सर सरला का मंचन होगा। मकरंद ने अब तक भोपाल में नाट्य प्रस्तुति नहीं दी है। सर सर सरला में अभिनय के साथ-साथ इसका निर्देशन भी मकरंद ही करेंगे।
मकरंद देशपांडे भारत भवन में नाटक मंचन को लेकर काफी उत्साहित हैं। वे कहते हैं कि भारत भवन के भारत के सबसे बड़े नाट्य कलाकारों में से एक हबीब तनवीर की पसंदीदा जगह थी। उन्होंने अपने कई एतिहासिक नाटक यहीं किए हैं। इसलिए भारत भवन में मेरा पहला नाटक उन्हें समर्पित होगा।
11 दिन चलेगा स्थापना दिवस समारोह
भारत भवन का स्थापना दिवस समारोह 11 दिन चलेगा। 13 फरवरी से चित्र प्रदर्शनी के साथ समारोह की शुरुआत होगी। 11 दिनों में मकरंद देशपांडे के अलावा बॉलीवुड अभिनेता सौरभ शुक्ला, पण्डवानी गायक तीजनबाई सहित राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के कलाकार भी अपनी प्रस्तुति देंगे।

लोहे की राड से हमला कर अधेड़ को लूटा


भोपाल। बिलखिरिया इलाके में बीती देर रात बदमाशों ने लोहे की राड से हमला कर बाइक सवार अधेड़ को लूट लिया और फरार हो गए। घायल को अब तक होश नहीं आया है। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात आरोपियों के खिलाफ हत्या के प्रयास का प्रकरण दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी है। पुलिस के अनुसार प्रहलाद पिता भंवर सिंह (60) ग्राम चिकलोद खुर्द में रहते हैं। वे बीती रात करीब दो बजे रातीबड़ स्थित एक शादी समोराह से अपनी मोटरसाईकिल पर सवार होकर घर लौट रहे थे। सुबह होने पर जब वह अपने घर नहीं पहुंचे तो परिनजों ने उन्हें खोजा। इसी बीच वह खून से लथपथ बेहोशी की हालत में जेके रिसोर्ट के पास मिले। आनन-फानन में परिजनों ने उन्हें इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया। घायल के भाई बादाम सिंह ने बताया कि बदमाशों ने लूटपाट के इरादे से उन पर हमला किया है। क्योंकि उनकी मोटरसाइकिल, मोबाइल और नकदी रुपए भी गायब हैं। पुलिस ने घायल के बेटे अशोक मीणा की शिकायत पर एफआईआर की है। पुलिस का कहना है कि घायल के बयान होने के बाद लूट का खुलासा हो सकेगा। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

55 हजार दैवेभो को नहीं मिला वेतन


भोपाल। राज्य शासन के विभिन्न विभागों में काम करने वाले 55 हजार दैनिक वेतन भोगियों को जनवरी का वेतन अभी तक नहीं मिला है। कर्मचारियों ने 15 फरवरी तक वेतन नहीं मिलने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। मप्र कर्मचारी मंच के प्रांताध्यक्ष अशोक पाण्डेय ने बताया कि वित्त विभाग के स्पष्ट आदेश हैं कि दैनिक वेतन भोगियों को हर महीने की 5 तारीख को वेतन जारी कर दिया जाए, लेकिन लोक निर्माण विभाग, उद्यानिकी विभाग, आवास एवं पर्यावरण, जल संसाधन विभाग आदि ने अभी तक वेतन जारी नहीं किया है।
पीएफ नहीं काटने पर अफसरों पर हो कार्रवाई
वेयरहासिंग कार्पोरेशन के कर्मचारियों के पीएफ नहीं काटने वाले अफसरों पर सेमी गवर्नमेंट एम्पलाइज फेडरेशन ने कार्रवाई की मांग की है। फेडरेशन के प्रांताध्यक्ष अनिल बाजपेयी ने बताया कि कार्पोरेशन में सेवा दे रहे कर्मचारियों का प्रबंधन पीएफ नहीं काटा जा रहा है। पीएफ कार्यालय को इसकी शिकायत की गई है। कर्मचारी 15 से 20 सालों से कार्पोरेशन में सेवाएं दे रहे हैं।

भोपाल में चलेगी मेट्रो, खर्च होंगे 21000 करोड़


- 73 किमी में होंगे 6 रूट, यात्रियों को मिलेगी सुविधाएं

- राजधानी में मेट्रो का होगा सपना साकार

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के लिए मेट्रो सचमुच एक सपना रही है, जो अब साकार होने जा रही है। सरकार ने इसके लिए कंपनी का गठन कर दिया है। बेशक इसके लिए जमीन का अधिग्रहण एक पेंचीदा मसला है, बावजूद सरकार मेट्रो को लेकर गंभीर है।
मप्र में नगरीय निकाय चुनाव निपटने के बाद अब भोपाल और इंदौर में लाइट मेट्रो शीघ्र चलाने के लिए सरकार गंभीर हो गई। लाइट मेट्रो के मॉडल को होशंगाबाद रोड स्थित आईएसबीटी बस स्टैंड पर जनता को जागरूक करने के लिए रखा है। अब ये मॉडल हकीकत में साकार होने वाला है। 21 हजार करोड़ रुपए की लागत और 73 किमी के रूट में चलने वाली लाइट मेट्रो के लिए मप्र भोपाल-इंदौर लाइट मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड सोमवार को बना दी, जिसके अध्यक्ष मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान होंगे।
मप्र में नगरीय निकाय चुनाव निपटने के बाद अब भोपाल और इंदौर में लाइट मेट्रो शीघ्र चलाने के लिए सरकार गंभीर हो गई। लाइट मेट्रो के मॉडल को होशंगाबाद रोड स्थित आईएसबीटी बस स्टैंड पर जनता को जागरूक करने के लिए रखा है। अब ये मॉडल हकीकत में साकार होने वाला है। 21 हजार करोड़ रुपए की लागत और 73 किमी के रूट में चलने वाली लाइट मेट्रो के लिए मप्र भोपाल-इंदौर लाइट मेट्रो रेल कंपनी लिमिटेड सोमवार को बना दी, जिसके अध्यक्ष मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान होंगे।

जमीन के लिए अब लगेगा दम
मेट्रो के लिए अधिकारियों को कहा गया है कि वह जल्दी से जल्दी मेट्रो के रास्ते में आ रही जमीन और फीजिबिलीटी की रिपोर्ट बनाकर सबमिट करें। यह रिपोर्ट जांच के लिए जर्मनी जाएगी और वहां से चेक होकर आने के बाद अंतरिम डीपीआर बनेगी। इसके बाद मुख्य सचिव के पास इसका प्रेजेंटेशन होगा, फिर डीपीआर कैबिनेट में जाएगी। कैबिनेट में पास होने के बाद डीपीआर को केंद्र के पास भेजा जाएगा। केंद्र से अनुमति और फंड आने के बाद भोपाल में लाइट मेट्रो रेल का निर्माण शुरू हो जाएगा। इस काम में तीन महीने का समय लगने की बात सामने आ रही है। लाइट मेट्रो के रूट में पूरे शहर को कवर किया है। एयरपोर्ट से मंडीदीप और लालघाटी से मंडीदीप रूट में शहर के कई हिस्सों को कवर किया गया है तो वहीं कोलार भी मेट्रो रूट पर है।

यहां से गुजरेगा लाइट मेट्रो का रूट

कुल ट्रेक लेंथ-105.87 किमी
टोटल लेंथ रूट-73.06 किमी


कुल रूट-6
  • लाइन 1-बैरागढ़,लालघाटी, कलेक्ट्रेट, कफ्र्यू वाली माता, कमला पार्क, पॉलीटेक्नीक, रोशनपुरा, मातामंदिर, लिंक रोड 2, नूतन कॉलेज, हबीबगंज स्टेशन, आईएसबीटी, अन्ना नगर, महात्मा गांधी चौराहा-18.01 किमी।
  • लाइन 2-करोंद चौराहा, भोपाल टॉकिज, रेलवे स्टेशन, भारत टॉकिज, बोगदा पुल, सुभाषनगर अंडर ब्रिज, डीबी मॉल, बोर्ड ऑफिस चौराहा, हबीबगंज नाका, अलकापुरी बस स्टैंड, एम्स-12.8 किमी।
  • लाइन 3ए-एयरपोर्ट, एयरपोर्ट तिराहा, मनुभावन टेकरी, लालघाटी, कलेक्ट्रेट, कर्फ्यू वाली माता मंदिर, भोपाल टॉकिज, टॉकिज, बोगदा पुल, डीबी मॉल, बोर्ड ऑफिस, हबीबगंज नाका, 10 नंबर चौराहा, बसंत कुंज-18.9 किमी।
  • लाइन 3बी-एयरपोर्ट, एयरपोर्ट तिराहा, मनुभावन टेकरी, लालघाटी, कलेक्ट्रेट, कर्फ्यू वाली माता मंदिर, भोपाल टॉकिज, टॉकिज, बोगदा पुल, डीबी मॉल, बोर्ड ऑफिस, हबीबगंज नाका, बरकतउल्ला यूनीवर्सटी, सी 21 मॉल, मंडीदीप-31.99 किमी।
  • लाइन 4-अशोका गार्डन ऑटो स्टैंड, रेलवे बस स्टैंड, नादरा बस स्टैंड, भोपाल टॉकिज, वीआईपी रोड तिराहा, कमला पार्क, पॉलीटेक्नीक, टीटी नगर स्टेडियम, माता मंदिर, मैनिट चौराहा, पंचशील नगर, एकांत पार्क तिराहा, चूना भट्टी चौराहा, भोज यूनीवर्सटी, सर्वधर्म, मानसरोवर, नयापुरा बस स्टैंड, संस्कार मैरिज गार्डन कोलार रोड-16.33 किमी।
  • लाइन 5-डिपो चौराहा, जवाहर चौक, रोशनपुरा चौराहा, मिंटो हॉल, लिली टॉकिज, जिंसी डिपो, बोगदा पुल, प्रभात चौराहा, अप्सरा टॉकिज, गोविंदपुरा इंडस्ट्रीयल एरिया, जेके रोड-8.65 किमी।

कहां रखा है लाइट मेट्रो का मॉडल
इंदौर में अक्टूबर को इन्वेस्टर मीट हुई थी जिसमें भोपाल और इंदौर लाइट मेट्रो का मॉडल दिखाया गया। भोपाल लाइट मेट्रो का मॉडल 3 महीने और 4 लाख की लागत से तैयार हुआ। इंदौर में मॉडल दिखाने के बाद इसे कुछ समय तक नगरीय विकास एवं पर्यावरण डायरेक्ट्रेट में रखा रहा। दिसंबर में इसे आईएसबीटी बस स्टैंड पर रख दिया गया जहां जनता उसे देख सके। जनता इस मॉडल को देखकर ये समझती है कि ये भोपाल शहर का मॉडल है।

10 लाख रुपए प्रति किलोमीटर में बन रही डीपीआर

लाइट मेट्रो निर्माण प्राइवेट पब्लिक पार्टनरशिप से किया जा रहा है। इसका रूट 73 किमी का है और 72 ही स्टेशन बनाए जा रहे हैं। इसका संभावित खर्च 21 हजार करोड़ रुपए है। एक किलोमीटर के लिए 500 करोड़ रुपए खर्च करने होंगे। लाइट मेट्रो की जो डीपीआर तैयार होने वाली है उसमें प्रति किलोमीटर 10 लाख रुपए का भुगतान कंसलटेंट कंपनी रोहित गुप्ता एंड एसोसिएट को किया जा रहा है।

4 साल पहले इस तरह सोचा गया था मेट्रो का प्लान
20 दिसंबर 2011 को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली मेट्रो रेल निगम से भोपाल मेट्रो के लिए डीपीआर बनाने को कहा। तब इस डीपीआर में 6 करोड़ रुपए खर्च होने थे। मेट्रो का रूट 28.5 किमी और 28 स्टेशन बनने थे। इस परियोजना पर तब 8 हजार करोड़ रुपए खर्च होना था। उस समय तीन गलियारों पर ट्रेन चलाना प्रस्तावित था।

इनका कहना है
लाइट मेट्रो के काम में तेजी आ गई है। इसके लिए कंपनी भी गठित हो गई है और मेट्रो के लिए जमीन चिन्हित करने की तैयारी चल रही है। जल्दी ही डीपीआर बनने वाली है। लाइट मेट्रो की फाईनल डीपीआर 90 फीसदी तक मॉडल के अनुसार होगी।
- कमल नागर, ओएसडी
नगरीय विकास एवं पर्यावरण संचालनालय



दिल्ली में देशद्रोहियों की सरकार, ज्यादा दिन नहीं टिकेगी : स्वामी


- एकात्म मानववाद के विशेष संदर्भ में आर्थिक विकास विषय पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता के किए पुरस्कार वितरित

भोपाल। वरिष्ठ भाजपा नेता डॉ. सुब्रह्ममण्यम स्वामी ने दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार को देश द्रोहियों की सरकार बताया है। स्वामी ने कहा कि यह सरकार ज्यादा दिन तक नहीं टिकने वाली। डॉ. स्वामी ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय की हत्या के पीछे कम्युनिस्ट ताकतों का हाथ था। इसकी दोबारा जांच की जाना चाहिए। डॉ. स्वामी अरुंधती वशिष्ठ अनुसंधान पीठ (इलाहाबाद) द्वारा समन्वय भवन में आयोजित एकात्म मानववाद के विशेष संदर्भ में आर्थिक विकास विषय पर आयोजित निबंध प्रतियोगिता के पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता विश्व हिन्दू परिषद के संरक्षक अशोक सिंघल ने की। कार्यक्रम में राष्ट्रीीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले व सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल मिलन नायडू भी मौजूद रहे। डॉ. स्वामी ने कहा कि पं. दीनदयाल उपाध्याय की हत्या 11 फरवरी 1968 को उत्तर प्रदेश के मुगलसराय में ट्रेन में की गई थी। उनकी हत्या के पीछे कम्युनिस्ट ताकतें थीं। वे जिस बोगी में बैठे थे, उसमें जितने भी लोगों के रिजर्वेशन थे वे सब फर्जी थे। उन पतों पर बाद में कोई व्यक्ति नहीं मिला। पं. दीनदयाल उपाध्याय आर्थिक विकास का अपना अलग मॉडल लेकर आए थे, जिससे पूंजीवादी व साम्यवादी घबरा उठे थे। यही वजह थी कि उनकी हत्या की गई।

मेक इन इंडिया में विश्वास नहीं : अशोक सिंघल

विश्व हिन्दू परिषद के संरक्षक अशोक सिंघल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मेक इन इंडिया प्रोजेक्ट पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि 'मैं मेक इन इंडिया में विश्वास नहीं करता हूंÓ। हमें पं.दीनदयाल उपाध्याय के आर्थिक विकास के मॉडल का अनुसरण करना चाहिए। सिंघल ने कहा कि हमारे गांव आज भी विकास से वंचित हैं। कोई भी ग्रामीण विकास पर ध्यान नहीं दे रहा है।

थिंक टैंक खड़े करने की जरूरत

सिंघल ने कहा कि हमारे देश को पहले मुसलमान शासकों ने लूटा, फिर अंग्रेजों ने लूटा और आजादी के बाद से देश के ही लोग लूटते आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि अमेरिका में सैकड़ों की तादाद में थिंक टैंक होते हैं, जो सरकार को नीतियां बनाकर देते हैं। हमें ऐसे थिंक टैंक खड़े करने की जरूरत है। हमारे विश्वविद्यालयों में हर विभाग अपने से जुड़ी देश की नीति पर अध्ययन करे और गलत नीतियों में सुधार करवाए।

राम मंदिर में लगेगा समय
पत्रकारों से बातचीत में अशोक सिंघल ने कहा कि मंदिर बनाने में समय लगेगा। यह मामला पिछले 70 सालों से अटका पड़ा है,तो इसे हल होने में थोड़ा समय और लगेगा। उन्होंने कहा कि मंदिर निर्माण केवल विश्व हिन्दू परिषद का आंदोलन नहीं हैं, बल्कि यह पूरे देश का आंदोलन हैं।

कांग्रेस ने घेरा स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा का बंगला


भोपाल।
स्वाइल फ्लू के प्रकोप को लेकर कांग्रेस ने आज स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा के निवास पर प्रदर्शन कर उनके इस्तीफे की मागं की है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार स्वाइन फ्लू से हो रही मौतों का वास्तविक आकड़ा छिपा रही है। पांच नंबर बस स्टॉप से कांग्रेस के नवनिर्वाचित पार्षद मोनू प्रदीप सक्सेना के नेतृत्व में पार्टी कार्यकर्ताओं ने आज स्वास्थ्य मंत्री के निवास की ओर कूच किया था। पुलिस ने चार इमली के पास प्रदर्शनकारियों को रोकने के लिए बैरिकेट्स लगा रखे थे जिससे उन्हें वहीं रोक लिया गया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नरोत्तम मिश्रा के खिलाफ काफी नारेबाजी की। उन्होंने आरोप लगाया कि डेंगू के बाद अब प्रदेश में स्वाइन फ्लू का प्रकोप हो रहा है। सरकारी अस्पतालों में पर्याप्त इंतजाम नहीं है। गलत दवाएं खरीदी जा रही हैं। स्वास्थ्य विभाग में दवा घोटाला हो रहा है। ऐसे में स्वास्थ्य मंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए।




स्वाइन फ्लू के उपचार की पुख्ता व्यवस्था करें : शिवराज सिंह


सीएम ने दूसरे दिन फिर बुलाई बैठक, अधिकारियों को दिए निर्देश

भोपाल। मध्य प्रदेश में स्वाइन फ्लू की बिगड़ती स्थिति पर काबू पाने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने दूसरे दिन यानी गुरुवार को फिर बैठक बुलाई। वहीं, कांग्रेस ने इस मामले में सरकार की नाकामी को लेकर स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा के बंगले का घेराव किया। स्वाइन फ्लू को लेकर स्वास्थ्य महकमे की तैयारियों और व्यवस्थाओं की अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह खुद समीक्षा कर रहे हैं। बुधवार को जेपी और हमीदिया अस्पताल के निरीक्षण के बाद मुख्यमंत्री न स्वास्थ्य विभाग और निजी अस्पतालों की आपात बैठक बुलाई थी। बैठक का सिलसिल गुरुवार को भी जारी रहा। मुख्यमंत्री ने गुरुवार सुबह फिर समीक्षा बैठक बुलाई। इस दौरान उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्ढा से फोन पर बातचीत भी की। मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि, दवाओं की किसी भी कीमत पर कमी नहीं होनी चाहिए। जरूरत पड़े तो अतिरिक्त दवाओं की खरीदी की जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकृत अस्पतालों में स्वाइन फ्लू के इलाज के लिए आने वाले हर मरीज के लिये पुख्ता व्यवस्था हो। यदि मरीज में स्वाइन फ्लू के लक्षण दिखाई दें, तो तत्काल उपचार प्रारंभ करें। स्वाइन फ्लू से निपटने के लिए निजी और शासकीय अस्पताल मिलकर एक टीम के रूप में काम करें। मानवीय दृष्टिकोण से काम करें और मिलकर स्थिति पर नियंत्रण रखें। मरीजों के सेम्पल के परिणाम सीधे संबंधित अस्पतालों को भेजे जाएं। अस्पतालों में दवाइयों का निर्धारित मात्रा में भंडारण रहे। स्वाइन फ्लू के उपचार की प्रतिदिन समीक्षा की जाए। उपचार में लगे अस्पतालों के सपोर्टिंग स्टाफ को पीपीए किट और मास्क उपलब्ध करवाए जाएं। बैठक में बताया गया कि स्वाइन फ्लू के उपचार के लिए अधिकृत अस्पतालों में टेमी फ्लू दवा पर्याप्त मात्रा में रखवाई जा रही हैं। सभी अधिकृत केंद्रों पर आने वाले मरीजों का परीक्षण किया जा रहा है। तेज धूप निकलने पर बीमारी का प्रभाव कम होता जाएगा। बैठक में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य प्रवीर कृष्ण, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा अजय तिर्की, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव इकबाल सिंह बैंस सहित निजी चिकित्सा संस्थानों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

आज होगी 'डिजिटल मध्य प्रदेश समिट

भोपाल। 'डिजिटल मध्य प्रदेश समिटÓ का आयोजन शुक्रवार शाम 4:30 बजे से जहांनुमा पैलेस में किया जाएगा। प्रदेश के राजस्व एवं पुनर्वास मंत्री रामपाल सिंह के मुख्य आतिथ्य में होने वाले कार्यक्रम में डिजिटल समृद्धि में रचनात्मक हस्तक्षेप पर विचार श्रंखला की शुरूआत होगी। डिजिटल मप्र समिट में शासन,संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी,मीडिया,डिजिटल मीडिया,मीडिया विश्ेाषज्ञ,पब्लिक रिलेशन,टेलीकॉम,तकनीकी क्षेत्र,शैक्षणिक क्षेत्र, इंजीनियरिंग, एनजीओ, मोबाईल टेक्नोलॉजी के अलावा इंटरनेट के क्षेत्र में अपना अवदान प्रदान करने वाले विशेषज्ञ भाग लेकर अपने विचार सांझा करेंगे।
-------------------------------------
अपने घर से ही होगी अच्छे बदलाव की शुरूआत
- बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं कार्यशाला में किए विचार सांझा
भोपाल। समाज का कोई भी बदलाव हो उसकी शुरूआत अपने ही घर से करनी होगी तो यह बदलाव समाज में तुरन्त देखने को मिलेगा। इसी भावना के साथ हम कोई भी लक्ष्य आसानी से प्राप्त कर सकते हैं। यह विचार भारत सरकार के क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय द्वारा बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर केन्द्रित एक दिवसीय कार्यशाला में व्यक्त किए गए। कार्यशाला में सरोकार संस्था की सचिव कुमुद सिंह ने कहा कि बेटा-बेटी का भेद समाज में बहुत गहरे तक धंस गया है। इस भेद को हम तब तक नहीं मिट सकते जब तक कि हमारी बहन,बेटी,पत्नी एवं मित्र के प्रति हम अपना सही नजरिया नहीं अपनाएेंगे। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ पर आधारित कार्यशाला में राजीव जैन,गिरीश उपाध्याय,शिव अनुराग पटैरिया,ब्रजेश राजपूत,भगवान उपाध्याय,मनोज शर्मा,नीरज श्रीवास्तव एवं शैलेन्द्र तिवारी द्वारा भी अपने विचार सांझा किए गए। कार्यशाला का संचालन सानिसा हर्णे और आदित्य श्रीवास्तव किया एवं आभार मधुकर पवार द्वारा व्यक्त किया गया।
----------------------------------
 भोपाल स्टेशन पर नए एलसीडी डिस्पले बोर्ड लगाने की प्रक्रिया शुरू
- डीआरएम ने दृश्यता देखने किया निरीक्षण
भोपाल । मंडल रेल प्रबंधक राजीव चौधरी गुरुवार को दोपहर भोपाल स्टेशन पर पहुंचकर प्लेटफार्मों पर नए एलसीडी डिस्पले बोर्ड लगाने को लेकर यात्रियों को चौबीस घंटे डिस्पले पर एक समान दृश्यता दिखे, इसे मद्देनजर डीआरएम ने दोपहर ढाई बजे स्टेशन पहुंचकर पश्चिम दिशा से आने वाली सूर्य की रोशनी से दृश्यता पर पड़ रहे डिस्पले बोर्ड पर फर्क को देखने के लिए निरीक्षण किया ।

दो लगाए गए एलसीडी बोर्ड
मंडल रेल प्रबंधक राजीव चौधरी ने गुरुवार को स्टेशन पहुंचकर वर्तमान में चल रही व्यवस्था को खत्म कर नई व्यवस्था के रूप में दो नए एलसीडी डिस्पले बोर्ड लगवाने का काम किया जिससे यात्रियों को सबकुछ एक बोर्ड में जानकारी मिल सके। किस दिशा में बोर्ड लगाया जाए, निरीक्षण का मुख्य उद्देश्य था।

पुराने डिस्पले में ये थी सुविधा
भोपाल स्टेशन के सभी प्लेटफार्मों पर लगी नई डिस्पले प्रणाली से यात्रियों को अपना कोच ढूंढने में परेशानी हो रही है। पुराने डिस्पले प्रणाली में डिस्पले पर गाड़ी डिब्बा क्रं एक से लेकर चौबीस तक प्रिंट रहता था। उसी पर गाड़ी आने के कुछ समय पूर्व डिस्पले के दोनों ओर हिंदी एवं अंग्रेजी में गाडिय़ों के कोच क्रमांक व गाड़ी नंबर दर्शाया जाता था जिससे यात्री को प्लेटफार्म पर खड़े-खड़े अपने कोच की स्थिति की जानकारी आसानी से मिल जाती थी और गाड़ी आने पर वह आराम से बिना किसी परेशानी के अपने कोच में पहुंच जाता था।

वर्तमान में है यह व्यवस्था
नये डिस्पले प्रणाली के तहत प्लेटफार्म पर लगे सभी डिस्पले पर इटारसी की ओर से आने वाले गाडिय़ों के लिए इटारसी एण्ड से बीना एण्ड तक एक से लेकर चौबीस तक सिर्फ नंबर दर्शाने का कार्य किया जा रहा है। इसी प्रकार बीना एण्ड की ओर से आने वाले गाडिय़ों के मुसाफिरों को इसी तरह की व्यवस्था से गुजरना पड़ रहा है। डिस्पले पर दर्शाई जा रही इस नंबर से यात्री को मात्र कोच नंबर की जानकारी मिल रही है न की कोच की, लेकिन उसे यदि ए-1 की जानकारी लेना है तो एक नंबर प्लेटफार्म के मुख्य गेट पर ऊपर लगे डिस्पले को ही देखना पड़ रहा है। इसी प्रकार किसी यात्री का आरक्षण कोच क्रंमांक एस-4 में है तो उसे प्लेटफार्म पर मात्र कोच नंबर की जानकारी मिलेगी, एस- 4 की जानकारी के लिए उसे मुख्य गेट जाना होगा। इस तरह यात्रियों को दो अलग-अलग व्यवस्था के तहत अपने कोच की जानकारी मिल रही है।

नई व्यवस्था ये होगी
भोपाल स्टेशन पर नई व्यवस्था के अंतर्गत कोच गाइडेंस यानि एलसीडी डिस्पले बोर्ड लगाने का काम गुरुवार को डीआरएम के समक्ष किया गया । डिस्पले में डिब्बा क्रमांक, गाड़ी का नाम एवं नंबर, कोच की पोजीशन आदि सबकुछ इस डिस्पले बोर्ड में रहेगा जिससे यात्रियों को अपनी कोच को लेकर किसी प्रकार की परेशानी न हो ।
-----------------------------------------------
 सत्य सांई कालेज की सशक्त नारी सृजन में अहम भूमिका
भोपाल। सत्य सांई कालेज की सशक्त नारी सृजन में अहम भूमिका है। इस कालेज का अपना लम्बा इतिहास है। यह बात गुरूवार को भेल स्थित सत्य सांई कालेज के वार्षिकोत्सव और पारितोषिक वितरण समारोह में कहीं। इस अवसर पर बीयू कुलपति मुरलीधर तिवारी, मीना पिंपलापुरे और डॉ. यूसी जैन शामिल हुए। उच्च एवं स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री दीपक जोशी ने छात्राओं को पुरस्कार वितरित किए।
----------------------------------------
घर में धुस कर महिला से चाकू की नोक पर लूट
- पुलिस ने मामला किया दर्ज,महिला डरी सहमी
भोपाल। लालघाटी के ओम नगर क्षेत्र दो लोगों ने एक महिला को घर में बंधक बनाकर उससे मंगल सूत्र और चूडिय़ों पर हाथ साफ कर लिया। जिस समय घटना हुई उस समय महिला घर में अकेली थी। मिली जानकारी के अनुसार लालघाटी के ओम नगर में रहने वाली कविता पितृमानी पत्नि जेठानंद पितृमानी ओम नगर के मकान न 34 में दोपहर तीन बजे के लगभग अकेली टीवी देख रही थी,कि तभी दो युवक जिसमें से एक 40 वर्षिय और एक 25 वर्षिय घर में पानी पीने के बहाने से दाखिल हुए। इन लोगों ने महिला से कहा कि उनके पति ने गेहुं के बोरे बुलवाए थे और वो मे लेकर आया हुं। महिला ने उन्हे घर में बैठने को बोला और कहा मेरे पति कुछ देर में आने वाले है। घर के अंदर दाखिल होते ही एक व्यक्ति ने गेट का दरवाजा बंद कर दिया और दूसरे ने कविता को छुरा दिखा कर उसे किचिन में बंद कर उसके गले से मंगलसूत्र और चूडिय़ा छीना ली,जो लगभग एक से डेढ़ लाख के आसपास की है। कुछ देर में लोटे पतिकविता के पति की राशन की दुकान शांति नगर में है,वह घर के पास किसी व्यक्ति के यहां पगड़ी रस्म में श्ािमल होने के लिए दुकान से रवाना हो गए थे,इधर जैसे ही महिला ने किचिन की खिड़की से बाहर निकलकर शोर मचाया तो ये दोनों युवक भाग खड़े हुए,इससे पहले ये दोनों आरोपी अन्य कमरों की तलाशी ले रहे थे,पति के घर में घुसते ही महिला ने उन्हे पूरे मामले की जानकारी दी और पुलिस का फोन कर बुला लिया गया। पुलिस के आला अधिकारी आए मौके परइधर घटना की जानकारी लगते ही एडीषनल एसपी अजय पांडे,सीएसपी सुनिल पाटीदार मौके पर पहुंच गए और उन्होंने पूरी घटना की जानकारी ली। कोहिफिजा पुलिस ने लूट का प्रकरण दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। महिला डरी और सहमीइधर घटना के बाद महिला और उसका परिवार पूरी तरह डरा और सहमा हुआ है। जब कोई महिला से घटना की जानकारी लेता है,तो कविता सहम जाति है, और वह फफक कर रो पड़ रही है।
-----------------------------------------------------------------
 किराना दुकान में छात्रा से छेड़छाड़
भोपाल। गुनगा थाना इलाके में गुरूवार को एक दुकानदार की बेटी से दुकान पर सामान लेने गए युवक ने छेड़छाड़ कर दी। पुलिस ने युवक के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस के मुताबिक ग्राम करोंदिया में 18 वर्षीय छात्रा के पिता की किराना की दुकान है। पिता किसी कार्य से बाहर गये हुए थे तो दुकान में छात्रा थी। तभी उसी गांव का एक युवक गंगाराम लोधी दुकान में सामान खरीदने आया। जब उसने देखा कि दुकान में पिता नहीं है तो बुरी नियत से छात्रा से अश्लील हरकतें करने लगा। छात्रा द्वारा शोर मचाने पर वह मौके से फरार हो गया। पिता के घर वापस आने पर दुकानदार व उसकी बेटी द्वारा सारी घटना की शिकायत पुलिस से की गई। पुलिस ने फरियादी की शिकायत पर गंगाराम लोधी के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लिया है।
-------------------------------------------
 मरने वालों को मिले पांच-पांच लाख रुपए मुआवजा
भोपाल। आम आदमी पार्टी के कार्यकत्र्ताओं ने गुरूवार को स्वास्थ्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा के निवास पर प्रदर्शन कर मांग की है कि राज्य सरकार को स्वाइन फ्लू से मरने वाले लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपए दिए जाएं और मृतक के परिजनों में एक व्यक्ति को नौकरी दी जाए। इस अवसर पर बड़ी संख्या में आप के कार्यकत्र्ता उपस्थित थे। आप के प्रदेश सचिव अक्षय हुंका ने कहा कि प्रदेश में स्वाइन फ्लू की वजह से दो सो से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। जबकि प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री शहरी क्षेत्रों के आंकड़ों के आधार पर 44 मौतें ही स्वीकार कर रहे हैं। राज्य शासन स्वाइन फ्लू की महामारी को रोकने में नाकाम साबित हो रही है।
-----------------------------------
ब्राउन शुगर के तस्करों को तीन साल की सजा

-  एक अन्य आरोपी को फरार घोषित कर किया गिरफ्तारी वारंट जारी
भोपाल।अवैध रूप से ब्राउन शुगर की तस्करी करने के मामले में जिला अदालत ने दो आरोपियों देवेंद्र दांगी उम्र 25 वर्ष निवासी ग्राम नानूखेड़ी गुलाबगंज और दुलेश दांगी उम्र 32 वर्ष निवासी नटखेड़ी मुगांवली अशोक नगर को दोषी ठहराते हुए उन्हें तीन- तीन वर्ष के कठोर कारावास और तीस हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई है। मामले क े एक अन्य आरोपी कन्हैयालाल सेन को अदालत ने फरार घोषित कर उसके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। यह फैसला विशेष न्यायाधीश (एनडीपीएस एक्ट) वीके पांडे की अदालत ने गुरुवार को सुनाया है। प्रकरण में शासन की ओर से लोक अभियोजक आनंद तिवारी ने पैरवी की। अभियोजन के अनुसार 3 अप्रैल 2012 को पुलिस थाना बैरागढ़ के उपनिरीक्षक सोम सिंह ने मुखबिर की सूचना पर राजस्थान निवासी कन्हैयालाल सेन और देवेंद्र दांगी एवं दुलेश दांगी को सीहोर नाका बैरागढ़ के पास से 76 ग्राम अवैध ब्राउन शुगर बरामद कर उनके खिलाफ मामला दर्ज कर अदालत में चालान पेश किया था।
---------------------------------------------
 विस्थापितों की नागरिकता के लिए लगाया शिविर
450 लोगों के लिए गए फार्म, एलटीडी वाले प्रकरणों को 25 फरवरी तक किया जाएगा निराकरण
भोपाल। केन्द्रीय गृह विभाग के आदेश अनुसार,31 दिसम्बर 2009 तक पाकिस्तार से हिन्दुस्तान आए हिन्दु नागरिकों को भारती की नागरिकता दिए जाने के लिए केन्द्रीय विभाग द्वारा 12 और 13 फरवरी को शिविर का आयेाजन गया। यह शिविर टी टी टीआई गांधी भवन के पास आयोजित किया गया है। शिविर की जानकारी देते हुए सिंधु सेना के संरक्षक दुर्गेश केसवानी ने बताया कि शिविर में 450 लोगों के फार्म लिए गए,इसमें जिन लोगों को एलटीडी जिन्हे एक बार भी ग्राड मिली है,उन प्रकरण को 25 फरवरी तक निराकरण कर दिल्ली भेज दिया जाएगा। श्री केसवानी ने बताया कि इस शिविर में केन्द्री गृह सचिव प्रवीण हारे सिंह,बी वी गुप्ता गृहसचिव मध्य प्रदेश शासन,एडीएम बीएस जामोद,विधायक रामेश्वर शर्मा सहित कई वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। इस शिविर में श्री हारे ने उन लोगों से चर्चा की जिन्होंने इस शिविर में हिस्सा लिया। श्री केसवानी के मुताबिक आने वाले 12 दिनों के अंदर एटीडी पाने वाले नागरिकों पुलिस वैरिफिकेशन और कर दिया जाएगा,ताकि इस मामले को जल्द से जल्द हल कर दिया जाएगा। समिति ने अपनी चार मांगे अधिकारियों के सामने रखी थी,जिसमें दो पूरी कर ली गई है,बाकि दो नागरिकों को विशेष पैकेज देने और उनका पुर्नवास करने की मांग को भी जल्द से जल्द पूरा किए जाने की उम्मीद बंधी है। शिविर में विशेष तौर पर संस्था के संरक्षक दुर्गेश केसवानी,अध्यक्ष राकेश कुकरेजा,नागरिक प्रकोष्ठ के संयोजक अजीत राजानी की एेहम भूमिका रही।
----------------------------------


















सोमवार, 9 फ़रवरी 2015

पार्षदों के विजयी जुलूस का किया स्वागत


भोपाल।
रविवार को राजधानी में कई स्थानों पर पार्षदों का विजयी जुलूस को रैली के रूप में निकाला गया। जिसका स्थानीय जनता ने भव्य स्वागत किया।
 

सीमा सक्सेना 
वार्ड 30 से कांग्रेस की पार्षद सीमा सक्सेना का विजयी जुलूस माता मंदिर से निकला, जो प्रमुख चौराहों व गलियों होते हुए पुन: माता मंदिर पर समाप्त हुआ। इस दौरान सैंकड़ों कॉलोनीवासियों व दुकानदारों ने सीमा सक्सेना व उनकी पति प्रवीण सक्सेना का भव्य स्वागत किया। इस अवसर पर सैंकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ता रैली में शामिल थे।
 

रवि वर्मा 
वार्ड 17 से कांग्रेस पार्षद रवि वर्मा का विजयी जुलूस विभिन्न गलियों व चौराहों से निकला। जुलूस का आप लोगों व व्यापारियों ने भव्य स्वागत किया।
 

गणेशराम नागर 
वार्ड 61 से भाजपा पार्षद गणेशराम नागर का विजयी जुलूस निकाला गया। जुलूस के साथ पूर्व महापौर कृष्णा गौर व अन्य भाजपा के पदाधिकारी व कार्यकर्ता शामिल थे। जुलूस अधवपुरी, खजूरीकलां से होता हुआ वार्ड 61 की सभी गलियों व मोहल्ले में घूमता हुआ। वार्ड कार्यालय पर शाम 6 बजे पहुंचा। पार्षद नागर का सभी लोगों ने भव्य स्वागत किया।

सांसद संजर ने दिया भाजपा पार्षद केवल मिश्रा को आशीर्वाद


भोपाल। वार्ड 56 के भाजपा पार्षद केवल मिश्रा को आज मधुवन गार्डन में आयोजित एक समारोह में सांसद आलोक संजर ने आशीर्वाद दिया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि यह केवल मिश्रा की जीत नहीं है बल्कि क्षेत्रीय निवासियों की जीत है। वार्ड 56 का विकास अब तेजी से होगा। आशीर्वाद समारोह में भाजपा के गौरव सिंह चौहान, सुनील द्विवेदी सहित सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

मदन सोनी ने किया महापौर आलोक शर्मा का सम्मान



भोपाल। समाजसेवी मदनलाल सोनी ने नवनिर्वाचित महापौर आलोक शर्मा का रविवार को गूजरपुरा में आयोजित एक कार्यक्रम में सम्मान किया। इस अवसर पर महापौर आलोक शर्मा ने कहा कि शहर के विकास के लिए योजनाबद्ध तरीके से शीघ्र ही कार्य शुरू किया जाएगा। शहर को स्मार्ट सिटी बनाने, स्वच्छ व ग्रीन भोपाल के लिए कई योजनाएं तैयार की जा रही हैं। सम्मान समारोह में सैंकड़ों लोग उपस्थित थे।

बुधवार, 4 फ़रवरी 2015

शिव-साधना ने कराया आलोक का 'बेड़ा पार


भोपाल। भाजपा के आलोक शर्मा भोपाल के नए मेयर चुने गए। तमाम अटकलों को विराम देते हुए उन्होंने कांग्रेस के कैलाश मिश्रा को शिकस्त दी। आलोक की जीत के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समूची सरकार रोड पे उतार दी थी। करीब 12 बजे मतगणना स्थल पर पहुंचे आलोक ने भोपाल को प्रसिद्ध कम्युनिस्ट नेता शाकिर अली के सपनों का शहर बनाने का भरोसा दिलाया। आलोक ने खुद खुद को बर्रूकट भोपाली बताते हुए कहा, मैं शाकिर अली की तरह ही काम करूंगा। आलोक बोले, मेरी जीत कार्यकर्ता और मुख्यमंत्री की जीत है। मैं अवैध कॉलोनियों को वैध करवाकर शहरवासियों को नर्मदा का पेयजल दिया जाएगा।

घड़ी देखकर किया हर काम
भोपाल मेयर की एक सीट के लिए मैदान में कुल 17 प्रत्याशी उतरे थे। आत्मविश्वास और उत्साह से भरे इन सभी प्रत्याशियों के बीच भाजपा के आलोक शर्मा ने बाजी मार ली। खुद से ज्यादा जनता और भगवान पर भरोसा जताने वाले आलोक अपने हर शुभ काम से पहले मंदिरों में मत्था टेकते नजर आए। पूरे चुनावी माहौल में आलोक ने अपना हर काम घड़ी देखकर और शुभ मूहूर्त में ही किया।

कई दिग्गज उतरे थे समर्थन में
चुनाव के ऐन पहले 26 जनवरी को रखी गई एक चर्चा के मायने जब निकलकर सामने आए थे, तो नजारा कुछ और ही था। पता चला की मुख्यमंत्री की जिद पर आलोक शर्मा को प्रत्याशी घोषित किया गया था। लेकिन, जब जीत और हार मुख्यमंत्री की प्रतिष्ठा का विषय बन गया, तब मुख्यमंत्री के निर्देश पर यह चर्चा भाजपा के खर्च पर आयोजित की गई थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार पार्टी में आलोक शर्मा के विरोध में माहौल बना हुआ था। भीतरघात भी एक बड़ी समस्या थी, इन बातों को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, पत्नी साधना सिंह, सांसद आलोक संजर और पार्टी के लगभग सभी बड़े चेहरों को आलोक के पक्ष में माहौल बनाने के लिए भोपाल की गलियों में उतरना पड़ा था।

नामांकन भरने से पहले गए थे छिंद वाले बाबा के दरबार
हर शुभ काम से पहले भगवान के शरण में जाने वाले आलोक शर्मा नामांकन फार्म जमा करने से पहले अपने समर्थकों के साथ छींद वाले हनुमान मंदिर गए थे। विधि-विधान से पूजा-अर्चना करने के बाद ही आलोक ने घड़ी देखकर नामांकन फॉर्म जमा किया था।

वोट डालने से पहले भी निकलवाया था मुहूर्त
मतदान वाले दिन आलोक शर्मा पहले 7.30 बजे वोट डालने वाले थे, लेकिन वे नहीं पहुंचे। काफी देर तक मीडिया के लोग उनसे बात करने और फोटो क्लिक करने के लिए इंतजार करते रहे। करीब 8.30 बजे आलोक शर्मा चौक बाजार में वार्ड क्रमांक 21 के पोलिंग बूथ नंबर 432 पर वोट डालने पहुंचे थे। इस दौरान पत्रकारों ने उनसे बात करनी चाही, लेकिन शुभ मुहूर्त की बात करते हुए उन्होंने पहले मतदान किया।

रिजल्ट से पहले भी पहुंचे थे मंदिर
4 फरवरी को रिजल्ट से पहले आलोक शर्मा एक बार फिर भगवान की भक्ति में लीन नजर आए। घर में घंटों पूजा-अर्चना करने के बाद आलोक अपने समर्थकों के साथ लोहा बाजार स्थित श्रीजी के मंदिर पहुंचे थे। यहां विशेष पूजा करने के बाद वे एक बार फिर शुभ मूहूर्त में रिजल्ट जानने के लिए निकल पड़े थे।

अपनी जीत को लेकर पहले से ही आश्वस्त थे आलोक
मतदान के बाद से ही आलोक अपनी जीत को लेकर आश्वस्त नजर आ रहे थे। मतदान वाले दिन पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा था कि, हमें जीत अवश्य मिलेगी क्योंकि भाजपा ने बूथ स्तर पर कड़ी मेहनत की है। मैं जिलाध्यक्ष भी हूं, इस नाते मैंने और मेरे कार्यकर्ताओं ने हर बूथ का मैनेजमेंट बहुत अच्छी तरह से संभाल रखा था।

नए दफ्तर में बैठेंगे नवनिर्वाचित महापौर आलोक शर्मा


भोपाल। शहर की नई सरकार चुनने की तैयारी शुरू हो गई है। बुधवार को महापौर और पार्षद के रिजल्ट आने के बाद शहर की जनता अब इन्हें नई जगह पर बैठे देखेगी। कई सालों से सदर मंजिल नगरनिगम के मुख्यालय के रूप में जाना जाता था लेकिन इस बार की परिषद में जो मेयर चुनकर आएगा, वह आधुनिक रूप से सुसज्जित चैंबर में बैठेगें। मातामंदिर स्थित नगरनिगम के कार्यालय में अभी तक ननि आयुक्त का प्रशासनिक दफ्तर लगता था लेकिन अब यहीं राजनीतिक दफ्तर भी लगेगा। भोपाल के नए महापौर मातामंदिर कार्यालय की तीसरी मंजिल पर बैठेंगे जहां पहले भोपाल सिटी लिंक लिमिटेड का दफ्तर लगता था। बीसीएलएल का दफ्तर आईएसबीटी में नए आफिस में शिफ्ट हो गया है।

अलग-अलग टुकड़ों में बैठेंगे एमआईसी मेंबर
सदर मंजिल में एमआईसी के सदस्य एक साथ बैठते थे लेकिन अब सभी एमआईसी सदस्य अलग-अलग दफ्तरों में बैठेंगे। जैसे लोक यांत्रिकी का एमआईसी मेंंबर गोविंदपुरा की यांत्रिकी शाखा में बैठेंगे।

क्या कहते हैं वास्तुविद
महापौर के बैठने का स्थान वास्तु के अनुसार कैसा होना चाहिए इसके लिए आर्किटेक्ट सुयश कुलश्रेष्ठ से बात की। सुयश के अनुसार महापौर का दफ्तर सबसे ऊपर की मंजिल पर होना चाहिए। दफ्तर का कमरा दक्षिण पश्चिम में और बैठने की कुर्सी पश्चिम में होनी चाहिए। एमआईसी मेंबर के चैंबर में उनके फोटो लगा हो जिससे सभी मेंबर को लगे कि महापौर की नजर उन पर है जिससे वे ठीक तरह से काम कर सकें। सदर मंजिल में ये सारी खूबियां थी और वह बना भी दरबार के हिसाब से था। सदर मंजिल को अब हेरीटेज बना दिया गया है।

अपनी-अपनी शाखाओं में बैठेंगे
महापौर का कमरा मातामंदिर ननि कार्यालय की तीसरी मंजिल पर बना है। एमआईसी मेंबर पहले एक जगह पर बैठा करते थे लेकिन अब वे अपनी शाखाओं के दफ्तरों में बैठेगें।
चंद्रमौली शुक्ला, अपर आयुक्त, नगरनिगम

भाजपा की जीत टीम वर्क से, कांग्रेस में न भरोसा, न तालमेल


भोपाल। भोपाल, इंदौर, जबलपुर और छिंदवाड़ा की नगर निगमों में भी भारतीय जनता पार्टी के कब्जे के बाद शहरों से कांग्रेस का सफाया हो गया है। पहले विधानसभा और फिर लोकसभा चुनावों में मिली कांग्रेस को हार के बाद अब नगरीय निकाय चुनावों में भी जनता ने भाजपा में भरोसा जताया है। हालांकि अभी कुछ जगह आधिकारिक परिणामों की घोषणा होना बाकी है जिसमें भोपाल नगर निगम भी शामिल है। इंदौर, जबलपुर और छिंदवाड़ा में भाजपा के महापौर प्रत्याशी की जीत के साथ पार्टी की परिषद बनना तय हो गया है जबकि भोपाल में भाजपा के महापौर उम्मीदवार की जीत तय बताई जा रही है। कांग्रेस ने विधानसभा-लोकसभा चुनावों के बाद नगरीय निकाय चुनावों में अपने लगातार कमजोर प्रदर्शन को दोहराया है। नगर निगम चुनाव नतीजों से साफ हो गया है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं का भरोसा डगमगा गया है। चुनाव में उनके शीर्ष नेताओं के बीत तालमेल ही दिखाई नहीं दिया। वहीं भाजपा की जीत में बहुत बड़ी भूमिका उनके टीमवर्क की है और वहां सरकार के मुखिया शिवराज सिंह चौहान से लेकर संगठन के पदाधिकारी एकसाथ चुनाव लडऩे में अपना-अपना रोल निभाते हैं। नगर निगम चुनावों में प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के शीर्ष नेताओं से लेकर नीचे तक के कार्यकर्ताओं में एक तालमेल दिखाई दिया। हालांकि टिकट वितरण के समय और उसके कुछ दिन बाद जरूर नाराज नेताओं ने विरोध प्रकट किया लेकिन पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उन्हें समझाइश देकर शांत कर दिया। कुछ असंतोष रहा भी तो उसका विशेष असर पार्टी के प्रदर्शन पर नहीं दिखा। भाजपा की जीत में सबसे ज्यादा मेहनत मुख्यमंत्री ने की जिन्होंने कई किलोमीटर के रोड शो किए। उनके वादों पर मतदाताओं ने भरोसा जताया। उनके अलावा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकिशोर चौहान से लेकर राज्य के मंत्रियों और संगठन के पदाधिकारियों ने भी अलग-अलग स्थानों की कमान संभाल रखी थी।

फिर एक जुट नहीं हुए कांग्रेस नेता
वहीं कांग्रेस की हार में उसका बिखरा-बिखरापन नजर आया। प्रदेश कांग्रेस के संगठन ने जहां टिकट वितरण को ही अपनी जिम्मेदारी समझ लिया था तो पार्टी के दिग्गज नेताओं ने चुनिंदा सभाएं लेकर रस्म अदायगी की। टिकट वितरण को लेकर उपजे असंतोष को प्रदेश कांग्रेस का संगठन समय पर शांत नहीं कर पाया जिससे कुछ तो बागी हो गए और कुछ ने भीतरघात करने में कमी नहीं छोड़ी। टिकट वितरण को लेकर भोपाल नगर निगम के महापौर प्रत्याशी कैलाश मिश्रा ने भी टिप्पणी की थी कि अगर कुछ टिकट और सही बांट दिए जाते तो कांग्रेस की स्थिति और मजबूत होती। यही नहीं दिग्गजों की मेहनत कहीं भी दिखाई नहीं दी। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, कमलनाथ, ज्योतिरादित्य सिंधिया से लेकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव भी प्रचार के लिए वैसे नहीं घूमे जैसे बीजेपी सरकार के मंत्री, संगठन पदाधिकारी गली-गली नजर आए।

विकास से मिली जीत: नंदकुमार सिंह चौहान


निकाय चुनाव के हार का करेंगे विश्लेषण : यादव

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान का कहना है कि कार्यकर्ताओं की मेहनत और शिवराज सरकार द्वारा किए गए विकास कार्यों की बदौलत ही चार नगर निगमों के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को जीत हासिल हुई है। वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने कहा कि निकाय चुनाव में हार का विश्लेषण करेंगे।
यहां मीडिया से चर्चा करते हुए नंदकुमार सिंह चौहान ने कहा कि संगठन के पदाधिकारियों और निष्ठावान कार्यकर्ताओं की मेहनत का यह प्रतिफल है। उन्होंने कहा कि सभी कार्यकर्ताओं अपने उम्मीदवारों को जिताने के लिए पूरी निष्ठा से काम किया। उन्होंने कहा कि शिवराजजी के नेतृत्व में दस वर्षों में जो विकास कार्य किए गए लोगों ने उस पर भरोसा कर कमल खिलाया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सच्चाई अब लोगों के सामने आ चुकी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस एक डूबता जहाज है उसके नेता अपना प्रभाव खो चुके हैं। इसके आने वाले दिन और बुरे होंगे। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस ने देश को लूटा है।
पार्टी को और मजबूत बनाया जाएगा : अरुण यादव
वहीं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अरूण यादव ने कहा कि पार्टी को और मजबूत बनाया जाएगा। इसके साथ ही पार्टी की हार का विश्लेषण किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की उपस्थिति कम नहीं हुई है। कई जगह पंचायत और अन्य चुनावों में कांग्रेस के उम्मीदवार जीते हैं।

आलोक शर्मा ने 84727 वोटों से कैलाश मिश्रा को हराया


भोपाल।
नगर निगम महापौर के रूप में आलोक शर्मा ने जीत दर्ज कर ली है। उन्होंने कांग्रेस के कैलाश मिश्रा को हराया है। महापौर पद के लिए आठ लाख 46 हजार 891 वोट डाले गए थे जिनमें से आलोक शर्मा को 4 लाख 38 हजार 934 मत मिले। वहीं उनके निकटतम प्रतिद्वंद्वी कैलाश मिश्रा को 3 लाख 54 हजार 107 वोट मिले। इस प्रकार आलोक शर्मा को पचास फीसदी से ज्यादा वोट मिले हैं।

लंदन,पेरिस की बात नहीं करता, शाकिर के सपनों का भोपाल बनाऊंगा : आलोक शर्मा
भोपाल। नगर निगम भोपाल के बीजेपी प्रत्याशी आलोक शर्मा मध्यान्ह में मतगणना स्थल पहुंचे तो उन्होंने अपनी जीत का भरोसा जाहिर करते हुए कहा कि वे लंदन या पेरिस बनाने की बात नहीं करते, मगर यह जरूर चाहूंगा कि शाकिर अली के सपनों का भोपाल बना सकूं। उल्लेखनीय है प्रसिद्ध कम्युनिस्ट- नेता शाकिर अली ने भोपाल के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया। मतगणना स्थल पुरानी जेल पर मध्यान्ह करीब सवा बारह बजे आलोक शर्मा पहुंचे तो उनके चेहरे पर जीत की खुशी नजर आ रही थी। मगर वे यह कहते रहे कि जब तक परिणाम नहीं घोषित हो जाता तब तक जीत का जश्न नहीं मनाएंगे। उन्होंने कहा कि वे अपनी के प्रति पूरी तरह आश्वस्त हूँ। उन्होंने खुद को बर्रूकट भोपाली बताते हुए कहा और कहा उसकी तरह ही काम करूंगा। उन्होंने इस जीत को कार्यकर्ता और मुख्यमंत्री की जीत बताते हुए कहा कि अवैध कॉलोनियों को वैध करवाकर शहरवासियों को नर्मदा का पेयजल दिया जाएगा।

निकाय चुनाव : बीजेपी ने चौका मारा


- भोपाल, इंदौर, जबलपुर और छिंदवाड़ा में भाजपा ने लहराया फिर परचम

भोपाल। महापौर चुनाव में भाजपा ने भोपाल, इंदौर, जबलपुर और छिंदवाड़ा में जीत दर्ज कर ली है। चार नगर निगमों में से एक में भी कांग्रेस भाजपा को कड़ी टक्कर नहीं दे सकी। सुबह से शुरू हुई मतदान गणना में भाजपा के सभी प्रत्याशियों ने शुरू से ही बढ़त बनाए रखी है। एक बार भी कांग्रेस लीड लेने की स्थिति में नहीं आ सकी और चारों नगर निगमों में उसे हार का सामना करना पड़ा है।

कमलनाथ के गढ़ में कांग्रेस पस्त

छिंदवाड़ा में बीजेपी प्रत्याशी कांता योगेश सदारंग ने कांग्रेस की उम्मीदवार कल्पना राजेंद्र सूर्यवंशी हरा दिया है। गौरतलब है कि इस क्षेत्र को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ के गढ़ के रूप में जाना जाता है और यहां भाजपा को कई बार कड़ा मुकाबला करना पड़ता है। इसी तरह जबलपुर में भी भाजपा की स्वाति गोडबोले ने रिकॉर्ड वोट से जीत गई हैं। यहां से उनके खिलाफ कांग्रेस की गीता शरत तिवारी ने चुनाव लड़ा था।

इंदौर में मालिनी गौड़ जीतीं
बीजेपी की ओर से महापौर पद की उम्मीदवार मालिनी गौड ने कांग्रेस की अर्चना जायसवाल को हरा दिया है। मालिनी गौड़ ने दो लाख्र से ज्यादा वोट से जीत हासिल की है। वार्ड 77 में भाजपा के पुष्पेन्द्र सिंह चौहान ने कांग्रेस के महेश सिसौदिया को 700 मतों से हाराया। वहीं वार्ड 81 से भाजपा की द्रोपदी चौधरी ने कांग्रेस की ममता मालवीय पर लगभग 4500 मतों से जीत दर्ज की।

भोपाल में भाजपा के आलोक शर्मा जीते

भाजपा प्रत्याशी आलोक शर्मा ने कांग्रेस के कैलाश मिश्रा को करीब 40 हजार वोटों से हरा दिया है। आलोक शर्मा ने शुरुआत से ही बढ़त बनाकर रखी हुई थी। निगम चुनाव के लिए 31 जनवरी को डाले गए वोटों की गिनती बुधवार सुबह पुरानी जेल स्थित मतगणना स्थल पर शुरू हुई। आलोक शर्मा अपने निकटतम प्रतिद्वंदी कांग्रेस के कैलाश मिश्रा को करीब 84727 वोटों से हराया।

छनेरा में भारद्वाज बने रहेंगे, हरदा में बंसल हटेंगी
छनेरा नगर परिषद में कमलकांत भारद्वाज अपने पद बने रहेंगे। वहीं हरदा नगर पालिका की संगीता बंसल अपने पद से हटेंगी।

पहली बार संघ ने निभाई सक्रिय भूमिका

नगरीय निकाय चुनावों में बीजेपी की जबर्दस्त सफलता के पीछे संघ की सक्रिय भूमिका भी है। ऐसा पहली बार हुआ है जब आरएसएस ने नगरीय निकाय चुनावों में सक्रिय भागीदारी निभाई है। इसी का नतीजा है कि इंदौर, जबलपुर में भाजपा के महापौर प्रत्याशी भारी मतों से जीते हैं।

शिवराज के विकास कार्यों की बदौलत मिली जीत

विकास कार्यों की बदौलत ही चारों नगर निगम के चुनाव में भाजपा को जीत हासिल हुई है। सभी कार्यकर्ताओं ने उम्मीदवारों को जिताने के लिए पूरी निष्ठा से काम किया। शिवराजजी के नेतृत्व में 10 वर्षों में जो विकास कार्य किए गए लोगों ने उस पर भरोसा कर कमल खिलाया है। कांग्रेस एक डूबता जहाज है।
- नंदकुमार सिंह चौहान, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

कांग्रेस को मजबूत बनाएंगे
पार्टी को और मजबूत बनाने की जरूरत है। हार का विश्लेषण करेंगे। कांग्रेस की उपस्थिति कम नहीं हुई है। कई जगह पंचायत और अन्य चुनावों में कांग्रेस के उम्मीदवार जीते हैं।
- अरुण यादव, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

सिर फोड़कर की थी ऑटो चालक की हत्या


- निजी अस्पताल के एक चिकित्सक ने किया अंधेकत्ल का खुलासा

- सवारी बिठाने को लेकर दूसरे ऑटो चालक से हुआ था विवाद


भोपाल। शाहजहांनाबाद पुलिस ने विगत 28 जनवरी को मोतिया तालाब के पास हुए ऑटो चालक के अंधेकत्ल का खुलासा कर दिया है। एक निजी अस्पताल की पार्किंग के पास सवारी बिठाने को लेकर दूसरे ऑटो चालक ने डंडे से सिर पर प्रहार कर हत्या कर दी थी। सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा निजी अस्पताल के चिकित्सक ने किया है। घटना के बाद से आरोपी चालक फरार है। पुलिस सरगर्मी से उसकी तलाश कर रही है। पुलिस अधीक्षक (उत्तर) अरविंद सक्सेना ने यह जानकारी देते हुए बताया कि विगत 28 जनवरी की रात करीब नौ बजे मोतिया तालाब स्थित पारस अस्पताल के पास एक ऑटो चालक खून से लथपथ बेहोशी की हालत में पड़ा था। वहां मौजूद दो अन्य ऑटो चालक उसे हमीदिया अस्पताल लेकर गए, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। मृतक की शिनाख्त छोला इलाके में रहने वाले विशाल गुर्जर पुत्र नीमचन्द्र गुर्जर (42) के रूप में की गई। वह मूलरूप से होशंगाबाद जिले के ग्राम सेमरी हरचंद का रहने वाला था। मृत्युपूर्व बयान नहीं हो से पता नहीं चल सका था कि विशाल गुर्जर के सिर में चोट कैसे लगी थी, लेकिन शार्ट पीएम रिपोर्ट में पुष्टि हुई कि सिर पर डंडे से प्रहार कर उसकी हत्या की गई है। पुलिस ने अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है।

कर्मचारियों ने कहा आई डोंट नो
हत्या की पुष्टि होते ही पुलिस ने पारस अस्पताल के आसपास पूछताछ शुरू कर दी। पार्किंग के पास खड़े होने वाले अन्य ऑटो चालक घटना से पूरी तरह से अनजान हो गए। अस्पताल के कर्मचारियों का भी एक ही जवाब था, आई डोंट नो। लेकिन पुलिस को पूरा भरोसा था कि अस्पताल के सामने हुई घटना के कई लोग चश्मदीद गवाह होंगे। इसी तारतम्य में आला पुलिस अफसरों ने अस्पताल के चिकित्सकों से चर्चा की। नतीजतन एक चिकित्सक ने घटना की पुष्टि करते हुए आरोपी चालक के ऑटो का नंबर तक बात दिया।

सवारी बिठाने को लेकर विवाद
निजी अस्पताल के चिकित्सक ने पुलिस को बताया कि विगत 28 जनवरी की रात करीब पौने नौ बजे ऑटो चालक विशाल गुर्जर अपना वाहन लेकर अस्पताल की पार्किंग के पास सवारी के इंतजार में खड़ा था। वहीं एक अन्य ऑटो चालक इरशाद उर्फ शालू निवासी गौतम नगर, भी सवारी की प्रतीक्षा कर रहा था। उसकी समय सवारी बिठाने को लेकर विशाल व इरशाद का विवाद हुआ था। विवाद बढऩे पर मारपीट शुरू हो गई और इरशाद ने अपने ऑटो से डंडा निकालकर विशाल के सिर पर वार कर दिए और फरार हो गया। पुलिस का कहना है कि ऑटो के नंबर के आधार पर पुलिस ने आरोपी इरशाद के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर लिया है। उसकी तलाश की जा रही है।

आसमान पर छाएंगे मेघ, पर बारिश अभी नहीं


भोपाल।
राजधानी में बुधवार की सुबह से ही आसमान पर बादल छाए रहे। लेकिन,दोपहर बादल आकाश पूरी तरह साफ हो गया। हालांकि, बादल छाने के बाद दिन की हवा में ठंडक घुली रही। फिलहाल,मौसम साफ जरूर हो गया है,मगर अब आठ फरवरी के आसपास फिर एकबार आसमान पर मेघों का जमघट लगेगा। बारिश की भी उम्मीद की जा सकती है। गुरूवार को शहर का तापमान 24 डिग्र्री और न्यूनतम 14 डिग्री तक रह सकता है। तापमान में गिरावट 48 घंटों के बाद कम हो जाएगा। आसमान साफ रहेगा। अलसुबह से गहरा कोहरा दिखाई देगा। हवा की गति 25-30 किमी घंटा की रफ्तार से रहेगी। मौसम विभाग के निदेशक डॉ अनुपम कश्यपि के मुताबिक मौसम में बदलाव 8 फरवरी से होगा। ऊपरी हवा का चक्रवात राजस्थन से पश्चिमी उत्तर प्रदेश की ओर बढ़ जाने से अभी शहर पर बादलों के आने की संभावना नहीं है। बुधवार को शहर का अधिकतम तापमान 29.3 डिग्री सेल्सियस तथा न्यूनतम तापमान 14.7 डिग्री सेल्सियस रहा।

बेटी के घर गई थी और चोरों ने घर साफ कर दिया


भोपाल। अपनी बेटी के घर पूणे गई शाहपुरा सी सेक्टर की एक महिला करीब दो सप्ताह बाद जब लौटी तो मकान के सभी ताले टूटे पाए। घर में एप्पल के मोबाइल से लेकर जेवरात आदि समेटकर चोर फरार हो गए। पुलिस ने इस मामले में 95 हजार रुपए की चोरी दर्ज की है। पुलिस के मुताबिक शाहपुरा सी सेक्टर में रहने वाली उर्मी तिवारी अपनी बेटी के घर 17 जनवरी को पूणे गई थीं। मंगलवार को वे वापस लौटीं तो घर के सभी ताले टूटे पाए। घर में रखा उनका एप्पल कंपनी का मोबाइल, कैमरा, लैपटॉप और जेवरात आदि चोर समेटकर फरार हो गए।

रेलिंग से गिरकर बैंक मैनेजर की मौत


भोपाल। पंजाब नेशनल बैंक के चीफ मैनेजर संजयकुमार श्रीवास्तव (50 वर्ष) की सेकेंड फ्लोर से गिरकर मौत हो गई। एक साल पहले ही वे अरेरा हिल्स के इस आफिस में आए थे और आईटी का काम देखते थे। बुधवार दोपहर को पौने दो बजे वे सीढिय़ों के पास ग्रिल से गिरे। संजय कुमार को नेशनल हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई।

काफी देर तक जमीन पर पड़े रहे
मौके पर लोगों ने बताया कि गिरने के बाद संजय बहुत देर तक वहीं पड़े रहे। किसी से गाड़ी के बारे में पूछा तो स्टॉफ का कोई भी आदमी आगे नहीं आया। उसके बाद 108 को फोन लगाया गया। उसको भी आने में देर होने लगी तो ऑटो से ले जाने की व्यवस्था की गई। उसी समय 108 एंबुलेंस भी आ गई। जबतक उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया, तब तक काफी खून बह चुका था। सिर के बल गिरने से मामला और गंभीर हो गया।

मोबाइल पर बात करते हुए बाहर निकले
स्टॉफ से बात की तो बोले कि आईटी डिपार्टमेंट के हैड होने से उन्होंने सबसे पहले आईटी सेक्शन के कर्मचारियों से बात की। उसके बाद अपनी आदत के अनुसार सभी से हाय-हैलो किया। दोपहर डेढ़ बजे के करीब वे अपने सीट से उठे और मोबाइल पर बात करते हुए बाहर निकले। यहां मोबाइल का नेटवर्क कम रहता है तो ज्यादातर अफसर बाहर जाकर ही बात करते हैं। किचन में सूप पिया और फिर बाहर सीढिय़ों के पास चले गए। ये रहस्य अभी बरकरार है कि वे सेकेंड फ्लेार से नीचे कूदे थे या फिर नीचे गिर गए थे।

आईटी के चीफ मैनेजर थे संजय
संजय कुमार पंजाब नेशनल बैंक में आईटी का काम देखते थे। कैंपस के सारे सीसीटीवी कैमरों की मानीटरिंग का जिम्मा उनका ही था। जब वे बाहर गए तो कम्प्यूटर का मानीटर चालू था और कोट उनकी सीट पर टंगा हुआ था। उनके नाम की नेम प्लेट आफिस में नीचे उठा कर रख दी गई है। संजय कुमार चूना भट्टी में रहते थे। उनके परिवार में पत्नी और एक लड़का और एक लड़की हैं।