शनिवार, 31 जनवरी 2015

महापौर व 83 पार्षदों का भाग्य ईवीएम में बंद


- अब कयास लगाने में जुटे नेता-पार्षद

- मतगणना 4 फरवरी को होगी

भोपाल। भोपाल नगर निगम का महापौर और 83 वार्डों में कौन होगा पार्षद, इसका फैसला ईवीएम में बंद हो गया है। अब 4 फरवरी तक भोपाली पटियों पर बैठकर कयास लगाते दिखाई देंगे। हालांकि मतदान का प्रतिशत संतोषजनक नहीं रहने से सभी चिंतित हैं। मतदान सुबह 7 से शाम 5 बजे तक चला। राज्य निर्वाचन आयुक्त आर. परशुराम के मुताबिक, शांतिपूर्ण मतदान के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। बावजूद कहीं-कहीं हल्की झड़पें हुईं। मतगणना आगामी 4 फरवरी को होगी।

सर्दी का रहा असर
सर्दी के कारण धीमी रफ्तार से मतदान शुरू हुआ है। लेकिन, कई स्थानों पर सुबह से ही लोग गरम कपड़े पहनकर मतदान केंद्रों पर पहुंचे और लाइन में लगकर मतदान करते नजर आए।

मेरा भोपाल स्वच्छ और सुंदर बने : आलोक
भाजपा मेयर पद के प्रत्याशी आलोक शर्मा ने मतदान करने के बाद मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि मेरा भोपाल खूबसूरत शहर है, मुझे जनता पर भरोसा है कि वे मुझे सेवा का मौका जरूर देगी। मैं यदि चुन कर आता हूं, तो भोपाल को पहले से भी ज्यादा स्वच्छ और खूबसूरत बनाऊंगा।

चुनावी मैदान में हर प्रत्याशी जीतने के लिए खड़ा है : कैलाश
कांग्रेस पार्टी से मेयर पद के प्रत्याशी कैलाश मिश्रा ने अपने परिवार के साथ मतदान किया। इस दौरान उन्होंने मीडिया से कहा कि चुनावी मैदान में खड़ा हर व्यक्ति अपनी जीत के लिए खड़ा है। मैं और मेरी पार्टी भी निकाय चुनाव में जीत चाहती है। यदि, जनता ने मुझे मौका दिया तो मैं भोपाल को विकास की ओर ले जाऊंगा।

कुछ खास बातें
  • -  वार्ड-5 के पोलिंग बूथ 90 में 60 प्रतिशत से ज्यादा मतदान।
  •     वार्ड-9 में हंगामा, पुलिस ने लोगों को खदेड़ा।
  •     गोविंदपुरा के वार्ड 68 के बूथ नंबर 1403 और 1407 पर सुबह 9: 30 से 11:30 तक मशीनें बंद रहने के कारण दो घंटे तक रुकी रही वोटिंग।
  •     गोविंदपुरा के वार्ड 67 के प्राइम वे स्कूल स्थित बूथ पर दो वोटिंग मशीनें बदली गईं। इनमें से एक पर महापौर पद के प्रत्याशी कैलाश मिश्रा का चुनाव चिह्न और नाम नहीं था, दूसरी खराब हो गई थी। इस कारण 7:30 से 8:30 बजे तक वोटिंग रुकी रही।
  •     गोविंदपुरा के वार्ड 65 के ओल्ड सिद्धार्थ स्कूल (मिनाल रेसिडेंसी) बूथ पर महापौर की वोटिंग मशीन खराब होने से 45 मिनट तक रुका रहा मतदान।
  •     गोविंदपुरा के वार्ड 62 (बिजली कॉलोनी, आनंद नगर) में प्रत्याशी कृष्णा चौकसे (निर्दलीय) के रिश्तेदार मिलिंद पर कांग्रेस प्रत्याशी डॉली यादव के वोटरों को वोट डालने नहीं जाने देने का आरोप लगने के बाद महौल तनावपूर्ण हो गया। एडिशनल एसपी शिवदयाल पुलिस दल के साथ मौके पर पहुंचे।
  •     गोविंदपुरा के वार्ड 67 (हजरत निजामुद्दीन) के माइलस्टोन स्कूल बूथ पर निर्दलीय प्रत्याशी शाहिद (निर्दलीय) पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं को धमकी देने के आरोप के बाद तनाव। यहां से गिरीश शर्मा कांग्रेस प्रत्याशी हैं।
  •     बैरागढ़ में दोपहर 12:30 तक 25 फीसदी वोटिंग भी नहीं हो पाई थी। मतदान प्रक्रिया शांतिपूर्ण रही।
  •     बैरागढ़ के वार्ड 5 के मतदान केंद्र 73 में दोपहर 1 बजे तक 18 फीसदी ही वोटिंग हुई।
  •     हुजूर के वार्ड 5 के बूथ 78,79 पर दोपहर करीब 2 बजे कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और मतदान दल में तीखी नोकझोंक हुई। कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का आरोप था कि बूथ में वोटरों को प्रभावित करन की कोशिश की गई।
  •     कोलार में 12:30 बजे तक 30 फीसदी वोटिंग। कुछ लोगों के नाम बूथ की लिस्ट में नहीं मिले।
  •     कोलार में विधायक रामेश्वर शर्मा ने क्षेत्र का दौरा दोपहर 12 बजे से किया और बूथों पर वोटिंग की जानकारी ली।
  •     कोलार में दामखेड़ा में वार्ड 82 के बूथ नंबर 1653,1654,1655,1657 पर भीड़ इक_ी होने पर दोपहर 1:15 बजे पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर लोगों को दूर हटाया। बूथ के आसपास जगह कम होने के कारण ऐसा किया गया।
  •     मतदान के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव ने किया शहर के पोलिंग बूथों का दौरा।
  •     वार्ड-9 के बूथ 162 की मशीन खराब होने की सूचना।
  •     नरेला के वार्ड क्रमांक 71-72 में ईवीएम खराब होने की सूचना के बाद हुआ विवाद, कलेक्टर ने मांगी जांच रिपोर्ट।
  •     वार्ड क्रमांक 65 में ईवीएम में आ रहा है प्रेशर एरर, कोई भी बटन दबाने से सिर्फ भाजपा के पक्ष में हो रहा है वोट।
  •     आरिफ नगर वार्ड 16 के सहारा कैंपस में विधायक आरिफ अकील और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हुआ विवाद।
  •     वार्ड क्रमांक 18 में मतदान करने पहुंचे छोला में युवा कांग्रेस नेता मनोज शुक्ला का भाजपा कार्यकर्ताओं से हुआ विवाद।
  •     वार्ड क्रमांक 45 में भाजपा-कांग्रेस समर्थकों में हुए विवाद के बाद मौके पर तैनात किया गया अतिरिक्त पुलिस बल।
  •     वार्ड 45 के सरोजनी नायडू स्कूल पर बने बूथ पर हुआ विवाद। भाजपा प्रत्याशी ने कांग्रेस पर लगाए गड़बड़ी के आरोप।
  •     भोपाल सांसद आलोक संजर ने पत्नी संग किया मतदान।
  •     वार्ड नंबर 55 में डाले जा रहे हैं फर्जी वोट, निर्दलीय प्रत्याशी ने कलेक्टर से की शिकायत।
  •     निर्दलीय प्रत्याशी के चुनाव चिह्न बदल जाने को लेकर वार्ड क्रमांक 47 पर मतदान रोका गया। यहां सिर्फ मेयर पद के लिए हो रहे हैं मतदान।
  •     भाजपा मेयर पद के प्रत्याशी आलोक शर्मा ने परिवार के साथ किया मतदान। उन्होंने वार्ड नंबर 21 के 432 पोलिंग बूथ पर किया मतदान।
  •     वोटर्स की मदद के लिए शहर के बड़े-बड़े पोलिंग बूथ पर एजेंट लेपटॉप से सर्च कर रहे हैं वोटर्स का नाम और बूथ क्रमांक।
  •     कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी कैलाश मिश्रा ने वार्ड नं-8 पर बने पोलिंग बूथ पर वोट डाला।
  •     वार्ड नंबर 43 के कांग्रेस प्रत्याशी एवं नगर निगम नेता प्रतिपक्ष मोहम्मद सगीर ने किया मतदान।
  •     वार्ड नंबर 47 के भाजपा प्रत्याशी विनय व्यास ने किया मतदान।
  •     दो-दो पर्चियां मिलने के कारण वार्ड नंबर- 54 व 55 के वोटर हो रहे परेशान, दोनों पर लिखा है अलग-अलग बूथ क्रमांक।
  •     होशंगाबाद रोड स्थित वार्ड 52 के 1104 पोलिंग बूथ पर खराब हुई श्वङ्करू, आधे घंटे देर से शुरू हो सका मतदान।
  •     वार्ड नंबर 60 और 70 में वोटिंग करने पहुंचे वोटर्स को नहीं मालूम चुन लिया गया है उनका पार्षद।
  •     शहर के वार्ड नंबर 60 और 70 में की जा रही है महापौर के लिए वोटिंग।
  •     सुबह 7 बजे वार्ड नंबर 44 के 942 बूथ क्रमांक पर सबसे पहले वोट डालने पहुंचे अशोक दसानी।
  •     वार्ड नंबर 44 के भाजपा प्रत्याशी नगीन बारकिया ने सहपरिवार वोट डाला।

कुछ खास बातें....
  • कुल वार्ड-85।
  • कुल मतदाता-15 लाख 12 हजार 56 हजार।
  • पुरुष मतदाता-8 लाख 3 हजार 722।
  • महिला मतदाता-7 लाख 8 हजार 277।
  • महापौर प्रत्याशी-455।
  • पार्षद प्रत्याशी-455।
  • मतदान केंद्र-1751।
  • संवेदनशील मतदान केंद्र-40।
  • अति संवेदनशील-40।
  • सेक्टर मजिस्ट्रेट मोबाइल-173।
  • पुलिस पेट्रोलिंग मोबाइल-122।
  • मतदान केंद्रों पर पुलिस बल-2247।







भोपाल की मॉडल ने जीता दिल, मिस इंडिया के लिए चयनित

भोपाल। बचपन से सफेद दाग की बिमारी होने के बाद सामान्य तौर पर कोई शायद ही मॉडलिंग जैसा करियर बनाने का ख्याल मन में लाता हो, जहां खूबसूरती ही सफलता का पैमाना हो। लेकिन भोपाल की एक मॉडल और डॉक्टरी की पढ़ाई कर रहीं शैफाली शर्मा ने इस धारणा को बदलने की शुरुआत कर दी है। शैफाली खुद बचपन से विटिलगो(सफेद दाग) बिमारी से पीड़त हैं और अपनी काबिलियत के दम पर इस साल होने जा रहे फेमिना मिस इंडिया के फाइनल ऑडिशन के लिए जगह बना ली है।

कमजोरी को ताकत बनाना चाहती हूं : शैफाली
अपनी बीमारी के बारे में शैफाली कहती हैं, आमतौर पर ऐसी स्किन डिसीज होने के बाद लोगों का माइंडसेट बदल जाता है और आत्मविश्वास भी बदल जाता है। लोग इसे अपनी कमजोरी समझकर बैठ जाते हैं। लेकिन मैं इस कमजोरी को अपनी ताकत बनाना चाहती हूं। मैं मॉडलिंग में आई ही इसलिए हूं ताकि यह धारणा बदल सकूं कि सफेद दाग वाले सुंदर नहीं होते या मॉडलिंग, एंकरिंग, एक्टिंग जैसे प्रोफेशन नहीं अपना सकते।

खुद बनना चाहती हैं स्किन स्पेशलिस्ट
शैफाली स्किन स्पेशलिस्ट बनना चाहती हैं। अपनी इस ख्वाहिश की तरफ उन्होंने कदम भी बढ़ा लिए हैं। वे एमबीबीएस की फस्र्ट ईयर की स्टूडेंट भी हैं। भोपाल के एलएन मेडिकल कॉलेज से वे पढ़ाई कर रही हैं। शैफाली कहती हैं, मैं स्किन स्पेशलिस्ट बनकर इस बीमारी से पीडि़त लोगों की मदद करना चाहती हूं। उन्हें यह विश्चास दिलाना चाहती हूं कि वे सब कुछ कर सकते हैं। पहले मैं भी थोड़ा घबराती थी लेकिन अब सोचती हूं कि दुनिया वालों के बारे में सोचने की जरूरत नहीं है।






रचना नगर में डकैती के बाद अब दस लाख की चोरी

भोपाल। चार दिन पहले रचना नगर में दिनदहाड़े डकैती की घटना के बाद अब चोरों ने एक घर पर धावा बोला। यहां से चोर करीब दस लाख रुपए का सामान समेटकर फरार हो गए। पुलिस के मुताबिक रचना नगर की मेन रोड स्थित प्रशांत मिश्रा के घर को सूना पाकर चोरों ने वारदात की। वे काफी दिनों से बाहर गए हुए हैं। चोर क्या-क्या सामान लेकर फरार हुए, इसका पता नहीं चल सका है लेकिन लगभग दस लाख की चोरी होना बताया जा रहा है। गौरतलब है कि चार दिन पहले 28 जनवरी को रचना नगर के एक चौराहा पर सरेआम तीन बाइक पर सवार पांच डकैतों ने एक तेल व्यापारी मुरलीमनोहर अग्रवाल को लूट लिया था। हालांकि कुछ आरोपियों को पुलिस ने दूसरे दिन ही गिरफ्तार कर लिया है जिनके पास 48 हजार रुपए नकदी राशि भी जप्त की गई। मगर इन घटनाओं से अपराधियों के हौंसलों का अंदाज लगाया जा सकता है कि कितने बुलंद हैं।

गुरुवार, 29 जनवरी 2015

तेल व्यापारी से 4.35 लाख लूटने वाले तीन बदमाश गिरफ्तार


- मुख्य आरोपी अभी भी फरार, तलाश में जुटी पुलिस
भोपाल।
रचना नगर में बुधवार को दिन-दहाड़े मिर्ची झोंककर 4.35 लाख रुपए की लूट करने वाले बदमाशों में से 3 को पुलिस ने भानपुर नाके से गिरफ्तार कर लिया है। बुधवार से लगातार चल रही चैकिंग के दौरान पुलिस ने 3 बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि, अभी मुख्य आरोपी फरार बताया जा रहा है, सूचना के अनुसार लूटे गए रुपयों की रिकवरी फिलहाल नहीं हो पाई है। पकड़े गए तीनों आरोपियों को फिलहाल पुराने शहर स्थित थाने में रखा गया है। जानकारी के अनुसार लूट की प्लानिंग करने में व्यापारी मुरली मनोहर अग्रवाल का पुराना कर्मचारी भी शामिल था। जो, कि पुलिस की गिरफ्त से बाहर बताया जा रहा है। गौरतलब है कि, तीनों आरोपियों की गिरफ्तारी सीसीटीवी फुटेज के आधार पर की गई है। पकड़े गए आरोपियों से पुलिस उनके अन्य साथियों एवं चोरी गए माल के बारे में पूछताछ कर रही है।

क्या था मामला
रचना नगर में 28 जनवरी 2014 बुधवार सुबह 11 बजे दो मोटर साइकिल पर सवार 5 बदमाशों ने व्यापारी को लूट लिया था। ये घटना तब हुई, जब तेल व्यापारी मुरली मनोहर अग्रवाल रोजाना की तरह बैंक में पैसे जमा करने जा रहे थे। लूट के शिकार मुरली मनोहर अग्रवाल ने बताया था कि, वह रोज की तरह अपने स्कूटर से बैंक ऑफ महाराष्ट्र में रुपए जमा करने जा रहे थे। तभी, उन्होंने देखा कि, रचना नगर में नाले के पास एक बाइक आड़ी खड़ी थी। जैसे ही अग्रवाल ने गाड़ी रोकी, तो उस गाड़ी पर बैठे दो लोगों ने उनकी आंखों में मिर्ची झोंक दी और इनके हाथ से बैग छुड़ाकर अपने साथियों को दे दिया। उस वक्त मौके पर मौजूद कुछ लोगों ने बैग छुड़ाने की कोशिश की, तो बदमाशों ने छतरी में से गुप्ती निकालकर लोगों को डराया और फरार हो गए।

बदमाशों को थी पूरी खबर
बदमाश जानते थे कि उद्योगपति मुरली मनोहर अग्रवाल फैक्टरी और दुकानों से हुई आय रोजाना बैंक ऑफ महाराष्ट्र में जमा कराते हैं। उन्हें ये भी पता था कि अग्रवाल इसके लिए घर से कब और किस वाहन से निकलते हैं। उन्होंने वारदात को अंजाम देने के लिए जो स्थान चुना था, वो पूरी तरह से किसी सीसीटीवी कैमरे की जद में नहीं आता। घटनास्थल के दाहिने तरफ एक गर्ल्स हॉस्टल में सीसीटीवी कैमरे लगे थे, जबकि बायीं ओर स्थित एक मकान में भी कैमरे लगे थे। गर्ल्स हॉस्टल के बाहरी हिस्से में लगे सीसीटीवी कैमरे में बदमाशों की करतूत रिकॉर्ड हो गई थी। लेकिन, तस्वीरें काफी धुंधली थीं। फुटेज को देखकर महज इतना अंदाज लग रहा था, कि किसी स्कूटर सवार से बैग लूटा गया है। भागते समय भी बदमाशों ने इसका ख्याल रखा कि वे कैमरों की जद में न आए।

वारदात को इस तरह अंजाम दिया ताकि लगे सड़क हादसा था
बदमाशों ने वारदात को इस तरीके से अंजाम दिया कि, वहां से गुजर रहे लोगों को यह एक सड़क हादसा ही लगा। बाइक सवार दो बदमाशों ने पहले स्कूटर सवार उद्योगपति को टक्कर मारकर गिरा दिया था। विरोध करने पर उन्होंने उद्योगपति की आंखों में मिर्ची झोंक दी। उद्योगपति के छोटे बेटे विकास ने बताया कि मंगलवार रात सवा नौ बजे बाइक सवार दो युवक उनके घर के पास खड़े दिखे थे। उनकी मौजूदगी पर विकास के बड़े भाई विनेश ने दोनों से पूछताछ की तो वे बगैर कुछ कहे वहां से चले गए थे।

कोई नहीं रुका मदद के लिए, पुलिस भी लेट पहुंची
वारदात के दौरान वहां से एक सफारी, कुछ दोपहिया वाहन और एक स्कूल बस भी गुजरी, लेकिन श्री अग्रवाल की मदद करने के लिए कोई नहीं रुका। उद्योगपति के छोटे बेटे विकास ने बताया कि वारदात के तुरंत बाद श्री अग्रवाल ने फोन कर उन्हें सूचना दी। इसके बाद उन्होंने गोविंदपुरा पुलिस को वारदात की जानकारी दी। दस मिनट बाद टीआई, सीएसपी, एएसपी और एसपी मौके पर पहुंच गए थे। विकास का कहना है कि उनकी फैक्टरी बालाजी प्रोडक्शन के नाम से है। इसका सालाना टर्नओवर 16 से 17 करोड़ रुपए तक है।

बदमाशों के निशाने पर हैं राजधानी के व्यापारी

बैरागढ़ पुलिस 14 अक्टूबर की रात को बर्तन व्यापारी लक्ष्मण मूलचंदानी के साथ लूट करने वाले बदमाशों को अब तक नहीं तलाश पाई है। हालांकि, 19 अक्टूबर को बदमाशों ने लूटे गए 15 लाख रुपए फोन कर लौटा दिए थे। इसके अलावा डी-सेक्टर अयोध्या नगर में रहने वाले व्यापारी राजेश अग्रवाल की कार से छह लाख रुपए चुराने वाले बदमाशों का भी सुराग नहीं लगा है। बीती 14 जनवरी को उनकी कार का कांच तोड़कर बदमाशों ने रकम निकाल ली थी।

हत्या का बदला लेने दुकानदार पर जानलेवा हमला


-  दो सगे भाइयों समेत तीन युवकों ने चाकू से गोदा

भोपाल।
गौतम नगर थाना क्षेत्र स्थित पीजीबीटी कॉलेज के गेट के सामने बुधवार देर रात तीन युवकों ने एक दुकान संचालक पर चाकू से जानलेवा हमला कर मौत के घाट उतारने का प्रयास किया। आरोपियों में दो सगे भाई भी शामिल हैं जिन्होंने अपने पिता की हत्या की बदला लेने के इरादे से हमला किया है।
पुलिस के मुताबिक पीजीबीटी कॉलेज रोड स्थित कृष्णा कॉलोनी निवासी इरफान खान (28) की कॉलेज के गेट के पास ही आइसक्रीम व कोल्डडिं्रक्स की दुकान है। बुधवार रात करीब साढ़े नौ बजे वह अपनी दुकान के सामने खड़ा था। तभी मोटरसाइकिल पर सवार तीन युवक शाहरुख, जैद व शावेज वहां पहुंचे और चाकू व डंडों से इरफान पर जानलेवा हमला कर फरार हो गए। इरफान के सिर व हाथ-पैरों में चाकू व डंडों से घातक चोटें आई हैं। उसे हमीदिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था। पुलिस ने बताया कि तीनों आरोपी नारियलखेड़ा इलाके के रहने वाले हैं। इनमें से जैद व शावेज भाई हैं, जिनके पिता की हत्या तीन-चार साल पहले हो चुकी है। पिता की हत्या के आरोपियों में इरफान भी शामिल था। अनुमान लगाया जा रहा है कि पिता की मौत का बदला लेने के इरादे से ही इरफान पर हमला किया गया है। तीनों आरोपियों की सरगर्मी से तलाश की जा रही है।

चुनाव प्रचार थमा, आज रवाना होंगे 1751 मतदान दल

- लाल परेड ग्राउण्ड से मतदान सामग्री होगी वितरित
- शराब दुकानें व बार कराए सील
- नगर निगम महापौर व पार्षद पद के मतदान के लिए तैयारियां पूरी 


20 दिन चला धुआंधार प्रचार, जनसभा और रैलियां गुरूवार शाम पांच बजे थम गया। नगर निगम क्षेत्रों में गंूजती लाउडस्पीकरों की आवाजें, वाहनों की घरघराहट और नारेबाजियों का दौर पूरी तरह सन्नाते में बदल गया है। हालांकि कमरा बंद बैठकों और द्वार-द्वार दस्तक देने की औपचारिकता अभी भी जारी है। प्रचार के अंतिम दिन राजधानी की सड़कों पर प्रत्याशियों का उत्साह चरम पर रहा। नगर निगम क्षेत्रांतर्गत आने वाले 85 वार्डों से महापौर पद के लिए मैदान में खड़े 17 तथा पार्षद पद के 455 उम्मीदवारों ने मतदाताओं को रिझाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी। भाजपा के महापौर प्रत्याशी आलोक शर्मा के लिए मुख्यमंत्री शिवराज ङ्क्षसह चौहान ने नरेला क्षेत्र में तूफानी प्रचार किया, जबकि कांग्रेस के महापौर प्रत्याशी कैलाश मिश्रा के लिए बॉलीवुड अभिनेता असरानी व पूर्व केंद्रीय मंत्री व प्रदेशाध्यक्ष सुरेश पचौरी ने भी जनता के बीच पहुंचकर कांग्रेस के पक्ष में लहर बनाने का प्रयाया किया। इधर जिला निर्वाचन आयोग ने भी 31 जनवरी को नगर निगम क्षेत्र के 85 वार्डों के लिए मतदान कराने की संपूर्ण तैयारी पूरी कर ली है। शराब की दुकानों को सील कर दिया गया है। शुक्रवार सुबह आठ बजे से मतदान दलों को सामग्री बांटी जाएगी और उन्हें पोङ्क्षलंग बूथों की ओर रवाना कर दिया जाएगा। इसके लिए बसों का भी माकूल इंतजाम किए गए हैं। चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से हो इसके लिए पुलिस व अन्य फोर्र्स के जवानों को मतदान दलों के साथ रवाना किया जाएगा।


भोपाल। नगर निगम भोपाल के मतदान के लिए उल्टी गिनती शुरू हो गई है। 31 जनवरी को सुबह 7 बजे से मतदान शुरू होगा। इससे 48 घंटे पूर्व यानि गुरूवार शाम पांच बजे पिछले प्रत्याशियों का चुनाव प्रचार पूरी तरह थम गया है। शुक्रवार सुबह से मतदान दलों को चुनाव सामग्री वितरित कर उन्हें पोलिंग बूथों की ओर रवाना करने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। मतदान सामग्री का वितरण लाल परेड ग्राउण्ड किया जाएगा। इस बार सामग्री वितरण के लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं। इस बार नगर निगम क्षेत्र में 85 वार्ड के लिए कुल 1752 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। इनमें से 1751 पोलिंग बूथों के लिए ही मतदान दल रवाना होंगे। एक बूथ में मतदाता शून्य होने की वजह से उस बूथ पर मतदान नहीं होगा।

सभी को साधने का किया प्रयास 
 इधर-उधर दौड़ते प्रचार वाहन, उनसे गंूजती प्रत्याशियों के समर्थन में वोट करने की मांग...। शाम पांच बचे पूरी तरह बंद हो गई। इधर सुबह से शाम तक चले इस धमाकेदार प्रचार में सभी प्रत्याशियों ने सभी क्षेत्रों के मतदाताओं को साधने का प्रयास किया। कहीं पैदल तो कहीं वाहन से सीधे मतदाताओं तक पहुंचकर उम्मीदवारों ने मतदाताओं से जीत का आशीर्वाद लिया। भाजपा कांग्रेस के प्रत्याशियों के साथ अंतिम दिन बड़े-बड़े नेताओं ने प्रचार में हिस्सा लिया।

टेबिल पर ही मिलेंगी मतदान सामग्री 

प्रभारी निर्वाचन अधिकारी अक्षय सिंह ने बताया कि इस बार मतदान सामग्री वितरण के लिए अलग से व्यवस्था की गई है। हर बार की तरह मतदान दलों को सामग्री पाने के लिए लाइन में नहीं लगाना होगा। सभी 1751 दलों के लिए छह विधानसभावार सेक्टर बनाए गए हैं। प्रत्येक सेक्टर में वार्ड के हिसाब से दलों के लिए टेबिलें लगाई गई हैं। दलों को टेबिल पर ही सामग्री पहुंचाई जाएगी, जहां से वह उन्हें जांचकर व गिनकर रवाना होंगे। इसके लिए लाल परेड ग्राउण्ड पर टेंट के रूप में छह डोम लगाए गए हैं। सभी दलों को लाल परेड ग्राउण्ड पर सुबह साढ़े सात बजे बुलाया गया है। इधर कौन सा दल किस पोलिंग बूथ पर मतदान कराएगा इसके लिए गुरूवार शाम को ही तीसरी बार रेण्डमाईजेशन कर मतदान दलों की कोडिंग कर दी गई है। यह सूची मतदान स्थल पर शुक्रवार सुबह चार बजे चिपका दी जाएगी। इसके आधार पर ही दलों को पोलिंग बूथों पर रवाना किया जाएगा। यही नहंी दलों को मतदान स्थल तक पहुंचाने के लिए 338 बसों के रूट भी तय किए गए हैं। बसों पर उनके रूटों के नंबर के अतिरिक्त किस पोलिंग बूथ के पार्टियों को बैठना है,यह जानकारी चस्पा होगी। श्री सिंह ने बताया कि मतदान कराने के बाद वापस आने वाले दलों को वैसी ही बैठक व्यवस्था मिलेगी, जैसी मतदान सामग्री वितरण के दौरान थी। सामग्री जमा करने के लिए जरूर मतदान दलों को लाइन में लगना होगा।

मतदान केंद्र क्रमांक -1120 पर नहीं होगा मतदान
वार्ड -53 के अंतर्गत आने वाले जाटखेड़ी क्षेत्र में बनाए गए पोलिंग बूथ क्रमांक -1120 पर न तो मतदान दल रवाना होगा और न ही मतदान होगा। कारण है इस केंद्र पर मतदाताओं की संख्या का शून्य होना। इस केंद्र के 957 मतदाता थे, जो कि वार्ड -55 के थे, गलती से वार्ड -53 में जुड़ गए थे। वार्ड -55 से चुनाव लड़ रही नीलम तिवारी के पति उमाशंकर तिवारी की शिकायत राज्य निर्वाचन आयोग से की थी। जांच के बाद इस गलती को सुधारा गया। इस बूथ के 957 मतदाताओं को वार्ड -55 के बूथों में शिफ्ट किया गया था। इस बूथ के मतदाताओं की संख्या शून्य कर दी गई।

शराब की दुकानें हुई सील 
जैसे ही पांच बजे शराब बंदी की निगरानी के लिए बनाए गए नोडल अधिकारियों ने अपनी गतिविधियां शुरू कर दी। एक घंटे के भीतर ही जिले की सभी शराब दुकानों को सील कर दिया गया। यहीं नहीं बीयर बार, ऐसे रेस्टोरेंट व होटल जहां बीयर पिलाने के लिए बनाए गए अहाते बनाए गए हैं, उनका भी लायसेंस निरस्त कर चेतावनी दी गई है कि वह अहातों को बंद रखें, नहीं तो कार्यवाही होगी।

ईव्हीएम व पोलिंग पार्टी रहेगी रिजर्व 
 अपर कलेक्टर अक्षय सिंह ने बताया कि 1751 पोलिंग पार्टियों के अतिरिक्त 20 प्रतिशत मतदान दल रिजर्व में रहेंगे। यही स्थिति ईव्हीएम मशीनों के लिए रहेंगी। 1751 पोलिंग पार्टियों को 3464 ईव्हीएम मशीनों के साथ रवाना किया जाएगा। इसके अतिरिक्त 10 प्रतिशत ईव्हीएम मशीनें रिजर्व रखीं जाएगी ताकि मतदान के दौरान किसी भी प्रकार की गड़बड़ी सामने आने पर तत्काल उसे बदला जा सके।


17 सेंटरों पर रहेगी रिजर्व ईव्हीएम -
ईव्हीएम मशीनों की गड़बड़ी की स्थिति में तत्काल मशीन उपलब्ध हो सके। इसके लिए ननि क्षेत्र के 17 थानों को सेंटर बनाया गया है, जहां ये मशीनें रखी जाएंगी। प्रत्येक केंद्र पर एक-एक ईसीआईएल से इंजीनियर मौजूद होगा। जब भी ईव्हीएम मशीनों के खराब होने की सूचना मिलेगी तो तत्काल वे पोलिंग बूथ पर पहुंचेंगे और ईव्हीएम मशीनों को बदलने या सुधारने की कार्यवाही करेंगे। पोलिंग बूथों की निगरानी व हर घंटे पर मतदान का प्रतिशत लेने के लिए सेक्टर मजिस्ट्रेट नियुक्त किए गए हैं। वह बूथों का निरीक्षण करेंगे , उनके साथ रिवर्ज मतदान दल भी रहेगा। यदि किसी पीठासीन या अन्य कर्मचारी को अपरिहार्य कारणों से परिवर्तित करना पड़ेगा तो वह इस दल से अधिकारी कर्मचारी दे सकेंगे।

ट्रेनों में अवैध वेण्डरों का बोलबाला


- धड़ल्ले से बेचे जा रहे गुटखा और सिगरेट
भोपाल।
भोपाल मण्डल से लगभग ढाई सौ ट्रेनें गुजरती हैं। ट्रेनों में इन दिनों अवैध वेण्डरों का बोलबाला है । ट्रेनों में प्रतिबंध के बावजूद वेण्डर खुलेआम गुटखा और सिगरेट बेच रहे हैं। ट्रेनों में चलने वाले पुलिस के जवान इन्हें नहीं रोक पा रहे हैं, ऐसे में पुलिस की इन अवैध वेण्डरों के साथ मिलीभगत का दृश्य साफतौर से दिखाई देता है। इसके बावजूद भी रेल प्रशासन इस मामले में आज तक कोई कड़ा कदम नहीं उठा पाया।

नहीं चलाई जा रही मुहीम
भोपाल मंडल से गुजरने वाली सैकड़ों ट्रेनों में चल रहे अवैध वेण्डर वैध वेण्डरों को पीछे छोड़ दिए हैं। अवैध वेण्डरों द्वारा पुलिस से सांठ-गांठ करके गुणवत्ताविहीन सामग्री खुलेआम बेचे जा रहे हैं। इनके खिलाफ आज तक कभी कोई मुहीम नहीं चली, ताकि इन पर प्रतिबंध लगाया जा सके। सूत्रों की माने तो भोपाल मंडल में अवैध वेण्डरों की संख्या वैध वेण्डरों से तीन गुना है, जिस पर आरपीएफ समय-समय पर कार्रवाई तो करती है, लेकिन इसके बावजूद भी इनकी संख्या जस की तस है।

गुटका, सिगरेट बिक रहे खुलेआम
रेलवे द्वारा टे्रनों में गुटका एवं सिगरेट के अलावा अन्य नशे की वस्तुएं विक्रय करने पर प्रतिबंध लगाया गया है। अवैध वेण्डरों द्वारा बेचे जा रहे इन सामग्री पर निगरानी रखने के लिए जीआरपी और आरपीएफ पुलिस को लगाया गया है । इसके बावजूद पुलिस अपनी जिम्मेदारी गंभीरता से नहीं निभा पा रही है, लिहाजा अवैध वेण्डर ट्रेनों में धड़ल्ले से गुटका, सिगरेट एवं अन्य सामग्री बेच रहे हैं।

स्वच्छता अभियान भी पड़ा फीका
रेलवे द्वारा चलाया जा रहा स्वच्छता अभियान भी फिलहाल फीका पड़ता जा रहा है। स्टेशन पर स्वच्छता का असर धीरे-धीरे समाप्त होता जा रहा है। ट्रेनों में भी सफाई अभियान की गति समाप्त होने के कारण गंदगी का आलम अधिकतर ट्रेनों में देखने को मिलती है।

प्री-बोर्ड परीक्षाएं 2 फरवरी से


-रिमेडियल के निर्देश
- लापरवाही पाए जाने पर संकुल प्राचार्य को किया जाएगा कारण बताओ नोटिस जारी


भोपाल।
स्कूल शिक्षा विभाग प्री-बोर्ड परीक्षाएं 2 फरवरी से आयोजित कर रहा है। यह एक प्रकार से फाइनल परीक्षाओं का टेस्ट होगा। इस परीक्षा में जो छात्र कमजोर आएंगे, उन्हें रिमेडियल कक्षाओं में पढ़ाया जाएगा। इसके लिए जिला शिक्षा अधिकारी ने समस्त संकुल प्राचार्यों को निर्देशित कर दिया है। डीईओ कार्यालय के अनुसार खासकर दसवीं-बारहवीं के छात्रों का बौद्धिक बल परखने के लिए यह परीक्षाएं हो रही हैं। बच्चों की क्या तैयारियां हैं और किन विषयों में वह कमजोर है। प्री-बोर्ड के माध्यम से यह पता चलेगा।
जिला शिक्षा अधिकारी केपीएस तोमर ने बताया कि यह परीक्षाएं 2 फरवरी से प्रारंभ होंगी। 9 फरवरी को इनका समापन होगा। उन्होंने बताया प्री-बोर्ड में जो विद्यार्थी कमजोर निकलकर आएंगे। उनके लिए परीक्षा समाप्ति के अगले ही दिन से रिमेडियल कक्षाएं संचालित की जाएंगी। इस संदर्भ में समस्त संकुल प्राचार्यों को निर्देशित किया गया है। उनसे कहा गया कि स्कूल खुलने के एक घंटा पूर्व विषय शिक्षक रिमेडियल कक्षाओं में कमजोर बच्चों को पढ़ाएं। विद्यार्थी जो भी विषय संबंधी समस्या बताते हैं, तो तत्काल उनका निराकरण किया जाए। उन्होंने बताया कि फरवरी अंत तक यह क्रम चलेगा। अगर किसी स्कूल में रिमेडियल के प्रति लापरवाही सामने आती है, तो संकुल प्राचार्य को कारण बताओ नोटिस जारी किया जाएगा।

शोर थमने से पहले नेताओं ने नापी शहर की गली-गली


भोपाल।
नगर निगम चुनाव का शोर थमने से पहले दोनों प्रमुख दल कांग्रेस और भाजपा से लेकर निर्दलीय प्रत्याशियों ने शहर की गली-गली नाप दी। शाम पांच बजने से पहले तक सभी अपनी जीत का दम भरते दिखाई दिए। कहीं सभा हुई तो कहीं वाहन रैली निकाल कर अपने पक्ष में माहौल करते प्रत्याशी नजर आए।
जानकारी के अनुसार नगर निकाय चुनाव गुरूवार शाम पांच बजे चुनावी शोर-शराबा समाप्त हो गया। सड़क से प्रत्याशियों के होर्डिंग उतार लिए गए। शराब की दुकानें बंद करा दी गईं। ध्वनि विस्तारकों के प्रयोग पर पाबंदी लगा दी गई। रैली, जुलूस, सभा, नुक्कड़ सभा आदि प्रचलित प्रचार को विराम दे दिया गया। ये समूची कवायद दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 144 की निषेधाज्ञा के जरिए पाबंद की गई। मतदान के ठीक 48 घंटे पहले प्रत्याशियों को आचार संहिता की बेहद सख्त लक्ष्मण रेखा के भीतर रहते हुए चुनाव प्रचार के अंतिम दौर का प्रचार करना होगा। वे चार से अधिक लोगों के साथ अब प्रचार नहीं कर सकेगें। वाहनों का इस्तेमाल की भी सीमा तय कर दी गई।

सेंधमारी में जुटे नेता
नगर निगम चुनाव के लिए प्रचार का शोर थमते ही प्रत्याशी और नेता वोटों की सेंधमारी में जुट गए। शहर के अलग-अलग हिस्सों में वोटरों को पक्ष में करने के लिए नेता तरह-तरह के जतन करते देखे गए। कोई समाज प्रमुखों को मना रहा था तो कोई क्षेत्र के रसूखदारों से मदद की गुहार लगा रहा था। गुरूवार को शाम पांच बजे से पहले जनसंपर्क, रोड शो से प्रत्याशी और उनकी पार्टी के नेता मतदाताओं को रिझााने में लगे रहे। चुनाव प्रचार का शोरगुल थमते के बाद कांग्रेस पार्षद प्रत्याशी अपने-अपने वार्ड में प्रमुख लोगों के यहां बैठक करने पहुंचे। इसके साथ ही रूठों को भी मनाने उनके यहां प्रत्याशी और उनके रणनीतिकारण पहुंचे। प्रत्याशियों ने अपने वार्ड के मतदाता और जीत के लिए अपने चिर-परिचित और रिश्तेदारों के यहां दस्तक देने की रणनीति बनाई। वहीं कांग्रेस प्रत्याशियों के वार्डों में खुले कार्यालयों पर देर रात तक भीड़ नजर आई।

काली और हन्नू सहित छह जिलाबदर


भोपाल। नगर निगम चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो इसको ध्यान में रखते हुए विजय उर्फ काली व हन्नू उर्फ हनीफ सहित छह आदतन अपराधियों को जिलाबदर कर दिया गया है। जारी आदेश के मुताबिक विजय उर्फ काली आत्मज अशोक बंजारा थाना बैरागढ़, जफर आत्मज बादशाह थाना ऐशबाग, सागर कु चबंदिया आत्मज सरवन कु चबंदिया थाना तलैया, लालाराम हरिजन आत्मज मुंशीलाल हरिजन थाना खजूरीसड़क व हन्नू उर्फ हनीफ आत्मज अजीम उल्ला थाना बैरसिया को तीन तीन माह के लिए जिलाबदर कर दिया गया है। इसके अतिरिक्त सदाब आत्मज जहीर थाना ऐशबाग को छह माह के लिए जिले की सीमाओं से बाहर चले जाने के निर्देश दिए गए हैं। नगर निगम चुनाव के मद्देनजर एडीएम श्री जामोद ने अब तक 60 आदतन अपराधियों के विरूद्ध कार्रवाई की हैं। इसमें 43 अपराधियों के विरूद्ध जिला बदर और 17 के विरूद्ध थाना हाजिरी के आदेश जारी किए गए हैं।

हर वार्ड का होगा विकास, बदल जाएगी तस्वीर: शिवराजसिंह



- आलोक मेरे प्रतिनिधि के तौर पर करेंगे काम
- सीएम के रोड शो के साथ हुआ प्रचार अभियान समाप्त


भोपाल।
नगर निगम चुनाव के लिए गुरुवार को प्रचार अभियान समाप्त हो गया। भाजपा प्रत्याशी आलोक शर्मा के लिए मुख्यमंत्री ने दिन भर रोड शो और सभाएं की। रोड शो के दौरान मुख्यमंत्री ने भोपाल के हर वार्ड की तस्वीर बदलने की बात कही और कहा कि आलोक शर्मा को जिताइये, आलोक मेरे प्रतिनिधि के तौर पर काम करेंगे और विकास की जिम्मेदारी मेरी होगी। मुख्यमंत्री ने राजधानी के नरेला विधानसभा क्षेत्र के रेलवे स्टेशन, अशोका गार्डन और करोंद क्षेत्र में रोड शो और जनसंपर्क किया।  मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भोपाल के करोंद में रोड शो को संबोधित करते हुए कहा कि भोपाल नगर निगम चुनाव में महापौर पद के लिए पार्टी के प्रत्याशी आलोक शर्मा परिश्रमी और मिलनसार कार्यकर्ता है। वे हमेशा जनता की सेवा में तत्पर रहते है। उन्हें समर्थन देकर महापौर के रूप में निर्वाचित करना है, साथ ही पार्टी के पार्षद प्रत्याशी को विजयी बनाकर पार्टी के लिए प्रचंड बहुमत सुनिश्चित करना है।
रोड शो के दौरान मुख्यमंत्री ने जनता से सीधा संवाद किया और उनकी समस्याओं को गंभीरतापूर्वक सुना। अपने संबोधन में सीएम ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रदेश में पिछले 10-11 सालों में नगरीय विकास की जितनी योजनाएं संचालित की गयी है, उतना पिछले साढ़े पांच दशकों में कभी नहीं हुआ। सीएम ने कहा कि आलोक शर्मा महापौर चुने जाने के बाद मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि होंगे और क्षेत्रीय विकास की जिम्मेदारी शिवराजसिंह चौहान के कंधों पर होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि भोपाल के कोने-कोने में नर्मदा जल की नियमित आपूर्ति की जाएगी। बेहतर सड़के, हर वार्ड में उद्यान, सफाई, स्वास्थ्य, शिक्षा और नागरिकों की सुविधाओं की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि गरीबों को अन्नपूर्णा योजना में सस्ता राशन दिया जा रहा है। सभी वार्डों में रिसोर्स सेंटर खोलकर छोटे-मोटे कामों के लिए तकनीशियन और सहायता उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि नगर निगम चुनाव नगर के विकास में योगदान करने का महत्वपूर्ण अवसर होता है,इस अवसर पर हमें ऐसे व्यक्ति को चुनना है जो आंचलिक आकांक्षाओं को पूरा कर सके।
उन्होंने कहा कि भाजपा के महापौर और बहुमत वाली परिषद को निर्वाचित किए जाने से दोहरा फायदा होगा। केन्द्र में नरेन्द्र मोदी की सरकार है और प्रदेश में भी भाजपा की सरकार है। दोनों सरकारें भोपाल के लिए उदारतापूर्वक काम करेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री क्षेत्रीय विकास के लिए योजना बना सकते है, धन उपलब्ध करा सकते है, लेकिन इसका सदुपयोग तभी होगा जब हम सक्षम व्यक्तियों का चुनाव कर अवसर का लाभ उठाएंगे। उन्होंने 31 जनवरी को होने जा रहे मतदान में महापौर प्रत्याशी आलोक शर्मा और पार्टी के पार्षद प्रत्याशियों को विजयी बनाने की अपील की और कहा कि ऐसा करना भोपाल नगर के विकास की गारंटी होगी।

काम नहीं करती मशीनें, कैसे करें स्वैप


- मामला भेल में लगी स्वाइपिंग मशीनों का

भोपाल।
  बीएचईएल प्रबंधन द्वारा प्रवेश द्वारों पर लगाई गई स्वाइपिंग मशीनें कर्मचारियों के लिए समस्या बनी हुई हैं। आलम यह है कि पीक अवर में यह मशीनें बंद हो जाती हैं। ऐसे में कर्मचारियों के सामने स्वेप करने की समस्या खड़ी हो रही है। इस बारे में सीआईएसएफ द्वारा भी कई बार शिकायत की जा चुकी है, लेकिन स्थाई समाधान नहीं निकल सका है। गौरतलब है कि प्रबंधन द्वारा तमाम विरोध के बाद भी कारखाने में स्मार्ट कार्ड स्वाइपिंग व्यवस्था लागू की गई है। वर्तमान में स्वाइपिंग की व्यवस्था ठीक ठंग से संचालित नहीं हो पा रही है। प्रवेश द्वारों पर लगभग छह से आठ स्वेप मशीनें लगाई गई हैं। इसमें दो से तीन स्थाई और बाकी वाई-फाई मशीनें हैं। कारखाने में पीक अवर के समय यह मशीनें धोखा दे रही हैं। स्थिति यह बनती है कि गेटों पर स्वाइप के लिए कर्मचारियों की भीड़ रहती है। एक तो कर्मचारियों को स्वेप की जल्दी रहती है उस पर मशीनें ओर बंद हो जाती हैं। स्थिति यह बनती है कि जब तक मशीन को सुधरवाने के लिए संबंधित को बुलवाया जाता है तब तक कर्मचारी अंदर जा चुका होता है। सुरक्षा एजेंसी ने इस समस्या का स्थाई निराकरण करने को कहा, लेकिन कई बार शिकायत होने के बाद भी सुनवाई नहीं हो रही है। कारखाने में प्रतिनिधि यूनियन एचएमएस के मीडिया प्रभारी मनोज दीक्षित ने बताया कि गेटों पर स्वेप मशीनें बंद होने की समस्याएं आ रही है।

नियम विरुद्ध कुलसचिव ने उपलब्ध करवाए यूरो

अब ऑडिट ने वसूली का लिखा पत्र, आर्थिक अनियमितता पर नहीं हुई कार्रवाई

भोपाल। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय कुलपति और कुलसचिव ने विवि निधि से बिना आग्रिम फाइल बनाए बिना ही एक लाख 11 हजार रुपए के युरो लिए थे, लेकिन यह राशि जमा नहीं की गई है। ऑडिट ने इस राशि को जमा करने का पत्र जारी किया है। पत्र में स्पष्ट लिखा गया है कि वित्तीय सत्र समाप्ति से पहले राशि जमा नही करने पर कुलसचिव के वेतन से राशि काटी जाएगी। दरअसल, विवि कुलपति डॉ. मुरलीधर तिवारी ने राजभवन और राज्य सरकार से बिना स्वीकृति लिए 7 से 10 अगस्त तक डेनमार्क की विदेश यात्रा की थी। इस यात्रा के लिए कुलपति ने रजिस्टार को एक दिन में एक लाख ग्यारह हजार के यूरो उपलब्ध कराने के आदेश दिए थे। भारतीय मुद्रा में यह एक लाख ग्यारह हजार की राशि होती है। यात्रा के बाद कुलपित ने यात्रा पर हुए कुल खर्च तीन लाख तीन हजार 244 रुपए के भुगतान के लिए ऑडिट में रजिस्टार के माध्यम से फाइल प्रस्तुत की। ऑडिट ने इसमें राजभवन, शासन और यूजीसी की अनुमति नहीं होने का हवाला देकर भुगतान की स्वीकृति नहीं दी। इसके बाद से ही ऑडिट विभाग एक लाख 11 हजार रुपए की वसूली के प्रयास कर रहा है लेकिन कुलपति और कुलसचिव मामलों को गंभीरता से नहीं ले रहे और लगातार नियम विरुद्ध यात्रा का पुर्ण भुगतान के लिए नस्ती प्रस्तुत की जा रही है। अब ऑडिट ने इस मामले में स्पष्ट किया है कि यात्रा का भुगतान तो हो ही नहीं सकता। अब कुलसचिव द्वारा कुलपति को विवि निधि से उपलब्ध कराए गए लाख 11 हजार जमा करावाए। इस आशय का पत्र ऑडिट विभाग ने कुलसचिव एलएस सोलंकी को लिखा है।

बिना फाइल बनाए दिए यूरो
विवि कुलपति की विदेश यात्रा के लिए कुलसचिव द्वारा उपलब्ध कराए एक लाख 11 रुपए की अग्रिम राशि की फाइल उस समय नही बनाई गई। यह अनियमितत की श्रेणी में आता है। अब तक उच्च शिक्षा विभाग ने कुलसचिव से इस मामले में सवाल -जबाव नहीं किए है कि उन्होंने ने कुलपति के कहने पर शाम तक एक लाख 11 हजार रुपए के युरो उपलबध करवा दिए ।

अब तक नहीं हुआ एमओयू
विवि कुलपति मुरलीधर तिवारी द्वारा की डेनमार्क यात्रा को विवि हित में बताया गया, डेनमार्क विश्वविद्यालय से एमओयू होने की दावा इस यात्रा के बाद किया गया था, लेकिन अब तक डेनमार्क विवि से कोई एमओयू नहीं हुआ। कुलपति ने इस यात्रा को रिसर्च और शैक्षेणिक कार्य के आदान -प्रदान के लिए डेनमार्क विवि से एमओयू पर चर्चा के लिए बताया था।

6 माह विवि के पैसे का किया उपयोग
अगस्त में कुलपति द्वारा लिया गया विश्वविद्यालय का पैसा अब तक जमा नहीं किया, 6 माह इस पैसे का उपयोग किया है। यह भी आर्थिक अनियमितता की श्रेणी में है। विवि राशि का 6 माह उपयोग पर ब्याज वसूली का भी विवि का नुकसान हुआ है।

मालवी लोक गायन की रही धूम


भोपाल। रवीन्द्र भवन के मुक्ताकाश मंच पर चल रहे लोकरंग समारोह के चौथे दिन गुरूवार की शाम रंगारंग कार्यक्रमों की धूम रही। देशभर के कलाकारों ने अपनी कला कर प्रदर्शन कर दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। मेघालय का बांग्ला नृत्य, उत्तरांचल का घसियारी, हरियाणा का घूमर, मणिपुर का पुंगचोलम, छत्तीसगढ़ का माओपाटा, कर्नाटक का ढोलूकुनीता, आन्धप्रदेश का थपेटगुल्लू, और मध्यप्रदेश के रीना सेला,भड़म,परघौनी नृत्य- प्रस्तुतियाँ हुईं। जर्मनी का मैजिक शो और ब्राजली का बैले नृत्य दर्शकों के विशेष आकर्षण का केन्द्र रहे। संत सिंगाजी के लोक पदों का गायन, कानड़ा नृत्य-गीत, मालवी लोक गायन एवं गोण्डवानी गायन का प्रस्तुतिकरण हुआ।

हंसराज हंस का गायन आज.
शुक्रवार को महात्मा गांधी की पुण्य तिथि के अवसर पर प्रख्यात सूफीगायक हंसराज हंस का गायन होगा। इसके अलावा समारोह में विशेष रूप से संयोजित पारम्परिक वाद्यों की प्रदर्शनी 'अनहदÓ का अवलोकन कर मध्यप्रदेश एवं अन्य राज्यों के लोक प्रचलित वाद्यों के उपयोग, लोक में प्रयोगवादी वाद्यों के निर्माण की जानकारी एवं उनके महव तथा इनकी विशिष्टता को जाना। इसके साथ ही वैभव के कला प्रतीक गज के बहुविध रूपाकारों की प्रदर्शनी 'ऐरावतÓ, विभिन्न शिल्प माध्यमों का शिल्प मेला, बच्चों के लिए कठपुतली, पारम्परिक खेल और फिल्में, जनपदीय व्यंजन तथा लोक साहित्य से सम्बंधित पुस्तकें क्रमश: अवलोकन, प्रस्तुतिकरण एवं विक्रय के लिए उपलब्ध रहेंगी।

कोहरे का असर पड़ा धीमा, ट्रेनों की रफ्तार बढ़ी



भोपाल । कोहरे का असर ट्रेनों पर विगत दो दिनों से कम होता जा रहा है । इससे जहां ट्रेनों की रफ्तार बढ़ी है, वहीं भोपाल आने वाली लगभग अधिकतर गाडिय़ों में सुधार हुआ है । फिर भी कुछ लम्बी दूरी की गाडिय़ों पर कोहरे का जरूर असर पड़ा है जिससे वे 4 घंटे से लेकर 12 घंटे तक विलंब से राजधानी पहुंची ।
भोपाल स्टेशन पर आंशिक देरी से आने वाली गाडिय़ों में गाड़ी क्रं. 12716 सचखण्ड एक्सप्रेस - 2.25 मिनट, गाड़ी क्रं. 12616 जीटी एक्सप्रेस - 6.02 घंटे, गाड़ी क्रं. 12002 शताब्दी एक्सप्रेस - 00.55 मिनट, गाड़ी क्रं. 12138 पंजाब मेल-2.07 घंटे, गाड़ी क्रं. 12808 समता एक्सप्रेस - 2.56 घंटे, गाड़ी क्रं . 11078 झेलम एक्सप्रेस - 1.42 घंटे, गाड़ी क्रं. 12780 गोवा एक्सप्रेस - 00.30 मिनट, गाड़ी क्रं. 2618 मंगला एक्सप्रेस - 2.25 घंटे, गाड़ी क्रं. 12650 कर्ना संपर्क क्रांति 3.04 घंटे, गाड़ी क्रं. 12174 उद्योग नगरी एक्सप्रेस - 3.05 घंटे, गाड़ी क्रं. 12622 तमिलनाडु एक्सप्रेस-3.10 घंटे, गाड़ी क्रं. 11016 कुशीनगर एक्सप्रेस-5.09 घंटे, गाड़ी क्रं. 12191 श्राीधाम एक्सप्रेस-12.17 घंटे, गाड़ी क्रं. 12156 भोपाल एक्सप्रेस-3.20 घंटे, गाड़ी क्रं. 12541 गोरखपुर-एलटीटी एक्सप्रेस-3.50 घंटे, गाड़ी क्रं. 12511 राप्ती सागर एक्सप्रेस-1.08 घंटे, गाड़ी क्रं. 12533 पुष्पक एक्सप्रेस-2. 43 घंटे, गाड़ी क्रं. 12628 कर्नाटका एक्सप्रेस-3.35 घंटे, गाड़ी क्रं. 2722 दक्षिण एक्सप्रेस-3.48 घंटे, गाड़ी क्रं. 11058 पठानकोट एक्सप्रेस-4.12 घंटे, गाड़ी क्रं. 12920 मालवा एक्सप्रेस-2.13 घंटे, गाड़ी क्रं. 12724 एपी एक्सप्रेस-00.55 मिनट, गाड़ी क्रं. 14010 पातालकोट एक्सप्रेस-1.45 घंटे देरी से भोपाल पहुंची । ं

यात्रियों को मिली राहत

भोपाल स्टेशन पर आज यात्रियों ने काफी राहत की सांस ली । आज भोपाल आने वाली अधिकतर गाडिय़ां अपने निर्धारित समय से आंशिक देरी से आने के कारण यात्रियों को स्टेशन पर ज्यादा समय तक अपने गाडिय़ों का इंतजार नहीं करना पड़ा ।

सात हजार से अधिक फार्म बंटे


भोपाल। मध्यप्रदेश राज्य हज कमेटी के अध्यक्ष ने बताया कि हज-2015 में हज पर जाने वाले यात्रियों को गुरुवार को सात हजार फार्म बांटे गए। हज कमेटी कार्यालय में गुरुवार को आरक्षित श्रेणी प्रथम के 10, आरक्षित श्रेणी द्वितीय के 75 एवं सामान्य श्रेणी के 291 हज फार्म बांटे। मप्र राज्य हज कमेटी के सचिव दाऊद अहमद खान ने यह जानकारी दी। प्राप्त हज आवेदनों को कवर नम्बर प्रदान करने की कार्यवाही निरन्तर जारी है।
---------------------------------
 गौ रक्षा हेतु मुख्यमंत्री को सौंपेगे ज्ञापन
भोपाल। संत बाबा जयगुरूदेव के आध्यात्मिक उत्तराधिकारी संत उमाकान्त महाराज के द्वारा पूरे भारत वर्ष में गौ रक्षा के लिए एक अभियान चलाया गया जा रहा है। जिसमें गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने एवं गौ हत्या करने वाले को फाँसी की सजा का प्रावधान करने पर जोर दिया जा रहा है। आन्दोलन के अंतर्गत मप्र की विभिन्न संगतों के माध्यम से भी हस्ताक्षर अभियान चलाकर लगभग 90 हजार लोगों के हस्ताक्षर करवाए गए हैं। इसी संबंध में जयगुरूदेव संगत के पदाधिकारी हस्ताक्षर युक्त प्रार्थना पत्र प्रधानमंत्री को भेजते हुए उसकी प्रति मुख्यमंत्री को उनके निवास पर ज्ञापन के रूप में सौंपेंगे।
----------------------------------
 तीन ठिकानों पर आयकर सर्वे
भोपाल। आयकर विभाग की टीम ने न्यू मार्केट स्थित ज्वेलर्स एवं एमपी नगर स्थित बिल्डर के ठिकानो पर सर्वे की कार्रवाई की। प्राप्त जानकारी के अनुसार आयकर विभाग की टीम ने गुरुवार को न्यूमार्केट स्थित एक ज्वैलर्स के दो ठिकानों एवं एमपी नगर के एक बिल्डर के यहां सर्वे की कार्रवाई की इस दौरान विभाग की टीम ने इन दोनों व्यवसायियों के यहा से जरुरी दस्तावेज बरामद किये।
----------------------------------

शनिवार, 24 जनवरी 2015

आओ फिर गणतंत्र मनायें

कविता
 
 
आजादी की अल्ख जगायें 

सत्य अहिंसा का दे मंत्र 
हर्ष दे रहा है गणतंत्र 
फिर से प्रेम मशाल जगायें 
आओ फिर ...

तोपों की दे रहे सलामी 
दूर हुई थी आज गुलामी 
राष्ट्र ध्वज फिर से फहरायें 
आओ फिर ...

सजे ऊँट घोड़े और हाथी 
चलते ताल मिलाकर साथी 
झाँकियों में भारत दिखलायें  
आओ फिर ...

विजय चौक बना बहुरंगा 
ऊँचा उड़ता जाये तिरंगा 
अमर जोत पर शीश नवायें  
आओ फिर ...

अपने खून से खेली होली 
सीने पर खाई थी गोली  
हम भी अपना फर्ज निभायें 
आओ फिर...

आजाद हिन्द की फ़ौज बनाकर 
आजादी के नगमें गाकर  
अब तो सोया देश जगायें 
आओ फिर ...

सेवा त्याग ईमान यहाँ हो 
नारी का सम्मान वहाँ हो 
ऐसी इक पहचान बनायें 
आओ फिर ...

हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई 
मिलजुल सारे भाई भाई 
इस मिटटी की शान बढायें
आओ फिर ...

असली आजादी हो तब
भ्रष्ट तंत्र ख़त्म हो जब  
भारत को सिरमौर बनायें 
आओ फिर ....
सरिता भाटिया
http://guzarish6688.blogspot.in/

वार्ड 32 में घर घर पहुंच रहे हैं जगदीश यादव


  
   भोपाल ।  पार्षद पद के लिए वार्ड 32 में निर्दलीय उम्मीदवार भाई जगदीश यादव ने अपने चुनावी रणनीति में कुछ बदलाव किया है। अभी तक गाडिय़ों से गली मुहल्लों में घूमने वाले श्री यादव के कार्यकर्ता अब घर घर पहुंचकर लोगों को अपना केक चुनाव चिन्ह बताते हुए उनसे उनका आशीर्वाद मांग रहे है।  इस तरह की करीब 12 टुकड़ी काम कर रही है। इसके अलावा भाई जगदीश  यादव स्वयं भी सुबह से दोपहर डेढ़  बजे तथा शाम को साढ़े तीन बजे से देर रात्रि तक जनसम्पर्क में जुटे हुए हैं। शुक्रवार को श्री यादव ने सुबह के समय शास्त्री नगर में एक एक घर में ज न सम्पर्क किया। जहां लोगों ने न केवल अपना समर्थन दिया बल्कि बड़े बुजुर्गों ने सर पर हाथ  रखकर अपना आशीर्वाद भी दिया। श्री  यादव जहां भी जाते है वहां एक ही बात करते हैं कि वे स्थानीय प्रत्याशी है यदि उन्हें इस वार्ड में  पार्षद के रूप में सेवा करने का मौका मिलता है तो वे वार्ड 32 को सबसे सुंदर वार्ड बनाएंगे।  जनसम्पर्क  क े दौरान बड़ी संख्या में कार्यकर्ता  मौजूद थे।  

गुरुवार, 22 जनवरी 2015

मप्र के राज्यपाल रामनरेश यादव से पत्रकार प्रवीण श्रीवास्तव व राजकुमार सोनी की सौजन्य भेंट



भोपाल। मिशन फॉर मदर के संचालक प्रवीण श्रीवास्तव व पत्रकार राजकुमार सोनी ने 22 जनवरी को दोपहर 12 बजे मप्र के राज्यपाल रामनरेश यादव से राजभवन में सौजन्य भेंट की। इस अवसर पर राज्यपाल को मां कविता संग्रह व तस्वीर भेंट की गई। राज्यपाल रामनरेश यादव ने मिशन की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए मिशन के उज्जवल भविष्य की कामना की। राज्यपाल ने अपने माता-पिता के रोचन संस्मरण भी सुनाए।





बुधवार, 21 जनवरी 2015


जगदीश यादव का सघन जनसंपर्क


भोपाल 21 जनवरी/ नगर निगम वार्ड क्रमांक-32 के निर्दलीय उम्मीदवार जगदीश यादव इन दिनांक सघन जनसंपर्क पर हैं वे स्वयं अपने समर्थकों के साथ घर-घर जाकर मतदाताओं से सम्पर्क कर रहे हैं।
इसी कड़ी में आज जगदीश यादव ने वार्ड के सुनहरी बाग, जज कालोनी, राम मंदिर और माता मंदिर के सामने वाले क्षेत्र में जनसंपर्क किया इन क्षेत्रों में उन्हें भरपूर स्नेह व समर्थन प्राप्त हो रहा है। श्री यादव के अनुसार इस बार वार्ड-32 में बदलाव की बयार बह रही है। भाजपा और कांग्रेस से ऊब चुके मतदाता इस बार परिवर्तन का मन बना चुके हैं। लोगों का कहना है कि अभी तक राजनैतिक दलों के पार्षद बनने के बाद अपना सारा समय अपने आकाओं की चरण वंदना में व्यतीत कर देते थे क्षेत्र की समस्याओं पर उन्होंने कभी पर्याप्त ध्यान नहीं दिया।





सोमवार, 19 जनवरी 2015

एक जिंदगी माँ के नाम 20 को


रायसेन। वृद्धाश्रम से बुजुर्गों की ससम्मान घर वापसी और नई पीढ़ी में माता-पिता के प्रति सम्मान के भाव जाग्रत करने के उद्देश्य से संचालित मिशन फॉर मदर के तत्वावधान में 20 जनवरी 2015 मंगलवार को रायसेन नगर के मंगल भवन पाटनदेव में एक जिंदगी माँ के नाम का आयोजन किया जा रहा है। दोपहर 12 बजे से आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप मे रायसेन के महात्मा गांधी वृद्धाश्रम की पूज्य माँ श्रीमती मोतीबाई मेहरा एवं श्रीमती नर्बदीबाई राव होंगी। भोपाल, इंदौर, दमोह, छतरपुर और टीकमगढ़ के बाद यह आयोजन रायसेन में आयोजित किया जा रहा है। मिशन के संस्थापक प्रवीण श्रीवास्तव सौम्य ने बताया कि कार्यक्रम में हर माँ का बेटा आमंत्रित किया गया है। आयोजन में शामिल होने वाला हर नागरिक अपनी-अपनी माँ की आरती करेगा। अंत में सामूहिक माँ आरती होगी।

जाते क्यों हो काशी-काबा।
जब घर बैठे हैं अम्मा-बाबा।।---सौम्य


गुरुवार, 15 जनवरी 2015

बीयू ने छोड़े 131 प्रोफेसर व कर्मचारी

- 17 जनवरी तक नहीं पहुंचे ट्रेनिंग में तो एफआईआर
- मामला मतदान दल के ट्रेनिंग पर न पहुंचने वालों का

भोपाल। राज्य के साथ केंद्रीय और स्वायत्त संस्थाओं में काम कर रहे अधिकारी-कर्मचारियों को अब चुनाव ड्यूटी से राहत नहीं मिलेगी। राज्य निर्वाचन आयोग के पत्र के बाद इस मामले में सीएस मुख्यमंत्री एंटोनी डिसा ने भी संज्ञान ले लिया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने भी विभिन्न विभागोंं के प्रमुख सचिव, विभागाध्यक्षों व अन्य आला अधिकारियों को निर्देशित कर दिया गया है कि जिन अधिकारी-कर्मचारियों की चुनाव में ड्यूटी लगाई गई है उन्हें तत्काल प्रभाव से रिलीव किया जाए। इधर इसका असर भी दोपहर बाद से ही देखने को मिल गया है। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के अंतर्गत आने वाले 131 प्रोफेसरों व कर्मचारियों को रिलीव कर दिया गया है। अन्य विभाग भी अब इसकी तैयारी कर रहे हैं। इधर जिला निर्वाचन कार्यालय ने भी सख्त चेतावनी जारी कर दी है कि जो अधिकारी-कर्मचारी 17 जनवरी तक प्रशिक्षण में नहीं पहुंचेगा तो उन पर एफआईआर तय है।

इन कार्यालयों को दी चेतावनी

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेस्ट मैनेजमेंट(आईआईएफएम), रिजर्व बैंक ऑप इंडिया(आरबीआई), रीजनल पासपोर्ट ऑफिस और बरकतउल्ला विवि (बीयू), भेल से एक भी कर्मचारी या अधिकारी इस प्रशिक्षण में नहीं पहुंचा। इन सभी विभागों को पत्र लिख दिया गया है।

रेलवे ने बदला रवैया
इस बार कर्मचारियों और अधिकारियों की कमी के चलते जिला प्रशासन ने रेलवे समेत कई केंद्रीय विभागो से चुनावी ड्यूटी के लिए कर्मचारी मांगे। रेलवे ने तो गुरूवार को सत्तर से ज्यादा अधिकारी कर्मचारियों को प्रशिक्षण के लिए भेज दिया, वहीं दीगर केंद्रीय उपक्रमों ने जिला प्रशासन की मांग को अनसुना कर दिया।

बीयू ने तत्काल किया रिलीव

जिला प्रशासन का खत गुरूवार को ही बीयू के रजिस्ट्रार एलएस सोलंकी को मिल गया। खत मिलते ही विश्विविद्यालय में हड़कंप मच गया। बीयू रजिस्ट्रार ने तो दोपहर को ही कुल 131 कर्मचारियों और प्रोफेसरों को तत्काल प्रभाव से चुनावी ड्यूटी के लिए रिलीव कर दिया। ज्ञात हो कि बीयू ने पहले परीक्षाओं और मूल्यांकन का हवाला देते हुए पहले अपने कर्मचारी चुनावी ड्यूटी पर लगाने से साफ इंकार कर दिया था।

ट्रेनिंग लेने नहीं पहुंचे
मतदान व मतगणना दलों में आरबीआई के करीब 70 अधिकारी-कर्मचारियों को भी शामिल किया गया है। गुरूवार को उनको ट्रेनिंग लेना थी, लेकिन उनमें से एक भी ट्रेनिंग लेने नहीं पहुंचा। अब उन सभी अधिकारियों को शोकाज नोटिस भेज जा रहे हैं।

राज्य निर्वाचन आयोग ने सीएस को लिखा पत्र
इस समस्य से निपटने के लिए जिला निर्वाचन कार्यालय ने राज्य निर्वाचन आयोग को पत्र लिखा था। अब राज्य निर्वाचन आयोग ने भोपाल की स्थिति को दर्शाते हुए एक पत्र मुख्य सचिव एंटोनी डिसा को लिखा है। इसमें कहा गया है कि राज्य सरकार के अधीन कार्यालयों में कार्यरत शासकीय कर्मचारियों को निर्देशित किया जाए कि चुनाव ड्यूटी का अनिवार्य रूप से पालन करें। छूट पाने के लिए कलेक्टर कार्यालय के आवेदन न करें। इस कार्य के लिए वह तत्काल प्रभाव से प्रमुख सचिवों, विभागाध्यक्षों एवं संबंधित अन्य को तत्काल निर्देशित करें।

इनका कहना है
चुनाव कराने के लिए कर्मचारियों की जरूरत तो पड़ेगी ही। ये देश के प्रति जिम्मेदारी है, जिसे निभाना सभी का दायित्व है। चुनावी ड्यूटी से बचने के लिए कई विभागों ने बेरुखी दिखाई है। 17 तक प्रशिक्षण के लिए न आने पर संबंधित विभागों के खिलाफ एफआईआर करा दी जाएगी।
- अक्षय सिंह, प्रभारी , जिला निर्वाचन शाखा, भोपाल
प्रशासन के आदेश के मुताबिक तत्काल प्रभाव से बीयू के 131 कर्मचारियों और प्रोफेसरों को चुनाव पूर्व प्रशिक्षण के लिए रिलीव कर दिया है। इन सभी को चुनावी ड्यूटी के लिए आवश्यक निर्देश भी दे दिए गए हैं।
- एलएस सोलंकी, रजिस्ट्रार, बीयू

बिजली चोरी पर सख्त भेल

भोपाल। बीएचईएल टाउनशिप में बनी झुग्गियों में अवैध बिजली चोरी को लेकर प्रबंधन सख्त हो गया है। इसके तहत झुग्गियों में बिजली लाइन में बिजली चोरी के लिए डाले जा रहे तारों को काटा जा रहा है। इसी कड़ी में कंपनी के विद्युत अमले द्वारा अन्ना नगर में बिजली चोरी के खिलाफ कार्रवाई को अंजाम दिया गया। भेल को लगातार शिकायत मिल रही थी अन्ना नगर में कई रहवासियों द्वारा बिजली लाइन में तार डालकर बिजली का अवैध रूप से प्रयोग कर रहे हैं। शिकायतों को तवज्जो देते हुए विद्युत विभाग का अमला यहां पर पहुंचा और अवैध तारों को काटने की कार्रवाई की। भ्ेाल के नगर प्रशासन विभाग द्वारा ऐसे लोगों के खिलाफ लगातार कार्रवाई को अंजाम दिया जा रहा है।


























 

पांचवीं मंजिल से गिरकर होटलकर्मी की मौत

- नौकरी छोड़कर जा रहा था, संदिग्ध परिस्थितियों में गिरा

भोपाल।
हमीदिया रोड के सामानांतर रोड स्थित होटल मौर्या की पांचवीं मंजिल से गिरकर एक कर्मचारी की मौत हो गई। घटना के समय वह नौकरी छोड़कर जा रहा था और होटल की पांचवीं मंजिल पर अपना सामान लेने गया था। पुलिस ने मर्ग कायम कर विवेचना शुरू कर दी है।
पुलिस के मुताबिक मूलरूप से भिंड जिले में रहने वाला गब्बर सिंह दोहरे (18) रेलवे स्टेशन की ओर जाने वाले सामांतर रोड स्थित मौर्या होटल के किचिन सेक्शन में काम करता था। वह यहां सेमरा चांदबढ़ में अपने चार अन्य भाइयों के साथ रहता था। पांचों भाई अलग-अलग होटलों में काम करते हैं। विगत दो जनवरी की दोपहर सवा एक बजे गब्बर अपने दो बड़े भाइयों सुनील व राजेश के साथ होटल पहुंचा और मैनेजर से कहा कि वह नौकरी छोड़कर जाना चाहता है। तदुपरांत मैनेजर ने उससे कहा कि ठीक है, ऊपर से अपना सामान ले आओ और हिसाब कर लेते हैं।

गिरते हुए टीनशेड से टकराया

अपने दोनों भाइयों को मैनेजर के पास छोड़कर गब्बर होटल की पांचवीं मंजिल पर अपना सामान लेने गया था। इसी दौरान वह संदिग्ध परिस्थितियों में होटल की छत से नीचे आ गिरा। नीचे गिरते समय वह पहले टीनशेड से टकराया था। गरदन के अलावा मुंह व नाक पर गंभीर चोटें लगी थीं। बेहोशी की हालत में ही उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां गुरुवार सुबह उसकी मौत हो गई। पुलिस को शार्ट पीएम रिपोर्ट का इंतजार है। शार्ट पीएम रिपोर्ट आने के बाद मर्ग की जांच आगे बढ़ाई जाएगी।

आज से गूंजेंगी शहनाईयां


भोपाल।
मकर संक्राति पर्व के साथ ही खरमास समाप्त हो गया है। शुक्रवार से विवाह व शुभ मांगलिक आयोजन शुरू हो जाएंगे। गत बुधवार की रात 1.30 बजे जैसे ही सूर्य ने मकर राशि में प्रवेश किया वैसे ही मांगलिक कार्य शुरू हो गए। इसमें मुंडन, कन्छेदन, ग्रह प्रवेश, नई खरीददारी आदि प्रमुख हैं। विवाह मुहूर्त 16 जनवरी से शुरू होंगे। पं. विष्णु राजौरिया के अनुसार सूर्य के धनु और मीन राशि में जाने से खरमास की संज्ञा दी गई है। इसमें मांगलिक कार्य इसलिए नहीं होते, क्योंकि धनु और मीन की संक्राति में किसे जाने वाले कार्य निष्फल होते हैं। हिंदू धर्म मान्याताओं में खरमास में विवाह, मुंडन, गृहप्रवेश आदि मांगलिक कार्य नहीं किये जाते। जनवरी माह में 16, 17, 18, 19, 20, 21, 25, 26, 29, 30 व 31 तारीख में विवाह संपन्न होंगे।

नगर निगम चुनाव के लिए संगठन मंडल प्रभारी घोषित

भोपाल। नगर निगम चुनावों में भाजपा संगठन ने मोर्चा संभाल लिया है। संगठनात्मक दृष्टि और चुनाव प्रबंधन के लिहाज से भाजपा प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान और प्रदेश संगठन महामंत्री अरविन्द मेनन ने भोपाल नगर निगम चुनाव के लिए नगर निगम क्षेत्र के सभी 17 मंडलों में मंडल प्रभारियों का मनोनयन किया है। बैरागढ़ मंडल का प्रभारी शिवा कोटवानी, कोलार मंडल का चुनाव प्रभारी गिरीश द्विवेदी,अग्रसेन मंडल शीर्ष कांतिदेव सिंह, शाहजहानांबाद अनुपम अनुराग अवस्थी, बस स्टेण्ड वीरेन्द्र कावडिया, चौक अरूण भीमावत, बरखेडी हेमंत छाबडा, अरेरा संतोष त्यागी, सुभाष नगर भरत राजपूत, करोंद राजपाल सिंह सिसौदिया,पंचशील दिलीप जायसवाल, स्टेशन राजीव खण्डेलवाल, टीटी नगर वीरेन्द्र गुप्ता, नेहरू नगर संजय बापट, साकेत नगर ढालसिंह बिसेन, पिपलानी राकेश सुराना और अयोध्या मंडल का प्रभारी अमरदीप मौर्य को बनाया गया है।

भाजपा की जीत के लिए संगठन ने संभाला मोर्चा


- चुनाव प्रभारी विनोद गोटिया जुटे तैयारियों में
भोपाल।
नगर निगम चुनावों में भाजपा के महापौर और पार्षद पद प्रत्याशी अपने स्तर पर प्रचार प्रसार और जनसंपर्क में जुटे हैं तो संगठन ने अपने स्तर पर चुनाव की तैयारियां शुरू कर दी है।भाजपा के प्रदेश महामंत्री और भोपाल नगर निगम चुनाव प्रभारी विनोद गोटिया की अगुवाई में बूथ स्तर तक चुनावी तैयारियांतेज कर दी हैं।प्रभारी विनोद गोटिया ने बताया कि संगठनात्मक स्तर पर चुनाव प्रबंधन और प्रचार के सभी काम सुचारू रूप से चल रहे हैं। कार्यकर्ताओं में उत्साह का वातावरण है। भोपाल के सभी 85 वार्डों तक मतदाताओं से संवाद और संपर्क की तैयारी पूरी हो चुकी है।प्रत्येक 60 मतदाताओं से संपर्क और संवाद के लिये एक-एक प्रमुख तैनात किया जा चुका है। क्षेत्रीय सांसद आलोक संजर और मनोरंजन मिश्र चुनाव संचालन में प्रभारी के साथ जुटे हुए हैं।

मंडल और बूथ स्तर पर हो रही हैं बैठकें

चुनाव प्रभारी विनोद गोटिया ने बताया कि दक्षिण-पश्चिम और मध्य विधानसभा क्षेत्र में मंडल स्तरीय बैठके हो चुकी हैं। दूसरे विधानसभा क्षेत्रों में भी बैठकों का सिलसिला चल रहा हैै। मंडल स्तर के अलावा वार्ड स्तर की बैठकों का काम भी शुरू हो चुका है।15 और 16 जनवरी तक बैठकें पूरी कर ली जाएगी। बैठकों में प्रभारी विनोद गोटिया, सांसद आलोक संजर और मनोरंजन मिश्र कार्यकर्ताओं से रूबरू हो रहे है।अगले चरण में 17 और 18 जनवरी को बूथ स्तरीय बैठकें आयोजित की जायेंगी।सभी 1751 मतदान केन्द्रों पर बैठकों में कार्यकर्ताओं के साथ मतदाता भी भाग लेंगे।

20 जनवरी को सभी वार्डो में कार्यकर्ता सम्मेलन

20 जनवरी को एक साथ सभी 85 वार्डों में कार्यकर्ताओं के सम्मेलन आयोजित किये जाने की तैयारियां चल रही है। प्रदेश संगठन महामंत्री अरविंद मेनन ने कार्यकर्ताओं की बैठके लेकर भोपाल नगर निगम चुनाव में पार्टी की शानदार जीत के लिए कार्यकर्ताओं में उत्साह भरा है।इनके अलावा सांसद,विधायक,पार्टी पदाधिकारी

रंग-बिरंगी पतंगों से पटा आसमान

- कई स्थानों पर हुई पतंग प्रतियोगिताएं, बच्चों ने खुब लड़ाए पेंच
भोपाल।
राजधानी में मकर संक्रांति के अवसर पर पूरा आसमान रंग-बिरंगी पंतगों से पटा नजर आया। जहां भी नजर जा रही थी, वहां तक पंतगों लहरा रही थी। वहीं बच्चों ने आपस में पतंगों के खुब पेंच लड़ाए। सभी जगह उल्लू, एरोप्लेन और ईगल शेप की चाइनीज पतंगों के साथ-साथ देसी और सादी पतंगें भी हवा में हिचकोले खाती नजर आईं। आसमान पर बॉलीवुड सेलेब्स की तस्वीरों वाली पतंगें भी छाई रहीं। कहीं कैटरीना कैफ काइट की डिमांड रही तो कहीं मोदी आडवाणी काइट हवा में उड़ती रहीं। वहीं कई स्थानों पर पतंग प्रतियोगिताएं आयोजित की गई।

हाउसिंग बोर्ड अयोध्या नगर में बनाएगा 440 नए भवन


- 180 करोड़ रुपए लागत से होगा निर्माण, 16 को बोर्ड की बैठक में होगा निर्णय


भोपाल।
शहर में हाउसिंग बोर्ड एक ओर नई आवासीय योजना लांच करने की तैयारी कर रहा है। यह योजना अयोध्या नगर में शुरू होगी। यहां बोर्ड 440 नए भवनों का निर्माण करने जा रहा है। इसका निर्णय 16 जनवरी को होने वाली बोर्ड की बैठक में होगा। मालूम हो कि हाउसिंग बोर्ड लगातार ग्राहको की अलोचना झेल रहा है। दरअसल मप्र गृह निर्माण मंडल द्वारा शहर में कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। शहरवासियों ने इन योजनाओं में बड़ी रकम इन्वेस्ट कर रखी है, लेकिन यह समय पर पूर्ण नहीं होने से हितग्राहियों की जेब पर अतिरिक्त असर पड़ रहा है। गौरतलब है कि 16 जनवरी को बोर्ड की बैठक होने जा रही है। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण होने की संभावना है। इस बैठक का कर्मचारियों को भी इंतजार है। इस बैठक में कर्मचारियों के हित में कई फैसले होने के अनुमान है। वहीं बोर्ड नई योजनाओं पर कई अहम फैसले ले सकता हैं। प्राशसनिक रुप कई महत्वपूर्ण योजनाओं पर मुहर लगने की संभावना है।

बोर्ड ने आधा दर्जन से अधिक कॉलोनियों को फ्री होल्ड करने की कवायद की शुरू

- हाउसिंग बोर्ड ने लीज पर दी गई आधा दर्जन से अधिक कॉलोनियों को फ्री होल्ड करने की कवायद शुरू कर दी है। जानकारी के अनुसार अन्य कॉलोनियों को फ्री होल्ड करने को लेकर बोर्ड की बैठक में चर्चा हो सकती है। हांलाकि अभी बोर्ड ने कुछ कॉलोनियों फ्री होल्ड करने की बात कही है, आगे और कॉलोनियों को फ्री होने करने की योजना बनाई जा रही है। फ्री होल्ड करने से इन कॉलोनियों में जिनका आवास या कॉम्पलेक्स है उन्हें बार-बार लीज देने और नवीनीकरण की जरुरत नहीं पड़ेगी। साथ ही वे अपनी संपत्ति को बोर्ड के बिना नामातंरण और अनापत्ति के ही बेच सकते हैं।

कलेक्टर के समक्ष करें आवेदन प्रस्तुत
- इन आठ कॉलोनियों के आंवटियों को संबधित संपत्ति प्रबंधन कार्यालय में संपर्क कर नियमानुसार लीज पर आंवटित संपत्ति की शेष बकाया संपूर्ण राशि जमा करवा कर फ्री होल्ड कराने के लिए अनापत्ति पत्र प्राप्त कर सकते हैं। इसके बाद अपर कलेक्टर के समक्ष आवेदन प्रस्तुत कर संपत्ति फ्री होल्ड करवा सकते हैं।

यह कॉलोनियां होंगी फ्री होल्ड
- कॉलोनी सोनागिरी, कॉलोनी गौतम नगर, कॉलोनी सुभाष नगर, व्यावसायिक कॉपलेक्स गौतम नगर, कॉलोनी नरेला शंकरी, कॉलोनी दामखेड़ा, निशात कॉलोनी टीटी नगर, रिवेयरा टाउनशिप माता मंदिर आदि।

इनका कहना है

- 16 जनवरी को बोर्ड की बैठक होने जा रही है। इस बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले होने के संकेत हैं। अयोध्या नगर में 440 नए भवनों के निर्माण होने पर फैसला लिया जाएगा। इसकी लागत 180 करोड़ रुपए है।
एसके मेहर अपर आयुक्त हाउसिंग बोर्ड

भोपाल गैस त्रासदी का मामला मोदी के सामने उठाएं ओबामा


- अमेरिका का राष्ट्रपति बराक ओबामा को लिखा पत्र
भोपाल।
समय-समय पर भोपाल गैस त्रासदी का मामला विश्वमंच पर उठाती आ रही अंतरराष्ट्रीय संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा को खत लिखा है कि, वे अपने भारत दौरे के वक्त 1984 में हुई भोपाल गैस त्रासदी के पीडि़तों का मामला मोदी सरकार के समक्ष उठाएं। ओबामा गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि के तौर पर भारत आने वाले हैं। एमनेस्टी इंटरनेशनल यूएसए की चीफ ऑफ स्टाफ मार्ग्रेट हुआंग ने ओबामा को लिखे पत्र में कहा है, मेरा आपसे दृढ़तापूर्वक आग्रह है कि आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समक्ष यह मुद्दा उठाएं और त्रासदी स्थल की सफाई और पीडि़तों की जारी स्वास्थ्य समस्या के हल के लिए उठाए जाने वाले कदमों के बारे में एक संयुक्त बयान जारी करें, साथ ही हादसे के लिए जिम्मेदार लोगों को जवाबदेह ठहराया जाना सुनिश्चित करें।

12 जनवरी को लिखा गया पत्र
मार्ग्रेट हुआंग ने 12 जनवरी को लिखे पत्र में कहा है,  हम आपसे और प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह करते हैं कि आपकी सरकारें एक संयुक्त पहल की घोषणा करें, ताकि दूषित स्थल की तत्काल व्यापक सफाई शुरू की जा सके। हम आपसे यह सुनिश्चित करने का आग्रह करते हैं कि डाउ कंपनी अदालत के समन का जवाब दे और भारत में अदालत के समक्ष पेश हो।

पत्र में कहा गया है कि त्रासदी में जीवित बचे हजारों लोग, उनके बच्चे और नाती पोते लगातार विकलांगता और बीमारी के शिकार हो रहे हैं। हादसे के दौरान उत्पन्न जहरीले प्रदूषण से स्थल के आसपास की मिट्टी और भूजल पूरी तरह प्रदूषित हो चुका है, इससे नई पीढिय़ां प्रभावित हो रही हैं और उनमें कैंसर की उच्च दर, जन्मजात विकृतियां और विकास संबंधी समस्याएं हो रही हैं।

यह है मामला..

भोपाल में 1984 में 2-3 दिसंबर की मध्य रात्रि को यूनियन कार्बाइड संयंत्र से घातक मिथाइल आइसोसायनेट गैस का रिसाव हुआ था। दुनिया की इस भीषण औद्योगिक त्रासदी में 3000 से अधिक लोग मारे गए तथा लाखों लोग गंभीर बीमार हो गए। यूनियन कार्बाइड कॉरपोरेशन अब अमेरिका स्थित डाव कैमिकल कंपनी की सहायक शाखा है।

एमनेस्टी इंटरनेशनल के बारे में...
एमनेस्टी इंटरनेशनल एक अंतरराष्ट्रीय स्वयंसेवी संस्था है, जो अपना उद्देश्य मानवीय मूल्यों, एवं मानवीय स्वतंत्रता, को बचाने एवं भेदभाव मिटाने के लिए शोध एवं प्रतिरोध करने एवं हर तरह के मानवाधिकारों के लिए लडऩा बताती है। इस संस्थान की स्थापना ब्रिटेन में 1961 में की गई थी। एमनेस्टी मानवाधिकारों के मुद्दे पर बहुद्देशीय प्रचार अभियान चलाकर, शोध कार्य कर के पूरे विश्व का ध्यान उन मुद्दों की ओर आकर्षित करने एवं एक विश्व जनमत तैयार करने की कोशिश करता है। ऐसा करके वे खास सरकारों, संस्थानों या व्यक्तियों पर दवाब बनाने की कोशिश करते हैं। इस संस्थान को 1977 में शोषण के खिलाफ अभियान चलाने के लिए नोबेल शांति पुरस्कार प्रदान किया गया था। 1978 में संयुक्त राष्ट्र संघ के मानवाधिकार पुरस्कार से नवाजा गया था। लेकिन इस संस्थान की हमेशा यह कहकर आलोचना की जाती है कि पश्चिमी देशों के लिए इस संस्थान में हमेशा एक खास पूर्वाग्रह देखा जाता है।

चार्ली हेब्दो मैग्जीन के विरोध के मैसेज को शहरकाजी ने बताया अफवाह


भोपाल। फ्रांस की चार्ली हेब्दो मैग्जीन में छपे पैगंबर के कार्टून के बाद उसके दफ्तर पर हमला कर 12 पत्रकारों को मौत के घाट उतार दिया था, लेकिन बुधवार को इसके नए अंक में पैगंबर का कार्टून छापा गया। इसी बात को लेकर गुरुवार को भोपाल शहर काजी के नाम से वाट्सऐप पर एक मैसेज चला दिया गया कि, मैग्जीन के विरोध की रणनीति तैयार करने ताजुल मसाजिद के पास काजियात में सुबह 10.30 बजे बैठक होगी। हालांकि शहर काजी ने इसे अफवाह बताया है। उल्लेखनीय है कि ऐसे ही अफवाह भरे मैसेज से भोपाल शहर में सितंबर और दिसंबर में दो घटनाएं हो चुकी हैं, जिसमें शहर काजी के मैसेज मिलने के बाद प्रदर्शन हुए।

ये लिखा है मैसेज में

बुधवार यानी 14 जनवरी को वाट्सऐप पर एक मैसेज चला, सभी साथियों से दरख्वास्त है कि गुरुवार को 10.30 बजे काजियात पहुंचें, वहां शहर काजी हजरत मौलाना मुश्ताक साहब नदवी की सरपरस्ती में फ्रांस की चार्ली हेब्दो मैग्जीन के खिलाफ प्रदर्शन के बारे में फैसला लिया जाएगा।

ऐसे हुआ था मैसेज से पहले बबाल

21 सितंबर को पीपुल्स फॉर एथिकल ट्रीटमेंट ऑफ एनिमल (पेटा) के कार्यकर्ताओं द्वारा बकरा ईद पर कुर्बानी न करने की अपील के लिए आयोजित जागरुकता कार्यक्रम में जमकर हंगामा हुआ। गुस्साई भीड़ ने पेटा की महिला कार्यकर्ता की जमकर पिटाई कर दी। इस दौरान पुलिस की जीप पर भी पथराव किया गया। पथराव में एक पुलिसकर्मी भी घायल हो गया। पुलिस के हल्के बल प्रयोग में कुछ प्रदर्शनकारियों को भी मामूली चोटें आई थीं। वहीं शिया और सुन्नी के बीच हुए विवाद को भी अफवाहों ने भड़का दिया था।
-----------------------------------------

सुल्तानिया अस्पताल की अधीक्षक समेत 5 को किया सस्पेंड


- मामला पलंग से टूटकर प्रसूता की मौत का
भोपाल। सुल्तानिया जनाना अस्पताल में रविवार देर रात पलंग टूटने से हुई प्रसूता की मौत मामले को राज्य सरकार ने गंभीरता से लेते हुए एक बड़ी कार्रवाई की है। गुरुवार को हुई कार्रवाई के तहत अस्पताल की अधीक्षक डॉ. सुधा चौरसिया सहित कुल पांच लोगों को सस्पेंड कर दिया है। गौरतलब है कि जिस पलंग से गिरने के बाद प्रसूता की मौत हुई है, वह पलंग दस साल पुराने थी। गुरुवार को राज्य सरकार ने सुल्तानिया अस्पताल की स्त्री रोग विशेषज्ञ और अधीक्षक डॉ. सुधा मैहर चौरसिया को सस्पेंड कर दिया है। निलंबन के दौरान उनका मुख्यालय चिकित्सा शिक्षा संचालनालय किया गया है। विभाग से मिले आदेश के मुताबिक सुल्तानिया जनाना अस्पताल में 11 जनवरी 2015 को हुई घटना में प्रारंभिक रूप से डॉ. चौरसिया की लापरवाही पाई गई है। इसके चलते उन्हें सस्पेंड किया गया है।

इन लोगों को किया गया है निलंबित
इस मामले में राज्य सरकार ने डॉ. सुधा मैहर चौरसिया को गंभीर लापरवाही बरतने पर निलंबित कर दिया है। साथ ही एक अन्य चिकित्सक, एक मेट्रेन, एक स्टाफ नर्स और एक इंजार्च नर्स को भी लापरवाही का दोषी मानते हुए निलंबित करने की कार्यवाही की। जानकारी के अनुसार यहां 235 पलंगों में से 40 के पहिए टूट चुके हैं। बीते पांच साल में खराब हुए 100 पलंगों को ही बदला जा सका है। नए पलंगों की खरीदी गांधी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल प्रबंधन नहीं कर रहा है। यह खुलासा रविवार देर रात पलंग टूटने से प्रसूता की मौत मामले में हुआ है। यहां की पोस्ट ऑपरेटिव यूनिट और जनरल वार्ड में मरीजों के लिए जर्जर पलंग हैं। इनके पहिए टूटकर मुड़ गए हैं या निकल गए हैं। इसकी वजह वार्डों में मौजूद पलंगों और पेशेंट टेबल का ठीक से रखरखाव और मरम्मत न होना है।

घटना दोबारा होने की आशंका
यहां रविवार रात की तरह किसी भी दिन प्रसूता का पलंग टूटने की घटना दोबारा होने की आशंका है। बीते साल भी आबिदा वार्ड में भर्ती एक मरीज का पलंग टूट गया था। इससे पहले अस्पताल के नए आईसीयू, पोस्ट ऑपरेटिव वार्ड, माइनर ऑपरेशन थिएटर और प्राइवेट वार्ड में नए पलंग रखवाए गए थे।

200 पर 250 प्रसूताएं
अस्पताल के जनरल वार्डों में 200 पलंग हैं। यहां 250 प्रसूताएं भर्ती हैं। पलंग की कमी से आबिदा वार्ड में प्रत्येक पलंग पर एक के स्थान पर दो-दो प्रसूताएं और उनके नवजात हैं। इसकी वजह यहां भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा होना है।

इनका कहना है -
इंदिरा गांधी अस्पताल का एक फ्लोर दिया जाए
इंदिरा गांधी गैस राहत अस्पताल का एक भाग सुल्तानिया अस्पताल को देने की व्यवस्था राज्य सरकार को करना चाहिए। इससे सुल्तानिया अस्पताल में पलंगों की संख्या बढ़ जाएगी। वहीं, गैस राहत अस्पताल में इलाज कराने वाली महिलाओं को भी सुल्तानिया जनाना अस्पताल के डॉक्टरों से इलाज मिल सकेगा। इसे उसी तरह से लागू करें जैसे हमीदिया के शिशु रोग विभाग का संचालन कमला नेहरू गैस राहत अस्पताल में होता है।
- डॉ. डीके वर्मा, रिटायर सुपरिटेंडेंट, हमीदिया अस्पताल।


भोपाली नवाब की हीरे से जड़ी कुर्सी और 50 सोने के गुंबद गायब!


 लाखों की कीमत का है सोने का हार, नबावी खजाना खुला
- नगर निगम के सदर मंजिल के तहखाने की सफाई शुरू
- जल्द बदलेगा स्वरूप, काम हुआ शुरू
भोपाल।
भोपाल में नवाबी शासन की शान हीरे की कुर्सी और सोने के 50 से ज्यादा गुंबद गायब हो गए हैं! रिकार्ड में तो यह नजर आ रहे हैं, लेकिन 65 सालों से इनको किसी ने नहीं देखा। लेकिन इसमें कितना सच है, यह वक्त ही बताएगा। दरअसल, सदर मंजिल के तहखाने में ये बेशकीमती चीजें रखे होने की खबर थी। लेकिन गुरुवार को जब तहखाने से सामान निकाला गया, तो सोने की जगह पीतल के गुंबद निकले।
सूत्रों के अनुसार, पिछले दिनों नगर निगम के ट्रेजरी विभाग के एक कर्मचारी ने अफसरों को सूचना दी कि, सदर मंजिल के तहखाने में रखीं नवाबी काल के बेशकीमती चीजें नहीं मिल रहीं। अचानक ऐसी चर्चाएं सामने आईं कि, भोपाल में नवाबी शासन की शान हीरे की कुर्सी और सोने के 50  से ज्यादा गुंबद सदर मंजिल में नगरनिगम की ट्रेजरी के तहखानों में कई सालों से रखे हैं। लेकिन अब यह सामान किसी को मिल नहीं रहा है। पिछले दिनों ट्रेजरी के एक कर्मचारी ने  नोटशीट लिखकर जानकारी दी की सोने के कलश नहीं मिल रहे हैं और ट्रेजरी को खाली करना है।  इस मामले में वरिष्ठों को अवगत कराया, तब हड़कंप मच गया। गुरुवार को ट्रेजरी के तहखाने में जाने के लिए प्लाई को तोड़ा गया तो वहां से अभी 10 कलश निकले, जो पीतल के हैं। लेकिन इस बारे में कोई भी बात नहीं कर रहा कि जब दरबार के चारों तरफ कलश लगे थे, जिनकी संख्या 50 के करीब है, तो बाकी के कलश कहां है?

गुरुवार को खोला गया तहखाना
नगरनिगम प्रभारी कमिश्नर चंद्रमौली शुक्ला गुरुवार सुबह सिविल इंजीनियर एके नंदा, तहसीलदार, वित्त अधिकारी और पीआरओ सेक्शन के साथ ट्रेजरी गए और तहखाने से सामान निकालने लगे। 65 साल से इतिहास की गर्त में समाए कलश धीरे-धीरे बाहर आने लगे। अभी तक 10 कलश निकले हैं और एक चांदी का हार और गिलास। इन्हें बैंक में रखवा दिया गया है। लेकिन बाकी के 40 कलश कहां गए, इसका जवाब किसी के पास नहीं है। दरअसल, यह बात तब सामने आई, जब सदर मंजिल में स्थित नगर निगम आफिस को दूसरी जगह शिफ्ट करने की कार्यवाही के दौरान सामान का मिलान शुरू हुआ। इस बेशकीमती सामान के गायब होने के मामले में आला अधिकारी भी चुप हैं।

दो करोड़ रुपए से रिनोवेशन प्लान
वर्ष 2011 में एक बड़ी योजना बनाई गई कि भोपाल को फ्रांस की तर्ज पर हेरिटेज सिटी बनाया जाएगा। इसमें कई ऐतिहासिक इमारतों को संरक्षित एवं उनका रिनोवेशन होना था। सदर मंजिल के लिए तो 72 लाख रुपए खर्च करने की तैयारी भी कर ली गई थी। पीडब्ल्यूडी ने यह एस्टीमेट तैयार किया था, लेकिन इसके पहले कि काम शुरू होता फाइल ही गुम हो गई। वहीं वर्ष 2013 में इसके लिए करीब दो करोड़ रुपए का रिनोवेशन प्लान भी बनाया गया। इस काम को अंजाम देने के लिए तब टीम भी बनाई गई थी। लेकिन हमेशा की तरह इस बार भी काम नहीं हुआ।

जनता दरबार
वर्ष 1901 में जब शाहजहां बेगम की मृत्यु हुई, तो उनकी बेटी सुल्तानजहां बेगम नवाब बनीं। उन्होंने तब इसे जनता दरबार बना दिया। तभी से यहां प्रतिदिन जनता की समस्याओं को सुलझाया जाता है। 1953 में इसे नगर पालिका कार्यालय घोषित किया गया।

रिनोवेशन में क्यों हो रही है देरी?
सदर मंजिल के रिनोवेशन के लिए बार-बार आवाज उठी, लेकिन ऐतिहासिक और पुरातत्व इमारत बताकर इसमें काम ही शुरू नहीं किया गया। दरअसल यहां रिनोवेशन करने के लिए पुरातत्व विभाग की सहमति एनओसी जरूरी है। लेकिन जब पुरातत्व महकमे से बात की, तो जवाब मिला कि सिर्फ सदर हॉल को पुरातात्विक महत्व के मद्देनजर संरक्षित घोषित किया गया है। आलम यह है कि हर बार सिर्फ फाइलों में काम हुआ। मरम्मत देखभाल के अभाव में बेहतरीन नक्काशी और बेशकीमती लकड़ी के बने दरवाजे, खिड़कियां, रोशनदान, मेहराबें और कंगूरे अपना मूल स्वरूप खोते जा रहे हैं। इस शानदार भवन की वास्तुकला देखने योग्य है। इस भवन की पच्चीकारी दिल्ली के लाल किला स्थित दीवानेखास के अनुरूप है। अनेक ब्रिटिश वायसराय एवं देश की स्वतंत्रता के बाद महत्वपूर्ण राज नेताओं का यहां आगमन होता रहा है। वर्ष 1953 में स्वर्गीय डॉ. शंकर दयाल शर्मा के मुख्यमंत्रित्व काल में इस दरबार हॉल में भोपाल शहर की नगर पालिका स्थापित की गई थी। वर्तमान में सदर मंजिल में राजधानी भोपाल का नगर पालिक निगम स्थापित है, जो उस समय नगरपालिका बोर्ड कहलाता था। 1984 में ये नगरनिगम बना और 1995 में पहली बार नगरनिगम के चुनाव हुए थे।

कार्यालय दूसरी जगह हो रहे शिफ्ट
सदर मंजिल को अब हेरिटेज साइट बनाया जा रहा है। इसके लिए यहां से नगरनिगम के दफ्तर दूसरी जगह शिफ्ट किए जा रहे हैं। इसी दरमियान जब ट्रेजरी कर्मचारी बृजकिशोर श्रीवास्तव ने सामान का मिलान किया गया, तो इसमें से सोने के गुंबद और अन्य कीमती सामान नहीं मिले। इन्हें जब 2012 में ट्रेजरी का चार्ज मिला था, तो सिर्फ कैश चार्ज में दिया गया था ,बाकी कुछ भी नहीं बताया गया था। उससे पहले ट्रेजरी का चार्ज जीडी छापरे पर था, जो 1990 से ट्रेजरी देख रहे थे, लेकिन उन्हें भी इस बारे में कुछ भी पता नहीं था।

सदर मंजिल का इतिहास
नवाबी खानदान के वंशज हुमायूं मोहम्मद खान ने बताया कि 1890 में सदर मंजिल का निर्माण शाहजहां बेगम ने कराया था। यहां होली, ईद और वीआईपी लोगों के आने नवाबी दरबार लगता था। सदर मंजिल के सामने पशु चिकित्सालय में घोड़ो की अस्तबल थी। भारतीय मुगल शैली में बनी सदर मंजिल उस समय रियासत की शान हुआ करती थी। अंतिम नवाब हमीदुल्ला के समय रियासत का विलय भारत में हुआ। इस समय बेगम अहमदाबाद पैलेस में रहती थीं और सदर मंजिल आती नहीं थीं। इसलिए इसका उपयोग नगरपालिका के रूप में शुरू हो गया। बाद में 1956 में जब भोपाल राजधानी बनी, तो फिर सुरक्षा की दृष्टि से गुंबद निकाल कर ट्रेजरी में रख दिए गए, तबसे वे तहखाने में ही रहे होने की जानकारी थी।

हो सकते हैं दीवारें को पीछे गुंबद
ट्रेजरी के अंदर जाने के लिए लोहे का बड़ा से गेट लगा है। इस गेट के अंदर जाने पर नीचे जाने के लिए तहखाना बना है। इसे अब प्लाई से बंद कर दिया गया है, क्योंकि नीचे से बदबू आती थी। इसी तहखाने में नवाबी समय की कई चीजें रखी होने की सूचना है।

तलाकशुदा महिला से की ज्यादती

- शादी का झांसा देकर चार साल से कर रहा था दुष्कर्म
भोपाल। कानून की पढ़ाई कर रहे एक छात्र द्वारा तलाकशुदा महिला का शारीरिक शोषण करने का मामला सामने आया है। ऐशबाग पुलिस ने आरोपी छात्र के खिलाफ बलात्कार का प्रकरण दर्ज किया है। शादी का झांसा देकर आरोपी छात्र पिछले चार साल से महिला से ज्यादती कर रहा था।
पुलिस के मुताबिक बरखेड़ी क्षेत्र में रहने वाली 24 वर्षीय महिला तलाकशुदा है। ऐशबाग इलाके में रहने वाले गौरव यादव से उसका परिचय करीब चार साल पहले हुआ था। गौरव यादव एलएलबी की पढ़ाई कर रहा है। वह मूलरूप से उदयपुरा रायसेन का रहने वाला है। पुलिस ने बताया कि आरोपी छात्र ने महिला को शादी का झांसा देकर अपने प्रेमजाल में फंसा लिया और अपने कमरे पर बुलाकर ज्यादती करता रहा। बीते चाल साल में उसने कई बार तलाकशुदा महिला के साथ ज्यादती की। लंबा अरसा गुजर जाने के बाद जब महिला ने गौरव पर शादी का दबाव बनाना शुरू किया तो उसने साफ इनकार कर दिया। पीडि़त महिला ने ऐशबाग थाने पहुंचकर आरोपी छात्र गौरव यादव के खिलाफ ज्यादती का प्रकरण दर्ज कराया है। फिलहाल आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।







धोखाधड़ी के आरोपी मत्स्य विभाग के अधिकारी को जेल भेजा

भोपाल। फर्जी मुख्तारनामा के आधार पर मकान बेचने के मामले के आरोपी मछली पालन विभाग में अधिकारी ( मैकेनिकल असिस्टेट ) देशदीपक चतुर्वेदी को अदालत ने 14 दिन की न्यायिक हिरासत में केंद्रीय जेल भेजने के आदेश दिए हैं। हबीबगंज पुलिस ने आरोपी को मंगलवार को गिरफ्तार कर सीजेएम पंकज सिंह माहेश्वरी की अदालत में पेश कर पूछताछ करने के लिए 15 जनवरी तकपुलिस रिमांड पर लिया था। गुरुवार को रिमांड अवधि समाप्त होने पर हबीबगंज पुलिस ने आरोपी को अदालत में पेश किया था। उल्लेखनीय है कि आरोपी ने वर्ष 2006 में आईडीबीआई बैंक की न्यू मार्केट शाखा से पांच लाख 95 हजार रुपए का गृह ऋण लेकर दीप नगर खजूरीकलां में एक मकान खरीदा था। मकान के दस्तावेज बैंक के पास बंधक रखे होने के बावजूद आरोपी ने फर्जी मुख्तारनामा के आधार पर उक्त मकान को फरियादी मृदुल कुमार को दस लाख 70 हजार रुपए में बेच दिया था।

पति से रंजिश रखने वालों पर हत्या का संदेह


- बैरसिया का ममता विश्वकर्मा हत्याकांड
भोपाल।
बैरसिया के ग्राम रमपुरा बालाचौर में मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात ममता विश्वकर्मा की उसके पति की मौजूदगी में धारदार हथियार से हत्या करने वाले अज्ञात नकाबपोश बदमाशों का अब तक सुराग नहीं लग सका है। पुलिस अब तक एक दर्जन से अधिक संदेहियों से पूछताछ कर चुकी है। फिलहाल पुलिस की शक की सुई महिला के पति के अलावा पति के रंजिश रखने वालों लोगों पर है।
पुलिस के मुताबिक ग्राम रमपुरा बालाचौर निवासी रामबाबू विश्वकर्मा की पत्नी ममता विश्वकर्मा (28) की मंगलवार-बुधवार की दरमियानी रात करीब पौने एक बजे अज्ञात नकाबपोश बदमाशों ने हत्या कर दी थी। आरोपी बदमाश रामबाबू का अपहरण करने आए थे। रामबाबू का कहना है कि आरोपी उसका अपहरण करने आए थे, लेकिन वह किसी तरह उनके चंगुल से मुक्त होकर गांव की ओर भाग निकला था। करीब आधा घंटे बाद लौटने पर घर में पत्नी की लाश मिली थी।

इन बिंदुओं पर हो रही जांच
पुलिस का कहना है कि साल 2013 में निशातपुरा इलाके में हुई हत्या के एक मामले में रामबाबू ने आरोपियों की काफी मदद की थी। आरोपियों की जमानत से लेकर अधिवक्ता की व्यवस्था भी रामबाबू ने ही की थी। उसकी इस हरकत से फरियादी पक्ष काफी आहत था और रामबाबू से रंजिश रखे हुए था। पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है कि नकाबपोश आरोपी हत्याकांड से जुड़े फरियादी पक्ष के लोग तो नहीं थे। वहीं महिला के पति के उसकी साली से अवैध संबंधों को लेकर हो रही चर्चा पर भी पुलिस की जांच चल रही है। पुलिस की एक टीम पति रामबाबू पर भी नजर रखे हुए है क्योंकि पुलिस के गले से उसकी यह कहानी नहीं उतर रही है कि शारीरिक रूप से कमजोर रामबाबू तीन-चार बदमाशों से खुद को छुड़ाकर भागने में कैसे कामयाब हो गया।

छेड़छाड़ कर किशोरी को मारा थप्पड़


भोपाल। कमलानगर क्षेत्र स्थित विवेकानंद स्कूल के पास चंदन नामक युवक ने किशोरी को थप्पड़ मार दिया। किशोरी ने थाने जाकर शिकायत की। पुलिस ने चंदन और दो अन्य युवकों के खिलाफ पाकसो एक्ट अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है। पुलिस के मुताबिक दो किशोरियां बाजार से विवेकानंद स्कूल के पास से गुजर रही थी। वहीं खड़े तीन लड़कों ने किशोरियों से कुछ अश्लील कमेंट कर दिया। जिसका किशोरी ने विरोध किया। विरोध करने पर एक चंदन नाम के लड़के ने किशोरी को थप्पड़ मार दिया और गाली-गलौच कर वहां भाग गया। पुलिस ने चंदन और उसके दो साथियों के खिलाफ पाकसो एक्ट अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया है।

शनिवार, 3 जनवरी 2015

अनाज व्यापारी ने फांसी लगाकार की आत्म हत्या


ग्वालियर। दाल बाजार के एक अनाज व्यापारी ने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। व्यापारी ने यह आत्मघाती कदम क्यों उठाया फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो सका है। पुलिस ने मर्ग कायम कर शव पोस्ट मार्टम के लिए पहुंचा दिया है। पुलिस के अनुसार अनाज व्यापारी सुरेश राजपूत दाल बाजार में शनिवार की शाम अपनी दुकान पर अपने भांजे के साथ बैठा हुआ था। इसी दौरान भांजा किसी काम से वहां से चला गया। इधर व्यापारी सुरेश दुकान से उठकर अपने गौदाम में पहुंच गया। जहां पर उसने मफलर से फांसी का फंदा बनाकर उस पर झूल गया। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंच गई। व्यापारी द्वारा उठाए गए इस आत्मघाती कदम का कारण अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है। कयास यह भी लगाया जा रहा है कि सम्पत्ति संबंधी किसी बात से व्यापारी कुछ दिन से परेशान था। हालांकि इस बात की कोई भी पुष्टि नहीं कर रहा है।


दो लाख के नकली नोट के साथ दो आरोपियों को क्राइम ब्रांच ने किया गिरफ्तार


- नेपाल के रहने वाले हैं दोनों युवक




भोपाल। भोपाल क्राइम ब्रांच ने पिछले दिनों नकली नोट तस्कर के नेटवर्क से जुड़े दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। क्राइम ब्रांच द्वारा तीन स्तर पर चलाए गए इस अभियान के तहत पुलिस ने अब तक 1,93, 000 रुपए के नकली नोट जब्त किए हैं। जानकारी के अनुसार पकड़े गए आरोपी, कुछ लोगों की डिमांड पर नकली नोटों की खेप लेकर भोपाल आते थे। दोनों युवक नेपाल के रहने वाले हैं। इन दोनों आरोपियों सहित क्राइम ब्रांच की टीम ने कुल चार लोगों को नकली नोट के साथ गिरफ्तार किया है।
एएसपी शैलेन्द्र सिंह चौहान ने बताया कि, क्राइम ब्रांच ने नेपाल निवासी गैसूल आलम और जोबाद आलम को योजनाबद्ध तरीके से नकली नोटों की सौदेबाजी करते हुए पकड़ा है। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि 45 हजार रुपए के बदले एक लाख रुपए के नकली नोट देने का सौदा तय हुआ था। इसके बाद बदमाशों को नेपाल के सीमावर्ती इलाके पार्थ में सैंपल के नोटों के साथ बुलाया गया था, जहां से बदमाश करीब 15 हजार रुपए के नकली नोट लेकर पहुंचे थे। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से नकली नोट बरामद कर उन्हें हिरासत में ले लिया। क्राइम ब्रांच से मिली जानकारी के अनुसार गैसूल आलम, 10वीं तक उर्दू पढ़ा है और नेपाल में सिलाई का काम करता है। वहीं, दूसरा आरोपी जोबाद खान मोबाइल रिपेयरिंग का काम करता है।

रति के हर अपराधी को मिलेगी सजा : बाबूलाल गौर


- साहसी रति को मिलेगा शौर्य पुरस्कार, बंसल हास्पिटल की तारीफ

भोपाल। इस हादसे से जुड़े हर अपराधी को कड़ी सजा मिलेगी, चाहे वह रेल विभाग का स्टॉफ ही क्यों न हो। इस मामले में लूटपाट करने वाले बदमाश ही नहीं, टीटीई और रेलवे स्टॉफ पर भी कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए। रति मामले में गंभीरता से जांच कराने के आदेश देते हुए, यह बयान प्रदेश के गृहमंत्री बाबूलाल गौर ने दिया है। भोपाल के बंसल सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती साहसी रति को शौर्य पुरस्कार मिलेगा। गृहमंत्री बाबूलाल गौर ने ये एलान शनिवार को किया है। गौरतलब हैं कि 18 नवंबर को मालवा एक्सप्रेस से उज्जैन जा रही कानपुर की रति को कुछ बदमाशों ने ट्रेन से धक्का दे दिया था। 

जीआरपी ने रति के सात गुनहगारों को गिरफ्तार करने का किया दावा
मालवा एक्सप्रेस के एस-7 कोच में पिछले दिनों सो रही रति त्रिपाठी का बदमाश चंदन ने जैसे ही पर्स झपटा, उसकी नींद खुल गई। उसने बदमाशों के सामने हार नहीं मानी बल्कि उनका मुकाबला किया। उसके हौसले को देखकर बदमाश घबरा गए थे। इसके बाद उन्होंने रति को ट्रेन से धक्का दे दिया। इसके बाद आरोपी ट्रेन से कूदकर फरार हो गए। जीआरपी ने शुक्रवार को रति के सात गुनहगारों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस ने रेलवे के एक चाबी मैन समेत दो अन्य को भी आरोपी बनाया है, जो इन बदमाशों को शह देने का काम करते थे।

 जूतों से हो गई पहचान
 एसपी रेल अवधेश गोस्वामी के मुताबिक एस-7 बोगी में सवार एक यात्री ने पुलिस को बताया था कि दो युवक इस घटना के बाद भाग निकले, जो जूते उतारकर सीट पर लेटे हुए थे। आरोपियों के पकड़े जाने के बाद पुलिस ने उक्त यात्री को आरोपियों के जूते दिखाए। इनमें शामिल जाहर सिंह के सफेद-नीले जूते को यात्री ने पहचान लिया।

 पांच हजार में खरीदता था एक तोला सोना
कटरा बाजार, ललितपुर निवासी सर्राफा व्यापारी रूपकिशोर सोनी  चोरी की वारदातों में मिले सोने के जेवर पांच हजार रुपए तोला के हिसाब से खरीदता था। कटरा बाजार में प्रियंका ज्वेलर्स के नाम से दुकान चलाने वाले शालू जैन को भी पुलिस ने आरोपी बनाया है।

 स्टाफ हैं सुना तो मिला जीआरपी को सुराग
 रति के सामने वाली सीट पर सवार दो युवकों ने टीटीई को अपना परिचय स्टाफ कहकर दिया था। इस सुराग के आधार पर जीआरपी ने खुरई में चाबी मैन के रूप में पदस्थ 58 वर्षीय जगत सिंह को पकड़ा। पुलिस ने पूछताछ की तो आरोपियों का खुलासा हो गया। इसके बाद पुलिस ने सभी छह मुख्य आरोपियों समेत सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया। जगत ने ही उन्हें फर्जी पास उपलब्ध करवाए थे।

थैले में चोरी का सामान रखता था गुलाब
आरोपियों में शामिल गुलाब सिंह रेलवे का रिटायर्ड गैंग मैन है, जबकि चंदन को उसकी हरकतों के कारण गैंगमैन पद से बर्खास्त कर दिया गया है। 65 वर्षीय गुलाब एक बड़ा थैला लेकर वारदात में शामिल होता था। चोरी का सामान आरोपी गुलाब को देते थे, जिसे वह उसी थैले में रख लेता था। आरोपियों ने पुलिस के सामने 14 अन्य चोरियों का भी खुलासा किया है। पुलिस ने उनके कब्जे से साढ़े तीन लाख रुपए का माल भी बरामद कर लिया है। पुलिस के मुताबिक आरोपियों के निशाने पर अकेले सफर कर रही महिलाएं ही रहती थीं।

क्या था मामला
 कानपुर की रहने वाली और दिल्ली में 8 साल से मैनेजर की पोस्ट पर काम करने वाली रति को 19 नवंबर की सुबह 5 बजे बीना के पास करोंदा और आगासौद के बीच मालवा ट्रेन से फेंक दिया गया था। उसका अब भोपाल में बंसल अस्पताल में इलाज चल रहा है। रति ने दिल्ली से उज्जैन आने के लिए मालवा एक्सप्रेस में एसी में ही टिकट लेना चाहा, लेकिन टिकट मिला नहीं। तब मजबूरी में पहली बार स्लीपर क्लास में एस 7 कोच की 8 नंबर सीट मिली। ये दरवाजे के पास वाली सीट थी।

 19 नवंबर को जब सुबह के 5 बज रहे थे और ट्रेन बीना पहुंचने ही वाली थी, तभी ललितपुर से चढ़े 3 युवकों ने रति का पर्स छुड़ाया। रति ने जब इसका विरोध किया, तो बदमाश हावी हो गए थे। बदमाशों ने रति के दोनों हाथों पर काटा। उस समय डिब्बे में 72 यात्री थे, लेकिन किसी ने भी रति की मदद नहीं की। बदमाशों ने रति को धक्का दे दिया और चेन, पर्स, दोनों मोबाइल लेकर ट्रेन धीमी होने पर उतर कर भाग निकले।

तेज रफ्तार डस्टर कोहरे के कारण ट्रक में घुसी, तीन की मौत


भोपाल। छिंदवाड़ा जिले के पांढुर्ना में शनिवार सुबह करीब 8 बजे नागपुर-भोपाल एनएच नंबर 47 पर हुए सड़क हादसे तीन लोगों की मौत हो गई। मृतक रायपुर से भोपाल आ रहे थे। मृतकों में पायोनियर इंग्लिश अखबार (रायपुर कार्यालय) के जीएम सूर्यकांत तिवारी, एसबीआई के छत्तीसगढ़ सर्किल के डीएमडी के भाई प्रशांत शुक्ला (निवासी दुर्ग) और उनके दोस्त जवाहर जेठवा (निवासी कुम्हारी) शामिल हैं। हादसे में आर्किटेक्ट विनीत गुप्ता (निवासी रायपुर) घायल हुए हैं।

भोपाल की ओर जा रहे थे
चारों डस्टर कार क्रमांक सीजी 04 केजे 8700 में सवार होकर भोपाल की ओर जा रहे थे। इस दौरान कार एनएच नंबर 47 पर मोही घाट पर कार खड़े ट्रक क्रमांक आरजेसीडी 5136 से जा टकराई।

रफ्तार बनी मौत का कारण
बताया जा रहा है कि हादसे के दौरान डस्टर कार की रफ्तार तेज थी। ओवरटेक करने के दौरान मौसम में धुंध के कारण चालक खड़े ट्रक को देख नहीं पाया।

रायपुर रवाना किए शव
हादसे की जानकारी लगते ही स्थानीय पुलिस अधिकारी घटनास्थल पर पहुंच गए थे। शवों को रायपुर भेज दिया गया।








19 वर्षीय इंजीनियर स्टूडेंट ने सेकंड फ्लोर से कूदकर दी जान


- 10.56 तक फेसबुक पर चेटिंग की, 11.03 पर छलांग लगाई

भोपाल। रातीबड़ स्थित एक निजी इंजीनियरिंग में पढऩे वाला बीई फर्स्ट ईयर का स्टूडेंट रुतवेश रात 10 बजे तक दोस्तों से गपशप लड़ाता रहा। उसके बाद अपने रूममेट को एक मूवी की सीडी लाने के लिए नीचे भेजा और फिर खुद फेसबुक पर चैट करने लगा। ऐसा क्या हुआ कि 10.56 तक चैटिंग करने के बाद 11.03 पर हाई प्रोफाइल फैमिली का 19 साल का यह स्टूडेंट हॉस्टल के सेकेंड फ्लोर से नीचे कूद गया। 8 जनवरी को उसकी परीक्षा शुरू होने वाली थी। राजधानी के रातीबढ़ स्थित एक निजी कॉलेज में शुक्रवार की रात 11 बजकर 3 मिनिट पर बीई फर्स्ट ईयर के छात्र रुतवेश सर्राफ ने हॉस्टल में अपने सेकेंड फ्लोर पर स्थित रूम की बालकनी से नीचे छलांग लगा दी, जहां उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना की खबर रात 1 बजे लगी, जब गार्ड हॉस्टल के नीचे राउंड लगाने गया। जैसे ही उसे खबर लगी तो उसने कॉलेज प्रबंधन को खबर की और 108 एंबुलेस मंगाई। रुतवेश को हमीदिया अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। रुतवेश के दादा-दादी बुरहानपुर में थे और माता-पिता सूरत में। उन्हें रात के 1 बजे ही सूचना कर दी गई, जहां से वे उसी समय कार से निकल पड़े। दोपहर 2 बजे तक रुतवेश के दादा-दादी भोपाल आ चुके थे।

सूरत से की 12वीं की पढ़ाई
रुतवेश के पिता दीपांशु सर्राफ सूरत में मुकेश अंबानी की रिफायनरी में ऊंचे ओहदे पर हैं।  रुतवेश उनका इकलौता लड़का है। सूरत में 12 वीं की पढ़ाई के बाद उनके पिता ने उसे फायर एंड सेफ्टी का कोर्स करने के लिए भोपाल में पढऩे के लिए भेजा। जुलाई 2014 में ही रुतवेश का एडमिशन कॉलेज में कराया। घर से संपन्न और पढ़ाई में होशियार रुतवेश कॉलेज में भी अव्वल रहता था, लेकिन वह स्वभाव से संकोची थी। उसने अपने फेसबुक एकाउंट को भी लॉक करके रखा हुआ था जिससे कोई अनजान उसके बारे में कुछ जान न सके।

सेकेंड फ्लोर से 11 बजकर 03 मिनट पर कूदा स्टूडेंट
राजधानी के रातीबड़ स्थित निजी कॉलेज में शुक्रवार की रात 11 बजकर 3 मिनिट पर बीई फर्स्ट ईयर के छात्र रूतवेश सर्राफ ने हॉस्टल में अपने सेकेंड फ्लोर पर स्थित रूम की बालकनी से नीचे छलांग लगा दी जहां उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना की खबर रात 1 बजे लगी जब गार्ड हॉस्टल के नीचे राउंड लगाने गया। जैसे ही उसे खबर लगी तो उसने कॉलेज प्रबंधन को खबर की और 108 एंबुलेस मंगाई। रुतवेश को हमीदिया अस्पताल ले जाया गया जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। रुतवेश के दादा-दादी बुरहानपुर में थे और माता-पिता सूरत में। उन्हें रात के 1 बजे ही सूचना कर दी गई जहां से वे उसी समय कार से निकल पड़े। दोपहर 2 बजे तक रुतवेश के दादा-दादी भोपाल आ चुके थे जबकि माता-पिता रास्ते में थे।

पढ़ाई के लिए खरीदी थी चेक इट आउट किताब
रुतवेश के दोस्त बीई सेकेंड ईयर के स्टूडेंट विकास सिंह ने बताया कि रात 7 बजे तक वह हमारे साथ में था। हम शाम को मार्केट गए थे जहां से रुतवेश चेक इट आउट किताब खरीद कर लाया। 8 जनवरी से एक्जाम शुरू हो रहे थे जिसकी वह तैयारी कर रहा था। रुतवेश का नेचर अच्छा था और वह मुझसे बहुत क्लोज था। वह संकोची स्वभाव का था और रिजर्व रहता था। पर्सनल लाइफ के बारे में कम ही बात करता था। उसके अन्य दोस्त से बात करने पर ये बात सामने आई कि उसने अपने रुममेट को रात साढ़े 10 बजे किसी फिल्म की मूवी लाने के लिए कहा और खुद अकेले ही फेसबुक पर चैट करने लगा। उसके दोस्त नीचे के फ्लोर पर ही रहे और गपशप लड़ाते रहे। बाद में जब गार्ड ने बताया कि कोई नीचे गिर गया है तब सब नीचे आए और फिर उसे अस्पताल ले जाया गया लेकिन उससे पहले ही उसकी मौत हो गई।

फैसबुक एकाउंट को कर रखा था लॉक
रुतवेश के पिता दीपांशु सर्राफ सूरत में मुकेश अंबानी की रिफायनरी में ऊंचे ओहदे पर हैं।  रुतवेश उनका इकलौता लड़का है। सूरत में 12 वीं की पढ़ाई के बाद उनके पिता ने उसे फायर एंड सेफ्टी का कोर्स करने के लिए भोपाल में पढऩे के लिए भेजा। जुलाई 2014 में ही रुतवेश का एडमिशन कॉलेज में कराया। घर से संपन्न और पढ़ाई में होशियार रुतवेश कॉलेज में भी अव्वल रहता था लेकिन वह स्वभाव से संकोची थी। उसने अपने फेसबुक एकाउंट को भी लॉक करके रखा हुआ था जिससे कोई अनजान उसके बारे में कुछ जान न सके।

इनका कहना है-
अचानक से कुछ हुआ और नीचे कूद गया
प्रारंभिक जांच में सामने आया कि रुतवेश  रात 10 बजकर 56 मिनट तक फेसबुक पर सक्रिय था और रात 10.30 बजे तक दोस्तों के साथ नाश्ता भी किया। सुसाइड का कोई कारण अभी सामने नहीं आया है। मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। इससे ऐसा लगता है कि अचानक ही ऐसा कुछ हुआ, जिसकी वजह से वह नीचे कूद गया। कारण की जांच की जा रही है।
हेमंत श्रीवास्तव, टीआई, रातीबड़ थाना


उज्जैन सिंहस्थ के कार्यों की गुणवत्ता से कोई समझौता नहीं : शिवराज सिंह


भोपाल। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि सिंहस्थ के आयोजन से जुडे कार्यों की गुणवत्ता से किसी प्रकार का समझौता नहीं किया जायेगा। चौहान ने कल यहां मंत्रालय में सिंहस्थ की समीक्षा करते हुए सिंहस्थ 2016 को विश्व समुदाय के लिए पर्यावरण, मूल्य आधारित जीवन शैली, महिला सशक्तिकरण और धार्मिक शिक्षाओं एवं मूल्यों पर आधारित संदेश देने का वैश्विक मंच बनाने के निर्देेश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि सिंहस्थ एक वैश्विक आध्यात्मिक आयोजन है। इसके जरिए दुनिया को बेहतर जीवन जीने और पर्यावरण को बचाने के भारतीय दृष्टिकोण का प्रसार करना एक सकारात्मक कार्य होगा। उन्होंने मुख्य सचिव को इन विषयों पर विश्व-स्तरीय संगोष्ठियों के लिये समय-सारिणी बनाने और स्वयंसेवी संंगठनों, विद्वानों, विषय-विशेषज्ञों को आयोजन की जिम्मेदारी के लिए तैयार करने के निर्देेश दिए। चौहान ने कहा कि उज्जैन शहर के लिए अधोसंरचना निर्माण के जितने भी जरूरी काम हों, उनकी गुणवत्ता पर विशेष ध्यान रखा जाये। चौहान ने कहा कि उज्जैन शहर में रुद्र सागर और क्षीर सागर की सफाई के लिए स्वच्छता अभियान के तहत जन-भागीदारी से अभियान चलाया जायेगा। वे स्वयं भी इस अभियान में भागीदारी करेंगे। मुख्यमंत्री ने शहर में अतिक्रमण के मुद्दे का संवेदनशीलता के साथ समाधान करने के भी निर्देश दिए। सिंहस्थ के सफल आयोजन के लिए उन्होंने सभी वर्गों, धर्मों के प्रमुखों के साथ बैठक करने एवं लगातार संवाद के माध्यम से सहमति बनाने के निर्देेश भी दिए। उन्होंने अधोसंरचना की दृष्टि से बडे काम पर विशेष ध्यान देने और बजट का सर्वोत्तम उपयोग सुनिश्चित करने पर जोर दिया। उन्होंने सिंहस्थ के कार्यों को देखते हुए संबंधित विभाग एवं संस्थाओं में महत्वपूर्ण पदस्थापनाएं करने के निर्देेश दिए। चौहान ने विशेषज्ञता प्राप्त अशासकीय संगठनों का भी सहयोग लेने के निर्देेश देते हुए कहा कि इस वैश्विक आयोजन में समुदाय की भागीदारी के लिए भी रास्ता बनायें।

पूर्व भाजपा विधायक डागा अचानक पहुंचे पीसीसी


भोपाल। राजधानी की हुजूर विधानसभा सीट से भाजपा के विधायक रहे जितेंद्र डागा उर्फ मन्नू शनिवार दोपहर अचानक प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंच गए। इसे लेकर जहां राजनीतिक हलकों में कयासों का दौर शुरू हो गया, वहीं कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता केके मिश्रा ने दावा किया कि भाजपा की कार्यकारिणी के कई नेता कांग्रेस के संपर्क में हैं, वक्त आने पर उनके नाम खुद ब खुद सामने आ जाएंगे। डागा जब पीसीसी पहुंचे तो उनकी मुलाकात एमसीआई मेंबर मोहम्मद सगीर से हुई। दोनों के बीच थोड़ी देर तक बातचीत होती रही, हांलाकि ये पता नहीं चल सका कि उनके बीच किस मुद्दे पर बात हुई। डागा को विधानसभा चुनाव में भाजपा ने टिकट नहीं दिया था और अरसे से वह पार्टी में अलग-थलग हैं। पार्टी में उनकी सक्रियता को लेकर भी सवाल उठते रहे हैं। ऐसे में उनका पीसीसी पहुंचना कई कयासों को जन्म देता है।

वोल्वो कर्मचारियों को पीटा, जान से मारने की दी धमकी



भोपाल। सतना में वोल्वो कंपनी के दफ्तर में शनिवार को खूब हंगाम बरपा। यहां के भाजपा जिला पंचायत अध्यक्ष गगनेंद्र प्रताप सिंह ने कंपनी के कर्मचारियों के साथ जमकर मारपीट की। इतना ही नहीं उन्होंने कंपनी को ताला लगवा देने की धमकी भी दी। इसे सत्ता का नशा कहे या नेता की दादागीरी।
कंपनी के कर्मचारियों का कसूर बस इतना था कि उन्होंने अध्यक्ष से मशीन के बकाए का तगादा कर दिया था। वोल्वो कंपनी के मैनेजर शिवचरण द्विवेदी ने बताया कि गगनेंद्र सिंह ने उनकी कंपनी से एक मशीन खरीदी थी। इसका कुछ भुगतान रुका हुआ है। शनिवार को गगनेंद्र ने अपने कर्मचारियों को मशीन के कुछ पार्ट्स लेने के लिए कंपनी के दफ्तर भेजा। इस पर हमने पुराना बकाया अदा न करने तक सामान देने से इनकार कर दिया। इसी के कुछ देर बाद गगनेंद्र दफ्तर पहुंचे और मारपीट की।

ताला लगवा देने की दी धमकी
बात करीब साढ़े 11 बजे की है। भाजपा नेता गगनेन्द्र प्रताप सिंह गाडिय़ों के कुछ पार्ट लेने आए थे। उनकी तरफ से तीन-चार महीने से बिल बाकी था। इसी के चलते कर्मचारियों ने पार्ट देने से मना कर दिया। बस इसी बात को लेकर नाराज जिला पंचायत अध्यक्ष वहां मौजूद कर्मचारियों के साथ मारपीट करने लगे। भाजपा नेता ने कंपनी के किसी भी कर्मचारी को नहीं छोड़ा, पूरे ऑफिस में घूम-घूमकर उन्होंने कर्मचारियों का लात-घूंसे मारे। इसके बाद कंपनी को ताला लगवा देने की धमकी देते हुए वह वहां से चले गए।

नेता जी की मार खाते रहे कर्मचारी
इसी बीच सूचना पाकर कुछ मीडियाकर्मी भी मौका-ए-वारदात पर पहुंच गए थे। घबराए कर्मचारियों ने मीडियाकर्मियों को सारे घटनाक्रम से अवगत करवाया। कर्मचारियों का कहना है कि भाजपा नेता ने दफ्तर में खूब दादागीरी दिखाई। वहां मौजूद किसी भी स्टाफ मेंबर को नहीं बख्शा। सत्ताधारी पार्टी के नेता होने की वजह से बेचारे कर्मचारी भी कुछ नहीं बोले और नेता की मार खाते रहे। 

इनका कहना है
- जिला पंचायत अध्यक्ष ने हमारे साथ मारपीट की है, इसकी लिखित शिकायत हमने अपनी कंपनी के वरिष्ठ अधिकारियों से की है। उनके निर्देशों के बाद ही पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी।
शिवचरण द्विवेदी, मैनेजर वोल्वो कंपनी

- मुझे कुछ सामान लेना था तो मैं कंपनी के दफ्तर गया था। वहां मैंने सामान लिया और पुराना भुगतान देकर रसीद ले ली है। मारपीट करने का झूठा आरोप लगाया जा रहा है।
गगनेंद्र प्रताप सिंह, जिला पंचायत अध्यक्ष