शुक्रवार, 31 अगस्त 2012

1995 से 2011 के दौरान 3,00,000 किसानों ने की आत्महत्या


नई दिल्ली, एजेंसी
सरकार ने शुक्रवार को बताया कि 1995 से 2011 के दौरान खेती से जुड़े 2.9 लाख लोगों ने विभिन्न वजहों से आत्महत्या कर ली।

कृषि राज्य मंत्री हरीश रावत ने अनिल कुमार साहनी और रणवीर सिंह प्रजापति के सवालों के लिखित जवाब में राज्यसभा को यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय अपराध रिकार्ड ब्यूरो की रिपोर्ट के अनुसार 1995 से 2011 के बीच कषि से जुड़े 2,90,740 लोगों ने आत्महत्या कर ली।

उन्होंने बताया कि आत्महत्या की वजहों में पारिवारिक समस्याएं, बीमारी, नशे का सेवन, बेरोजगारी, संपत्ति विवाद, आर्थिक परेशान, गरीबी, विवाह, दहेज आदि शामिल हैं।

रावत ने कहा कि सरकार ने किसानों की समस्याओं को दूर करने के लिए और उन्हें सरल ऋण मुहैया कराने के लिए कई कदम उठाए हैं।

तनख्वाह के बारे में 55 प्रतिशत लोग बोलते हैं झूठ


लोग दूसरों के सामने या फिर लड़की वालों को अपनी तनख्वाह बढ़ा-चढ़ा कर बताते हैं और अब यह बात एक अध्ययन में भी साबित हो गई है। ब्रिटेन में हुए एक नए सर्वेक्षण में कहा गया है कि अपने को अधिक सफल दिखाने के लिए प्रत्येक पांच में से एक व्यक्ति अपने पुराने मित्रों को अपनी तनख्वाह और कार के बारे में झूठ बोलता है। अध्ययन में पाया गया कि ब्रिटेन के 21 प्रतिशत लोगों ने माना कि जब वे स्कूल या यूनिवर्सिटी के अपने दोस्तों से मिलते हैं तो वे झूठ बोलते हैं। डेली मेल ने अध्ययन के हवाले से कहा है कि अधिकतर पुरुष सफल दिखने की कशमकश में रहते हैं और 55 प्रतिशत पुरुष अपनी आमदनी को बढ़ा-चढ़ा कर पेश करते हैं। अध्ययन के अनुसार आठ प्रतिशत लोग अपने पास आलीशान कार होने के बारे में भी झूठ बोलते हैं। झूठ बोलने के मामले में सिर्फ पुरुषों को दोष देना ही ठीक नहीं है, बल्कि इसमें महिलाएं भी पीछे नहीं हैं। अध्ययन के मुताबिक 45 प्रतिशत महिलाएं अपनी नौकरी के शानदार होने का झूठ बोलती हैं। यह अध्ययन ब्रिटेन में 10 सितंबर को मनाए जाने वाले पहले राष्ट्रीय पुनर्मिलन समारोह के मद्देनजर किया गया है। इसमें पाया गया कि 12 प्रतिशत लोग इस बारे में झूठ बोलते हैं कि वे बहुत अच्छे इलाके में रहते हैं। अध्ययन का रोचक पहलू यह है कि 42 प्रतिशत लोगों ने माना कि वे पुनर्मिलन समारोह मनाने के इच्छुक नहीं हैं क्योंकि इसमें पुराने मित्रों से मिलने पर उनकी वास्तविक स्थिति की पोल खुलने का खतरा है।

'टाइम' मैगजीन के कवर पेज पर छाए आमिर खान



अपने पहले टीवी शो ‘सत्यमेव जयते’ से देशभर में चर्चा बटोरने वाले अभिनेता आमिर खान को अमेरिकी मैगजीन 'टाइम' ने अपने कवर पेज पर जगह दी है। आमिर की तस्वीर इस पत्रिका के एशियाई संस्करण में होगी। यह अंक अगले सप्ताह बाजार में आएगा। आमिर ने टीवी शो के जरिए कन्या भ्रूण हत्या और मेडिकल क्षेत्र में फैले भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों को उठाया था। इस शो की पूरे देश में काफी तारीफ हुई, लोगों ने भी इसे काफी पसंद किया था। पत्रिका के कवर पेज का कैप्शन है 'खान्स क्वेस्ट'। इस पेज का शीषर्क कहता है- ‘भारत की सामाजिक बुराइयों से लड़कर यह बॉलीवुड के ढर्रे को तोड़ रहा है। क्या एक अभिनेता देश को बदल सकता है। फिल्मी हस्तियों में आमिर से पहले 1976 में परवीन बॉबी, 2003 में ऐश्वर्या राय और 2004 में शाहरूख खान की तस्वीर 'टाइम' के कवर पेज पर छपी थी।

बिपाशा के साथ हुई छेड़छाड़





मुंबई। राज 3 के प्रमोशन के लिए अहमदाबाद पहुंची बिपाशा को देख फैन्स बेकाबू हो गए। यही नहीं भीड़ में बिपाशा के साथ छेड़छाड़ भी हुई। इससे बचने के चक्कर में बिपाशा को चोट भी लग गई।

सूत्रों के मुताबिक एक फैन बिपाशा के बेहद करीब पहुंच गया और उसने उनकी स्कर्ट खींचने की हिमाकत कर डाली। इससे बचने के चक्कर में बिपाशा को दांए हाथ चोट भीलग गई। हालांकि राज 3 के स्पोक्सपर्सन ने बिपाशा के साथ हुई छेड़खानी से इनकार किया है। उनका कहना है किइमरान हाशमी, बिपाशा बसु और ईशा गुप्ता को देखकर पब्लिक थोड़ा आउट ऑफ कंट्रोल हो गई थी। लेकिन यह कहना गलत है कि भीड़ ने सिर्फ बिपाशा को ही टारगेट किया या छेड़खानी की।

इससे पहले भी बिपाशा के साथ यह सब हो चुका है। सबसे पहले जुहू के एक नाइटक्लब में एक अनजान आदमी ने बिप्स के साथ छेड़खानी की थी। हालांकि तब उनके एक्स बॉयफ्रेंड जॉन अब्राहम ने उस आदमी की पिटाई की थी। उसके बाद मुंबई में दुर्गा पूजा के दौरान भी बिपाशा के साथ छेड़खानी हुई, तब भी जॉन ने ही उन्हें बचाया था।

हद यह कि न सिर्फ इंडिया, बल्कि बिपाशा के साथ फॉरेन कंट्रीज में भी छेड़खानी की घटना हो चुकी है। जब वह इंडिया डे परेड की गेस्ट बनकर न्यू जर्सी गई थीं, तो वहां भी एक आदमी पर उन्हें छेड़ने का इल्जाम लगा। यह बात और है कि बिपाशा ने कभी भी इन छेड़खानी की घटनाओं को एक्सेप्ट नहीं किया। बेशक, हर बार की तरह बिपाशा इस बार भी अहमदाबाद में हुई छेड़खानी की घटना से इनकार ही कर रही हैं।

रोमनी का एक करोड़ से अधिक नौकरियों का वादा



मिट रोमनी ने फ़्लोरिडा में रिपब्लिकन पार्टी के सम्मेलन में रिपब्लिकन उम्मीदवार का नामांकन स्वीकार करते हुए ‘अमरीका के वादों को पूरा करने’ का वचन दिया है. रोमनी ने राष्ट्रपति ओबामा पर अपने वादों को पूरा न करने का आरोप लगाया है और ऊर्जा स्वतंत्रता, बजटीय घाटे को कम करने और नौकरियाँ पैदा करने का अपनी योजना प्रस्तुत की है. ओबामा के चुनाव प्रचार में इस बात पर जोर दिया गया है कि रोमनी के कोई स्पष्ट विचार नही हैं और वह ‘ देश को पीछे की तरफ ले जाएंगे.’ रोमनी नवंबर के चुनाव में बराक ओबामा को चुनौती देंगे. 2008 में भी उन्होंने राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी का उम्मीदवार बनने की कोशिश की थी लेकिन तब पार्टी ने अरीज़ोना के सिनेटर जॉन मेककेन को अपना उम्मीदवार बनाया था. अपने भाषण में जिसे पूरे अमरीका में लाखों लोगों ने देखा, रोमनी ने कहा, ‘मेरी कामना थी कि राष्ट्रपति ओबामा सफल होते क्योंकि मैं चाहता हूँ कि अमरीका सफल हो.’

'इसराइल को नज़रअंदाज किया'
राष्ट्रपति ओबामा पर हमले बोलते हुए उन्होंने कहा, "हमारे पास पिछले चार सालों की असफलताओं, भेदभावों और प्रत्यारोपों को भुला देने का समय आ गया है." उन्होंने 8.3 फीसदी बेरोज़गार दर से जूझ रही अर्थव्यवस्था में अगले चार सालों में 1 करोड़ 20 लाख नई नौकरियाँ पैदा करने का वादा किया. उन्होंने ओबामा पर आरोप लगाया कि उन्होंने इसराइल जैसे दोस्तों की अवहेलना कर ईरान जैसे देशों के प्रति काफी नर्मी बरती है. उन्होंने कहा, " अपने प्रशासन के दौरान हम अपने दोस्तों के प्रति ज्यादा वफ़ादारी और श्री पुतिन के प्रति कम लचीलापन दिखाएंगे." इस समारोह के अंत में पूरा रोमनी परिवार- उनकी पत्नी, पाँच पुत्र और उनकी पत्नियां और 18 नाती पोतों में से अधिकतर मंच पर पहुँच गए.

जीत के प्रति आश्वस्त

सम्मेलन में मौजूद रिपब्लिकंस का कहना था कि इस भाषण के बाद वह अपनी जीत के प्रति आश्वस्त हैं. एक प्रतिनिधि ने बीबीसी को बताया, "यह फिटी हुई क्रीम और आइसक्रीम पर चेरी लगाने के समान है और नवंबर में हमें जीतने से कोई नहीं रोक सकता." लेकिन ओबामा के प्रचार प्रबंधक जिम मेसीना का कहना था कि रोमनी के भाषण में कोई सार नहीं था. उन्होंने कहा, "पूरे रिपब्लिकन सम्मेलन की तरह रोमनी के भाषण में भी कई व्यक्तिगत आक्षेप किए गए और देश को आगे बढ़ाने का कोई वास्तविक सुझाव नहीं पेश किया गया."

सहारा को झटका, निवेशकों के 17,400 करोड़ लौटाने के निर्देश

नई दिल्ली : सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को सहारा समूह की रियल स्टेट कंपनी को निर्देश दिया कि वह अपने निवेशकों को 15 प्रतिशत ब्याज के साथ 17,400 करोड़ रुपये लौटाए। शीर्ष कोर्ट के इस फैसले से कंपनी को तगड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने इस पैसे को लौटाने के लिए तीन महीने का समय दिया है।


कोर्ट के इस फैसले के बाद अब सहारा ग्रुप को 17400 करोड़ रुपये लौटाने होंगे। इस मामले पर चल रही सुनवाई के दौरान निवेशकों के साथ हुए नुकसान को लेकर कई आरोप लगाए गए थे। वहीं, भारतीय प्रतिभूति विनिमय बोर्ड (सेबी) अब सहारा समूह की दो कंपनियों की जांच करेगी।

सुप्रीम कोर्ट ने सहारा इंडिया रीयल एस्टेट कारपोरेशन और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कारपोरेशन को यह राशि लौटाने के लिए तीन माह का समय दिया। उच्चतम न्यायालय का सेबी को सहारा की दो कंपनियों की जांच का आदेश, जिससे उनके वास्तविक ग्राहक आधार का पता लगाया जा सके।

सहारा समूह की दो कंपनियों के खिलाफ सेबी की जांच की निगरानी उच्चतम न्यायालय के सेवानिवृत्त जज न्यायमूर्ति बीएन अग्रवाल करेंगे।

'घुसपैठिए' बिहारियों को भगाएंगे




मुंबई।। MNS चीफ राज ठाकरे ने धमकी दी है कि अगर अमर जवान ज्योति तोड़ने वाले युवक को बिहार से गिरफ्तार कर लाई मुंबई पुलिस पर बिहार सरकार ने कानूनी कार्रवाई की तो वह महाराष्ट्र में रह रहे सभी बिहारियों को 'घुसपैठिया' करार देकर उन्हें खदेड़ देंगे। गौरतलब है कि इससे पहले राज ठाकरे ने मशहूर गायिका आशा भोंसले को पाकिस्तानी कलाकारों के साथ शो न करने की धमकी दी थी। राज ठाकरे उन मीडिया रिपोर्ट्स पर बोल रहे थे, जिनमें कहा गया था कि बिहार के चीफ सेक्रेटरी नवीन कुमार ने इस मामले में मुंबई के पुलिस कमिश्वर से नाराजगी जताई है। ठाकरे ने कहा कि बिहार के चीफ सेक्रेटरी ने मुंबई पुलिस के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की धमकी दी है। ठाकरे ने कहा, 'चिट्ठी कहती है कि मुंबई पुलिस को वहां से किसी को गिरफ्तार करने से पहले बिहार सरकार से इजाजत लेनी चाहिए थी।' ठाकरे ने कहा कि अगर बिहार सरकार पुलिस की जांच में रोड़े अटकाएगी तो उनकी पार्टी महाराष्ट्र में हर बिहारी को घुसपैठिया करार देगी और उन्हें भागने के लिए मजबूर कर देगी। ठाकरे ने कहा, 'जिस शख्स ने आजाद मैदान हिंसा वाले दिन अमर जवान ज्योति को नुकसान पहुंचाया, वह बिहार से गिरफ्तार किया गया। मैं बिहार के चीफ सेक्रेटरी से कहना चाहता हूं कि आपके राज्य की वजह से महाराष्ट्र में अपराध बढ़ रहे हैं।' गौरतलब है कि अब्दुल कादिर मोहम्मद यूनुस अंसारी को मुंबई पुलिस ने बिहार के सीतामढ़ी से गिरफ्तार किया था। उस पर 11 अगस्त को आजाद मैदान हिंसा वाले दिन अमर जवान ज्योति को तोड़ने का आरोप है।

कोर्ट ने सजा से पहले गिनाया कोडनानी, बजरंगी का घिनौना जुर्म





अहमदाबाद।। एसआईटी कोर्ट ने नरोडा पाटिया नरसंहार में पूर्व मंत्री माया कोडनानी, वीएचपी नेता बाबू बजरंगी व 29 अन्य को बेहद सख्त सजा सुनाते हुए इस नरसंहार के गई दर्दनाक पहलुओं का जिक्र किया। कोर्ट ने सांप्रदायिक दंगों को कैंसर करार देते हुए कहा कि नरोडा पाटिया भारतीय संविधान के इतिहास में एक काला अध्याय है। कोर्ट ने कहा, 'नरोडा पाटिया में 97 लोगों का एक ही दिन में कत्लेआम कर दिया गया। इसमें असहाय औरतें, बच्चे और बुजुर्ग लोग भी शामिल थे। नरसंहार कितना क्रूर और शर्मनाक था वह यह बताता है कि दंगाइयों ने 20 दिन के एक नवजात बच्चे को भी मार डाला।'

रेप पीड़ित को इंसाफ न दे पानी की मजबूरी
कोर्ट ने एक महिला को इंसाफ न दे पाने की अपनी मजबूरी भी जाहिर की। कोर्ट ने कहा कि एक महिला जो इस केस में गवाह भी थी से गैंग रेप हुआ। गवाह न होने के कारण कोर्ट किसी को इसके लिए सजा नहीं दे सका। कोर्ट ने गुजरात सरकार को इस महिला को 5 लाख रुपये का मुआवजा देने का आदेश दिया।

कोडनानी को इसलिए नहीं दी फांसी
कोर्ट ने बचाव पक्ष की इस दलील को ठुकरा दिया कि यह नरसंहार गोधरा कांड की प्रतिक्रिया में हुआ था। कोर्ट ने कहा कि यह सब पूर्व नियोजित था। किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं था। कोडनानी को मौत की सजा न सुनाने पर कोर्ट ने कहा कि मौत की सजा इंसाफ जरूर देती है और यह अपराध कम करने के लिए भी जरूरी है, लेकिन कोर्ट इसके विरोध में उठ रही आवाजों को भी नजरंदाज नहीं कर सकता। 2009 में 139 देशों ने मौत की सजा खत्म की है। दुनियाभर के देश मौत की सजा के खिलाफ हैं। कोर्ट का भी मानना है कि मौत की सजा मानवीय मूल्यों के खिलाफ है।

2014 तक करो सब्र, नहीं दूंगा इस्तीफा




प्रधानमंत्री के विशेष विमान से। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शुक्रवार को कहा कि वह राजनीतिक नेताओं के साथ आरोप-प्रत्यारोप का खेल खेलने से अपेक्षा चुप रहना ठीक मानते हैं। ईरान की चार दिन की राजकीय यात्रा पूरी कर विशेष विमान से स्वदेश लौट रहे प्रधानमंत्री ने कहा, राजनीतिक नेताओं के साथ आरोप-प्रत्यारोप का खेल नहीं खेल सकता।
जैसा कि मैं पहले कह चुका हैं कि इससे अच्छा है कि मैं चुप रहूं। ज्ञात रहे, भारतीय जनता पार्टी ने कोयला ब्लॉक आवंटन पर सीएजी की रिपोर्ट के आधार पर प्रधानमंत्री का इस्तीफा मांगते हुए पिछले हफ्ते से संसद ठप कर रखी है। कोयला घोटाले पर भाजपा के रूख से नाराज मनमोहन ने साफ किया वे इस्तीफा नहीं देंगे भाजपा को सदन चलने देना चाहिए। मनमोहन ने कहा कि मैं अपना कार्यकाल पूरा करूंगा और भाजपा को चुनाव तक इंतजार करना होगा। उन्होंने प्रधानमंत्री को लोकपाल के दायरे में लाने का समर्थन किया। संसद में लगातार हो रहे हंगामे पर उन्होंने कहा कि विपक्ष को चाहिए कि वह सरकार को काम करने का मौका दे, सत्ता में आने की हडबडी न मचाए। उन्होंने आगे कहा कि घरेलू राजनीति में तालमेल की कमी एक वजह रही है जिससे देश नौ प्रतिशत आर्थिक वृद्धि की बुनियाद को पक्की नहीं कर पाया। भारत-पाकिस्तान वार्ता पर उन्होंने कहा कि यह स्वाभाविक भावना होनी चाहिए कि पाकिस्तान अपनी सरजमीं से भारत के खिलाफ आतंकवाद के मामले से निबटने में वह सब कुछ कर रहा है, जो वह कर सकता है। वैसे, मुंबई नरसंहार के जघन्य अपराध के आरोपियों की सुनवाई पाकिस्तान की महत्वपूर्ण परीक्षा है।

राहुल बनेंगे मंत्री
मनमोहनसिंह ने मंत्रीमंडल में फेरबदल का संकेत देते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि राहुल गांधी इस बार मंत्री पद संभालेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि असम की साम्प्रादायिक हिंसा चिंता का कारण है। इस हिंसा में 80 से अधिक लोग मारे गए थे। उन्होंने कहा कि बेंगलुरू, पुणे, मुम्बई सहित दक्षिण भारत के शहरों से पूर्वोत्तर के लोगों का बडी संख्या में पलायन अच्छा नहीं है और कहा कि उनकी सरकार देश में सjावना लौटाने के लिए काम कर रही है।

फिलीपीन्स में 7.9 तीव्रता का तगड़ा भूकंप



मनीला।। फिलीपीन्स के पूर्व में समुद्री इलाके में शुक्रवार को 7.9 तीव्रता का एक तगड़ा भूकंप आया। भूकंप के बाद फिलीपीन्स, इंडोनेशिया, ताइवान और जापान में सूनामी अलर्ट जारी कर दिया गया है। यूएस जियोलॉजिक सर्वे ने कहा है कि भूकंप 33 किलोमीटर की गहराई में सुबह आठ बज कर 47 मिनट (भारतीय समयानुसार शाम छह बजकर 17 मिनट) पर आया। भूकंप का केंद्र सुलांगान शहर के 139 किलोमीटर उत्तर में स्थित है। जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ अमेरिका के अनुसार भूकंप का केंद्र धरती के 33 किलोमीटर नीचे था। भूकंप का केंद्र सुलगान शहर से 139 किलोमीटर दूर था। भूकंप के बाद इंडोनेशिया, जापान और ताइवान में सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई है। सूत्रों के अनुसार सूनामी सबसे पहले फिलीपींस को प्रभावित कर सकता है। आम तौर पर रिक्टर पैमाने पर 6 से अधिक तीव्रता वाले भूकंप को बहुत ही विनाशकारी माना जाता है।

मंगलवार, 28 अगस्त 2012

दोबारा वर्जिन जैसा एहसास दिलाने के दावे पर बवाल


नई दिल्ली ।। प्राइवेट पार्ट्स को गोरा बनाने वाले क्रीम का विवाद अभी पूरी तरह शांत भी नहीं हुआ था कि एक नए क्रीम के ऐड पर विवाद शुरू हो गया है। इस ऐड में महिलाओं को दाबारा वर्जिन बनाने का दावा किया गया है। ऐड देने वाली इस भारतीय कंपनी का दावा है कि वह क्रीम योनि का ढीलापन दूर करती है। इस एड में एक साड़ी पहने एक महिला महिला मैडोना का एक गाना 'आई फ़ील लाइक ए वर्जिन' गुनगुनाती दिखती है। जल्दी ही महिला का पति भी नाच-गाने में शामिल हो जाता है। शुरू में बहू की इस हरकत पर नाखुशी जाहिर करती सास भी ऐड के अंत में इस क्रीम के बारे में नेट पर जानकारी लेती दिखती है। बीबीसी ने इस बारे में खबर दी है। वेबसाइट के मुताबिक क्रीम को बनाने वाली फार्मा कंपनी का दावा है कि भारत में यह उत्पाद पहली बार मिल रहा है। यह क्रीम सोने की भस्म, एलो वेरा यानि घृतकुमारी, बादाम और अनार जैसे पदार्थों से बना है। उसके अनुसार,"ये एक अनूठा और क्रांतिकारी उत्पाद है जो महिलाओं के आत्मविश्वास को मज़बूत करने और उनके आत्मसम्मान को बढ़ाने में भी सहायता करता है।'
मगर इस ऐड पर आपत्तियां आनी भी शुरू हो गई हैं। यों भी हिंदुस्तानी समाज में शादी से पहले सेक्स को महिलाओं के चरित्र से जोड़ कर देखा जाता है। ऐसे में फिर से वर्जिन बनाने का यह दावा इस प्रॉडक्ट को पॉप्युलर भले बनाए, समाज में बतौर इंसान महिलाओं की स्थिति कमजोर ही करेगा। हालांकि कंपनी इन आलोचनाओं का जवाब यह कह कर देती है कि यह उत्पाद कौमार्य बहाल करने का दावा नहीं कर रहा है बल्कि सिर्फ़ एक वर्जिन जैसे एहसास को दोबारा दिलाने की बात कह रहा है।

कुछ कांग्रेसी मनमोहन को हटाना चाहते हैं: एसपी





नई दिल्ली।। यूपीए सरकार को बाहर से समर्थन दे रही समाजवादी पार्टी ने मंगलवार को को एक नई बहस छेड़ दी। पार्टी का कहना है कि अगर बीजेपी संसद की कार्यवाही नहीं चलने दे रही है, तो इसके पीछे 'कांग्रेस की आंतरिक राजनीति' काम कर रही है। दरअसल, कांग्रेस के कुछ लोग संसद न चलने के बहाने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को हटाना चाहते हैं और उनकी जगह पर राहुल गांधी को लाना चाहते हैं।

पार्टी के सीनियर नेता मोहन सिंह का कहना है, 'कांग्रेस के अंदर के कुछ लोग मनमोहन सिंह को बदलना चाहते हैं और उनकी जगह युवराज राहुल गांधी को लाना चाहते हैं। मुझे शंका है कि यह राजनीति (बीजेपी द्वारा पीएम के इस्तीफे की मांग) कांग्रेस के अंदर से की जा रही है।'

कांग्रेस ने मोहन सिंह के बयान को सिरे से खारिज कर दिया है। पार्टी के महासचिव जनार्दन द्विवेदी ने कहा है कि इससे बड़ी काल्पनिक गलत बयानी कुछ और नहीं हो सकती है। हालांकि समाजवादी पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव ने मोहन सिंह के इस बयान पर कुछ कहने से इनकार कर दिया।

शिरडी साईं बाबा के प्रसाद में 'मिलावट', मचा बवाल





शिरडी।। शिरडी साईं बाबा के मंदिर में मिलने वाले प्रसाद में मिलावट का आरोप लगा है। कई भक्तों ने आरोप लगाया है कि मंदिर में प्रसाद के रूप में जो लड्डू मिलता है, उसमें मिलावट है। उनका कहना है कि इस लड्डू की क्वॉलिटी काफी खराब है। कुछ भक्तों का कहना है कि इससे बदबू भी आती है। प्साद बनाने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले देशी घी की गुणवत्ता पर भी सवाल उठाए गए हैं। फूड ऐंड अडल्टरेशन विभाग ने साईं बाबा मंदिर के रसोई पर छापा मारा है और सैंपल जांच के लिए भेज दिए हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि लगभग साढ़े 4 लाख लड्डुओं को नष्ट किया जाएगा। प्रसाद के बारे में एक भक्त ने कहा, हम कई बार यहां पर आ चुके हैं, लेकिन प्रसाद के रूप में इस बार जो लड्डू मिला है, उसका स्वाद कुछ कड़वाहट भरा है। एक और भक्त ने कहा कि यह आस्था का मामला है, इसलिए कोई भी भक्त कुछ भी कहने से हिचक रहा था, हालांकि स्वाद में कड़वाहट पिछले 15-20 दिनों से आ रही थी। देश के दूरदराज इलाकों से भक्त साईं बाबा के दरबार में माथा टेकने आते हैं और मंदिर की तरफ से मिलने वाले लड्डू को प्रसाद के रूप में ग्रहण करते हैं। वह इसे घर लेकर भी जाते हैं और अपने परिजनों और पड़ोसियों में बांटते हैं। लेकिन प्रसाद में मिलावट की खबर से लोगों की आस्था को चोट पहुंची है। गौरतलब है कि साईं बाबा के मंदिर में तब तकरीबन दो क्विंटल से लेकर 50 क्विंटल तक प्रसाद बनता है। प्रसाद का सामान टेंडर के जरिए आता है और मौजूदा वक्त में मध्य प्रदेश की कंपनी सामानों की सप्लाई कर रही है। लड्डू के साथ-साथ सत्यनारायण प्रसाद के लिए बने सूजी के हलवे की क्वॉलिटी के बारे में भी कुछ भक्तों ने शिकायत की है।

गुटनिरपेक्ष आंदोलन को आर्थिक चुनौतियों से निपटना चाहिए : मनमोहन



16वें गुट निरपेक्ष सम्मेलन में भाग लेने के लिए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ईरान की राजधानी तेहरान पहुंच गए हैं . सम्मेलन में रवाना होने से पूर्व, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि गुटनिरपेक्ष आंदोलन को मौजूदा विश्व-व्यवस्था में नई चुनौतियों और खतरों से निपटने के लिए बड़े बदलाव की जरूरत है और यह सामूहिक पहल से ही संभव हो सकता है. इन चुनौतियों में सीरिया की खराब होती स्थिति और वर्तमान आर्थिक संकट शामिल हैं. सम्मेलन से पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ईरान के सर्वोच्च नेता अयातोल्लाह अली खमेनेई समेत राष्ट्रपति महमूद अहमदीनेजाद से मुलाकात करेंगे.

सम्मेलन पर अमरीका की पैनी नजर
भारतीय प्रधानमंत्री के ईरान दौरे पर अमरीका की भी पैनी नजर है. ईरान इकलौता ऐसा देश है जो भारत की तेल की जरूरत को पूरा करता है और भारत तेल का सबसे ज्यादा आयात ईरान से ही करता है. चूकिं 16वीं नॉन एलाइंड मूवमेंट सम्मेलन ईरान में होने जा रही है इसलिए पूरी दुनिया की निगाह इस सम्मेलन पर लगी हुई है. अमरीका और पश्चिमी देशों ने ईरान पर पाबंदी लगाई हुई हैं, अमरीका और इजरायल की निगाहें उन देशों पर होंगी जो 16वें गुट निरपेक्ष सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं. ऐसे में प्रधानमंत्री ने तय किया कि वह इस सम्मेलन में भाग लेगें.

विकासशील देशों के मुद्दों के लिए हुआ था गठन
साठ के दशक में सोवियत संघ और अमेरिका के शीतयुद्ध से अलग विकासशील देशों ने अपने मुद्दे उठाने के लिए गुट निरपेक्ष आंदोलन का गठन किया था. यह उल्लेखनीय है कि 1963 में भारतीय राजनयिक वीके कृष्णमेनन ने सबसे पहले गुट निरपेक्ष शब्द का प्रयोग किया था. इसके बाद 1965 में जब प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू सम्मेलन में भाग लेने गए थे तब उन्होंने भी इस शब्द का इस्तेमाल किया और जो पंचशील का सिद्दांत था उसको लेकर वह आगे बढ़े. उसके बाद बेलग्रेड में पहला गुट निरपेक्ष सम्मेलन हुआ और भारत ने सातवें गुट निरपेक्ष सम्मेलन की मेजबानी की. प्रधानमंत्री दुनिया को बताना चाहते हैं कि भारत एक लोकतंत्र है और लोकतंत्र को बचाए रखने के लिए जहां भी जरूरत पड़ेगी भारत अपना समर्थन देगा. हालांकि सीरिया के मुद्दे पर जिस तरह से अमरीका ने रुख अपनाया और उसके जवाब में जिस तरह से रूस और ईरान सामने आए और जो हालात सीरिया में बिगड़ रहे थे उसमें सुधार आया.

120 देश ले रहे हैं हिस्सा
सबसे अहम बात यह है कि ऐसा माना जा रहा था कि पश्चिमी देशों की पाबंदियों के कारण ईरान अलग-थलग पड़ गया है,लेकिन तेहरान में जो 16वां गुट निरपेक्ष सम्मेलन होने जा रहा है उसमें करीब 120 देशों के नेता वहां पहुंच रहे हैं और ईरान गर्मजोशी से उनके स्वागत के लिए तैयार खड़ा है. इससे एक बात तो साफ हो जाती है कि जब गुटनिरपेक्ष आंदोलन की शुरूआत हुई थी उस समय शीत युद्द के दौरान गुट निरपेक्ष देशों ने तय किया था कि न महाशक्तियों के साथ रहेंगे न उनसे अलग और दुनिया में शांति फैलाने का कार्य करते रहेंगे.

एकीकृत ग्लोबल गवर्नेंस हो शांति
प्रधानमंत्री सिंह का भी यहीं नारा है कि गुट निरपेक्ष आंदोलन को भी नए सिरे से मजबूती दी जाए. एकीकृत ग्लोबल गवर्नेंस के जरिए शांति बनाना ही इस सम्मेलन की थीम है और प्रधानमंत्री भी इस पर विश्वास रखते हैं. प्रधानमंत्री का मानना है जिस प्रकार पिछले पांच वर्षों में वैश्विक अर्थव्यवस्था बदली है ऐसे में इस सम्मेलन के जरिए विकासशील देशों को एक वाजिब प्लेटफार्म मिल सकेगा. जिस प्रकार मेक्सिको में जून में जी20 सम्मेलन हुआ उसमें जी17 और जी16 के बीच जो बाते हुईं तो कहीं न कहीं इस मंच पर वह बाते फिर शुरू होंगी. जो 120 देश इस सम्मेलन में भाग लेने आए हुए हैं उनकी भी यही चिंता है और उसमें भारत,चीन रूस एक धुरी बनकर उभरे हैं. पिछले दो सालों में मिडल ईस्ट में जिस प्रकार उथल-पुथल रही और इराक को लेकर अमरीका का जो रवैया रहा, भारत हमेश इस मुद्दे पर ईरान के साथ रहा. जिस प्रकार परमाणु अप्रसार संधि को लेकर अमरीका ने ईरान को किनारे किया उसपर भी भारत ने अपनी एक मजबूत उपस्थिति दर्ज करवाई और भारत ने लोकतंत्र की जड़ों को मजबूत रखने में अपना काम किया. प्रधानमंत्री की यह यात्रा इस बात का प्रमाण है कि भारत हमेशा से चाहता है कि दुनिया में शांति कायम हों. प्रधानमंत्री की यह यात्रा इस बात का प्रमाण है कि भारत हमेशा से चाहता है कि दुनिया में शांति कायम हों. लोकतंत्र की जड़ों को जमाए रखने और विकास के लिए जहां भी फॉरम तैयार होगा भारत उसका मजबूती से समर्थन करेगा और साथ भी खड़ा होगा. साथ ही इस सम्मेलन में जो एंटी अमरीका धारणा बनी हुई है उसको बहुत बल मिलने वाला है.क्योंकि इस सम्मेलन की नींव इसी मुद्दे पर पड़ी है जब साम्राज्यवादी शक्तियां दूसरे देशों की बिजली,पानी चीजों पर कब्जा करने के लिए लड़ाई लड़ रही थी. मानकर चलिए जब किसी सम्मेलन में 120 देश भाग लेने जाएं और सबकी परेशानी एक समान हो ऐसे में अमरीका समेत पश्चिमी देशों को अपना स्टैंड बदलना होगा. इस सम्मेलन के बाद ईरान की तस्वीर जरूर बदलेगी और ईरान में जो पिछले सालों में विकास हुआ है और बढ़ेगा. सीरिया में चल रहे गतिरोध पर भारत इस सम्मेलन में पहल कर सकता है क्योंकि भारत लोकतंत्र का समर्थक रहा है. साथ ही भारत और सीरिया के रिश्ते हमेशा से अच्छे रहे हैं पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटील की यात्रा में रिश्तों की गरमाहट देखने को मिली थी.

लड़कियों के चक्‍कर में बर्बाद होगा कांडा



बहुत ही कम वक्‍त में अर्श से फर्श तक का सफर गोपाल गोयल कांडा उर्फ गोपाल कांडा को उसके अंजाम के बारे में खुद उसके बाबा बहुत पहले आगाह कर चुके थे। जिस बाबा पर गोपाल कांडा सबसे ज्यादा भरोसा करता था उसी बाबा ने कांडा को बहुत पहले ही बता दिया था कि एक रोज लड़कियां उसका काल बनेंगी। जिस बाबा को कांडा भगवान की तरह मानता था, लाखों का दान देता था, जागरण करवाता था और खुद को उनका सबसे बड़ा भक्‍त बताता था उसी बाबा की एक नसीहत भूल गया। उसके बाद कांडा की क्‍या हालत है वो आज सबके सामने है। कांडा आज लड़कियों के चलते ही बर्बादी की दहलीज पर पहुंच चुका है।

"अपने चाल-चलन सुधार लो कांडा नहीं तो एक लड़की के चलते तुम बर्बाद हो जाओगे", जी हां ये वहीं अल्‍फाज़ है जो कुटिया वाले तारा बाबा ने कांडा से कहा था। तारा बाबा आश्रम के सेवक मोहन लाल ने बताया कि बाबा अक्‍सर कांडा से कहा करते थे कि तेरे पास पैसा और पावर बहुत आयेगा मगर लड़कियों से सावधान रहना क्‍योंकि एक लड़की के चलते ही तुम्‍हारी बर्बादी होगी। मोहन लाल ने कहा कि अगर सिरसा में जांच की जाये तो ऐसी कई महिलायें हैं जिनसे कांडा के अवैध संबंध थे। आश्रम के एक और सेवक ने बताया कि कांडा हरियाणा के संभ्रांत लोगों की लड़कियों के साथ फोटो खींच कर उन्‍हें ब्‍लैकमेल भी करता था।

कांडा की कमजोरी थी खूबसुरत और कम उम्र की लड़कियां
अंकिता, अरुणा, नूपुर और गीतिका शर्मा सिर्फ ये नहीं बल्कि कांडा ने कई और लड़कियों के साथ अपनी काली कहानी बनाई थी। नाम प्रकाशित ना करने के शर्त पर कांडा के एक करीबी शख्‍स ने बताया कि कांडा हर वक्‍त लड़कियों के बारे में सोचता था। उसने यह भी बताया कि कांडा हर वक्‍त लड़कियों से घिरा रहना चाहता था। इस बात का सबसे बड़ा उदाहरण है कांडा के एक जहाज में 50 हॉट एयर होस्‍टेसेस होना। आपको बताते चलें कि अमूमन एक जहाज में आठ क्रू मेंबर्स होते हैं मगर कांडा के जहाज का कुछ अलग ही हिसाब था। हालांकि, एयरलाइंस के पास तीन प्लेन थे, मगर इनमें से दो ज्यादातर खराब ही रहते थे। कांडा ने एयरलाइंस की शुरुआत करीब 10 करोड़ रुपये में की थी। कांडा लड़कियों का इस कदर दिवाना था कि जो लड़की उसे पसंद आ जाती थी वो उसपर खुलकर पैसे लुटाता था। (पढ़ें: लड़की पर दिल आते ही उसके नाम से कंपनी खोल देता था कांडा) कांडा जिन लड़कियों को एयर होस्‍टेस के लिये नियुक्‍त करता था वो उनसे चुनाव प्रचार भी करवाता था। उन लड़कियों को दिन में चुनाव प्रचार का जिम्‍मा दिया जाता था तथा रात को कांडा को खुश करने का काम भी सौंपा जाता था। आपको बताते चलें कि अपनी कंपनी में सुंदर लड़कियों की भर्ती के लिए भी गोपाल कांडा ने खास तरीका अपना रखा था। कहा जा रहा है कि लड़कियों की भर्ती की जिम्मेदारी अरुणा चड्ढा को दी गई थी। अरुणा इस बात का खास तौर पर ध्यान रखती थी कि जिन लड़कियों को नौकरी मिले वो सुंदर हों। अरुणा नौकरी की शर्तों में ये भी तय करती थी कि लड़कियां काम के बाद सीधे कांडा को रिपोर्ट करें। नूपुर के मुताबिक ऐसा करने के पीछे मकसद ये था कि कांडा खूबसूरत लड़कियों के साथ बेहतर वक्त बिता सके।

रिफ्रेशमेंट के अंकिता से मिलने गोवा जाता था कांडा
गीतिका शर्मा के सुसाइड नोट में जिस अंकिता नाम की महिला का जिक्र है वो दरअसल एक समय में कांडा के बेहद करीब हुआ करती थी। दसवीं पास अंकिता पेशे से कसीनो डांसर थी। मगर जब कांडा के लाइफ में गीतिका आ गई तो कांडा ने अंकिता को भी किनारे कर दिया था। सूत्रों की मानें तो अंकिता अब कांडा के लिये सिर्फ रिफ्रेशमेंट का एक साधन बन चुकी थी। मगर कांडा ने अंकिता पर भी खूब पैसे लुटाए थे। गोवा के जिस इलाके में अंकिता रहती थी वो बेहद ही पॉश इलाका माना जाता है। कांडा ने वहां अंकिता को एक फ्लैट दिया और दो गाडि़यां भी गिफ्ट की थी। इस बात का सबूत यह है कि अंकिता के पास एक सीआरवी (HR 26 AM 0444) और एक इंडिका (उसपर भी हरियाणा का ही नंबर) कार थी। दोनों गाडि़यों पर तारा बाबा का नाम लिखा था जिसे कांडा भगवान की तरह मानता था।

कांडा ने अंकिता को दिलवाया था फिल्म फना में काम
अंकिता बेहतरीन डांसर है। गोपाल कांडा की मदद से उसे आमिर खान की फिल्म फना में काम करने का मौका मिला। आमिर खान व काजोल पर फिल्माए गए गाने- चांद सिफारिश जो करता हमारी.. के दौरान अंकिता डांस कर रही काजोल की सहेलियों में से एक थी, जबकि अंकिता के पिता प्रभाकर सिंह ने अमिताभ बच्चन की फिल्म जमीर में छोटी सी भूमिका निभाई थी। पता चला है कि दो जून, 2007 को अंकिता सिंह के पिता प्रभाकर सिंह की जब मौत हुई, तब सतना (मध्य प्रदेश) में अंतिम संस्कार के समय कांडा भी मौजूद था।

लड़की पर दिल आते ही उसके नाम से कंपनी खोल देता था कांडा


अब इसे गोपाल कांडा की कच्‍ची उम्र और कमसीन लड़कियों के प्रति दीवानगी कहिए या कुछ और मगर उसकी ज्‍यादातर कंपनियों में हाई पोस्‍टों पर कम उम्र की लड़कियों का ही कब्‍जा था। जांच में यह बात सामने आई हैं कि गोपाल कांडा की 39 कंपनियों में डायरेक्‍टर के करीब 20 पोस्‍ट पर लड़कियां ही काबिज थीं। वहीं सूत्रों की मानें तो ज्‍यादातर लड़कियों से कांडा के जिस्‍मानी रिश्‍ते थे। कंपनी में ऊंचे पद के लिये लड़कियों का चयन खुद कांडा ही करता था और साक्षात्‍कार के दौरान वह लड़कियों की योग्यता के मुकाबले खूबसूरती को ज्‍यादा तब्‍बजो देता था। लड़कियों को हर वक्‍त अपने नजदीक रखने के लिये कांडा ने अपने हिसाब से कछ नियम कानून बनाये थे। सभी खूबसूरत महिला अधिकारी शाम होने के बाद सिर्फ कांडा को ही रिपोर्ट करती थीं। जांच के बाद जो तथ्‍य सामने आये हैं उनसे साफ जाहिर होता है कि लड़कियां कांडा की सबसे बड़ी कमजोरी थी जबकि वह खुद 2 लड़कियों का पिता है। कहा जाता है कि जिस लड़की पर कांडा का दिल आ जाता था वह उसके लिये एक कंपनी खोल देता था और उसे उस कंपनी का डायरेक्‍टर बना देता था। गोपाल कांडा ने एकेजी इंफ्राबिल्‍ड कंपनी तो खासकर अरुणा चड्ढा, खुशबु शर्मा और गीतिका शर्मा के लिये ही खड़ी की थी। इसी तरह उसने दर्जनों कंपनियां खड़ी की और उनमें लड़कियों को हाई पोस्‍ट दे दी। चौकाने वाली बात यह है कि कांडा ने कंपनी का नाम एकेजी इंफ्राबिल्‍ड (AKG Infrabuild Private Limited) अरुणा, खुशबु और गीतिका के नाम के पहले अक्षर को मिलाकर (A= Aruna Chaddha, K= Khushbu Sharma, G= Gitika Sharma) रखा था। कांडा ने यह कंपनी 2002 में खोली थी। कंपनी जब खुली थी तो उसका नाम एलकेजी इंफ्राबिल्‍ड था मगर 2012 में उसका नाम बदलकर एकेजी कर दिया गया। वहीं एक साल बाद यानि कि वर्ष 2003 में कांडा ने आशुतोष डेवेलपर्स प्राइवेट लिमीटेड बनाई और इसकी डायरेक्‍टर सरोज अलंकार नामक महिला को बनाया। वर्ष 2004 में बनी सफायर डेवलपर्स प्राइवेट लिमीटेड में सरोज, सुधा पवार, प्रेरणा को बड़े पद ‌दिए गये थे। 2005 में बनी सर्वद बिल्डर्स प्राइवेट लिमीटेड में कंचन भल्ला को डायरेक्टर बनाया गया। इसी तरह नागेश्वर रियल्टर्स प्राइवेट लिमीटेड में सरिता देवी गोयल को, कैरव नॉन वूवन प्राइवेट लिमीटेड और कार्तिकेय बिल्डकॉन प्राइवेट लिमीटेड में सुशीला गोयल को डायरेक्‍टर रखा गया। वहीं, एमडीएलआर प्राइवेट लिमीटेड में गीतिका शर्मा और एमडीएलआर टूअर्स एंड ट्रेवल में गरिमा चावला डायरेक्टर थीं। यहां मजेदार बात यह है कि कांडा ने अपने किसी रिश्तेदार को अपनी कंपनी में बड़ा ‌पद नहीं देता था। तो आगे की बात करने से पहले आपको यह बता दें कि कांडा ने कौन सी कंपनी किस साल बनाई थी और किस खूबसूरत महिला को डायरेक्‍टर के पद से नवाजा था।

वर्ष डायरेक्‍टर- कंपनी का नाम

2003 सरोज अलंकार- आशुतोष डेवेलपर्स प्राइवेट लिमीटेड
2004 सरोज, सुधा पवार और प्रेरणा- सफायर डेवेलपर्स प्राइवेट लिमीटेड
2005 कंचन भल्‍ला सर्वद- बिल्डर्स प्राइवेट लिमीटेड
2005 सरिता देवी गोयल- नागेश्वर रियल्टर्स प्राइवेट लिमीटेड
2005 सुशीला गोयल- कैरव नॉन वूवन प्राइवेट लिमीटेड
2005 सुशीला गोयल- कार्तिकेय बिल्डकॉन प्राइवेट लिमीटेड
2005 गीतिका शर्मा- एमडीएलआर प्राइवेट लिमीटेड
2007 गरिमा चावला- एमडीएलआर टूअर्स एंड ट्रेवल
2008 सरस्‍वती गोयल, सरिता अग्रवाल- एमडीएलआर कोरियर्स प्राइवेट लिमीटेड
2012 अरुणा चड्ढा, खुशबु शर्मा, गीतिका शर्मा- ऐकेजी इंफ्राबिल्ड प्राइवेट लिमीटेड


MDLR एयरलाइंस की वाइस प्रेसिडेंट थी आइटम गर्ल नूपुर मेहता

गीतिका शर्मा सुसाइड केस में दिल्‍ली पुलिस मॉडल और अभिनेत्री नूपुर मेहता से भी पूछताछ कर सकती है। प्राप्‍त जानकारी के अनुसार नूपुर मेहता, गोपाल कांडा की बंद हो चुकी कंपनी एमडीएलआर (MDLR)एयरलाइंस वाइस प्रेसिडेंट के पद पर काम करती थी। पुलिस सूत्रों की मानें तो एमडीएलआर ग्रुप के मालिक गोपाल काडा के संपर्क में रही अभिनेत्री नूपुर मेहता, अंकिता जूदेव और गीतिका शर्मा न सिर्फ एक दूसरे से परिचित थीं, बल्कि उनके बीच वर्चस्व की लड़ाई के सबूत भी पुलिस को मिले हैं। नूपुर व अंकिता की जब गीतिका से ज्यादा अनबन होने लगी और मामला हाथापाई तक जा पहुंचा तब गीतिका ने दोनों के खिलाफ गोवा में मुकदमा दर्ज करा दिया। इसके बाद गीतिका नौकरी छोड़कर दिल्ली लौट आ गई थी। सूत्रों के मुताबिक नूपुर मेहता और गीतिका शर्मा के बीच वर्चस्व की लड़ाई थी। लड़ाई हाथापाई तक पहुंचने पर गीतिका ने गोवा में नूपुर और एक अन्य महिला अंकिता जूदेव के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया था। मालूम हो कि अंकिता कांडा के गोवा स्थित कसीनो में डांसर थी और उसके भी कांडा से जिस्‍मानी रिश्‍ते थे। यहां तक की अंकिता को एक बच्‍ची भी है जो कांडा की है।

गोरी चमड़ी और गर्म गोश्‍त का दीवाना था प्‍लेब्‍वॉय गोपाल कांडा: नूपुर
आज गोपाल कांडा की जो हालत है वो एक ना एक दिन तो होनी ही थी क्‍योंकि कांडा एक प्‍ले ब्‍वॉय था। कांडा की दिलचस्‍पी हमेशा खूबसूरत और सेक्‍सी लड़कियों में ही रहती थी। वो जैसे किसी कमसीन और खूबसूरत लड़कियों को देखता था उनसे यौन संबंध बनाने के लिये हर संभव प्रयास करने लगता था। जी हां यह खुलासा गोपाल कांडा के बंद हो चुकी एयरलाइंस कंपनी एमडीएलआर की वाइस प्रेसिडेंट नुपुर मेहता ने किया है। ये वहीं नूपुर मेहता है जो बॉलीवुड फिल्‍मों में काम कर चुकी हैं और बीते दिनों मैच फिक्सिंग को लेकर खासा चर्चा में थी। अब अगर ऐसी राय कांडा के कंपनी में काम कर चुकी वाइस प्रेसिडेंट की है तो कांडा का कैरेक्‍टर कैसा होगा? खैर नूपुर मेहता ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि कांडा के कंपनी में जब कोई लड़की इंटरव्‍यू देने आती थी तो कांडा उन्‍हे सीसीडी कैमरों में देखा करता था। इतना ही नहीं नूपुर ने यह भी कहा है कि कांडा की नजर हमेशा सेक्‍सी लड़कियों पर रहती थीं इसलिए वह हर इंटरव्यू के लिए आने वाली लड़कियों पर डेढ़ी नजर रखता था।

कांडा के एक प्‍लेन में थीं 50 एयरहोस्‍टेस
एमडीएलआर (मुरली धर लख राम) एयरलाइंस का डोमेस्टिक टेकऑफ तो शानदार था मगर कांडा की इस एयरलाइंस में बाकी स्टाफ की तुलना में एयर होस्टेस सबसे ज्यादा थीं। एक समय तो ऐसा था कि कांडा के एक जहाज के लिये करीब 50 एयर होस्‍टेस हो गईं थी। ये बात अलग है कि कंपनी के पास तीन प्‍लेन थे मगर उनमें से दो अक्‍सर खराब ही रहते थे। सूत्रों की मानें तो कांडा हमेशा एयरलाइंस में एयर होस्टेस की भर्ती को ज्यादा तरजीह देता था। इसी का नतीजा था कि एयरलाइंस बंद होने के अंतिम दिनों में एक प्लेन के लिए 50 से भी ज्यादा एयर होस्टेस हो गई थीं। एविएशन से जुड़े एक अधिकारी की मानें तो कांडा के एयरलाइंस के बंद होने का कारण अत्‍यधिक एयर होस्‍टेस होना भी था।

गीतिका को देखते ही मर मिटा था कांडा
गीतिका शर्मा जब कांडा के एयरलाइंस में एयर होस्‍टेस की नौकरी के लिये इंटरव्‍यू देने आई थी उस वक्‍त से ही कांडा उसे पसंद करने लगा था। एमडीएलआर की वाइस प्रेसिडेंट नुपुर मेहता ने बताया कि गीतिका उसके केबिन में बैठी थी और कांडा से अपने केबिन में बैठकर सीसीटीवी कैमरे से देख रहा था। मेहता ने बताया कि इंटरव्‍यू खत्‍म होने के बाद कांडा ने मुझे बुलाया और कहा कि गीतिका को नौकरी पर रख लो। नूपुर ने कांडा से कहा था कि गीतिका की उम्र अभी 17 साल है और वो इस पद के लिये उपयुक्‍त नहीं है तो कांडा ने कहा था कि उसके टैलेंट को देखो और उसे नौकरी पर रख लो। गीतिका को किस तरह एयरलाइंस में नौकरी मिली, ये तो बानगी भर है। कांडा के कसीनो में भी ज्‍यादातर लड़कियां ही काम करती थी।


अरुणा चड्ढा को थी सेक्‍सी लड़कियों को सर्च के जिम्‍मेदारी
कंपनी में सुंदर लड़कियों की भर्ती के लिए भी गोपाल कांडा ने खास तरीका अपना रखा था। कहा जा रहा है कि लड़कियों की भर्ती की जिम्मेदारी अरुणा चड्ढा को दी गई थी। एक वैबसाइट से बातचीत में नूपुर ने दावा किया है कि अरुणा चड्ढा को लड़कियों की सप्लाई और उन्हें मैनेज करने की जिम्मेदारी दी गई थी। अरुणा इस बात का खास तौर पर ध्यान रखती थी कि जिन लड़कियों को नौकरी मिले वो सुंदर हों। अरुणा नौकरी की शर्तों में ये भी तय करती थी कि लड़कियां काम के बाद सीधे कांडा को रिपोर्ट करें। नूपुर के मुताबिक ऐसा करने के पीछे मकसद ये था कि कांडा खूबसूरत लड़कियों के साथ बेहतर वक्त बिता सके। नूपुर ने मीडिया से बातचीत में दावा किया है कि कांडा के कई लड़कियों से बेहद करीबी रिश्ते थे। लड़कियों के लिए कांडा की दीवानगी का एक और सबूत ये है कि कांडा की कंपनियों में ऊंचे पद पर ज्यादातर लड़कियां थीं।

सोमवार, 27 अगस्त 2012

सुप्रीम कोर्ट ने 2जी नीलामी की तारीख 11 जनवरी की


नई दिल्ली सर्वोच्च न्यायालय ने सोमवार को केंद्र सरकार को 2जी स्पेक्ट्रम की नीलामी 11 जनवरी, 2013 तक पूरी करने की अनुमति दे दी।


न्यायालय ने कहा कि यदि सरकार नई समय सीमा के भीतर नीलामी प्रक्रिया पूरी नहीं करती है तो उसके खिलाफ अदालत की अवमानना की कार्यवाही की जाएगी।

न्यायमूर्ति जी. एस. सिंघवी तथा के. एस. राधाकृष्णन की खंडपीठ ने अपने आदेश में कहा, ''यदि सरकार निर्धारित समय में नीलामी प्रक्रिया पूरी करने से चूकती है तो उस पर भारी अर्थ दंड लगाया जा सकता है।''

केंद्र सरकार ने नीलामी शुरू करने के लिए 12 नवम्बर और उसके बाद 2जी स्पेक्ट्रम के आवंटन की नीलामी प्रक्रिया पूरी करने के लिए 40 दिन के अतिरिक्त समय की मांग की थी।

इससे पहले न्यायालय ने नीलामी प्रक्रिया पूरी करने के लिए 31 अगस्त तक की समय सीमा निर्धारित की थी, लेकिन दूरसंचार विभाग ने इसके विस्तार की मांग की थी।

सर्वोच्च न्यायालय ने अपने आदेश में कहा कि जिन ऑपरेटर्स के लाइसेंस सात सितम्बर को रद्द किए गए, वे 18 जनवरी तक अपनी सेवा जारी रख सकते हैं।

न्यायालय ने इस साल दो फरवरी को दिए गए आदेश में 2जी स्पेक्ट्रम के 122 लाइसेंस रद्द कर दिए और सरकार को इनका आवंटन नीलामी प्रक्रिया के जरिये करने के निर्देश दिए गए थे। पहले इसके लिए दो जून की तिथि निर्धारित की गई थी, जिसे दूरसंचार विभाग की याचिका पर बाद में 31 अगस्त तक के लिए बढ़ा दी गई थी।

सर्वोच्च न्यायालय से 11 जनवरी, 2013 तक नीलामी प्रक्रिया पूरी करने की अनुमति मिलने से पहले सोमवार को केंद्र सरकार ने नीलामी तथा सम्भावित बोली लगाने वालों के लिए नियमों को लेकर सूचनापत्रक जारी किया।

दूरसंचार विभाग ने कहा कि वह आवेदन आमंत्रित करने के लिए 28 सितम्बर को नोटिस जारी करेगा। आवेदन जमा करने की अंतिम तिथि 19 अक्टूबर होगी।

बोली लगाने वालों की अंतिम सूची छह नवम्बर को घोषित की जाएगी। उसके बाद सात और आठ नवम्बर को नीलामी का पूर्वाभ्यास होगा। 12 नवम्बर को 1800 मेगाहट्र्ज बैंड की ई-नीलामी होगी। 1800 मेगाहट्र्ज बैंड की नीलामी पूरी होने के दो दिन बाद 800 मेगाहट्र्ज बैंड की ई-नीलामी होगी।

दूरसंचार विभाग ने कहा कि सफल निविदा राशि का भुगतान सम्बंधित ई-नीलामी पूरी होने के 10 दिनों के भीतर करना होगा।

'मोटा माल' और 'छोटा माल' पर उलझीं कांग्रेस-बीजेपी!



नई दिल्ली ।। कोल ब्लॉक आवंटन के मसले सरकार और विपक्ष के बीच टकराव और तेज हो गया है। सरकार ने अपना रुख कड़ा करते हुए कहा है कि न तो वह विश्वास प्रस्ताव लाएगी और न विपक्ष की गैर वाजिब मांगें स्वीकार करेगी। बीजेपी ने भी इस मुद्दे पर कहा कि अगर जरूरी हुआ, तो वह अकेले भी लड़ाई जारी रखेगी। गौरतलब है कि एनडीए के कई घटक दल पीएम के इस्तीफे की मांग पर बीजेपी से सहमत नहीं हैं।

सरकार की ओर से तीन-तीन मंत्रियों ने इस मसले पर मोर्चा संभाल लिया। अंबिका सोनी, कपिल सिब्बल और पी चिदंबरम ने बीजेपी पर पलटवार करते हुए कहा कि वह राजनीतिक फायदे के लिए किसी भी हद तक नीचे जाने का फैसला कर चुकी है। इन मंत्रियों ने साफ-साफ कहा कि विश्वास प्रस्ताव लाने की कोई जरूरत नहीं है। इस पूरे मामले पर सदन के अंदर ही बहस होनी चाहिए।
इससे पहले सूत्रों के हवाले से कुछ समाचार चैनलों ने खबर दी थी कि सरकार विश्वास प्रस्ताव ला सकती है।

लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने आरोप लगाया था कि कोल-गेट कांड में कांग्रेस को 'मोटा माल' मिला है। इसके जवाब में कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने कहा कि बीजेपी को मोटा माल और छोटा माल की बात करने का हक नहीं है। गौरतलब है कि कांग्रेस की ओर से कहा जा रहा है कि कोल ब्लॉक आवंटन का फैसला बीजेपी शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों की सहमति से हुआ है। ऐसे में अगर घोटाले का आरोप है तो वह अकेली कांग्रेस या यूपीए सरकार पर नहीं लगाया जा सकता। बीजेपी को भी उसकी जिम्मेदारी लेनी पड़ेगी।


संसद में कैग रिपोर्ट पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के बयान के बाद लोकसभा और राज्यसभा में विपक्ष के सुषमा स्वराज और अरुण जेटली ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि प्रतिस्पर्धी बोली की नीति 2004 में बनाई गई, 2010 में इसे संसद में पारित किया गया और 2012 में इसकी अधिसूचना जारी की गई। ऐसे अहम मामले में यह देरी क्यों? 'जितनी देरी नीति बनाने में की गई, उतनी ही जल्दबाजी कोयला ब्लॉक आवंटन में की गई।'

सुषमा स्वराज ने खुलकर आरोप लगाया कि कांग्रेस को कोयला ब्लॉक आवंटन से 'मोटा माल' मिला है। प्रधानमंत्री ने पार्टी को मोटा माल दिलाने के लिए नीति बनाने में इतनी देर की। यह देरी पार्टी के खजाने को मिलने वाले मोटे माल के लिए की गई।

सुषमा और जेटली दोनों ने कहा कि प्रधानमंत्री को इस मामले की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए तुरंत इस्तीफा देना चाहिए और 142 कोयला ब्लॉक के आवंटन को तुरंत रद्द किया जाना चाहिए।

रधानमंत्री का कैग और विपक्ष पर हमला, भाजपा अड़ी
प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कोयला ब्लॉक आवंटन पर संसद में सफाई देते हुए नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की रिपोर्ट को खारिज कर दिया और उसे 'विवादास्पद' एवं 'गलत' करार दिया। प्रधानमंत्री अपने बयान से हालांकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को संतुष्ट नहीं कर पाए। भाजपा अब भी उनके इस्तीफे की मांग पर अड़ी हुई है। पार्टी ने कहा है कि इस कथित घोटाले से कांग्रेस ने 'मोटा माल' कमाया है।

सीएजी की रिपोर्ट पर लोकसभा और राज्यसभा में अपने बयान में मनमोहन सिंह ने अपना तथा अपनी सरकार का बचाव किया। उन्होंने कहा, ''मैं सदस्यों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि कोयला मंत्रालय का प्रभार मेरे पास होने के नाते मैं इस मंत्रालय के सभी निर्णयों की पूरी जिम्मेदारी लेता हूं। मैं कहना चाहता हूं कि अनियमितता का कोई भी आरोप निराधार एवं तथ्यहीन है।''

भाजपा के सदस्यों के हंगामे के कारण प्रधानमंत्री का बयान लोकसभा और राज्यसभा में नहीं सुना जा सका। भाजपा सीएजी की रिपोर्ट पर प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से इस्तीफे की मांग कर रही है। सीएजी ने अपनी रिपोर्ट में आरोप लगाया है कि कोयला ब्लॉक के आवंटन में पारदर्शिता नहीं बरते जाने के कारण सरकारी खजाने को 1.86 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

सीएजी की रिपोर्ट को 'विवादास्पद' व 'गलत' करार देते हुए प्रधानमंत्री ने इसे संसद की लोक लेखा समिति (पीएसी) के समक्ष चुनौती देने की बात कही। संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से बातचीत में प्रधानमंत्री ने कहा, ''मैं देश को आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमारा पक्ष मजबूत व विश्वसनीय है। सीएजी का आकलन विवादास्पद है और हम इसे पीएसी के समक्ष चुनौती देंगे।''

उन्होंने विपक्षी दल भाजपा से कहा कि वह संसद की कार्यवाही चलने दे। उन्होंने कहा कि वह इस बात से दुखी हैं कि संसद के दोनों सदनों में कामकाज नहीं होने दिया जा रहा और भाजपा संसद की कार्यवाही नहीं चलने देने के लिए प्रतिबद्ध है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें संसद में अपनी बात रखने तथा लोगों तक इसे पहुंचाने का मौका मिलना चाहिए। उन्होंने कहा कि आम तौर पर वह अपनी प्रायोजित आलोचनाओं का जवाब नहीं देते। लेकिन इस बार वह अपनी बात रखने देने का मौका चाहते हैं।

प्रधानमंत्री के बयान पर निराशा जताते हुए भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी गांधीनगर में संवाददाताओं से कहा, ''प्रधानमंत्री ने यदि किसी पर हमला किया है तो वह सीएजी है। यह आश्चर्यचकित करने वाला है। उनके इस बयान से हमें निराशा हुई है।''

इस बीच, लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली के साथ एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ''हम चाहते हैं कि प्रधानमंत्री नैतिक जिम्मेदारी लें। राजस्व को हुए नुकसान के लिए प्रधानमंत्री जिम्मेदार हैं। इसलिए हम चाहते हैं कि वह इस्तीफा दें।''

उन्होंने कहा कि बगैर नीलामी के जिन निजी कम्पनियों को कोयला ब्लॉक आवंटित किए गए, उन्हें रद्द किए जाए और नए सिरे से उनकी नीलामी हो।

सुषमा ने कहा कि सीएजी ने कोयला ब्लॉक आवंटन में जिस राजस्व के नुकसान की बात कही है, उससे कांग्रेस ने 'मोटा माल' कमाया है।

जेटली ने इस अवसर पर कहा कि प्रधनमंत्री को पूरे प्रकरण के लिए विशेष जिम्मेदारी लेनी चाहिए और इस्तीफा देना चाहिए जिसके चलते कि संसद ठप्प पड़ी है।

भाजपा नेताओं का यह बयान उस वक्त आया जब कुछ ही घंटे पहले प्रधानमंत्री ने संसद में इस मसले पर बयान दिया।

जेटली ने कहा कि सरकार को निजी कम्पनियों को दिए सभी 142 कोयला ब्लॉक आवंटनों को रद्द कर नए सिरे से नीलामी आरम्भ करनी चाहिए।

उन्होंने कहा, ''ऐसा किया जाएगा तभी सच्चाई का पता लगेगा और पता चलेगा कि प्रधानमंत्री के बयान में कितनी सच्चाई है। आवंटन इसलिए रद्द किया जाना चाहिए क्योंकि भ्रष्ट तरीके से जनता के लूटे गए पैसों से मजा लेने की अनुमति किसी को भी नहीं दी जा सकती।''

संसद में दिए गए प्रधानमंत्री के बयान की निंदा करते हुए जेटली ने कहा, ''कांग्रेस की यही प्रवृति रही है कि यदि आप सीएजी को बदल नहीं सकते तो उसका अपमान करो।''

उन्होंने कहा, ''पहले तो प्रधानमंत्री ने सारी जिम्मेदारी अपने ऊपर ली और फिर धीरे-धीरे सारी जिम्मेदारी किसी और पर मढ़ दी।'' उन्होंने इसके लिए संघीय व्यवस्था, शासन की संसदीय प्रणाली, कानून मंत्रालय और सीएजी पर ठीकरा फोड़ डाला।

सुषमा ने इस बीच यह जानकारी दी कि 1993 से 2005 के बीच यदि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के छह वर्षो के कार्यकाल के दौरान 70 कोयला ब्लॉक आवंटित किए गए तो कांग्रेस के नेतृत्व में संप्रग सरकार ने 2006 से 2010 के बीच 142 कोयला ब्लॉक आवंटित किए।

सुषमा ने उन खबरों को भी गलत बताया जिनमें कहा जा रहा है कि प्रधानमंत्री के इस्तीफे की मांग के मुद्दे पर राजग के घटक दलों में मतभेद है।

उन्होंने ऐलान किया, ''भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई में यदि भाजपा को अकेले ही चलना पड़े तो हम वह लड़ाई लड़ेंगे।''

मार्क्‍सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने कहा है कि सीएजी ने जिन कोयला ब्लॉक आवंटनों को दोषपूर्ण पाया है, उसे रद्द कर उनकी नीलामी की जाए।

माकपा नेता सीतराम येचुरी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के उस दावे को भी खारिज किया जिसमें उन्होंने कहा था कि पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों ने कोयला ब्लॉक की नीलामी का विरोध किया था और उसके आवंटन की मांग की थी।

येचुरी ने यहां मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि 2004 से जब से कांग्रेस सत्ता में आई है तब से लेकर अब तक जितनी भी निजी कम्पनियों को कोयला ब्लॉक आवंटित किए गए हैं, उन्हें रद्द किया जाए। ''इनकी नीलामी की जा सकती है।''

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने जो भी कारण गिनाए उनमें इस बात का कोई जिक्र नहीं है कि जून 2004 से इस साल के अगस्त तक क्यों नहीं पारदर्शी या प्रतियोगी नीलामी प्रक्रिया अपनाई गई।

इससे पहले, सोमवार को लगातार पांचवें दिन विपक्ष के हंगामे के चलते कोई कामकाज नहीं हो सका। हंगामे के बीच ही प्रधानमंत्री ने दोनों सदनों में अपना बयान दिया। बयान के बावजूद हंगामा जारी रहने के कारण दोनों सदनों की कार्यवाही तीन बार के स्थगन के बाद दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।


आश्रम में साध्वी बहनों के साथ 10 लोगों ने किया गैंगरेप



भागलपुर। बिहार के भागलपुर जिले के शिवनारायणपुर सहायक थाना क्षेत्र के रामपुर गांव से करीब आधा किमी दुर्गम इलाके स्थित संतमत सत्संग आश्रम में दो साध्वी बहनों के साथ गैंग रेप किए जाने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। पीड़िता साध्वी बहनों नीलिमा और नलिनी (काल्पनिक नाम) ने आश्रम के दो साधु सहित छह लोगों को नामजद व तीन अन्य के खिलाफ थाने में मामला दर्ज कराया है। घटना के बाद स्थानीय लोगों में आरोपियों के खिलाफ भारी गुस्सा है। सभी आरोपी गिरफ्तारी के भय फरार हो गये हैं। पुलिस के वरीय अधिकारियों की देख-रेख में लड़की का मेडिकल जांच करने में जुटी हुई है।

कैसे दिया घटना को अंजाम
पीड़िता साध्वी बहनों ने मीडिया के समक्ष बताया कि आश्रम में वे अकेली रहती थीं। रविवार की शाम अंधेरा होने के पश्चात मुंह पर कपड़ा बांधे 9-10 लोग आश्रम में प्रवेश कर गए और उनके साथ करीब छह घंटे तक बारी-बारी से दुष्कर्म किया। नीलिमा ने बताया कि इसमें आश्रम के दो साधु विवेकानंद और अज्ञानंद के अलावा घनश्याम मंडल, पंकज कुमार, प्रेम यादव और रत्ना पासवान थे, जबकि दो-तीन अन्य लोगों को नहीं पहचान पाई। दुष्कर्म की घटना को अंजाम देने के बाद वे उन्हें बदहवास की हालत में छोड़ फरार हो गए।

क्या है घटना का कारण
पीड़िता के मुताबिक आश्रम से सटे आरोपी घनश्याम मंडल की जमीन है। वह आश्रम की जमीन को हड़पना चाहता है। आए दिन दोनों बहनों के उपर छींटाकशी करता रहता था। इस बात को लेकर दोनों ने थानेदार से शिकायत की थी।

बोले थानाध्यक्ष
थानाध्यक्ष निर्मल कुमार ने बताया कि दोनों बहनों ने थाने पर आकर मौखिक रुप से तंग व परेशान करने की बात कही थी, लेकिन लिखित आवेदन नहीं दिया था। उन्होंने दोनों बहनों से कहा था कि आश्रम के साधु के हरिद्वार से लौटने तक अपने घर चले जाएं, लेकिन उन लोगों ने जाने से इंकार कर दिया था। बता दें कि पिछले दो-तीन महीने से आश्रम के स्वामी हरिद्वार की यात्रा पर हैं।

दो वर्ष पहले आई थीं आश्रम
संतमत सत्संग आश्रम में आश्रम के स्वामी राजेश्वरानंद ने दो वर्ष पूर्व मनिहारी (कटिहार) थाना क्षेत्र के बाघमारा गांव से दोनों बहनों को साध्वी बनाने के लिए लाया था और तब से वे आश्रम में रह कर सत्संग करती थीं। भक्तगण दिनभर आश्रम में रहने के बाद शाम अपने-अपने घर चले जाते थे।

बोलीं एसएसपी

पीड़ित बहनों की मेडिकल जांच कराई जा रही है। पुष्टि होने के बाद आरोपियों को किसी भी सूरत में छोड़ा नहीं जाएगा। स्पीडी केस चलवाकर आरोपियों को सजा दी जाएगी।
केएस अनुपम, एसएसपी, भागलपुर

एफसीआई 6545 लोगों को देगा नौकरी, 19 सितंबर तक भरें फॉर्म



कमर्चारी चयन आयोग (एसएससी) ने भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) में सहायक ग्रेड-3 के 6545 रिक्त पदों की नियुक्ति के‌ लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं। ये आवेदन एफसीआई के पांच जोन उत्तरी, दक्षिणी, पूर्व, पश्चिम और उत्तर पश्चिम के लिए मांगे गए हैं। इन पदों के लिए पे स्केल 9300-22940 रुपये रखी गई है। एसएससी की वेबसाइट पर जाकर आवेदक इन पदों के लिए ऑनलाइन फॉर्म भर सकते हैं। आवेदन करने की अंतिम तिथि 19 सितंबर 2012 है। आवेदन से संबंधित विस्तृत विवरण के लिए 25 अगस्त 2012 का 'रोजगार समाचार' देखें।

तालिबान का दुस्साहस, नाचने-गाने पर 17 लोगों का सिर कलम



अफगानिस्तान के दक्षिणी हेलमंद प्रांत में तालिबानी आतंकवादियों ने महिलाओं और पुरूषों की पार्टी आयोजित करने वालों को सबक सिखाने के लिए 17 लोगों के सिर कलम कर दिए। मृतकों में 15 पुरूष और दो महिलाएं शामिल हैं।

जिला गर्वनर निमातुल्ला ने बताया कि हेलमंद की राजधानी लश्कर गाह से करीब 75 किलोमीटर दूर मूसा काला जिले के निकट एक मकान से ये शव बरामद किए गए। यह हमला तालिबानी आतंकियों ने रविवार को उस समय किया जब ये लोग देर रात नाच-गाने की पार्टी का मजा ले रहे थे।

हेलमंद के गर्वनर के प्रवक्ता दाउद अहमदी ने कहा कि सिर कलम घटना की जांच के लिए टीम घटनास्थल पर भेज दी गई है। उल्लेखनीय है कि तालिबान के पांच साल के शासन के दौरान महिलाओं के मताधिकार, उनके बाहर काम करने पर और अपने पति या पुरूष संबंधी को साथ लिए बगैर बाहर निकलने पर प्रतिबंध लगा दिया था।

शनिवार, 25 अगस्त 2012

2013 में राहु-शनि का मिलन भ्रम की स्थिति पैदा करेगा



जालंधर: ज्योतिषी, टैरो कार्ड रीडर व अंक तथा हस्तरेखा विशेषज्ञ रीटा चाची ने कहा है कि मंगल-शनि की युक्ति 28 सितम्बर तक विश्व के लिए घातक है। आज यहां उन्होंने बताया कि भारत सहित विभिन्न देशों में उथल-पुथल का माहौल देखने को मिलेगा। राजनीतिक फ्रंट पर गर्मी देखने को मिलेगी, क्योंकि शनि व मंगल एक-दूसरे के विरोधी हैं। उन्होंने कहा कि 28 सितम्बर तक भूकम्प, युद्ध जैसी स्थिति, सड़क दुर्घटनाएं, अग्निकांड आदि देखने को मिलेंगे क्योंकि मंगल एक अग्निकारक ग्रह है।

उन्होंने बताया कि जनवरी 2013 के बाद राहु व शनि तुला राशि में इकठ्ठे हो जाएंगे। यह युति 18 महीनों तक रहेगी। उन्होंने बताया कि 2 प्रमुख ग्रहों के इकठ्ठे होने से विश्व भर में भ्रम की स्थिति पैदा होगी। इसलिए नकारात्मक घटनाओं में बढ़ौतरी हो सकती है। राहु व शनि का गोचर में इकठ्ठे होना अच्छा नहीं है, परन्तु व्यक्तिगत कुंडलियों में दोनों ग्रहों की स्थिति से अच्छे या बुरे प्रभाव देखने को मिलेंगे। उन्होंने कहा कि वास्तु भी एक विज्ञान है। परन्तु उन्होंने यह बात अवश्य कही कि दक्षिण दिशा हमेशा बुरी नहीं होती।

घर के प्रमुख व्यक्ति की ग्रह स्थिति के अनुसार घर की दिशा देखी जाती है। उन्होंने कहा कि कई लोग दक्षिण दिशा मुखी घरों में रहते हुए भी काफी प्रगति कर जाते हैं जबकि दूसरी ओर पूर्व दिशा में रहने वाले लोग कई बार उतनी प्रगति नहीं करते। उन्होंने कहा कि ग्रहों का मनुष्य के जीवन पर असर पड़ता है। नौ ग्रह व्यक्ति के जीवन को ग्रह दशा के अनुसार प्रभावित करते हैं। भारत में चन्द्रमा को तो पाश्चात्य देशों में सूर्य को प्रमुखता दी जाती है।

बेटों ने पहले मां की जमकर पिटाई की, फिर उसे नग्न कर गांव में घुमाया

पटना: गया में मानवता व मां-बेटे का रिश्ता शर्मसार हुआ जब बेटों और बहुओं ने सोनमा देवी की जमकर पिटाई की, बाल काट कर उसे पूरे गांव में अर्धनग्न को घुमाया। दोनों बेटों और बहुओं समेत 5 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। घायल सोनमा देवी अनुग्रह नारायण मगध मेडिकल कॉलेज में भर्ती करवाया गया है। सोनमा मोहनपुर पुलिस स्टेशन की लालू पंचायत की वॉर्ड सदस्य हैं। डीएसपी राकेश कुमार ने जानकारी दी कि दर्ज शिकायत में सोनमा ने आरोप लगाया है कि बुधवार सुबह उनके बेटे और बहुएं उनकी निजी संपत्ति हड़पने के मकसद से घर में जबरन घुस आए। लाठी और डंडों से हमला कर उन्हें बुरी तरह घायल करने के बाद बेटे-बहुओं ने उन्हें अर्धनग्न कर गांव में घुमाया और बाल भी काट दिए। सोनमा ने महिला हेल्पलाइन के कार्यालय में शिकायत दर्ज करवाई। डीटेल जानने के बाद हेल्पलाइन प्रबंधक ने मामला महिला थाने में ट्रांसफर कर दिया। पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। थाना इंचार्ज पिताम्बर राय ने बताया कि सोनमा देवी के साथ उनके परिवार वालों ने अमानवीय व्यवहार किया है।

वापस मंगाए 6 लाख कंडोम


रियो डी जनेरियो : ब्राजील में कंडोम बनाने वाली कम्पनी ओल्ला ने गुणवत्ता में खराबी आने की सम्भावना को देखते हुए बाजार से 620000 कंडोम वापस मंगा लिए। कम्पनी को आशंका थी कि इन त्रुटिपूर्ण कंडोमों से सुरक्षा के साथ समझौता हो सकता है। ब्राजील की सबसे बड़ी कंडोम निर्माता कम्पनियों में से एक ओल्ला ने कहा, एहतियात के तौर पर इन उत्पादों को वापस लेने का फैसला किया गया क्योंकि इनके त्रुटिपूर्ण होने की सम्भावना थी, जिसकी वजह से ये उत्पाद प्रयोग के लिए अनुपयुक्त हो सकते हैं। कम्पनी ने यह कदम ग्राहकों की बढ़ती शिकायतों के बाद उठाया है। (एजेंसी)

सैमसंग को देने होंगे एक अरब डॉलर



सैन जोस (कैलिफोर्निया) : स्मार्टफोन बनाने वाली दुनिया की दो बड़ी कंपनियों एपल और सैमसंग के बीच की कानूनी जंग में कोरियाई कंपनी सैमसंग को करारा झटका लगा है। अमरीका में जूरी ने कहा है कि सैमसंग एपल को एक अरब डॉलर से अधिक यानी लगभग साढ़े पांच हजार करोड़ रुपए का हर्जाने दे। जूरी ने यह भी फैसला सुनाया है कि सैमसंग ने एपल के कुछ पेटेंट्स का उल्लंघन किया है। सैमसंग ने इन आरोपों से इनकार किया है। नौ सदस्यीय जूरी ने कैलिफोर्निया के सैन जोस फेडेरल कोर्ट में करीब 700 सवालों पर जिरह किया। इनमें दोनों पक्षों ने एक-दूसरे की बौद्धिक संपदा के उल्लंघन का आरोप लगाया था। इस फैसले के बाद एपल अमरीका में सैमसंग के कुछ उपकरणों के आयात पर पाबंदी की मांग भी कर सकता है। आई फोन बनाने वाली कंपनी एपल ने सैमसंग से 2.5 अरब डॉलर का हर्जाना मांगा था। एपल ने सैमसंग पर व्यापारिक नियमों के उल्लंघन के अलावा उसके सात पेटेंट्स की चोरी का भी आरोप लगाया था। सैमसंग ने इन आरोपों से इनकार किया था। पलटवार करते हुए सैमसंग ने एपल से करीब 52 करोड़ डॉलर का हर्जाना मांगा और आरोप लगाया था कि एपल ने उसके पांच पेटेंट्स का उल्लंघन किया है।

कांडा का महिला प्रेम : 3 प्लेन, 60 एयर होस्टेस



नई दिल्ली। एयर होस्टेस गीतिका शर्मा आत्महत्या मामले की जांच में जुटी दिल्ली पुलिस को आए दिन चौकाने वाले तथ्य मिल रहे हैं। मामले में गिरफ्तार हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांडा और उसकी कम्पनियों के बारे में सनसनीखेज बातें सामने आई हैं। कांडा की एअरलाइंस कंपनी एमडीएलआर में महिलाओं को पुरुषों की तुलना में अधिक महत्व दिया जाता था और उन्हें ऊंचे पदों पर रखा जाता था। सूत्रों की मानें तो एमडीएलआर के तीन विमानों के लिए 60 से ज्यादा एयर होस्टेस को रखा गया था और 250 की संख्या वाली कम्पनी में महिलाओं की तादाद 150 के करीब थी। यही नहीं, एमडीएलआर के बंद होने पर कांडा ने महिला कर्मचारियों को अपनी अऩ्य कम्पनियों में नौकरी पर रखा। जांच में यह बात भी सामने आई है कि उड़ान के लिए यात्रियों की संख्या कम होने पर कांडा की विमान कम्पनी यात्रियों को सड़क मार्ग के जरिए उनके गंतव्य तक पहुंचाती थी। कंपनी यात्रियों से वसूलती तो हवाई किराया थी लेकिन ज्यादातर उन्हें सड़क के रास्ते ही भेजा करती। कंपनी के दो विमान खराब ही रहते थे। इसके अलावा कांडा लड़कियों के लिए अलग से एक कम्पनी खोलने में भी गुरेज नहीं करता था। ब्यूरो ऑफ सिविल एविएशन सीक्योरिटी सूत्रों के अनुसार सभी एअरलाइन्स महिला कर्मचारियों को भर्ती करना पसंद करती हैं लेकिन एमडीएलआर में यह संख्या सबसे अधिक थी।

कांडा को राहत नहीं, 3 दिन और बढ़ी पुलिस हिरासत
गीतिका शर्मा खुदकुशी मामले में गिरफ्तार हरियाणा के पूर्व मंत्री गोपाल कांडा की पुलिस हिरासत शनिवार को और तीन दिनों के लिए बढ़ा दी गई। पुलिस की इस दलील पर कि मामले में कांडा से और पूछताछ किए जाने की जरूरत है दिल्ली की एक अदालत ने कांडा की पुलिस हिरासत बढ़ा दी। पुलिस का कहना है कि कांडा जांच और पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहा है। इसलिए मामले की तह तक जाने के लिए उससे और पूछताछ करने की जरूरत है। ज्ञात हो कि इसके पहले कांडा ने कहा कि वह निर्दोष है और राजनीतिक साजिश के तहत उसे इस मामले में फंसाया जा रहा है। जैसे-जैसे मामले में जांच आगे बढ़ रही है, कांडा की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। कांडा पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का शिकंजा कस सकता है। दिल्ली पुलिस को शक है कि कांडा के नाम बेनामी संम्पत्तियां हैं और उसने गीतिका के नाम पर भी लेन-देन की है। पुलिस को आशंका है कि कांडा के नाम पर बेनामी सम्पत्तियां हैं और उसने गीतिका के नाम पर भी लेन-देन की है। अपनी इस आशंका की पड़ताल के लिए दिल्ली पुलिस आयकर विभाग से ब्यौरा मांग सकती है। कांडा पर बेनामी सम्पत्ति का मामला यदि बनता है तो ईडी कांडा पर शिकंजा कस सकता है। पुलिस का कहना है कि उसके पास इस मामले में कांडा को दोषी साबित करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं और उन सबूतों से साबित हो जाएगा कि कांडा, गीतिका का शोषण कर रहा था। पुलिस का यह भी दावा है कि कि उसने इस मामले को सुलझा लिया है। पुलिस के मुताबिक गीतिका, गोपाल कांडा की कंपनी से सारे रिश्ते तोड़ना चाहती थी, लेकिन कांडा उसे लगातार कंपनी न छोड़ने के लिए मजबूर कर रहा था। इसके लिए कांडा ने गीतिका को धमकियां दी थीं।

कोयला घोटाला: BJP ने 'शून्य घाटा' के तर्क को नकारा



नई दिल्ली, निजी कम्पनियों को कोयला ब्लॉकों के आवंटन के मुद्दे पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शनिवार को कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के इस तर्क को खारिज किया कि इसमें राजकोष को कोई क्षति नहीं हुई है। पार्टी ने कहा कि सरकार लोगों को गुमराह करने का प्रयास कर रही है।

यहां के पार्टी कार्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में राज्यसभा में विपक्ष के नेता अरुण जेटली ने कहा, ''जब कोयला ब्लॉक आवंटित कर दिए जाते हैं तब खनन का अधिकार निजी आवंटियों के पास होता है, सरकार के पास नहीं। यहां तक कि वास्तविक खनन के बगैर ही सरकार कम कीमत पर ब्लॉक आवंटित कर उन खदानों पर अपना नियंत्रण खो चुकी है।''

जेटली ने इस मुद्दे पर केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदम्बरम के बयान की निंदा भी की और कहा कि उन्होंने 2जी स्टेक्ट्रम आवंटन घोटाले में शून्य घाटे के तर्क की विफलता से भी सबक नहीं लिया।

उन्होंने केंद्र सरकार की निंदा करते हुए कहा, ''जब 2जी घोटाला हुआ, कपिल सिब्बल (अब संचार मंत्री) ने शून्य घाटे का तर्क दिया था। वह लोगों को गुमराह नहीं कर पाए और अंतत: उन्हें अपने शब्द वापस लेने पड़े।''

गौरतलब है कि चिदम्बरम ने शुक्रवार को कहा था, ''जब कोयला का खनन हुआ ही नहीं तब फायदा या घाटे का सवाल ही नहीं उठता..अनुमानित घाटे की यह धारणा दोषपूर्ण है।''

जेटली ने इस मुद्दे पर संसद में भाजपा के विरोध प्रदर्शन का यह कहकर बचाव भी किया कि सरकार ऐसे 'कमजोर तर्क' के आधार पर अपना बचाव करना चाहती थी।

भाजपा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे की मांग कर रही है, क्योंकि जिस समय बगैर नीलामी कोयला ब्लॉकों का आवंटन किया गया, उस समय कोयला मंत्रालय का प्रभार उन्हीं के पास था।

उल्लेखनीय है कि नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की रिपोर्ट पिछले हफ्ते संसद में पेश की गई थी, जिसमें बताया गया है कि निजी कम्पनियों को कोयला ब्लॉक आवंटित किए जाते समय पारदर्शिता नहीं रखी गई जिससे देश के राजकोष को 1.85लाखे करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

सरकारी प्रतिष्ठानों में निकलेंगी दो करोड़ नौकरियां



चेन्नई । आने वाले दिनों में विभिन्न सरकारी प्रतिष्ठानों में दो करोड़ से ज्यादा नौकरियां उपलब्ध होंगी। केन्द्रीय कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन राज्य मंत्री वी़ नारायणसामी ने शनिवार को यह जानकारी दी। नारायणसामी ने कहा कि ये नौकरियां विभिन्न क्षेत्रों में हैं और इन्हें जल्द ही भरा जायेगा। नारायणसामी यहां कर्मचारी चयन आयोग के दक्षिण क्षेत्रीय कार्यालय द्वारा आयोजित अंग्रेजी भाषा और बोध पर प्रश्न बैंक कार्यशाला का उद्घाटन करने पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि रिक्तियों के लिये मिलने वाले कुल आवेदन में 55 प्रतिशत आवेदन ऑनलाइन भेजे जा रहे हैं। उन्होंने कहा हम इसे धीरे धीरे ऑनलाइन बनाने के लिये कदम उठा रहे हैं। हम परीक्षा उत्तर पुस्तिका को वेबसाइट पर उपलब्ध कराने के लिये भी कदम उठा रहे हैं। नारायणसामी ने कहा कर्मचारी चयन आयोग परीक्षा आयोजन के लिये सरकार तीन तरह के नमूने पर काम कर रही है। अंग्रेजी और हिन्दी के अलावा हम एक क्षेत्रीय भाषा को भी प्रश्नपत्र में शामिल करने कर रहे हैं, ताकि सभी राज्यों के ग्रामीण क्षेत्रों से भी प्रतिभाओं को आगे आने का मौका मिल सके।

शुक्रवार, 24 अगस्त 2012

न्यूयॉर्क में बंदूकधारी ने 5 को भूना, खुद भी मारा गया



न्यूयॉर्क, न्यूयॉर्क शहर के एम्पायर स्टेट बिल्डिंग के सामने शुक्रवार को एक बंदूकधारी ने अंधाधुंध गोलबारी कर पांच लोगों की जान ले ली। बाद में पुलिस ने उसे मार गिराया। समाचार चैनल सीएनएन ने यह जानकारी दी।

गोलबारी की सूचना मिलते ही पुलिस ने सुबह नौ बजे एम्पायर स्टेट बिल्डिंग की घेराबंदी की।

वहीं बीबीसी न्यूज का कहना है कि गोलीबारी फिफ्थ एवेन्यू और पश्चिमी 34वीं गली में हुई।

अमेरिकी गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि सुबह नौ बजे गोलीबारी होने के तुरंत बाद बाद अग्निशमन विभाग की सूचना मिली। विभाग का आकस्मिक दस्ता कुछ ही मिनट के अंदर घटनास्थल पर पहुंच गया।

पुलिस ने बताया कि इस घटना में कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई और तीन या चार अन्य नागरिक घायल हो गए।

मौके पर पहुंची पुलिस ने अकारण गोलीबारी करने वाले शख्स को मार गिराया।

ब्रह्मांड आखिरकार एक दिन गायब हो जाएगा!




बीजिंग: प्रख्यात खगोल वैज्ञानिक और नोबेल पुरस्कार से सम्मानित ब्रायन पी. स्कमीद ने ब्रह्मांड के एक अंधकारमय भविष्य का अनुमान लगाया है, जब सिर्फ हमारी आकाश गंगा बचेगी और सभी मंदाकनियां खत्म हो जाएंगी। अंतरराष्ट्रीय खगोल विज्ञान यूनियन के 28 वें सम्मेलन में यहां शामिल हुए ब्रायन ने कहा कि 100 अरब वर्ष में मानव को ब्रह्मांड रिक्त मिलेगा क्योंकि आकाशगंगा के अलावा सभी मंदाकिनी खत्म हो जाएगी। गौरतलब है कि हम आकाशगंगा में ही रहते हैं। ब्रह्मांड के विस्तार में बढ़ोतरी का साक्ष्य मुहैया करने को लेकर 2011 में साउल पेरमेमुटर और एडम रीस के साथ ब्रायन को भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला था।

इनकी खोज से पहले आमतौर पर यह माना जाता था कि ब्रह्मांड का विस्तार धीमा पड़ गया है।

सुपरनोवा की चमक और इसके लाल होने गति को माप कर ब्रायन और उनके साथियों ने यह पता लगाया था कि अरबों साल पुराने तारे और उनकी मंदाकिनी का विस्तार हो रहा है।

इन खोजों ने ‘डार्क एनर्जी ’ पर शोध का मार्ग प्रशस्त किया। यह उर्जा का एक काल्पनिक रूप है, जो ब्रह्मांड के विस्तार में वृद्धि कर रहा है।

ब्रायन ने कहा, ‘‘हमारी आकाशगंगा यहीं मौजूद रहेगी और पास की किसी मंदाकिनी में समा जाएगी। लेकिन आकाशगंगा से इतर सभी मंदाकिनी गायब हो जाएगी। उस वक्त खगोल वैज्ञानिक बेरोजगार हो जाएंगे क्योंकि उनके पास कोई काम नहीं होगा।’’

ब्रायन ने चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ को बताया कि ब्रह्मांड में शीघ्रता से विस्तार होगा और यह आखिरकार खत्म हो जाएगा। डार्क एनर्जी के बारे बात करते हुए ब्रायन ने कहा, ‘‘हम नहीं जानते कि डार्क एनर्जी कैसे पैदा होती है। यह अंतरिक्ष का ही हिस्सा प्रतीत होता है।’’ इससे जुड़ी एक रोचक बात यह है कि आस्ट्रेलियन एस्ट्रोनॉमिकल आब्जरवेटरी के निदेशक मैथ्यू कोलेस ने ‘डार्क एनर्जी ’ को चीनी भाषा में अनुवाद के लिए एक ऑनलाइन अनुवाद प्रणाली में डाला और इसके बाद इस शब्द के चीनी अनुवाद को फिर से अंग्रेजी में अनुवाद किया गया तो इसका अर्थ ‘शैतानी उर्जा ’ हो गया। ब्रायन ने कहा कि ‘शैतानी’ शब्द हास्यप्रद है और यह सटीक व्याख्या नहीं है।

ब्रायन ने कहा, ‘‘मैं डार्क एनर्जी को शैतानी नहीं मानता। मैं इसे बहुत शीतल मानता हूं, कभी न खत्म होने वाली सर्दी के मौसम की तरह।’’ बहरहाल, उन्होंने डार्क एनर्जी पर काम जारी रखने की घोषणा की है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ब्रह्मांड वही करता है जो उसे करना है और मैं यहां इस प्रक्रिया को मापने के लिए हूं न कि फैसला करने के लिए।’’

(फोटो सौजन्य: नासा)

आरएसएस, पत्रकार समेत 20 ट्विटर खाते ब्लॉक



नई दिल्ली : सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर के 20 खातों को बंद करने का फैसला किया है। पूर्वोत्तर के नागरिकों के खिलाफ फैल रही अफवाहों को रोकने की आड़ में ब्लॉक किए गए खातों में संघ परिवार के मुखपत्र पांचजन्य और प्रवीण तोगड़िया के खाते भी शामिल हैं।
दिलचस्प बात यह है कि फेसबुक के पन्नों और ट्विटर अकाउंटों को बंद करने की अफरा-तफरी में सरकार ने अपने एक मंत्री मिलिंद देवड़ा का भी ट्विटर हैंडल बंद कर दिया गया है। मिलिंद देवड़ा केंद्र सरकार में संचार एवं सूचना प्रोद्योगिकी विभाग के राज्य मंत्री हैं। हालांकि अभी ये साफ नहीं हो सका है कि मिलिंद देवड़ा का ट्विटर हैंडल सरकारी आदेश से बंद हुआ है या ट्विटर ने ही उनके खाते को निलंबित किया है। इससे पहले असम मामले में सरकार ने कुछ ट्विटर खाते बंद करवाए थे जिसमें पत्रकार शिव अरुर और कंचन गुप्ता के ट्विटर अकाउंट भी शामिल हैं। अल जजीरा का ट्विटर खाता भी इसमें शामिल है। दूरसंचार मंत्रालय ने यह फैसला 18 अगस्त से 21 अगस्त के बीच लिया। सरकार की ओर से की गई इस कार्रवाई पर दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल ने देश में ट्विटर का सर्वर न होना समस्या बताया है। सिब्बल ने माना कि फेसबुक और गूगल इस काम में सहयोग कर रहे हैं लेकिन स्थायी हल के लिए तमाम स्टेक होल्डर्स से बात करनी होगी। इससे पहले गुरुवार को सूचना मंत्रालय के अधिकारियों ने कहा था कि टि्वटर को 28 खाते तत्काल प्रभाव से बंद करने होंगे। उन्होंने कहा कि टि्वटर ये साफ करे कि वह ऐसा करेगा या नहीं। इस बीच यह भी खबर है कि प्रधानमंत्री के नाम पर बने 6 फर्जी फेसबुक पेज अब तक सक्रिय हैं। सूत्रों के हवाले से ये भी खबर है कि सरकार ने सभी अधिकारियों को एक आदेश जारी कर कहा है कि वे विभाग से संबंधित गुप्त या अपुष्ट जानकारी किसी भी सोशल नेटवर्किंग साइट पर ना डालें। मंत्रालय ने इस बारे में 38 पेज की गाइड लाइन जारी की है।

31,115 रुपए के नए रेकॉर्ड पर सोना



अगर आप सोने के आभूषण खरीदना चाहते हैं तो अभी रूक जाइये क्‍योंकि देश के मुख्‍य महानगरों के सर्राफा बाजार में सोने की कीमतों में जबरदस्‍त उछाल आया है। सर्राफा बाजार में आज सोने के भाव और चढ़कर 31,115 रुपये प्रति 10 ग्राम की ऊंचाई पर जा पहुंचा। अमेरिका के इकनॉमिक ग्रोथ को तेजी देने की अटकलों के बीच खरीद में बढ़ोतरी के चलते विदेशों में सोने के भाव 4 महीने के सबसे ऊंचे स्तर पर जा पहुंचे। इस वजह से स्थानीय बाजारों पर भी सोने की कीमतों पर असर पड़ा। वहीं, मांग कमजोर पड़ने से चांदी के भाव 150 रुपये टूटकर 56,850 रुपये प्रति किलो रहे। सूत्रों के मुताबिक ग्लोबल मार्केट में सोने में आए उछाल का असर स्थानीय बाजार धारणा पर भी पड़ा। स्टाकिस्टों और इन्वेस्टर्स की खरीद के चलते लगातार पांचवें दिन सोने में तेजी दर्ज की गई। घरेलू बाजार में सोने के भाव 80 रुपये की तेजी के साथ बंद हुए। गिन्नी के भाव 50 रुपये चढ़कर 24,700 रुपये प्रति 8 ग्राम बंद हुए। वहीं, चांदी के भाव 150 रुपये की गिरावट के साथ 56,850 रुपये प्रति किलो पर बंद हुए। चांदी के सिक्कों के भाव 1000 रुपये की गिरावट के साथ 71,000 से 72000 रुपये प्रति सैकड़ा पर बंद हुए। इससे पूर्व कल गुरुवार को दिल्‍ली और अहमदाबाद में सोने के दामों ने 31 हजार रुपए का आंकड़ा छू लिया था। मुंबई, चेन्‍नई, जयपुर, अहमदाबाद के मुकाबले दिल्‍ली में इसकी कीमत सर्वाधिक रहीं। अगर दिल्‍ली बाज़ार की बात करें तो सोने ने आज 31 हजार का आंकड़ा छू लिया। दिल्‍ली सर्राफा बाजार में आज सोना गुणवत्‍ता के आधार पर 30835 से 31 हजार 35 के बीच रहा। वहीं मुंबई बाज़ार में सोने का मूल्‍य दिल्‍ली से कुछ ही कम रहा यहां सोने का मूल्‍य 30 हजार आठ सौ पचपन से 31 हजार 35 के बीच रहा। देश की आर्थिक राजधानी में दिल्‍ली से इसका दाम कुछ ही कम रहा। देश के अन्‍य बाज़ारों में चेन्‍नई में इसका मूल्‍य 30 हजार आठ सौ पछत्‍तर से ठीक 31 हजार के मध्‍य रहा। जबकि जयपुर में यह 31 हजार का आंकड़ा न छू सका, गुलाबी शहर में यह 30800 से 30825 के मध्‍य रहा। सिर्फ जयपुर में ही सोना 31 हजार का आंकड़े तक जा सका। अहमदाबाद में यह 31 हजार तीस से 30905 तक रहा। अहमदाबाद में सोने की कीमत 30 हजार नौ सौ पांच रही। आंकड़ों के अनुसार उच्‍च गुणवत्‍ता वाले सोने की कीमतें दिल्‍ली, मुंबई, चेन्‍नई, जयपुर और अहमदाबाद में कुछ अंतर के साथ ही सबसे कम रहीं। हमने अपनी खबर में जो कीमतें दर्शायी हैं, वो 99.9 फीसदी प्‍योर गोल्‍ड की हैं।

2025 तक भारत में होगा जनसंख्‍या विस्‍फोट



नई दिल्‍ली। संयुक्‍त राष्‍ट्र के आंकलन पर अगर नजर डाला जाए तो, भारत 2025 तक विश्‍व का सबसे ज्‍यादा जनसंख्‍या वाला देश बन जाएगा। भारत की आबादी चीन से अधिक हो जाएगी। संयुक्‍त राष्‍ट्र के आंकलन के अनुसार 2060 तक भारत की आबादी 170 करोड़ हो जाएगी। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री गुलाम नवी आजाद ने यह जानकारी दी।
उन्‍होंने नवीन जिंदल और योगी आदित्‍यनाथ के प्रश्‍न के जवाब में लिखित उत्‍तर देकर बताया कि 2011 की जनगणना के अनुसार देश के 18 राज्‍यों में देश की जनसंख्‍या में वृद्धि औसत दर से ज्‍यादा है। देश में ऐसे 264 जिले है जहां मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार नियोजन से जुड़े स्‍वास्‍थ्‍य संकेत काफी कमजोर है। अगर भारत की जनसंख्‍या वृद्धि दर देखी जाए तो यह चीन से लगभग 3 गुनी ज्‍यादा है। लगभग 277 देशों की जनगणना के अनुमानों के अनसुार भारत की जनसंख्‍या के बारे में भविष्‍यवाणी की गयी है। भारत में एक महिला के पूरे जीवन में बच्‍चे पैदा करने का औसत दर 2.7 है, जोकि धीरे-धीरे कम हो रही है। अमेरिका में बच्‍चे पैदा करने का दर 2 से ज्‍यादा है। चीन में 1990 में यह दर 2.2, 1995 में 1.8 और 2000 से 1.6 है।

अमिताभ को इंदिरा गांधी ने दिलाई थी पहली नौकरी वह भी सिफारिश से



दिल्ली। अमिताभ बच्चन यानी बिग बी को शायद ही ऐसा कोई होगा जो नहीं जानता होगा पर शायद आपको जानकर यह हैरानी होगी कि अमिताभ बच्चन भी बालीवुड में चमकने से पहले हमारे आप की तरह ही नौकरी किया करते थे। यही नहीं अमिताभ को पहली नौकरी उनकी काबिलियत के भरोसे नहीं बल्कि इंदिरा गांधी की सिफारिश के तहत मिली थी।

इंदिरा ने बंगाल के राज्यपाल पद्मजा नायडू को एक पत्र लिखकर अतिताभ के लिए कोई उपयुक्त नौकरी ढूंढने के लिए कहा था। उसके बाद पद्मजा ने अमिताभ को पहली नौकरी कोलकता में दिलाई। इस बात का खुलासा इंदिरा के विश्वासपात्र रहे जनक राज जय ने अपनी किताब 'स्ट्रोक्स ऑन लॉ एंड डेमोक्रेसी इन इंडिया' में किया है।

इस किताब में जय ने कुछ और खुलासे किए हैं जिसमें शास्त्री कैबिनेट में इंदिरा के प्रवेश की बात भी शामिल है। वे लिखते हैं कि अपने पिता जवारलाल नेहरू के निधन के बाद शोकाकुल इंदिरा गांधी प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री के मंत्रिमंडल में शामिल हो गई थीं, क्योंकि उन्हें आभास था कि इंकार करने पर उनकी बुआ विजया लक्ष्मी पंडित को आमंत्रित किया जा सकता है, जिनसे उनके रिश्ते अच्छे नहीं थे। वह बताते हैं कि जब शास्त्री जी ने इंदिरा से अनुरोध किया कि नेहरू जी की अस्थियां इलाहाबाद के संगम में विसर्जित करने के बाद वह उनकी सरकार में शामिल हो जाएं तो शुरुआत में उन्होंने झिड़क दिया था।

जय अब 82 वर्ष के हो गए हैं। इस पुस्तक के अनुसार, शास्त्री जी ने इंदिरा से यह बात नई दिल्ली रेलवे स्टेशन पर टहलते हुए कही थी। वे लिखते हैं कि शास्त्री जी के आग्रह पर इंदिरा तमतमा गई थीं। उन्होंने जवाब में कहा कि प्रधानमंत्री उनसे यह अपील तब कर रहे हैं, जब वह शोकमग्न हैं। "उन्होंने सममुच उन्हें झिड़क दिया था..शास्त्री जी को जरूर शर्मिदगी महसूस हुई होगी, क्योंकि इंदिरा ने यह बात मेरी मौजूदगी में कही थी।"

"शास्त्री जी को झिड़कने के बाद उन्हें पीछे छोड़कर इंदिरा तेजी से आगे बढ़ गई थीं।"तत्कालीन प्रधानमंत्री तब बुदबुदा उठे, "यदि इंदिरा मेरे मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होती हैं तब मुझे विजय लक्ष्मी पंडित को शामिल होने के लिए कहना पड़ेगा।" लेखक बताते हैं कि उन्होंने यह बात थोड़े ही दिन बाद इंदिरा गांधी को बता दी।

जय कहते हैं, "मैंने पूरी ईमानदारी से सोचा था कि इंदिरा गांधी नए मंत्रिमंडल में शामिल होने योग्य उपयुक्त व्यक्ति हैं।" वह लिखते हैं, "जब इंदिरा गांधी को अहसास हुआ कि उनकी बुआ विजय लक्ष्मी मंत्री बन सकती हैं, तब उन्होंने मुझे से शास्त्री जी से मुलाकात का समय तय करवाने के लिए कहा।" जय के मुताबिक, आखिरकार इंदिरा गांधी शास्त्री जी से मिलीं और उनसे कहा कि उनके मंत्रिमंडल में शामिल होकर उन्हें गर्व महसूस होगा, लेकिन उन्होंने 'कोई हल्का मंत्रालय' देने के लिए कहा। उन्हें सूचना व प्रसारण मंत्री बनाया गया।


धनवान पति चाहिए तो लिजिए इस कोचिंग में एडमिशन



अगर आप अमीर पति की कामना करती है, तो आपके लिए अच्‍छी खबर है। क्‍योंकि चीन में चल रही है धनवान पति हासिल करने की कोचिंग। इस कोचिंग में धनवान पति पाने की शिक्षा दी जाती है। अपने मन में धनवान पति की इच्‍छा लिए सैकड़ो लड़कियां रोज इस कोचिंग में प्रवेश लेने आ रही है।

इस समय चीन में एक कामयाब महिला का ट्यूटोरियल खासा चर्चा में है। इसको चलाने वाली महिला ने एक अरबपति से शादी की, अब अन्‍य महिलाओं को भी इसके गुण सिखा रही है। महिलाओं को अमीर पति से शादी करने का गुण सिखाने वाली महिला का नाम सू फी है। उसका कोचिंग संस्‍थान चीन के सिचुआन प्रांत के चेंगदू में स्थित है।

इस कोचिंग की फिस 10 हजार यूआन यानी करीब अस्‍सी हजार रूपया है। इस कोचिंग में स्‍टूडेंट्स से वादा किया जाता है क‍ि उन्‍हे अमीरो क संपर्क में लाया जाएगा। वह अपने क्‍यास के बताती है क‍ि अमीर पति पाने की इच्‍छा रखने वाली महिलाओं को बहुत सी जानकरी रखनी पड़ती है।

उनका कहना है कि अभी भी अमीरों को ये नहीं लगना चाहिए कि हम जानबूझकर उनसे मिलने गये है, उनको लगना चाहिए की उनकी मुलाकात संयोगवश हुई है। शुरूआत में ज्‍यादा भाव नहीं देना चाहिए।

47 हजार डॉलर कमाने वाली को सच्‍चे प्‍यार की तलाश



ऐसा कहा जाता है कि सच्‍चे प्‍यार के लिए लोग कुछ भी कर गुजरने को तैयार होते है, लेकिन चीन की एक युवती ने तो सच्‍चा प्‍यार खोजने के लिए बहुत कुछ कर दिया। उसने सच्‍चे प्‍यार की तलाश में सड़कों पर बैनर लगवा दिए हैं। चीन के हबेई प्रांत के वूहान शहर में रहने वाली एक खूबसूरत युवती ने सच्‍चे प्‍यार की तलाश में सड़कों पर बैनर लगवा दिया है।

बैनर पर लिखा है कि अमीर, सुंदर, विदेश में लौटी, युवती के पास एक आलीशान बंगला है, वेंज कार , और सालाना आय 47100 डॉलर है को एक ऐसे पुरूष की तलाश है जो उसे सच्‍च प्‍यार करें। इस बैनर को लेकर युवती के तीन बॉडीगार्ड शहर के चौराहे पर खड़े हैं।


ग्‍लोबल टाइम्‍स ने वूहान मार्निवा न्‍यूज के हवाले से बताया कि लाल रंग की खूबसूरत कपड़ों से सजी एजी ने बताया कि वह अभी हॉल ही में कनाडा से अपनी पढ़ाई पूरी करके आई है, और इस समय अच्‍छा पैसा कमा रही है। एजी का कहना है कि मेरे पास सब कुछ है। मेरे पास आलीशान बंगला, बड़ी गाड़ी, बैंक में ज्‍यादा पैसा है लेकिन मेरे जीवन में सच्‍चे प्‍यार की कमी है।

सच्‍चे साथी की तलाश में अपने इस कदम को उन्‍होंने एक दम सही ठहराया है। उसने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि मेरे सच्‍चा प्‍यार भी अमीर हो। उसने कहा कि मुझे तो बस एक प्‍यार चाहिए जो हमको सबसे बेहतर समझ सके।

लकी ड्रा में भारतीय ड्राइवर ने जीती लैंबोर्गिनी

अबू धाबी स्थित स्थानीय शॉपिंग मॉल में एक भारतीय टैक्सी ड्राइवर ने लकी ड्रॉ में 245,028 अमेरिकी डॉलर की ‘लैंबोर्गिनी गैलाडरे’ कार पुरस्कार में जीती है। ‘द नेशनल’ समाचार पत्र की रिपोर्ट के अनुसार, अबू धाबी के एक स्थानीय मॉल अल-इन में लगभग ढाई लाख प्रविष्टियों में से सूपी अब्दुल्ला का नाम पुरस्कार में मिलने वाली इस कार के लिए चुना गया था।


इस ड्रॉ के लिए वही लोग योग्य थे, जिन्होंने इस मॉल की किसी भी शाखा में 68 अमेरिकी डॉलर से ज्यादा की खरीदारी की थी। यह सुपर-कार 323 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने में सक्षम है और सिर्फ सात सेकेंड के भीतर यह 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ लेती है।

अगर आपको नींद नहीं आती है तो अपनाएं ये उपाय



क्या आपको रात में नींद ठीक से नहीं आती? या फिर एक बार नींद खुल जाने के बाद दोबारा नींद ही नहीं आती? कहते हैं मेहनत करने के बाद नींद अच्छी आती है लेकिन बदलती जीवनशैली में भागदौड़ और तनाव भरी दिनचर्या के बाद भी कई बार हमें नींद नहीं आने की शिकायत होती है फिर भी हम इसकी अनदेखी करते हैं। कई बार नींद न आने की समस्या इतनी गंभीर हो जाती है कि यह हमारी मानसिक सेहत को प्रभावित कर सकती है। ऐसे में अगर आप भी नींद से संबंधित ऐसी ही किसी समस्या से जूझ रहे हैं तो ये उपाय जरूर अपनाएं।

समय निर्धारित करें
भले ही आपका रुटीन कितना भी व्यस्त क्यों न हो लेकिन अच्छी नींद आए इसके लिए सबसे जरूरी है कि आप अपने सोने का एक समय तय करें। इससे आपके शरीर के सोने और उठने का चक्र संतुलित हो जाता है। शुरुआत में भले ही आपको थोड़ी दिक्कत होगी लेकिन नियमित रूप से एक निर्धारित समय पर अगर आप सोने की कोशिश करेंगे तो यह आपकी दिनचर्या में शामिल हो जाएगा।

बेडरूम साफ रखें
अच्छी नींद और सुकून के बीच बहुत गहरा संबंध है। अगर आपके सोने का कमरा स्वच्छ होगा तो मन शांत रहेगा और नींद आसानी से आएगी। गहरी नींद के लिए आप बेडरूम में हल्का इंस्ट्रयूमेंटल म्यूजिक भी चला सकते हैं जिससे मानसिक शांति मिलेगी और नींद जल्दी आएगी।

इनसे बरतें दूरी
दिन भर काम करने के बाद अगर आप अपने आराम के क्षणों में भी कंप्यूटर या टीवी से चिपके रहते हैं तो इनसे थोड़ी दूरी बना लें। कम से कम सोने के पहले कंप्यूटर पर काम करने से तो परहेज करना शुरू ही कर दें। इसके अलावा, चाय और कॉफी जैसे पेय भी रात में न लें। बहुत अधिक मसालेदार और हैवी भोजन रात में करें।

फायदेमंद डाइट
सोने से पहले एक ग्लास गर्म दूध लें। अनिद्रा से छुटकारे के लिए यह नुस्खा बहुत कारगर है। इसके अलावा, आप चेरी, खसखस, मेवे आदि का भी सेवन कर सकते हैं। आयुर्वेदिक उपचार भी इस दिशा में कारगर है। आयुर्वेद बबूने के सूखे फूल (कैमोमाइल फ्लॉवर), लैवेंडर आदि के उपयोग की सलाह देता है, लेकिन इसके लिए पहले चिकित्सक से परामर्श लें। सोने से पहले ढेर सारा पानी पीएं।

तलवे की मसाज
सोने से पहले हाथ-पैर साफ करें और फिर अपने तलवों की मसाज करें। इससे शरीर का रक्त प्रवाह सही रहता है और थकान दूर होती है। अच्छी नींद के लिए रोज सोने से पहले इस मसाज से आपकी अनिद्रा की समस्या दूर हो जाएगी।

योग भी मददगार
वैसे तो सेहतमंद शरीर के लिए योग और व्यायाम कारगर माना ही जाता है पर कुछ ऐसे भी योग हैं जिन्हें करने से नींद अच्छी आती है। जैसे शवासन, वज्रासन, भ्रामरी प्राणायम आदि। इन्हें नियमित रूप से करने से अनिद्रा की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा और थकान पूरी तरह दूर होगी।

अब बाइक चोरों को सबक सिखाएगा आपका मोबाइल



अब मोबाइल फोन पुलिस और आम नागरिकों के लिए सिरदर्द बन चुके बाइक चोरों को भी सबक सिखाएगा। गांव नगला महारी निवासी बीएससी के छात्र ने पुराने डीवीडी प्लेयर और मोबाइल के पुर्जों से ऐसी डिवाइस तैयार की है जो मोबाइल से संकेत मिलते ही इसके सवार को करंट के झटके देने लगेगी। झटके लगते ही वह बाइक छोड़ने को मजबूर हो जाएगा। खास बात यह कि यह डिवाइस बाइक के चलने पर अपने आप चार्ज भी होती रहेगी।

करीब पांच साल पहले बीएससी फाइनल ईयर के छात्र पिंटू यादव ने सिम कार्ड आधारित ऐसी डिवाइस तैयार की थी जो मोबाइल से मिले संकेत पर बाइक को स्टार्ट और बंद करता है। इसके लिए पिंटू को खूब शाबाशी मिली थी। उसी से उत्साहित पिंटू ने अब बाइक चोरी को रोकने वाला डिवाइस बनाया है। उन्होंने बताया कि वह गणित से बीएससी कर रहे हैं, लेकिन इलेक्ट्रानिक्स की दुकान होने के कारण इस तरह के उपकरण बनाने में उनकी रुचि अधिक है।

पिंटू ने बताया कि इस डिवाइस को बनाने के लिए पुराने डीवीडी प्लेयर और मोबाइल के कुछ पुर्जों का इस्तेमाल किया गया है। इसे मोबाइल फोन से नियंत्रित करने के लिए सिमकार्ड लगाया गया है। करीब 1500 रुपये की लागत से तैयार इस डिवाइस को बाइक में लगाने के बाद दो तारों की मदद से बाइक के प्लग आदि से जोड़ दिया जाता है। बाइक के पांच मिनट तक स्टार्ट रहने पर यह चार्ज हो जाती है। फिर एक सप्‍ताह तक चार्ज करने की जरूरत नहीं होती।

बाइक का पता लगने पर डिवाइस में लगे सिम के नंबर पर डायल करते ही पूरी बाइक में करंट दौड़ने लगता है। हालांकि इससे बाइक सवार को कोई नुकसान नहीं होता, लेकिन झटकों के कारण वह बाइक छोड़ने पर मजबूर हो जाएगा। पिंटू ने बताया कि चूंकि यह डिवाइस सिम कार्ड पर आधारित है, इसलिए जहां भी सिग्नल होंगे, वहीं यह काम करेगी।

कोयला निकला नहीं तो घाटा कैसे: चिदंबरम



नई दिल्ली कोल ब्लॉक आवंटन से संबंधित कैग की रिपोर्ट पर सरकार ने सवाल उठाते हुए कहा है कि जब कोयला खदानों से निकला ही नहीं तो घोटाला कैसे हुआ? कैग ने अपनी रिपोर्ट में जिन 57 कोयला खदानों का जिक्र किया है उनमें से केवल एक में ही खनन हो रहा है। बाकी 56 कोयला खदानें अभी धरती के अंदर ही हैं।

केंद्रीय वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि कोल आवंटन से सरकार को कोई नुकसान नहीं हुआ है। यूपीए सरकार ने पिछली सरकार की नीतियों को ही लागू किया। प्रधानमंत्री सहित सरकार हर मुद्दे पर जवाब देने को तैयार है। विपक्ष इस मुद्दे पर राजनीति कर रहा है। भाजपा संसद नहीं चलने दे रही है। सच तो यह है कि भाजपा इस मुद्दे पर बहस नहीं करना चाहती।

वहीं केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल ने कहा कि पिछली सरकारों ने भी कोयला ब्लॉक का आवंटन किया। कोल ब्लॉक आवंटन में सरकार ने वही नीति अपनाई। हालांकि जायसवाल ने माना कि आवंटन की नीति का भाजपा शासित राज्यों ने विरोध किया था। एक अन्य केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद ने भी सरकार के पक्ष को रखा।

सोमवार, 20 अगस्त 2012

दूर होने वाली है गंजेपन की समस्या



लंदन,वैज्ञानिकों का दावा है कि दो साल के अंदर बाजार में वह हेयर लोशन आ जाएगा, जो गंजापन उत्पन्न करने वाले एक एंजाइम के प्रभावों पर रोक लगा कर, इस समस्या से छुटकारा दिला सकेगा। वैज्ञानिकों ने पाया कि पुरूषों में गंजेपन की समस्या एक एंजाइम की वजह से होती है। इस उत्पाद को तैयार करने के बारे में फर्मास्युटिकल कंपनियों के साथ अनुसंधानकर्ताओं की बातचीत जारी है। अमेरिकी त्वचारोग विशेषज्ञों ने इस साल के शुरू में घोषणा की थी कि उन्होंने प्रोस्टैग्लैन्डाइन डी2 (पीजीडी2) नामक एक एंजाइम खोजा है जो एंजाइम पुटिकाओं (फॉलिकल्स) को बाल का उत्पादन करने से रोकता है। द टेलीग्राफ की खबर के अनुसार, वैज्ञानिकों ने बाल झड़ने में भूमिका निभाने वाले 250 जीनों की जांच कर यह पता लगाया।

कैग की रिपोर्ट पर कल संसद में हंगामे की संभावना



कोयला ब्लाक आवंटन में कथित घोटाले और दो अन्य मुद्दों पर नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) की रिपोर्ट को लेकर मंगलवार को संसद में हंगामें के आसार लग रहे हैं। विपक्ष इस मुद्दे को उठाने को तत्पर नजर आ रहा है।

कैग की तीन रिपोर्टों के संसद में शुक्रवार को पेश होने के बाद लोकसभा और राज्यसभा की कल पहली बार बैठक हो रही है। सोमवार को ईद के कारण संसद में अवकाश रहा।

भाजपा नेताओं ने पहले ही संकेत दे दिया है कि विपक्ष की आने वाले सप्ताह में इस मुद्दे पर अक्रामक रुख अख्तियार करने की योजना है। पार्टी कैग की रिपोर्ट के मुद्दे को जोरशोर से उठोयगी। पार्टी ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के इस्तीफे की मांग कर रखी है।

कैग ने कोयला खदानों के आवंटन, दिल्ली हवाई अड्डे के ठेके और वहत बिजली परियोजनाओं के लिए कोयले के स्रोतों के आवंटन के मामले में निजी कंपनियों को करीब तीन लाख करोड़ रुपये के अनुचित लाभ का अनुमान लगाया है।

संसद के मानसून सत्र के बीच आयी कैग की इन रिपोर्टों से विपक्ष को सरकार के खिलाफ हल्ला बोलने का नया हथियार मिल गया है। संसद का यह मानसून सत्र सात सितम्बर तक चलने वाला है।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री के इस्तीफे की मांग करके हम इसे यहीं छोड़ने वाले नहीं हैं। हालांकि सरकार और कांग्रेस कैग की रिपोर्ट और भाजपा की प्रधानमंत्री के इस्तीफे की मांग को पहले ही खारिज कर चुकी है। इतना की नहीं, वह लेखा परीक्षक पर लक्ष्मण रेखा को पार करने का भी आरोप मढ़ चुकी है।

झलक दिखला जा-5 से बाहर हुई गोपी बहू



डांस रियलिटी शो ‘झलक दिखला जा-5′ से शनिवार रात को गोपी बहू यानी जिया मानेक आउट हो गई. डेली सोप ‘साथ निभाना साथिया’ से सबकी चहेती गोपी अब डांस रियलिटी शो ‘झलक दिखला जा-5′ में नजर नहीं आएंगी. जिया ने अपने कोरियोग्राफर निशांत के साथ शो को जीतने के लिए काफी प्रयास किया था लेकिन भाग्य ने साथ नहीं दिया और जिया यह शो जीतने से रह गई. शो में जीत का फैसला ऑडियंश के वोट, फीडबैक व जज के मार्क्स से होता है. गौरतलब है कि डांस रियलिटी शो साइन करने के बाद जिया ने डेली सोप छोड़ दिया था. इसके चलते उन्हें काफी मुसीबतों का सामना करना पड़ा था. सीरियल में जिया को गोपी बहु के किरदार से काफी फेम मिला था.



रोमांस ऑफ किंग खान इज बैक

इस समय बॉलीवुड के रोमांस किंग खान यानी कि शाहरुख खान यश चोपड़ा के आने वाली फिल्म की शूटिंग में बिजी हैं, हालांकि इस फिल्म का नाम अभी नहीं रखा गया। फिल्म की ज्यादा शूटिंग लंदन में की गई है। आपके लिए लंदन में हुई शूटिंग के लिए कुछ खास झलकियां लेकर आए हैं। गौरतलब है कि यश चोपड़ा की इस नई फिल्म में शाहरुख खान आर्मी ऑफिसर की भूमिका निभा रहे हैं। फिल्म में शाहरुख के साथ कैटरीना कैफ और अनुष्का शर्मा मुख्य किरदार में हैं। फिल्म के दिवाली के मौके पर रिलीज होने की संभावना है। फिल्म का बाकी भाग जम्मू-कश्मीर के अति संवेदनशील क्षेत्र पहलगाम में शूट होने जा रहा है। शूटिंग के दौरान सुरक्षा का कड़ा बंदोबस्त रखने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस के अलावा सीआरपीएफ की एक टुकड़ी बुलाई गई है। पहलगाम के बाद शाहरुख लद्दाख में भी शूटिंग करेंगे।


5 दिन में कमाए 125 करोड़
सलमान खान की 15 अगस्त को रिलीज हुई एक था टाइगर ने पहले दिन रिकार्ड 32 करोड़ कमाए। अब खबर है, एक था टाइगर ने पांच दिनों में 125 करोड़ रुपये की कमाई कर ली है। पांच दिनों में फिल्म ने भारत में 100 करोड़ की कमाई कर ली है, जबकि 25 करोड़ रुपये विदेशों में कमाए हैं। इसमें सोमवार को ईद के मौके पर होने वाली कमाई शामिल नहीं है। फिल्म ने बुधवार को 33 करोड़, गुरुवार को 14.52 करोड़, शुक्रवार को 12.90 करोड़, शनिवार को 16.75 करोड़ की कमाई की। इन दिनों सभी सलमान खान की एक था टाइगर पर हो रही नोटों की बारिश पर चर्चा करने में बिजी हैं। बेशक इस फिल्म ने अब तक रिलीज हुईं तमाम बड़ी फिल्मों के रिकॉडर््स पर पानी फेर दिया है। ट्रेड अनालिस्ट का मानना है कि सोमवार से बुधवार तक एक था टाइगर लाजवाब कारोबार करेगी। जानकार मान रहे हैं कि फिल्म 300 करोड़ रुपये की कमाई का आंकड़ा भी छू सकती है।


स्लिम ऐश्वर्या

पिछले दिनों एक ज्वेलरी एड-शूट में नजर आने वाली ऐश्वर्या राय सिनेमाटोग्राफर अशोक मेहता की शोक सभा में आईं। इस शूट की ही तरह ऐश पहले से स्लिम दिखाई दीं। जाहिर है उन्होंने अपनी हेल्थ पर काफी ध्यान दिया है। इस दौरान मां बनीं बाकी एक्ट्रेसेज जैसे लारा दत्ता, शिल्पा शेट्टी और सेलिना जेटली डिलिवरी के बाद भी पहले जैसी काया में ही थीं। सेलिना भी अपने काम पर लौट आई हैं। खबर है कि लारा भी फिल्मों में जल्द वापसी करेंगी।


कपड़ों में जनजातीय झलक
बॉलीवुड की सोनम कपूर, करिश्मा कपूर, मलाइका अरोड़ा खान जैसी अभिनेत्रियां जनजातीय प्रिंट वाले कपड़े पहनी दिख रहीं हैं। फैशन डिजाइनर इंदिरा बाइकेरिकर घोष ने बताया कि सामाजिक प्रभाव हमेशा से चलन और फैशन पूर्वानुमान लगाने का हिस्सा रहा है। वर्तमान की सामाजिक-आर्थिक स्थिति में लोग शहरी चलन से दूर जाना चाहते हैं और वापस मूल चीजों की और लौट रहे हैं। यही कारण है कि जनजातीय कला और संस्कृति कलाकारों के दिमाग को प्रभावित कर रहा है। कुछ दिन पहले प्रदर्शित निर्देशक होमी अदाजानिया की फिल्म कॉकटेल में भी दीपिका पादुकोण और डायना पेंटी जनजातीय लुक वाली नई शैली में नजर आई थी। डिजाइनर प्रिया कटारिया पुरी का मानना है कि इन कपड़ों का आरामदेह होना, इनकी बड़े पैमाने पर वापसी का मुख्य कारण है। वहीं अन्य फैशन डिजाइनर रितिका भारवानी ने कहा कि अधिकतर जनजातीय प्रिंट मजबूत और सामान्य आकार से बड़े होते हैं, इसलिए जब आप उन पोशाकों को डालते हैं, तो वे श्रेष्ठ लगती हैं। इसके अलावा भारवानी ने यह भी बताया कि कपड़ों में रंगों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है।


पहली झलक से खुश
प्रकाश झा की आगामी फिल्म 'चक्रव्यूहÓ की पहली झलकी लोगों के सामने आ चुकी है और अभिनेता अभय देओल इस झलकी को लेकर लोगों की प्रतिक्रिया से खुश हैं। अभय ने इस फिल्म में एक नक्सली की भूमिका निभाई है। अभय ने कहा, ''मैं बड़ा उत्सुक हूं। मुझे खुशी है कि लोगों ने इस फिल्म की झलकी को पसंद किया है। यह फिल्म काफी भव्य प्रतीत होती है। हम इसे लेकर काफी उत्सुक हैं।ÓÓ 'चक्रव्यूहÓ के माध्यम से झा ने देश की नक्सली समस्या को दिखाने का प्रयास किया है। फिल्म में अभय के अलावा अर्जुन रामपाल, ईशा गुप्ता, मनोज वाजपेयी, कबीर बेदी और ओम पुरी ने काम किया है।
मैं नक्सलियों से मिल चुका हूं : नक्सल आधारित फिल्म चक्रव्यूह का निर्माण कर रहे फिल्मकार प्रकाश झा का कहना है कि वह नक्सलियों से मिल चुके हैं। प्रकाश का कहना है कि इस फिल्म के जरिए उन्होंने नक्सली और सरकार दोनों की स्थिति को आम जनता के बीच लाने की कोशिश की है। प्रकाश ने कहा, फिल्म में नक्सलियों के हर मुद्दे को समझने की कोशिश की गई है, उनके साथ क्या हुआ, क्यों हुआ और उनकी त्रासदी पर प्रकाश डाला गया है। अगर उनकी समस्या को खुले दिल से पहचान लिया गया तो इस समस्या का समाधान जरूर निकलेगा। चक्रव्यूह की शुरूआती झलकियां शुक्रवार रात जारी की गई हैं। प्रकाश ने कहा, हमने फिल्म के जरिये दोनों पक्षों को जनता के समक्ष रखने की कोशिश की है। प्रकाश झा नक्सलियों के सामाजिक समानता के सिद्धांत का समर्थन करते हैं। हालांकि वे नक्सलियों के अपने उद्देश्य को हासिल करने के लिए अपनाए जाने वाले तरीके का समर्थन नहीं करते। उन्होंने कहा, मैं सालों से नक्सलियों से मिलता रहा हूं। वह हम जैसे ही हैं। वह बगैर किसी वर्ग का एक समान समाज चाहते हैं, जिसका मैं समर्थन करता हूं। लेकिन लक्ष्य को हासिल करने के उनके तरीके का मैं समर्थन नहीं करता। इस फिल्म की शूटिंग बिहार में की गई है, जिसे 57 दिन में पूरा किया गया है। 24 अक्टूबर को प्रदर्शित हो रही इस फिल्म में अर्जुन रामपाल, अभय देओल, मनोज वाजपेयी, कबीर बेदी, ईशा गुप्ता, अंजलि पाटिल और ओम पुरी जैसे कलाकार हैं।

शेखर-अध्ययन एक साथ

फिल्मकार निखिल टोंक ने शेखर सुमन और उनके पुत्र अध्ययन के साथ मिलकर फिल्म बनाने की इच्छा जाहिर की है। टोंक की अगली फिल्म भंवरी देवी पर आधारित होगी। टोंक ने कहा, ''हमने अपनी फिल्म के लिए शेखर के साथ संपर्क किया है। हम चाहते हैं कि वह उस ठाकुर की भूमिका अदा करें, जिसने भंवरी का बलात्कार किया था। हम चाहते हैं कि अध्ययन उस युवक की भूमिका निभाएं, जिसे भंवरी ने बेवकूफ बनाया था। मैं भी इस फिल्म में अभिनय कर रहा हूं।ÓÓ टोंक अब तक टेलीविजन के लिए कार्यक्रम बनाते रहे हैं और भंवरी पर आधारित फिल्म उनकी पहली फीचर फिल्म होगी। इससे पहले कहा जा रहा था कि टोंक ने इस फिल्म में भंवरी के किरदार के किसी 'एÓ वर्ग की अभिनेत्री के साथ संपर्क किया है, लेकिन अंतत: उन्होंने इसके लिए टीवी अदाकारा सारा खान को साइन कर लिया।


13.3 लाख पाउंड की कमाई
फुटबॉल स्टार डेविड बेकहम ने पिछले साल स्पॉन्सरशिप से 13.3 लाख पाउंड की भारी भरकम रकम की कमाई की थी। सन ऑनलाइन की रिपोर्ट के अनुसार, 37 वर्षीय बेकहम पिछले महीने लंदन 2012 के उद्घाटन समारोह में ओलंपिक मशाल को लेकर आए थे। अरमानी, एडीडास, सैमसंग और डायट कोक जैसे ब्रांड का प्रचार चेहरा होने के कारण बेकहम ने एक दिन में करीब 36,000 पाउंड की कमाई की। वर्ष 2010 में विज्ञापन से उन्होंने करीब 14.9 लाख पाउंड की कमाई की थी, जिसमें से 11.6 लाख पाउंड उनके हिस्से में आए थे। इसके साथ ही डेविड अपनी पत्नी विक्टोरिया के साथ साझे कारोबार में भी लाखों कमा चुके हैं। यह कमाई उनके इत्र और पोशाकों की शृंखला से हुई। इस तरह के आंकड़े यह साफ दर्शाते हैं कि बेकहम आज भी एक ब्रांड हैं। भले ही वे फुटबॉल से रिटायरमेंट के करीब हों, लेकिन आज भी उनका जादू बरकरार है।

शादी में व्यस्त
गायक जस्टिन टिम्बरलेक से सगाई कर चुकी अभिनेत्री जेसिका बेल का कहना है कि वह इन दिनों अपनी शादी की योजना में बहुत व्यस्त हैं। वेबसाइट 'शोबिजस्पॉय डॉट कॉमÓ के मुताबिक, टिम्बरलेक ने पिछले वर्ष क्रिसमस के मौके पर जेसिका के सामने शादी का प्रस्ताव रखा था और दोनों इस वर्ष के अंत तक शादी के बंधन में बंध जाएंगे। वेबसाइट के मुताबिक 30 वर्षीया जेसिका ने कहा, ''यह बहुत रोमांचक है, लेकिन इसके लिए समय निकालना कठिन है! यह लुत्फ उठाने का अच्छा समय है।ÓÓ


सारा देगी टक्कर
करीना के ब्वॉयफ्रेंड सैफ अली खान और उनकी पहली पत्नी अमृता सिंह की बेटी सारा अली खान जल्द ही बॉलीवुड में डेब्यू करने वाली हैं। सारा बेहद कमसीन हैं और उनकी उम्र बमुश्किल 16 साल है। बावजूद इसके उनके सामने निर्माताओं और निर्देशकों की लंबी लाइन लगी हुई है। माना जा रहा है कि सारा की पहली फिल्म लव स्टोरी पर आधारित होगी। टॉप पर पहुंचने की खातिर कैटरना कैफ और प्रियंका चोपड़ा से लोहा ले रहीं बेबो मतलब करीना कपूर को अब सैफ की बेटी सारा से भी जूझती नजर आ सकती हैं। खासकर जब से सारा की फोटो लाइफ स्टाइल मैगजीन हैलो के कवर पृष्ठ पर छपी है, तब से वह बॉलीवुड में चर्चा का विषय बन गई हैं। छोटे नवाब जहां बेबो संग अपनी दूसरी शादी की तैयारी में जुटे हैं, वहीं अमृता अब करीना की चमक फीकी करने में जुट गई हैं। अपनी होने वाली सौतन को सबक सिखाने के लिए अमृता ने अपनी बेटी को हथियार बनाया है। इसके लिए वह नई प्रतिभाओं को मौका देने के लिए मशहूर यशराज फिल्मस के लोगों से बात भी कर रही हैं। इसके अलावा अमृता खुद भी यशराज फिल्म्स के बैनर तले बनने वाली फिल्म औरंगजेब से अपनी नई पारी की शुरुआत करने जा रही हैं।


चुनिंदा गाने गाऊंगा

बॉलीवुड में लम्बा अरसा बिता चुके गायक सोनू निगम ने कहा कि वह अब सिर्फ चुनिंदा गाने गाना चाहते हैं। एक से बढ़कर एक हिट गाना गाने वाले सोनू ने कहा कि वह प्रत्येक गाने को अपनी आवाज नहीं देना चाहते। सोनू ने शिरीष कुं दर की जोकर में टाइटल ट्रैक गाया है। उन्होंने कहा, पिछले पांच वर्षों के दौरान मैंने स्वयं को पूरी तरह से नियंत्रित किया है। मेरा मानना है कि किसी को ऐसे व्यक्तियों के साथ काम करना चाहिए, जहां अच्छा काम एवं सम्बंध हों। सोनू ने कहा, इसीलिए मैं अच्छे लोगों के साथ काम कर रहा हूं, जिनसे मेरा सम्बंध गहरा है। मैंने कैरियर की शुरुआती अवस्था वाली असुरक्षा को एक तरफ रख दिया है। अब मैं आरामदायक, सुरक्षित एवं शांतिपूर्ण जीवन व्यतीत कर रहा हूं। वर्तमान दौर में द्विअर्थी गानों के बढ़ते प्रचलन को सोनू नया नहीं मानते हैं। उन्होंने कहा, यहां तक कि मैंने भी द्विअर्थी बोल वाले गाने गाए हैं, लेकिन वह मेरे संघर्ष का शुरुआती दौर था।


हिम्मतवाला का लाइव प्रसारण
फिल्म निर्देशक साजिद खान ने अपनी आने वाली फिल्म हिम्मतवाला के प्रमोशन के लिए एक बिल्कुल नया तरीका खोजा है। साजिद ने फिल्म को प्रमोट करने के लिए फिल्म के मुहूर्त को वीडियो साइट यू-ट्यूब पर लाइव दिखाने का फैसला किया है। फिल्म की शूटिंग 22 अगस्त से हैदराबाद स्थित रामोजी राव स्टूडियो में शुरू होगी। इस बाबत साजिद ने कहा कि मैं चाहता था कि दर्शक फिल्म से खुद को जुड़ा हुआ महसूस करें। तब मैंने इसे लाइव दिखाने का फैसला किया। उन्होंने बताया कि कोई भी दर्शक 22 अगस्त के दिन यू-ट्यूब पर दोपहर एक बजे फिल्म लाइव मुहूर्त देख सकेगा। मुहूर्त के दौरान अजय देवगन और फिल्म की हीरोइन जरीना वहाब भी मौजूद रहेंगी।