रविवार, 30 दिसंबर 2012

पश्चिम बंगाल में अधेड़ महिला की सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या


पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना में एक अधेड़ महिला की सामूहिक बलात्कार के बाद हत्या करने का मामला सामने आया है.
जिले के जगन्नाथपुर में एक अधेड़ महिला के साथ कथित तौर पर छह लोगों ने सामूहिक बलात्कार किया और उसकी हत्या कर दी.
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक भास्कर मुखर्जी ने बताया कि महिला के बेटे अलफाज अली ने शनिवार रात बारासात पुलिस थाने में एक एफआईआर दर्ज करायी कि उसकी मां के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया और उसकी हत्या कर दी गयी तथा उसके पिता को जहर दिया गया और वह अभी गंभीर रूप से बीमार हैं.
ईंट भट्टे के पास पाया गया महिला का शव
मुखर्जी ने कहा कि 45 वर्षीय महिला का शव शनिवार शाम एक ईंट भट्टे के पास पाया गया. माथे पर गहरा जख्म का निशान था.
उन्होंने बताया कि यह घटना तब हुयी जब महिला ईंट भट्टे में काम करने वाले अपने पति को देखने गयी. छह लोगों ने कथित तौर पर उसके साथ उत्पीड़न किया.
पति को भी खिलाया जहर
हालांकि, उसके पति घर लौट आए और जब अपनी पत्नी को तलाश रहे थे तभी मदद के लिए उसकी आवाज सुनायी दी. जब वह वहां गए तो उनके साथ मारपीट की गयी और उन्हें जबरन जहर खिला दिया गया.
पीड़िता और उसके पति को बारासात में अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां महिला ने दम तोड़ दिया. शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है.

हिमालय क्षेत्र में आ सकते हैं भूकंप के बड़े झटके

सिंगापुर : भारत के लिए खतरे की घंटी बजाते हुए वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र में आठ से लेकर 8.5 की तीव्रता तक के भूकंप के शक्तिशाली झटकों की चेतावनी दी है। वैज्ञानिकों ने ऐसे इलाकों के लिए खासकर चेताया है जहां अब तक भूकंप के शक्तिशाली झटके नहीं आए हैं।

‘नानयांग प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय’ के नेतृत्व वाले एक अनुसंधान दल ने पाया है कि मध्य हिमालय क्षेत्रों में रिएक्टर पैमाने पर 8 से 8.5 तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आने का खतरा है।
शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा कि सतह टूटने संबंधी खोज का हिमालय पर्वतीय क्षेत्रों से जुड़े इलाकों पर गहरा असर है।

प्रमुख वैज्ञानिक पॉल टैपोनियर ने कहा कि अतीत में इस तरह के खतरनाक भूकंपों का अस्तित्व का मतलब यह हुआ कि इतनी ही तीव्रता के भूकंप के झटके भविष्य में फिर से आ सकते हैं, खासकर उन इलाकों में जिनकी सतह भूकंप के झटके के कारण अभी टूटी नहीं है।

अध्ययन में पता चला कि वर्ष 1255 और 1934 में आए भूकंप के दो जबर्दस्त झटकों से हिमालय क्षेत्र में पृथ्वी की सतह टूट गई। यह वैज्ञानिकों के पिछले अध्ययनों के विपरीत है। हिमालय क्षेत्र में जबर्दस्त भूकंप आना कोई नई बात नहीं है। 1897, 1905, 1934 और 1950 में भी 7.8 और 8.9 तीव्रता के भूकंप आए थे।

बहरहाल, वैज्ञानिक ने कहा कि उच्चस्तर की नई तस्वीरों और अन्य तकनीकों की मदद से उन्होंने पाया कि 1934 में आये भूकंप ने सतह को नुकसान पहुंचाया और 150 से अधिक किलोमीटर लंबे मैदानी भाग में दरार आ गई। वैज्ञानिकों का मानना है कि क्षेत्र में अगली बार भूकंप के जबर्दस्त झटके आने में अभी समय है।

बलात्कार पीड़ित के लिए अमिताभ की कविता


अमिताभ बच्चन अमिताभ का कहना है कि वो इस पूरे घटनाक्रम से बेहद दुखी हैं दिल्ली सामूहिक बलात्कार की शिकार लड़की की मौत पर जहां हर कोई गमजदा है, वहीं बॉलीवुड स्टार अमिताभ बच्चन ने अपने दुख को एक कविता में ढाला है. इस कविता के जरिए बिग बी ने उम्मीद जताई है कि लोगों की आंखें खुलेंगी और वो महिलाओं को सम्मान देना सीखेंगे. दिल्ली में चलती बस में बर्बर सामूहिक बलात्कार का शिकार बनी लड़की को श्रद्धांजिल देते हुए वो कहते हैं कि जब कैंडल लाइट और पुष्पांजलियां ख़त्म हो जाएंगे तो निर्भयता हृदयों में प्रज्ज्वलित होगी.
कविता
समय चलते मोमबत्तियां, जल कर बुझ जाएंगी..
श्रद्धा में डाले पुष्प, जलहीन मुरझा जाएंगे..
स्वर विरोध के और शांति के अपनी प्रबलता खो देंगे..
किंतु निर्भयता की जलाई अग्नि हमारे हृदय को प्रज्जवलित करेगी..
जलहीन मुरझाए पुष्पों को हमारी अश्रु धाराएं जीवित रखेंगी...
दग्ध कंठ से 'दामिनी' की 'अमानत' आत्मा विश्व भर में गूंजेगी..
स्वर मेरे तुम, दल कुचल कर पीस न पाओगे..
मैं भारत की मां बहन या या बेटी हूं,
आदर और सत्कार की मैं हकदार हूं..
भारत देश हमारी माता है,
मेरी छोड़ो अपनी माता की तो पहचान बनो !!

देश की प्रमुख घटनाएं -2012

2012 खत्‍म हो रहा है। देश भर में 2013 के स्‍वागत की तैयारी हो चुकी है। यह साल अपने साथ कई खट्टी मीठी यादें लेकर जा रहा है। और कई यादें तो ऐसी हैं जो काफी कड़वी हैं। इस बार जो खास देखने को मिलवा वो था, देश में हर बड़े मामले पर जन सैलाब का उमड़ना। सबसे अलग रहा। कोई भी व्‍यक्ति अपनी राय देने में पीछे नहीं उठता। अन्‍ना की क्रांति हो या केजरीवाल का प्रदर्शन या फिर दिल्‍ली गैंग रेप के विरोध में इंडिया गेट पर जन सैलाब। जो एक खासियत देखने को मिली इस साल वो है बिना किसी लालच के जन सैलाब का उमड़ना। जन सैलाब आता है तो वो कोई पार्टी उसे पैसा देकर नहीं लाती है। लोग अब बिना लालच आते हैं। क्‍योंकि देश अब ऊब चुका है, रोज रोज के घोटालों से, रोज रोज के बलात्‍कार और हत्‍याओं से और नेताओं की भाषण बाजी से। देश अब चाहता है ऐक्‍शन। उम्‍मीद है 2013 में हमारे देश की सरकार कोई ऐक्‍शन लेगी। ऐक्‍शन सिर्फ बलात्‍कारियों के खिलाफ नहीं चाहिये। हर क्षेत्र में अब कार्यवाही जरूरी हो गई है। उम्‍मीद करेंगे कि नये साल में देश नई उन्‍नति की ओर बढ़ेगा।

गृहमंत्रालय में कंप्‍यूटर के अंदर से हार्ड डिस्‍क चोरी 
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि नार्थ ब्लॉक में गृहमंत्रालय के कमरा नंम्बर 203 से दो और तीन जनवरी की रात उस कंप्यूटर का हार्ड डिस्क चुरा लिया गया जिसके मॉनीटर की दो महीने पहले चोरी हो गई थी। सख्त सुरक्षा व्यवस्था से लैस गृहमंत्रालय में चोरी का एक मामला दर्ज किया गया।
 
बिस्किट के लिये आदिवासी महिलाओं को नंगा नचाया 
अंडमान द्वीप में महज चंद सिक्‍कों और एकाक बिस्‍किट के लिये आदिवासी महिलाओं को विदेशी पर्यटकों के सामने करीब-करीब नंगा नचाया गया। पापी पेट के लिये विदेशी पर्यटकों के सामने नाच रहीं आदिवासी महिलाओं के वदन पर कपड़े का एक टुकड़ा भी नहीं था। पूरे घटनाक्रम का वीडियो सामने आने के बाद गृह मंत्रालय ने कड़ाई से जांच के आदेश दिये।
 
पोलियो मुक्‍त हुआ भारत
भारत पोलियो के खिलाफ जंग जीत गया। हालांकि कुछ समय तक दुनिया मान रही थी कि भारत को पोलियो के खिलाफ जंग जीतने में काफी वक्त लगेगा। 13 जनवरी को पोलियो से जंग में मिली कामयाबी को एक साल पूरा हो गया। देश में पिछले एक साल से इस खतरनाक बीमारी का कोई मामला सामने नहीं आया है। पहले माना जा रहा था कि पोलियो से छुटकारा पाने वाला भारत दुनिया का आखिरी देश होगा, लेकिन उसने इस काम को कई देशों से पहले ही कर दिखाया।
 
गूगल-फेसबुक पर केन्द्र का डंडा 
सोशल नेटवर्किंग साइटस को लेकर मचा तूफान उठा जिसके बाद गूगल और फेसबुक पर सरकार का डंडा चला। दिल्ली हाई कोर्ट ने गूगल और फेसबुक को सख्त हिदायत दी थी कि वो अपनी साइट्स से आपत्तिजनक सामग्री को हटा ले वरना उसके साथ सख्ती हो सकती है। सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स पर मुकदमा चलाने की मंजूरी दे दी। इस बाबत केंद्र ने गूगल, फेसबुक, माइक्रोसॉफ्ट समेत 21 वेबसाइट्स के खिलाफ कोर्ट में रिपोर्ट दाखिल की।
  
बाबा रामदेव पर फेंकी काली स्याही 
योग गुरू बाबा रामदेव पर राजधानी की प्रेस वार्ता में एक अज्ञात व्यक्ति ने काली स्याही फेंक दी। जिसके बाद वहां मौजूद बाबा के समर्थकों ने उस अज्ञात व्यक्ति की जमकर पिटाई कर दी। हालांकि पुलिस ने उस व्यक्ति को कब्जे में ले लिया।
  
रेलवे स्टेशन पर ब्‍लू फिल्‍म 
 भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन पर लगे 24 टीवी सेटों में अचानक ही अश्लील फिल्म चलने लगी और हर कोई जिसे जहां जगह मिली फिल्मों का मजा लेने लगे। यह फिल्म करीब 10 मिनट तक चलती रही। इस सिलसिले में एक व्यक्ति आशुतोष स्वेन को गिरफ्तार किया गया है। रेलवे पुलिस फोर्स के इंस्पेक्टर वरुण बेहरा का इस मामले में कहना है कि 'यह घटना दिन में साढ़े तीन बजे घटी। प्लेटफॉर्म, वेटिंग रूम और रिजर्वेशन सेंटर्स पर लगे सभी टीवी सेटों में अचानक ही अश्लील फिल्म की एक क्लिप चलने लगी। यह करीब 10 मिनट तक चलती रही।'
सलमान रुश्‍दी नहीं आये राजस्‍थान 
तमाम अटकलों के बाद विवादास्पद लेखक सलमान रश्दी ने सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए जयपुर साहित्य महोत्सव में शामिल होने के लिहाज से प्रस्तावित अपनी भारत यात्रा को रद्द कर दिया!
 
शार्ट्स..स्कर्ट..पैंट के बाद साड़ी हुई ग्लोबल 
भारतीय परिधान अब वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बना रहा है। टॉक शो होस्ट ओपरा विन्फ्रे और पॉपस्टार लेडी गागा अपने हालिया दौरे पर साड़ी में नजर आयीं। शार्ट्स..स्कर्ट..पैंट के बाद साडी भी हुई ग्लोबल हो गई। लंदन कॉलेज ऑफ फैशन की छात्रा रह चुकी दिल्ली की सान्या धीर युवतियों और आधुनिक महिलाओं को ध्यान में रखते हुए कस्टम साडि़यों का एक कलेक्शन लांच किया।
 
छात्रों को मुफ्त में 'आकाश टैबलेट' 
केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने देश भर के छात्रों को पंद्रह सौ रुपये की लागत वाला 'आकाश' टैबलेट मुफ्त में दिया जाने का ऐलान किया। इसकी लागत के साढ़े सात सौ रुपये सरकार देगी, बाकी साढ़े सात सौ रुपये का खर्च स्कूल वहन करेंगे। वह शकूरपुर ग्रामीण क्षेत्रके श्रीनगर में रेलवे अंडरब्रिज के शुभारंभ के अवसर पर बोल रहे थे।
  
कर्नाटक विधानसभा में ब्‍लूफिल्‍म
 कर्नाटक सरकार के तीन मंत्री विधानसभा में बैठकर अश्लील फिल्में देख रहे थे और आपस में अश्लील बातों का आनंद उठा रहे थे, इन बातों ने एक बाऱ फिर से भाजपा के लिए मुश्किलें बढ़ा दी। इन मंत्रियों को तत्‍काल निलंबित कर दिया गया।
 
ठंडा पड़ा स्पीक एशिया 
2011 में जिस स्‍पीक एशिया ने पूरे भारत में लोगों को अपने जाल में फंसा लिया था। उसका जोश फरवरी में तब ठंडा पड़ गया जब सुप्रीम कोर्ट ने ऐक्‍शन लिया। सुप्रीम कोर्ट ने स्पीक एशिया को निवेशकों के पैसे कोर्ट के पास जमा करने का आदेश दिया। स्पीक एशिया पर आरोप है कि उसने निवेशकों से 1300 करोड़ रुपये ठगे थे।
  
इजराइली दूतावास की कार पर बम से हमला 
राजधानी में औरंगजेब रोड पर प्रधानमंत्री आवास से महज 500 मीटर दूरी पर इजराइली दूतावास की कार में धमाका हुआ। इस धमाके में कोई हताहत तो नहीं हुआ, लेकिन देश की सुरक्षा पर सवाल जरूर खड़े कर दिये।
 
गुजरात के जूनागढ़ मंदिर में भगदड़ 
गुजरात के जूनागढ़ मंदिर में फरवरी माह में दुखद हादसा हुआ। यहां के भवनाथ मंदिर में महाशिवरात्रि का मेला लगा हुआ था। लेकिन अचानक भगदड़ मच गयी। जिसमें 6 लोगों की मौत हो गयी और 24 से ज्यादा लोग घायल हो गये। आपको बता दें भवनाथ मंदिर में हर साल शिवरात्रि पर एक भव्य मेला लगता है जिसे देखने के लिए भारी संख्या में लोग पहुंचते हैं। इस बार भी पांच लाख से ज्यादा लोग इसे देखने आये थे।
 
अखिलेश यादव बने यूपी के मुख्‍यमंत्री 
उत्‍तर प्रदेश विधानसभा के नतीजे आये, जिसमें समाजवादी पार्टी ने 224 सीटों के साथ बहुमत हासिल किया। सपा की सरकार में अखिलेश यादव मुख्‍यमंत्री बने।
 
धनी महिलाओं की लिस्ट में सोनिया गांधी 
अमेरिकी वेबसाइट ' बिजनेस इनसाइडर ' ने दुनिया के सबसे अमीर राजनेताओं की लिस्ट में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी चौथे नंबर पर रहा। इस लिस्ट में हरियाणा की विधायक और जिंदल समूह की चेयरपर्सन सावित्री जिंदल को भी शामिल किया गया।
 
वीके सिंह के राज में कई राज लीक हुए 
भारतीय सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह के राज में कई राज लीक हुए जिसमें एक रिश्‍वत कांड रहा। उन्‍होंने एक राज तो खुद खोला जिसमें उन्‍हें 14 करोड़ रुपये की रिश्‍वत की पेशकश की गई थी।
  
निर्मल बाबा की धोखाधड़ी 
हजारों लोगों पर अपना प्रभाव छोड़ने वाले निर्मल बाबा पर 1000 करोड़ रुपये सिर्फ धोखाधड़ी से कमाने का आरोप लगाया गया।
 
एलेक्‍स पॉल मेनन का अपहरण 
अप्रैल में छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के कलेक्टर एलेक्‍स पॉल मेनन का अपहरण किया गया। करीब डेढ़ हफ्ते बाद उन्‍हें रिहा किया गया।
 
आसिफ अली जरदारी भारत आये 
पाकिस्‍तान के राष्‍ट्रपति आसिफ अली जरदारी अपनी निजी यात्रा पर भारत आये और दिल्‍ली से सीधे अजमेर गये। उन्‍होंने वहां सलीम चिश्‍ती की दरगाह पर मत्‍था टेका।
 
अग्नि 5 मिसाइल का परीक्षण्‍ा 
भारत ने अपनी सबसे बड़ी मिसाइल अग्नि 5 का परीक्षण किया जिसके बाद पाकिस्‍तान और चीन के होश उड़ गये। इस मिसाइल की मारक क्षमता 5000 किलोमीटर है। जबकि चीनी वैज्ञानिकों का दावा है कि इसकी क्षमता 7000 से ज्‍यादा हो सकती है।
 
राजा की जमानत 
 2जी स्‍पेक्‍ट्रम के मुख्‍य आरोपी ए राजा की जमानत हो गई। यानी एक और घोटाला 2012 में ठंडे बस्‍ते में चला गया। इस जमानत से कई घोटालेबाज मंत्रियों के हौंसले बुलंद हो गये।
 
सचिन तेंदुलकर बने सांसद 
 जून के पहले सप्‍ताह में सचिन तेंदुलकर को राज्‍य सभा का सांसद चुना गया। वो नॉमिनेटेड सदस्‍य के रूप में सदन में आये।
 
अबु जुंदाल की गिरफ्तारी
 दिल्‍ली पुलिस ने जून में अबु जुंदाल को गिरफतार किया। अबु जुंदाल का 26/11 हमलों में बड़ा हाथ है।
 
दारा सिंह चल बसे 
 12 जुलाई 2012 को फिल्‍म अभिनेता दारा सिंह का निधन हो गया।
 
राजेश खन्‍ना का निधन 
18 जुलाई 2012 को राजेश खन्‍ना का निधन हो गया। वो बॉलीवुड के पहले सुपरस्‍टार थे।
 
प्रणब मुखर्जी राष्‍ट्रपति बने 
जुलाई में हुए राष्‍ट्रपति चुनाव में सभी सांसदों ने सर्वसम्‍मति से प्रणब मुखर्जी को देश का राष्‍ट्रपति चुना। वो देश के 13वें राष्‍ट्रपति हैं।
 
पुणे में बम धमाके 
पुणे में पांच जगह धमाकों से फैली दहशत महाराष्‍ट्र के पुणे शहर में जेएम रोड पर पांच अलग-अलग जगह धमाके हुए। ये धमाके तीन किलोमीटर के दायरे में हुए। धमाकों का कारण नहीं पता चला है, लेकिन बताया जा रहा है कि कम तीव्रता वाले बम हैं, जो दहशत फैलाने के उद्देश्‍य से किये गये। महाराष्‍ट्र पुलिस के मुताबिक एक धमाका बाल गंधर्व चौक पर हुआ और बाकी के दो धमाके इसी से लगी जेएम रोड पर। मौके पर बम निरोधक दस्‍ते पहुंच गये हैं।
 
गुर्जरों ने तोड़ी 1100 साल पुरानी परंपरा 
गुर्जरों ने 1100 साल पुरानी परंपरा को तोड़कर खुद को दकियानुसी की जंजीरों से मुक्त कर लिया है। गुर्जरों में नागर, चंदीला और अधाना गोत्र के लोग आपस में शादी नहीं करते थे। यह रवायत हजार साल से भी ज्यादा पुरानी बताई जाती है। गुर्जर मध्य एशिया के कॉकस क्षेत्र (अभी के आर्मेनिया और जॉर्जिया) से भारत आए थे। लेकिन इनकी रवायत हमेशा मजबूत बनी रही।
 
गीतिका शर्मा आत्‍महत्‍या कांड 
हरियाणा की एयरहोस्‍टेस गीतिका शर्मा ने दिल्‍ली में आत्‍महत्‍या कर ली। अपने सुसाइड नोट में उसने हरियाणा के नेता गोपाल कांडा का नाम लिया। गोपाल कांडा के साथ उनके रिश्‍तों का भी खुलासा हुआ। इस केस के बाद कांडा की जमकर किरकिरी हुई।
 
वर्कप्‍लेस पर यौन शोषण रोकने वाला बिल 
कोयला ब्‍लॉक आवंटन मसले पर जारी भारी हंगामे की बीच सोमवार को लोकसभा में वर्कप्लेस पर महिलाओं का यौन शोषण रोकने संबंधी बिल पारित कर दिया गया जो घरेलू नौकरानी के रूप में काम करने वाली महिलाओं पर भी लागू होगा। महिला और बाल विकास मंत्री कृष्णा तीरथ ने ये विधेयक सदन में पेश किया। खैर अभी इस बिल को राज्‍यसभा से पारित होना शेष है। इस प्रस्‍ताव में लैंगिक टिप्‍पणी या किसी भी तरह से शारीरिक लाभ उठाने अथवा गलत तरीके से छूने को अपराध की श्रेणी में शामिल किया गया है।
 
वाशिंगटन पोस्‍ट ने मनमोहन पर की टिप्‍पणी 
 भ्रष्‍टाचार के मामले पर लगातार आलोचला झेल रहे प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर अब अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्‍ट ने भी निशाना साधा। अखबार ने मनमोहन सिंह के बारे में लिखा है कि उनकी साख में गिरावट आई है। वाशिंगटन पोस्‍ट ने सिंह को भ्रष्‍ट सरकार का मुखिया करार देते हुए कहा कि 79 वर्षीय सिंह पूरी दुनिया में अपनी अच्‍छी छवी के कारण जाने जाते थे, लेकिन वह भारत के लिए बेअसर साबित हो रहे है। इससे पहले टाइम मैगजीन ने भी प्रधानमंत्री की आलोचना की थी।
 
पटाखा फैक्‍ट्री में भयंकर आग
31 की मौत 5 तमिलनाडु के सिवकासी इलाके में एक पटाखा फैक्‍ट्री में आग लगने से 31 लोगों की मौत हो गई। इसमें 40 से भी ज्‍यादा लोग जख्‍मी हुए।
 
चांद की फिजा की संदिग्‍ध मौत 
 हरियाणा के पूर्व उपमुख्‍यमंत्री चद्र मोहन उर्फ चांद मोहम्‍मद की पत्‍नी अनुराधा बाली उर्फ फिजा की उनके घर में संदिग्‍ध मौत हुई। उनका शव कई दिनों तक घर में सड़ता रहा।
  
कोलगेट घोटाला 
इस साल एक नया घोटाला सामने आया। नाम था कोयला घोटाला, जिसे लोगों ने कोलगेट का भी नाम दिया। यह अब तक का सबसे बड़ा घोटाला माना जा रहा है। फिलहाल जांच जारी है।
 
टूट गये अन्‍ना और केजरीवाल के रिश्‍ते 
जनलोकपाल की मांग को लेकर एक मंच से देश में क्रांति की लहर दौड़ाने वाले अन्‍ना हजारे और अरविंद केजरीवाल की राहें आज अलग-अलग हो गईं। दिल्‍ली में इंडिया अंगेस्‍ट करप्‍शन के अहम कार्यकर्ताओं के साथ हुई बैठक के बाद इस बात का ऐलान कर दिया गया। साफ शब्‍दों में ऐलान करते हुए अन्‍ना हजारे ने कहा कि अरविंद केजरीवाल को राजनीतिक पार्टी बनाना है तो बिल्कुल बनाएं लेकिन इस पार्टी में वो नहीं रहेंगे और न ही वो पार्टी के लिए चुनाव प्रचार करने जाएंगे। अब से अरविंद से उनका कोई नाता नहीं।
 
केजरीवाल ने बनाई आम आदमी पार्टी 
सामाजिक कार्यकर्ता अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी बनायी। अब वो इंडिया अगेंस्‍ट करप्‍शन से पूरी तरह अलग हो गये।
 
औरत पुरानी होने पर मजा कम हो जाता है: 
श्रीप्रकाश कहते हैं देश की राजनीति बहुत गंदी हो चुकी है, गंदे लोगों से भरी हुई है। इस बात से इतर जाकर सोचने के प्रयास करें भी तो कैसे, जब श्रीप्रकाश जायसवाल जैसे लोग केंद्र में मंत्री पद पर बैठे हों। आपको शायद यह सुनकर हैरानी नहीं होगी कि कोयला मंत्री औरतों को महज भोग की वस्‍तु समझते हैं। शायद इसीलिये उनके दिमाग की गंदगी एक कवि सम्‍मेलन में बाहर आ गई। उन्‍होंने कहा, "नई नई जीत और नई नई पत्‍नी का जश्‍न सब मनाते हैं। जैसे जैसे समय बीतेगा, जीत पुरानी होती जाती है, जैसे जैसे समय बीतता है पत्‍नी पुरानी होती जाती है, वो मजा नहीं रहता है।"
 
रॉबर्ट वाड्रा और डीएलएफ 
इंडिया अगेंस्‍ट करप्‍शन के कार्यकर्ता और अन्‍ना हजारे से अलग होने के बाद अभी-अभी राजनीति में कदम रखने वाले अरविंद केजरीवाल ने प्रियंका गांधी के पति व सोनिया गांधी के दामाद रॉबर्ट वाड्रा पर सनसनीखेज आरोप लगाया। केजरीवाल ने कहा कि वाड्रा ने चार सालों में लगभग 300 करोड़ की संपत्ति बनाई। केजरीवाल ने कहा कि साल 2007 से लेकर साल 2010 के बीच रॉवर्ट वाड्रा की प्रॉपर्टी 50 लाख से बढ़कर 300 करोड़ हो गई। केजरीवाल ने सीधे तौर पर आरोप लगाते हुए कहा कि वाड्रा की संपत्ति बढ़ाने में डीएलएफ की अहम भूमिका है।

70 फीसदी पंजाबी युवक नशेड़ी: 
राहुल कांग्रेस के राष्‍ट्रीय महासचिव राहुल गांधी ने पंजाब सरकार पर आरोप लगाते हूए कहा कि यह सरकार नशे का कारोबार रोकने में नाकाम साबित हुई है जिसके कारण पंजाब में 70 फीसदी युवा नशे के शिकार हैं। राहुल ने पंजाब में रैली करते हुए ये बातें कही। उन्‍होने इसके लिए राज्‍य सरकार की निंदा भी की।
 
 यश चोपड़ा का निधन 
फिल्‍म निर्माता यश चोपड़ा का 21 अक्‍टूबर 2012 को निधन हो गया। उनके निधन से बॉलीवुड में शोक की लहर दौड़ गई।

जस्‍पाल भट्टी का निधन
 25 अक्‍टूबर 2012 को एक सड़क हादसे में जस्‍पाल भट्टी का निधन हो गया।
 
गडकरी ने दाऊद की तुलना विवेकानंद से की 
एक बार फिर से भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीन गडकरी विवादों के घेरे में है। भ्रष्टाचारों के आरोप में घिरे गडकरी ने एक नयी बहस को जन्म दिया है। नीतीन गडकरी ने अन्डरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम और आध्यात्मिक संत विवेकानंद की तुलना करके अपने को आरोपों के कटघरे में खड़ा कर लिया है।
 
छठ पूजा के दौरान भगदड़, 21 की मौत 
साल के सबसे बड़े त्‍योहार छठ पर्व पर बिहार के लोग साल भर की खुशियां मांगने गये थे, लेकिन अचानक हुई भगदड़ ने उन्‍हें जिंदगी भर का गम दे दिया। जी हां छठ पर्व पर सूर्य को अर्घ देते वक्‍त पटना में गंगा नदी के किनाने सोमवार की शाम भगदड़ मच गई, जिसमें 21 लोगों की मौत हो गई। वहीं 100 से ज्‍यादा लोग घायल हुए हैं। मृतकों में 9 बच्‍चे थे।
 
दो कौड़ी के नाटककार थे टैगोर: 
कर्नाड मशहूर लेखक और अभिनेता गिरीश कर्नाड ने विश्वप्रसिद्द कवि रविंद्र नाथ टैगोर पर विवादित बयान दिया। कर्नाड ने टैगोर को दो कौड़ी और दोयम दर्जे का नाटककार बताया है। कर्नाड ने यह बात बेंगलुरु में पत्रकारों से बात करते हुए कही।


2014 के लिये कांग्रेस के कप्‍तान बने राहुल गांधी
कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी को आखिरकार बड़ी जिम्‍मेदारी दे ही दी गई। कांग्रेस पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2014 के लिये राहुल बाबा को टीम का कप्‍तान नियुक्‍त किया है। कांग्रेस को चुनाव जिताने के लिये राहुल के असिस्‍टेंट के रूप में काम करेंगे वरिष्‍ठ नेता अहमद पटेल, जनार्दन द्विवेदी, दिग्विजय सिंह, मधुसुधन मिस्‍त्री और जयराम रमेश। राहुल के अंडर में तीन समूह होंगे, जिनमें से एक समूह चुनाव से पहले होने वाले गठबंधन को समन्‍वय करेगा। उसकी कमान एके एंटनी को दी गई है। एंटनी ही पार्टी का घोषणा पत्र तैयार करने वाली कमेटी और सरकारी कार्यक्रमों की कमेटियों का नेतृत्‍व करेंगे।
 
पोंटी चढ्ढा और भाई ने एक दूसरे को गोली से उड़ाया 
17 शराब के बड़े कारोबारी पोंटी चढ्ढा ने और उनके भाई ने शनिवार को अपने छतरपुर स्थित फार्म हाउस पर एक दूसरे को गोली से उड़ा दिया। दोनों के बीच 2500 हजार करोड़ की प्रॉपर्टी के बंटवारे को लेकर झगड़ा हुआ था। दोनों भाईयों के बीच यह झगड़ा शनिवार की सुबह हुई, जिसमें देखते ही देखते बात इतनी बढ़ गई कि दोनों ने रिवाल्‍वर निकाल ली। सबसे पहले पोंटी के भाई हरदीप चढ्ढा ने फायर किया, फिर जवाब में पोंटी ने भी। हरदीप की मौत पहले हुई और उसके बाद पोंटी भी मौके पर ही मर गये।
 
मुंबई के शेर बाल ठाकरे का निधन 
महाराष्‍ट्र की सबसे दमदार राजनीतिक पार्टी शिव सेना के प्रमुख बाल ठाकरे का शनिवार को उनके निवास स्‍थान मातोश्री में निधन हो गया। उन्‍हें फेफड़ों से संबंधित बीमारी थी। जिसके चलते उन्‍हें कई बार लीलावती अस्‍पताल में भर्ती भी कराया गया। उसके बाद उनका इलाज घर पर ही चल रहा था। शाम करीब 4:55 बजे ठाकरे के डॉक्‍टर डा. जलील ने बाहर आकर मीडिया को जानकारी दी।
ठाकरे के निधन के बाद फेसबुक बवाल शाहीन ने बाल ठाकरे के देहान्‍त पर महाराष्‍ट्र में हुए बन्‍द पर अपने फेसबुक अकाउंट पर लिखा था कि 'भारत में हर रोज सैंकड़ों लोग जन्‍म लेते हैं और मृत्‍यु को प्राप्‍त होते हैं। ऐसे में इस प्रकार का बन्‍द कितना सही है।' इस कमेंट को उसकी सहेली रेणु ने लाइक किया था। जिसके बाद दोनों को ही पुलिस ने धारा 295(ए) और आईटी एक्‍ट 2000 की धारा के तहत गिरफ्तार कर लिया था। इस पर बड़ा बवाल हुआ।

आतंकी अजमल कसाब को फांसी दी गयी 
 मुंबई आंतकी हमलों में पकड़े गये मुख्य आरोपी अजमल कसाब को फांसी दे दी गयी है। टीवी चैनलों पर आ रही खबर के मुताबिक सुबह साढ़े सात बजे पूने के जेल में कसाब को फांसी दी गयी। मालूम हो कि कसाब की मर्सी अपील को मंगलवार को प्रणब मुखर्जी ने खारिज कर दिया था जिसके बाद ही कसाब को पुणे के यरवदा जेल में शिफ्ट कर दिया गया था।
 
गुजराल का निधन 
 पूर्व प्रधानमंत्री आईके गुजराल का इस साल निधन हो गया।
 
सबसे ज्‍यादा गरीब यूपी-बिहार में
सबसे ज्‍यादा गरीब यूपी-बिहार में गुजरात, कर्नाटक और आंध्र प्रदेश जैसे कई राज्‍य प्रगति के पथ पर अग्रसर हैं, जबकि उत्‍तर प्रदेश के हालात जस के तस हैं। बात अगर गरीबों की की जाये तो देश में सबसे ज्‍यादा गरीब उत्‍तर प्रदेश में हैं। वहीं दूसरे स्‍थान पर बिहार और फिर महाराष्‍ट्र। योजना आयोग की ताज़ा रिपोर्ट के मुताबिक उत्‍तर प्रदेश में सबसे ज्‍यादा 737.91 लाख लोग करीबी रेखा से नीचे हैं, जबकि सबसे कम 1000 गरीब अंडमान-निकोबार में हैं। योजना आयोग की रिपोर्ट के अनुसार दूसरे स्‍थान पर बिहार है, जहां 543.50 लाख लोग हैं, जबकि तीसरे स्‍थान पर महाराष्‍ट्र है, जहां 270.75 लाख लोग गरीब हैं।
 
एचआईवी के सबसे ज्‍यादा मरीज महाराष्‍ट्र में
एचआईवी एड्स जैसी गंभीर व लाइलाज बीमारी से लड़ने के लिये पूरे विश्‍व में तमाम अभियान चलाये जा रहे हैं, लेकिन सफलता नाम मात्र है। भारत की बात करें तो यहां एड्स के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। यहां सबसे ज्‍यादा एचआईवी एड्स के केस (13107) महाराष्‍ट्र में दर्ज हुए हैं। वहीं दूसरे नंबर पर आंध्र प्रदेश है। अगर पिछले वर्षों से तुलना करें तो संख्‍या लगातार बढ़ रही है। 209-10 में 246,627 केस पूरे देश में आये, जबकि 2010-11 में यह संख्‍या बढ़कर 320,114 रही। इस साल अप्रैल से लेकर दिसंबर तक 275,377 केस आ चुके हैं।
 
दिल्‍ली में गैंग रेप 
16 दिसंबर को दिल्‍ली में गैंग रेप हुआ जिसके बाद देश भर में गुस्‍सा व्‍याप्‍त हो गया। इस गुस्‍से की आग अभी ठंडी नहीं हुई है। और लगता है कि यह आग 2013 में भी ठंडी नहीं होगी, क्‍योंकि अब वो समय आ गया है, जब बलात्‍कारियों को सजा दी जाये।
 
नरेंद्र मोदी बने मुख्‍यमंत्री 
 गुजरात विधानसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी ने जीत की हैट्रिक लगायी। उन्‍होंने तीसरी बाद मुख्‍यमंत्री पद पर कब्‍जा किया। हालांकि मोदी मुख्‍यमंत्री चौथी बार बने हैं।

वीरभद्र बने हिमाचल के मुख्यमंत्री

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता वीरभद्र सिंह रिकॉर्ड छठी बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बन गए हैं। मंगलवार को उन्होंने 20 हजार से अधिक समर्थकों की उपस्थिति में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ नौ और विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली। हिमाचल प्रदेश की राज्यपाल उर्मिला सिंह ने एक समारोह में 78 वर्षीय वीरभद्र को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। उन्होंने हिन्दी में शपथ ली। वीरभद्र वर्ष 1983, 1985, 1993, 1998 और वर्ष 2003 में यहां के मुख्यमंत्री रहे। इस दौरान वह 16 वर्षों से अधिक समय तक इस पर्वतीय राज्य के मुख्यमंत्री रहे।



































































देश की 'एक बहादुर बेटी' का हुआ अंतिम संस्‍कार


दिल्‍ली में जघन्‍य वारदात का शिकार हुई देश की 'एक बहादुर बेटी' का अंतिम संस्‍कार कर दिया है. मर्माहत लोगों ने उसे नम आंखों से अंतिम विदाई दी.
परिजनों की इच्‍छा का सम्‍मानदिल्‍ली में गैंगरेप का शिकार हुई लड़की के परिवार वालों की इच्‍छा के मुताबिक ही अंतिम संस्‍कार रविवार सुबह ही कर दिया. समझा जाता है कि परिवार की पहचान जाहिर न हो, इस वजह से ही अंतिम संस्‍कार का निर्णय तड़के ही करने का निर्णय लिया गया.
शवदाह गृह में अंतिम संस्‍कारलड़की का पार्थिव शरीर महावीर एन्क्लेव स्थित उसके आवास ले जाया गया और धार्मिक रस्में पूरी की गईं. इसके बाद उसे द्वारका सेक्टर 24 स्थित शवदाह गृह ले जाया गया.
अंतिम संस्‍कार के वक्‍त गृह राज्‍यमंत्री भी मौजूद
अंतिम संस्‍कार के समय परिवार के 6-7 सदस्‍य मौजूद थे. गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह, पश्चिमी दिल्ली के सांसद महाबल मिश्रा, दिल्ली बीजेपी प्रमुख विजेन्द्र गुप्ता भी अंतिम संस्कार के समय श्मशान घाट में मौजूद थे. श्मशान घाट में मीडिया को जाने की अनुमति नहीं दी गई थी. 
रविवार सुबह लाया गया पार्थिव शरीरगौरतलब है कि सिंगापुर से लड़की का पार्थिव शरीर रविवार सुबह 3.30 बजे भारत लाया गया. वैसे देश के काफी लोग उसके अंतिम संस्‍कार में शामिल होने की इच्‍छा जता रहे थे, लेकिन जानकारी के अभाव में ऐसा नहीं हो सका.
पीएम व सोनिया भी मौजूदएयर इंडिया का विशेष विमान पार्थिव शरीर को लेकर तड़के करीब साढ़े 3 बजे इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचा. विमान को हवाई अड्डे के तकनीकी क्षेत्र में ले जाया गया, जहां प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी मौजूद थे. मनमोहन सिंह और सोनिया ने लड़की के परिजनों से बात की और उन्हें ढांढस बंधाया.
विशेष विमान से लाया गया शवयुवती के शव को एक निजी अस्पताल की एम्बुलेंस से पालम तकनीकी क्षेत्र के रास्ते हवाई अड्डे से बाहर लाया गया. सिंगापुर में भारतीय उच्चायोग अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार, पीड़ित के शव को लेकर एयर इंडिया के एआईसी 380 विमान ने स्थानीय समयानुसार करीब साढ़े 12 बजे (भारतीय समयानुसार रात्रि 10 बजे) उड़ान भरी थी. पीड़ित युवती ने शनिवार तड़के चार बजकर 45 मिनट पर (भारतीय समयानुसार तड़के सवा 2 बजे) अंतिम सांस ली थी.
हालत खराब होने पर भेजा गया था सिंगापुरभारत सरकार द्वारा भेजे गए चार्टर्ड विमान में पीड़ित के परिवार के सदस्य साथ थे, जो वहां युवती को इलाज के लिए भर्ती कराए जाने के समय से ही उसके साथ थे. युवती को बेहद गंभीर हालत में सिंगापुर ले जाया गया था. दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान पीड़ित युवती के तीन आपरेशन किए गए थे. हमले के कारण उसके अंदरूनी अंगों में बहुत चोटें आई थीं. उसे इलाज के दौरान दिल का दौरा भी पड़ा और उसके मस्तिष्क में भी चोट लगी हुई थी.
आरोपियों के खिलाफ हत्‍या का केससिंगापुर में पीड़ित के दम तोड़ने के बाद पुलिस ने इस मामले में 6 आरोपियों के खिलाफ हत्या के आरोप लगाए हैं, जिसमें दुर्लभ से दुर्लभतम मामलों में मौत की सजा का प्रावधान है. पुलिस तीन जनवरी को आरोपियों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल करेगी. जांचकर्ताओं का कहना है कि वे दोषियों के लिए कड़ी से कड़ी सजा की मांग करेंगे.
गौरतलब है कि फीजियोथरेपी की छात्रा का 16 दिसंबर की रात को नृशंस तरीके से दक्षिणी दिल्ली में एक चलती बस में कथित रूप से छह लोगों द्वारा सामूहिक बलात्कार किया गया था. उसे इलाज के लिए सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था और बेहतर इलाज के लिए उसे बाद में सिंगापुर ले जाया गया था.
विरोध प्रदर्शनों का सिलसिला जारीगैंगरेप का शिकार बनी लड़की के परिजनों को इंसाफ दिलाने के लिए और मामले के दोषियों को जल्‍द सजा दिलाने के लिए दिल्‍ली समेत देश के कई भागों में विरोध प्रदर्शन जारी है.

बलात्कारियों को नपुंसक बनाने वाले कानून की मांग कर सकती है कांग्रेस


राजधानी दिल्ली में सामूहिक बलात्कार पीड़िता की मौत को लेकर आक्रोश के बीच कांग्रेस ने महिलाओं के खिलाफ अपराधों पर रोक लगाने के लिए एक कड़े कानून का प्रस्ताव करने का निर्णय किया है जिसमें बलात्कार के दुलर्भ मामलों में दोषियों को रसायनिक प्रक्रिया से नपुंसक बनाने का प्रावधान शामिल हो सकता है.
सूत्रों ने बताया कि कांग्रेसी विधेयक का अंतिम मसौदा न्यायमूर्ति जे एस वर्मा के नेतृत्व वाली उस समिति को सौंपा जाएगा जिसका गठन केंद्र सरकार ने 16 दिसंबर की दहला देने वाली घटना के बाद किया है. हालांकि कानून का मसौदा अभी तैयार नहीं हुआ है.
इस कड़े कानून के कुछ प्रावधानों में बलात्कार के दोषियों को 30 वर्ष तक की सजा और ऐसे मामलों में तीन महीने में निर्णय करने के लिए फास्ट ट्रैक अदालतों का गठन करना शामिल है.
कानून के प्रावधानों पर चर्चा कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की मौजूदगी में गत 23 दिसंबर को हुई थी जब उन्होंने सामूहिक बलात्कार की घटना के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले लोगों के एक समूह के साथ बैठक की थी.
सोनिया गांधी नीत राष्ट्रीय सलाहकार परिषद के इस पूरे प्रयास में शामिल रहने की संभावना है जिसने आरटीआई जैसे कई महत्वपूर्ण कानूनों का मसौदा तैयार किया है और उसे तैयार करने में मदद की है.
सूत्रों ने कहा कि कृष्णा तीरथ के नेतृत्व वाले महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने गत शुक्रवार को इस मुद्दे पर विभिन्न हितधारकों से लंबी बैठक की थी जिसके दौरान कई सुझाव सामने आए.
महिला एवं बाल विकास मंत्रालय मिले सुझावों का सारांश तैयार करके न्यायमूर्ति वर्मा के नेतृत्व वाली तीन सदस्यीय समिति को सौंपेगे जिसका गठन वर्तमान कानूनों की समीक्षा करने के वास्ते सिफारिशें करने के लिए किया गया है ताकि महिलाओं के खिलाफ अपराधों पर प्रभावी तरह से रोक लगायी जा सके.
सूत्रों ने कहा, ‘अभी तक कोई सरकारी मसौदा नहीं है. हम सारांश जो जे एस वर्मा समिति को सौंपेंगे वह पहला लिखित दस्तावेज होगा जिस पर नया कानून आधारित होगा.’
सोनिया ने 10 जनपथ स्थित अपने आवास पर प्रदर्शनकारियों से बैठक के दौरान बलात्कार के मामलों की सुनवायी के लिए फास्ट ट्रैक अदालतें गठित करने का समर्थन किया था जिसमें 90 दिन में फैसला सुनाने की शर्त हो.
वहीं रेणुका चौधरी ने यह कहते हुए बलात्कार दोषियों को रसायनिक प्रक्रिया से नपुंसक बनाने का कड़ा समर्थन किया था कि ऐसी सजा विभिन्न देशों में पहले से लागू है और इससे इस तरह के अपराधों पर प्रभावी रोक लगाने में काफी हद तक सफलता मिली है.
इसके साथ ही किशोर को फिर से परिभाषित करने और उनकी आयु कम करने का सुझाव दिया गया. उल्लेखनीय है कि वीभत्स बलात्कार मामले का एक आरोपी एक किशोर है और उसकी आयु 18 वर्ष से कुछ महीने कम है. इस किशोर ने पीड़िता पर अधिकतम बर्बरता की थी. एक वर्ग का विचार है कि केवल 15 वर्ष से कम आयु को किशोर बताया जाना चाहिए.
महिला एवं बाल अधिकार मंत्रालय के प्रस्ताव की कानूनी समीक्षा होगी और प्रस्ताव को गृह मंत्रालय और कानून मंत्रालय द्वारा चुस्त दुरुस्त बनाये जाने के बाद एक अध्यादेश लाया जाएगा.
सूत्रों ने बताया कि चूंकि संसद का अगला सत्र दो महीने बाद है सरकार अध्यादेश लाने पर विचार कर रही है. इस मुद्दे पर कांग्रेस कोर समूह की गत 24 और 29 दिसंबर को आयोजित होने वाली बैठकों में चर्चा हो चुकी है.

शनिवार, 29 दिसंबर 2012

'सरकार मौका दे, तीन महीने में सीन बदल दूंगी'


नई दिल्ली ।। दिल्ली गैंगरेप में पीड़ित लड़की की मौत के बाद जहां पूरा देश महिलाओं की सुरक्षा के सवाल पर अभूतपूर्व चिंता जता रहा है, वहीं पूर्व आईपीएस ऑफिसर किरन बेदी ने कहा है कि अगर सरकार उन्हें मौका देती है तो वह दिल्ली पुलिस बल को मुफ्त ट्रेनिंग देने को तैयार हैं। उन्होंने कहा, मैं गारंटी देती हूं कि तीन नहीने में सीन बदल जाएगा।

किरन बेदी ने समाचार चैनल एनडीटीवी पर अपनी इस पेशकश का ऐलान करने के बाद इस बारे में ट्वीट भी किया। उन्होंने अपनी ट्वीट में कहा, मैंने पेशकश की है... ऑनरेरी ट्रेनर बन सकती हूं दिल्ली पुलिस की.. अपराध उन्मूलन के लिए। मैं गांरटी देती हूं 90 दिन के अंदर सीन बदल जाएगा।'

किरन बेदी के इस ट्वीट पर सरकार के रुख का कोई संकेत अभी नहीं मिला है। मगर, गौरतलब है कि किरन बेदी बेहद प्रभावशाली ऑफिसर रही हैं। दिल्ली पुलिस कमिश्नर पद के लिए भी उनका नाम लिया जा रहा था, मगर जब उन्हें मौका नहीं दिया गया तो उन्होंने पुलिस सर्विस से इस्तीफा दे दिया। देश की पहली महिला आईपीएस ऑफिसर होने का गौरव भी उनके साथ जुड़ा है।

गैंगरेप : आरोपियों को तिहाड़ के अतिसुरक्षित सेल में भेजा गया

नई दिल्ली: दिल्ली में पैरा मेडिकल की 23 वर्षीय छात्रा से गैंगरेप और अब हत्या के मामले में गिरफ्तार छह लोगों में से पांच की तिहाड़ जेल में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। उन्हें जेल अधिकारियों ने एक अतिसुरक्षित सेल में भेज दिया है। इससे पहले भी जेल में दो आरोपियों की जेल में अन्य कैदियों ने जोरदार पिटाई की थी।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद पुलिस ने उन्हें अतिसुरक्षित सेल में डाल दिया है। इस मामले में गिरफ्तार छठा आरोपी एक अव्यस्क है जिसे सुधारगृह में रखा गया है।

इस लड़की के साथ दिल्ली में 16 दिसंबर की रात चलती बस में सामूहिक बलात्कार और फिर उस पर क्रूरतापूर्वक हमला किया गया था। लड़की को गंभीर हालत में चलती बस से फेंक दिया गया था।

सरकार ने उसे एयर एंबुलेन्स से सिंगापुर स्थित अंग प्रतिरोपण की अत्याधुनिक सुविधाओं वाले अस्पताल में इलाज के लिए भेजा। यहां आने से पहले पीड़ित दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती थीं, जहां तीन ऑपरेशन किए गए। वहां भी अधिकतर समय उन्हें वेन्टीलेटर पर ही रखा गया था। चोट और संक्रमण की वजह से डॉक्टरों ने उनकी आंत का बहुत बड़ा हिस्सा निकाल दिया था।

बलात्कार पीड़ित की मौत : पुश्तैनी गांव में मातम का माहौल

उत्तर प्रदेश: पूरे देश को झकझोर देने वाले दिल्ली सामूहिक बलात्कार कांड की पीड़ित लड़की की सिंगापुर में इलाज के दौरान मृत्यु की खबर से उत्तर प्रदेश के उसके पुश्तैनी गांव में शोक की लहर है और गमगीन लोगों के घरों में आज चूल्हे नहीं जले।

गांव में बलात्कार पीड़ित लड़की की मृत्यु की खबर के बाद मातम का माहौल है और घरों के चूल्हे ठंडे पड़े हैं।

करीब 13 दिन तक जिंदगी के लिये संघर्ष करने वाली उस लड़की के चाचा (परिवर्तित नाम) ने बताया कि उनकी भतीजी मुफलिसी में जी रहे अपने परिवार के लिए उम्मीद की किरण थी।

उन्होंने बताया कि बेहद गरीब परिवार में जन्मी उनकी भतीजी बहुत जहीन और संघर्षशील थी। उसकी योग्यता और लगन को देखते हुए उसके पिता रूप नारायण (काल्पनिक नाम) ने उसे ऊंची तालीम दिलाने के लिए अपना पुश्तैनी खेत भी बेच दिया था।

उन्हें पूरा यकीन था कि एक दिन उनकी बेटी परिवार को ना सिर्फ गरीबी से निकालेगी बल्कि उसे तरक्की की राह पर ले जाएगी, लेकिन वक्त के जालिम हाथों ने सभी उम्मीदों को चकनाचूर कर दिया।

गांव के ग्राम प्रधान ने बताया कि गांव में आज शोकसभा करके ‘गांव की बेटी’ की दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की। ग्रामीणों में दिल्ली बलात्कार कांड को लेकर खासी नाराजगी है और वे इसके गुनहगारों के लिए सख्त से सख्त सजा चाहते हैं।

सिंह ने कहा कि ग्रामवासियों की मांग है कि उनकी बेटी की अस्मत को तार-तार करके उसकी मौत का कारण बने लोगों को ऐसी कड़ी सजा हो, जो कुत्सित मानसिकता रखने वाले लोगों के दिलों को खौफ से भर दे और वे ऐसी वारदात अंजाम देने की सोच भी ना सकें।

हैवानियत की शिकार हुई लड़की के चाचा ने कहा कि उनके खानदान की बेटी के गुनहगारों को जब तक फांसी नहीं होती तब तक उनका परिवार न्याय के लिए संघर्ष करता रहेगा।

गौरतलब है कि गत 16 दिसम्बर को चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई 23 वर्षीय लड़की की आज तड़के भारतीय समयानुसार दो बजकर 15 मिनट पर सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ अस्पताल में मृत्यु हो गई।

सामूहिक बलात्कार की इस वारदात के विरोध में पूरा देश मानो उबल पड़ा और ऐसी घटनाओं के दोषी लोगों को मौत की सजा दिए जाने की चौतरफा मांगें की जा रही हैं।

गैंग रेप पीड़ित की मौत के बाद पहरे के बीच शांतिपूर्ण प्रदर्शन


नई दिल्ली।। सिंगापुर में गैंग रेप पीड़ित 'दामिनी' की मौत के बाद दिल्ली समेत पूरे देश में पुलिस के पहरे के बीच सैकड़ों लोग शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे हैं। सुबह से शुरू हुआ प्रदर्शनों का सिलसिला अब भी जारी है। दिल्ली में लोगों ने जंतर मंतर, तो मुंबई के जुहू में बॉलिवुड के सितारों ने कैंडल मार्च निकाला। लोग दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे हैं। उधर, इस बीच खबर यह है कि 'दामिनी' का शव देर रात भारत पहुंचेगा। इससे पहले जंतर-मंतर पर सुबह 10 बजे से ही लोगों के आने का सिलसिला शुरू हो गया था। मृतक को श्रद्धांजलि देने के बाद सभी प्रदर्शनकारी शांति से बैठे हैं। प्रदर्शनकारियों ने इंडिया गेट और रायसीना हिल्स पर जबर्दस्त सुरक्षा के खिलाफ नारेबाजी की। एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि सरकार किसी के निधन पर शोक भी नहीं जताने दे रही है। यह संवेदनहीनता है। यह पूरी तरह नाकाबंदी है। मेट्रो स्टेशन तक बंद कर दिए गए हैं

फिर रो पड़ीं जया बच्चन
बॉलिवुड ऐक्ट्रेस और एसपी सांसद जया बच्चन गैंगरेप पीड़ित युवती की मौत पर शनिवार रात मुंबई के जुहू में कैंडल मार्च के दौरान फफक-फफक कर रो पड़ीं। गौरतलब है कि जया बच्चन इससे पहले राज्य सभा में गैंगरेप पर बोलते हुए भी बेहद भावुक हो गई थीं। कैंडल मार्च में शबाना आजमी, जावेद अख्तर, मंदिरा बेदी, ओमपुरी आदि बॉलिवुड सितारे में शामिल हुए। सभी ने माथे पर काली पट्टी बांधी हुई थी।

कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक


खबर है कि पीएम हाउस में कांग्रेस कोर ग्रुप की बैठक शुरू हो गई है। बैठक में मौजूदा हालात पर बातचीत हो रही है। इस बैठक में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और सोनिया गांधी के साथ ही पार्टी के सभी प्रमुख नेता मौजूद हैं।

अंतिम संस्कार रविवार को!
दिल्ली में जारी सार्वजनिक शोक प्रदर्शन और विरोध प्रदर्शन के बीच इंडिया अगेंस्ट करप्शन की तरफ से सोशल साइट फेसबुक पर ऐलान किया गया है कि दामिनी का अंतिम संस्कार रविवार सुबह 11 बजे दिल्ली के निगमबोध घाट पर किया जाएगा। हालांकि सरकार या परिजनों की तरफ से फिलहाल इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है। दामिनी का पार्थिव शरीर लाने के लिए एक विशेष विमान सिंगापुर भेजा गया है। विशेष विमान शनिवार को दोपहर ढाई बजे सिंगापुर पहुंचा। संभावना है कि शनिवार रात में दामिनी का पार्थिव शरीर दिल्ली पहुंचेगा।

बेकार नहीं जाने देंगे दामिनी की कुर्बानीः सोनियाः
यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने दामिनी को आंसू भरी श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि उस बहादुर लड़की की मौत को हम बेकार नहीं जाने देंगे। उन्होंने कहा कि पूरे देश की भावनाएं इससे जुड़ी हुई हैं और सरकार सुनिश्चित करेगी कि दामिनी को हर हाल में और जल्द से जल्द इंसाफ मिले।

शीला दीक्षित पर फूटा लोगों का गुस्सा
करीब सवा दो बजे दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित भी जंतर-मंतर पहुंच गई। लोगों ने जैसे ही शीला दीक्षित को देखा शांति से बैठे प्रदर्शनकारी उनकी तरफ बढ़े और घेरकर नारेबाजी करने लगे। इसके बाद शीला दीक्षित वापस लौट गईं। प्रदर्शनकारियों का आरोप था कि शीला राजनीतिक फायदे के लिए जंतर-मंतर पहुंची हैं।



जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी के छात्रों ने कैंपस मुनिरका तक रैली निकाली। सैकड़ों छात्र मुनिरका में उस बस स्टॉप पर जमा हुए, जहां से रेप विक्टिम उस बस में चढ़ी थी। जेएनयू के छात्रों ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए कानून में बदलवा की। इन छात्रों ने 31 दिसंबर को फिर जमा होने का आह्वान किया ताकि मामला ठंडा न पड़े।

इंडियागेट को लोगों के लिए खोलने की मांग
इस बीच दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे से अपील की है कि प्रदर्शनकारियों को इंडिया गेट और उसके आसपास शांतिपूर्वक प्रदर्शन की इजाजत दी जाए। उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक, मुख्यमंत्री महसूस करती हैं कि इंडिया गेट और उसके आसपास शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर कोई प्रतिबंध नहीं होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने अपने नजरिए के बारे में गृह मंत्री को बता दिया है।

जंतर-मंतर पर आम आदमी पार्टी के नेता अरविन्द केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और कुमार विश्वास भी प्रदर्शनकारियों के साथ धरने पर बैठे। उनके समर्थक मुंह पर काली पटटी बांधे हुए थे। केजरीवाल ने ट्वीट किया,'रेप विक्टिम की मौत हम सभी के लिए शर्म की बात है। आइए प्रण करें कि हम उसकी कुर्बानी व्यर्थ नहीं जाने देंगे।' सामाजिक कार्यकर्ता और पूर्व आईपीएस अधिकारी किरन बेदी ने कहा कि हर पुलिसकर्मी को प्रार्थना करनी चाहिए और महिलाओं के खिलाफ अपराधों से निपटने में सामूहिक विफलता के लिए जनता से माफी मांगनी चाहिए। केजरीवाल ने सवाल किया कि क्या हम उस छात्रा की मौत के लिए जिम्मेदार नहीं हैं ? क्या हम ऐसा कुछ कर सकते हैं कि देश की आधी आबादी हमारे बीच सुरक्षित महसूस कर सके?


नई दिल्ली छावनी में तब्दील, 10 मेट्रो स्टेशन बंद
इससे पहले पीड़ित युवती की मौत की खबर मिलते ही राजधानी में सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी कर दी गई है। नई दिल्ली में धारा-144 लगा दी गई है और विरोध प्रदर्शन की आशंका को देखते हुए विजय चौक, इंडिया गेट और राजपथ पहुंचने के सभी रास्ते बंद कर दिए गए हैं। दिल्ली पुलिस ने कमाल अतातुर्क मार्ग भी बंद कर दिया है। जनता को सलाह दी गई है कि वह इन मार्गों से होकर न गुजरे। नई दिल्ली इलाके के 10 मेट्रो स्टेशनों को भी अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है। ये स्टेशन हैं- प्रगति मैदान, मंडी हाउस , बाराखंभा रोड, राजीव चौक, पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय, उद्योग भवन, रेसकोर्स रोड, जोरबाग और खान मार्केट। हालांकि, राजीव चौक और केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशनों पर इंटरचेंज (रूट बदलने की सुविधा) की अनुमति है।


दिल्ली पुलिस ने जिन रास्तों को ब्लॉक किया है, उन पर सुरक्षा बलों का भारी जमावड़ा है। राजपथ पर भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है, क्योंकि यही रास्ता इंडिया गेट को रायसीना हिल्स से जोड़ता है। आज शनिवार है और अधिकांश ऑफिस बंद रहते हैं। पुलिस को आशंका है कि विरोध-प्रदर्शन के लिए लोग भारी संख्या में सड़कों पर निकल सकते हैं। मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री निवास के आसपास भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पुलिस को आशंका है कि लोग गुस्से में वीवीआईपीज़ के घरों को निशाना बना सकते हैं।

इंडिया गेट के आसपास के इलाकों में चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल तैनात किया गया है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि जिन स्टेशनों को बंद किया गया है, वे या तो इंडिया गेट या फिर रायसीना हिल्स के करीब हैं। इन्हीं दो जगहों पर पिछले सप्ताह उग्र प्रदर्शन हुआ था और पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा था। अधिकारी ने कहा कि मेट्रो स्टेशन बंद करने का फैसला दिल्ली पुलिस ने किया है। पुलिस प्रदर्शनकारियों को किसी भी कीमत पर इंडिया गेट पहुंचने से रोकना चाहती है। पिछले सप्ताह भी पुलिस ने ऐसा ही कदम उठाते हुए जोरबाग को छोड़ बाकी नौ मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए थे।

शुक्रवार, 28 दिसंबर 2012

टाटा के नए रतन होंगे साइरस मिस्त्री


नई दिल्ली। रतन टाटा के उत्तराधिकारी के तौर पर पिछले साल जब साइरस मिस्त्री का चयन किया गया था तब टाटा समूह से बाहर उन्हें कम ही लोग जानते थे। वे टाटा संस के सबसे बड़े शेयरधारक पलोनजी शापूरजी मिस्त्री के सबसे छोटे बेटे हैं। शापूरजी के पास टाटा संस की 18.5 फीसद हिस्सेदारी है। रतन टाटा के सौतेले भाई नोएल टाटा की शादी साइरस की बहन से हुई है। चार जुलाई, 1968 को जन्मे मिस्त्री ने लंदन स्थित इंपीरियल कॉलेज ऑफ साइंस, टेक्नोलॉजी एंड मेडिसिन से सिविल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन किया है। इसके अलावा उन्होंने लंदन बिजनेस स्कूल से मैनेजमेंट की पढ़ाई भी की है।
टाटा समूह में बदलाव की बयार लाने वाले रतन टाटा 50 साल तक काम करने के बाद आज रिटायर हो रहे हैं। खास बात यह है कि आज उनका बर्थडे भी है। वर्ष 1991 से वे समूह में बतौर चेयरमैन कार्यरत हैं। उन्होंने पहले ही घोषणा कर दी थी कि 75 साल पूरे होने पर वह अपना पद छोड़ देंगे। उनकी जगह 44 वर्षीय साइरस पलोनजी मिस्त्री को समूह का चेयरमैन बनाया जा रहा है। इस पद के लिए मिस्त्री को पिछले साल नवंबर में ही चुन लिया गया था। हालांकि, रतन समूह के मानद चेयरमैन बने रहेंगे।
साइरस मिस्त्री को शुक्रवार को मुंबई स्थित टाटा संस के मुख्यालय बॉम्बे हाउस में एक सादे समारोह में औपचारिक रूप से चेयरमैन का पदभार सौंपा जाएगा। टाटा संस ही समूह की होल्डिंग कंपनी है। टाटा समूह में यह सबसे बड़ी शेयरधारक है।
नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक बनाने वाले इस समूह में सौ से ज्यादा कंपनियां शुमार हैं और इनका कारोबार दुनिया के 80 देशों में फैला हुआ है। साथ ही समूह की कंपनियां 85 देशों में अपने उत्पादों का निर्यात करती हैं। इनमें से 32 कंपनियां शेयर बाजारों में सूचीबद्ध हैं जिनका कुल बाजार पूंजीकरण 88.82 अरब डॉलर है। इन कंपनियों के शेयरधारकों की संख्या 38 लाख से ज्यादा है। देश के इस सबसे बड़े कारोबारी घराने को संभालना मिस्त्री के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है।
यह रतन की काबिलियत का ही कमाल है कि आज टाटा समूह करीब पांच लाख करोड़ रुपये (100.09 अरब डॉलर) के कारोबार वाला औद्योगिक घराना बन गया है। वर्ष 1991 में जब उन्होंने जेआरडी टाटा से चेयरमैन का पद संभाला था तब समूह का कारोबार 10 हजार करोड़ रुपये का था। इस ऊंचाई पर पहुंचने के लिए रतन टाटा ने जहां उन कारोबारों को बेचने का फैसला किया जो समूह के पोर्टफोलियो में सटीक नहीं बैठ रहा था। वहीं ब्रिटेन की बेवरेज कंपनी टेटली, लग्जरी कार कंपनी जगुआर लैंडरोवर और एंग्लो डच स्टील कंपनी कोरस के अधिग्रहण ने समूह का कारोबार बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई। इससे भी बड़ी बात यह है कि समूह की जिन कंपनियों टाटा टी (टेटली), टाटा मोटर्स (जगुआर लैंडरोवर) और टाटा स्टील (कोरस) ने इनका अधिग्रहण किया वो आकार और टर्नओवर के मामले में इनसे बड़ी थीं। उस समय रतन टाटा के इन फैसलों की आलोचना भी हुई थी मगर उनकी दूरदृष्टि ने यह जान लिया था कि भविष्य में यही कंपनियां अंतरराष्ट्रीय स्तर पर समूह को नई पहचान दिलाएंगी। आज यह सच साबित हो रहा है।
सौ से ज्यादा कंपनियों वाले इस समूह की कमाई में ये कंपनियां महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। भारत की पहली स्वदेशी कार इंडिका और दुनिया की सबसे सस्ती कार नैनो रतन के दिमाग की ही उपज थी।

गैंगरेप पीड़िता बेहद गंभीर, बचाने की कोशिश जारी


सिंगापुर। माउंट एलिजाबेथ अस्पताल की गहन चिकित्सा इकाई [आइसीयू] में जीवन के लिए संघर्ष कर रही दिल्ली गैंग रेप पीड़िता की हालत बेहद नाजुक हो गई है। शुक्रवार शाम साढ़े आठ बजे माउंट एलिजाबेथ अस्पताल द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन में आशंका जताई गई है कि पीड़िता के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया है तथा ब्लड प्रेशर भी लगातार गिरता जा रहा है। उसकी स्थिति से उसके परिवार वालों को सूचित कर दिया गया है।
इससे पहले, अस्पताल के सीईओ डा. केविन लोह ने कहा, 'गुरुवार को यहां पहुंची युवती की हमारी मेडिकल टीम की जांच से पता चला कि दिल का दौरा पड़ने के अलावा उसके फेफड़ों और पेट में भी संक्रमण है। इसके अलावा उसे दिमागी चोट भी है। संवाददाताओं को युवती की स्थिति की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि 28 दिसंबर को सुबह 11 बजे तक [भारतीय समय के अनुसार सुबह साढ़े आठ बजे तक] मरीज की स्थिति बहुत नाजुक बनी हुई थी। जब से उसे यहां लाया गया है तब से भिन्न-भिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ डॉक्टर उसके इलाज में लगे हैं और अगले कुछ दिनों में उसकी स्थिति में सुधार के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं।
उन्होंने कहा कि भारतीय उच्चायोग अस्पताल और पीड़िता के परिवार की पूरी मदद कर रहा है और इस प्रयास में लगा है कि उसके लिए सबसे अच्छा इलाज मुहैया हो सके। अस्पताल की सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है। आइसीयू तक जाने वाले हर व्यक्ति की पूरी जांच की जा रही है। उसे नई दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल से एयर एंबुलेंस के जरिए गुरुवार की सुबह यहां लाया गया था।
16 दिसंबर को उसके साथ चलती बस में सामूहिक दुष्कर्म के बाद उसे बस से नीचे फेंक दिया गया था। उसका तीन बार ऑपरेशन किया जा चुका है लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ है। उसकी छोटी आंत को निकला जा चुका है।
नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने जोर देकर कहा है कि ऐसे बर्बर कृत्य के लिए अपराधियों को दंड दिलाने में देर नहीं होनी चाहिए। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने आश्वस्त किया है कि इस अपराध के लिए जो भी दोषी पाए जाएंगे उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा, 'हम दोषियों को जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।' युवती के साथ गए उसके पिता ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि उनकी बेटी के लिए जो सबसे अच्छा इलाज हो सकता है वह किया जा रहा है। भारतीय उच्चायोग ने पीड़िता के परिजनों के लिए एक संपर्क अधिकारी भी उपलब्ध कराया है।

थकान को करें छूमन्तर



सर्दियों के मौसम में अमूमन आलस आना एक कॉमन समस्या बन जाती है। हर चौथा व्यक्ति कहता है कि सुस्ती लग रही है। थकान सी महसूस हो रही है। दरअसल सर्दियों में दिन छोटा और रात लंबी होने लगती है। देर तक सोने से सोने और जगने के बीच बैलेंस बिगड जाता है। सिर भारी रहने और नींद आने की समस्या बढ जाती है। तमाम लोगों को शाम होते ही सो जाने का मन करता है। तनाव या चिंता हम पर हावी होने लगती है। ये सारे लक्षण किसी नई बीमारी को जन्म दे सकते हैं। ऎसे में जरूरी है कि इस मौसम में एनर्जी बनाए रखें,सक्रिय रहें तो थकान खुद ब खुद छूमन्तर हो जाएगी।

सूत्रों की जानकारी के अनुसार सर्दियों में प्राकृतिक रोशनी कम मिलती है। इससे ब्रेन में नींद वाला हार्मोन यानी मेलैटोनिन हार्मोन बनने लगता है। इससे शाम होते ही नींद आने लगती है। दूसरे इस मौसम में खाने-पीने की सक्रियता बढ जाती है। बाहर की ऎक्टिविटी घट जाती है। डिं्रक जैसी चीजों की सक्रियता भी बढ जाती है। वेट बढने लगता है और आलस हावी हो जाता है। उस पर से थकान, यह कंडीशन हैल्थ के लिहाज से ठीक नहीं है।

बीमार होने का खतरा ज्यादा रहता है वैसे भी ठंड का मौसम कई तरह की बीमारी ले आता है। इस दौरान वेट बढने, वायरल थायराइड के सही से काम न करने, ह्वदय के रोग होना, शुगर की समस्या, पेट या छाती के संक्रमण, तनाव, चिंता आदि के लक्षण बढ जाते हैं। इनके साथ अगर थकान या आलस जैसी कंडीशन है तो ठीक नहीं है। इससे ये लक्षण बडी बीमारी का रूप ले सकते हैं। बेहतर यही होगा कि शरीर का चुस्त दुरूस्त बनाए रखा जाए, जिससे थकान हावी न होने पाए।

शरीर में एनर्जी कम ना होने दें इस मौसम में एक्सर्साइज जरूरी है। मिनरल की कमी न होने दें। शरीर में पोषक तत्व की कमी नहीं होनी चाहिए। पानी की बोतल साथ रखें। फल और सब्जी के साथ शरीर की ऊर्जा बनाए रखें। आयरन जिन चीजों में मिले, उन सब्जियों व फलों का सेवन करें। वेट न बढने दें। तनाव आदि को हावी न होने दें। शराब जैसी चीजों से दूर रहें। एनर्जी ड्रिंक आदि परमानेंट साल्यूशन नहीं है, यह थोडी देर के लिए ही एनर्जी दे सकता है। डॉक्टर से पूछ कर ही विटामिन आदि लें।

शनिवार, 22 दिसंबर 2012

बैंकों के अच्छे ग्राहक हैं गरीब :चिदम्बरम


जयपुर : केन्द्रीय वित्त मंत्री पी चिदम्बरम ने बैंकों से छोटे व्यापारियों, गरीबों को ऋण देने में ढिलाई नहीं बरतने का निर्देश देते हुए कहा कि वे ऋण चुकाने वाले अच्छे ग्राहक हैं।  पी चिदम्बरम शनिवार को यहां स्टेट बैंक आफ बीकानेर एंड जयपुर (एसबीबीजे) के स्वर्ण जयन्ती वर्ष पर बैंक के मुख्यालय भवन परिसर में आयोजित एक समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। इससे पहले केन्द्रीय वित्त मंत्री ने समारोह स्थल से वीडियों काफ्रेंस के माध्यम से यहां से करीब 60 किलोमीटर दूर सांभर में एसबीबीजे बैंक की एक 1000वीं शाखा का लोकापर्ण किया। उन्होंने कहा कि सैलून, सब्जी विक्रेता, छोटे व्यापारी, जूता मरम्मत करने वालों को कामकाज के लिए कम ऋण की जरूरत होती है और वे समय पर ऋण का भुगतान भी करते हैं चिदम्बरम ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी के बैंकों के राष्ट्रीयकरण करने के फैसले से ही गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों की पहुंच बैंकों तक हुई। बैंकिग सेवाएं और बैंकों से ऋण लेना सभी का अधिकार है ,इससे कोई इनकार नहीं कर सकता। बैंक इसके लिए बाध्य हैं। उन्होंने कहा कि आगामी दिनों से नकदी अंतरण योजना के तहत सरकारी योजनाओं के लाभान्वितों को राशि उनके खाते में राशि जमा होने से भ्रष्टाचार, बिचौलियों और भुगतान में देरी से जुड़ी शिकायत समाप्त हो जाएगी। योजना की सफलता बैंकों पर निर्भर है ,इसलिए इसके क्रियान्वयन के प्रबंधन को सुनिश्चित करें। इस मौके पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार की योजनाओं की सफलता बैंकों पर निर्भर होने के कारण बैंकों को अपने काम में तेजी लानी होगी। सामाजिक सुरक्षा की जिम्मेदारी की चर्चा करते हुए कहा कि एसबीबीजे बैंक सामाजिक सुरक्षा की जिम्मेदारी को निर्वहन कर रहा है पर इसे और अधिक बढ़ावा देने की आवश्यकता है। उन्होंने एसबीबीजे से प्रदेश में और बैंक शाखाएं खोलने का आग्रह किया जिससे गांव-गांव तक लोगों को बैंकिग सुविधाओं और सरकारी योजनाओं का लाभ मिल सके। केन्द्रीय वित्त राज्य मंत्री नमो नारायण मीणा ने कहा कि संप्रग सरकार और भारतीय रिजर्व बैंक की बैंकों के विस्तार की नीति के तहत गांव -गांव को बैंकों से जोड़ा जा रहा है।

गैंगरेप : शिंदे ने कहा, सजा बढ़ाने को कानून में संशोधन होगा


नई दिल्ली : चलती बस में मेडिकल छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म मामले में केंद्रीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने शनिवार को कहा कि बलात्कार मामले में सजा बढ़ाने के लिए मौजूदा कानून में संशोधन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि रेयरेस्ट आफ द रेयर केस में सजा बढ़ाने पर विचार होगा।

शनिवार शाम एक संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए शिंदे ने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा और कड़ी करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कुछ और प्रस्तावों की मंजूरी दी है। मामले में सभी छह आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं।

शिंदे ने कहा कि मामले में जल्द चार्जशीट फाइल कर दी जाएगी। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार पीड़िता को बेहतर मेडकल सुविधा उपलब्ध कराएगी।

उन्होंने कहा कि सभी बसों में जीपीएस सिस्टम लगाए जाएंगे और सार्वजनिक परिवहन सुधारा जाएगा।
शिंदे ने प्रदर्शनकारियों से प्रदर्शन खत्म करने की अपील की। इस मौके पर शिंदे के साथ सूचना एवं प्रसारण मंत्री मनीष तिवारी, केंद्रीय गृह सचिव आरके सिंह और गृह राज्य मंत्री आरपीएन सिंह भी मौजूद थे।

मोदी की जीत पर आडवाणी और सुषमा खामोश क्यों?


नई दिल्ली।। गुजरात में नरेंद्र मोदी की लगातार तीसरी बार जीत के बाद बीजेपी के बड़े नेताओं में सन्नाटा क्यों पसरा है? इस खास मौके पर बीजेपी के दिग्गज नेताओं में खामोशी से लोग हैरान हैं। पहली बार बीजेपी का कोई नेता लगातार तीसरी बार धमाकेदार जीत के साथ सत्ता पर काबिज हुआ है। इसके बावजूद लालकृष्ण आडवाणी और सुषमा स्वराज ने सार्वजनिक रूप से बधाई तक नहीं दी। बीजेपी के सीनियर नेताओं में मोदी की जीत पर अजीब तरह की उदासी पसरी है। ऐसा कहा जा रहा था कि गुजरात चुनाव बीजेपी के लिए खास है।

माना जा रहा था कि गुजरात में बीजेपी की जीत से पार्टी में एक नई ऊर्जा का संचार होगा। लेकिन यहां माजरा कुछ और ही है। लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष सुषमा स्वराज हर खास मौके पर ट्विटर के माध्यम से कुछ न कुछ कहती रही हैं। मोदी की जीत पर भी उनसे उम्मीद की जा रही थी कि दिल से बधाई देंगी। हैरान करने वाली बात है कि सुषमा स्वराज ने मोदी की जीत एक शब्द तक नहीं कहा। दूसरी तरफ लालकृष्ण आडवाणी ने भी मोदी की शानदार जीत पर कोई टिप्पणी नहीं की। कहा जाता है कि 2002 में गुजरात दंगों के बाद आडवाणी ने मोदी का खुले दिल से समर्थन किया था। मोदी को मुख्यमंत्री पद से हटाने की बात को उन्होंने सिरे से खारिज कर दिया था। तब वह देश के गृह मंत्री थे। 2002 में मोदी की शानदार जीत पर आडवाणी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाकर बधाई दी थी। उन्होंने मोदी की जमकर सराहना भी की थी।

नरेंद्र मोदी को बधाई देने में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने भी बहुत उत्साह नहीं दिखाया। इस मौके पर उन्होंने कोई प्रेस कॉन्फ्रेंस नहीं बुलाया। जब वह नरेंद्र मोदी को बधाई दे रहे थे तो उनके चेहरे पर खुशी या जश्न की लकीरें कहीं से भी नहीं दिखीं। नरेंद्र मोदी को लेकर पार्टी के इस रुख से उन अटकलों को बल मिला है कि नरेंद्र मोदी और नितिन गडकरी के रिश्तों में कई गुत्थियां हैं।

मोदी के बढ़ते कद से परेशानी
बीजेपी में मोदी के बढ़ते कद से कई बड़े नेताओं में परेशानी बढ़ी है। खास करके लगातार तीसरी जीत से पार्टी की पहली पंक्ति के नेता परेशान हैं। इस बार मोदी ने दिखा दिया कि वह अकेले काफी हैं चुनाव जीतने के लिए। वह भी तब जब केशुभाई के समर्थन में संघ का एक धड़ा भी शामिल था। राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो मोदी की बढ़ती लोकप्रियता से 2014 में प्रधानमंत्री प्रत्याशी के रूप में उनकी दावेदारी मजबूत हुई है। ऐसे में आडवाणी, सुषमा स्वराज और अरुण जेटली खुद को सहज नहीं पा रहे हैं। मोदी की जीत पर बीजेपी के दिल्ली ऑफिस में रविशंकर प्रसाद तो पटाखे जलाते और मिठाई बांटते दिखे लेकिन सीनियर नेताओं में अजीब तरह की चुप्पी रही। यहां तक मुरली मनोहर जोशी जैसे नेताओं ने भी मोदी को बधाई नहीं दी।

उधर बीजेपी के सीनियर नेताओं की चुप्पी से कांग्रेस को ताना कसने का मौका मिल गया। कांग्रेस नेता और केंद्रीय मंत्री राजीव शुक्ला ने कहा कि नरेंद्र मोदी की जीत कांग्रेस के लिए नहीं बीजेपी के लिए परेशानी है। हमारी पार्टी को मोदी से कोई परेशानी नहीं है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में मोदी बीजेपी के लिए ही परेशानी की वजह बनने वाले हैं।

गैंगरेप: अफसोस नहीं, 'बस हो गया' जेल से नहीं डरता


नई दिल्ली।। चार्टर्ड बस में फिजियोथेरेपी की छात्रा से रेप के बाद दिल दहलाने वाला अत्याचार करने की वारदात में गिरफ्तार मुख्य मुलजिम राम सिंह को सजा और जेल से कोई डर नहीं है। वारदात के बारे में उसका कहना है कि बस हो गया। बाकी दोनों अभियुक्त अपनी करतूतों पर अफसोस जता रहे हैं। इन दिनों राम सिंह, विनय और पवन गुप्ता वसंत विहार पुलिस की रिमांड में हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि तीनों पुलिस रिमांड में असामान्य बर्ताव कर रहे हैं।

एक ओर राम सिंह पूरी तरह बेफिक्र है तो पवन और विनय लड़की पर अत्याचार के लिए अफसोस जता रहे हैं। राम सिंह ने पुलिस वालों से कहा कि उसे तो किसी सजा की परवाह है और ही वह जेल जाने से डरता है। उसे इस बात का जरा भी दुख नहीं है कि उसने वहशीपन से एक लड़की को मौत के मुंह तक पहुंचा दिया है। पुलिस वालों ने उससे सवाल किया कि उसने रेप और कुकर्म के बाद उसने लड़की की आंत बाहर क्यों निकाली थी? इतनी वीभत्स हरकत करने का जवाब उसने सिर झटक कर देते हुए कहा कि 'बस हो गया'

उसकी निगरानी कर रहे कई पुलिस वालों ने अफसोस जताते हुए कहा कि उसे कानून का कोई खौफ नहीं है। आरकेपुरम इलाके की झुग्गी में रहने वाला 34 साल का राम सिंह बस ड्राइवर है, जबकि 23 साल की लड़की फिजियोथेरेपी की स्टूडेंट है। यह मुलजिम पुलिस रिमांड पर आराम से खाना खा रहा है और सो रहा है, जबकि लड़की की जिंदगी बचाने के लिए सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टर जूझ रहे हैं। दूसरी ओर, पुलिस रिमांड पर विनय और पवन गुप्ता पुलिस वालों के सामने कई बार वारदात में अपनी हैवानियत पर दुख जता चुके हैं। दोनों का कहना है कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था।

हालांकि यह दोनों भी आराम से खाना खा रहे हैं और सो रहे हैं। इन दोनों ने पुलिस को बताया कि पूरी वारदात राम सिंह की वजह से अंजाम दी गई। उनका कहना है कि उसकी संगत के असर में उस रात उनसे भी अपराध हो गया। उन्होंने बताया कि लड़की पर अत्याचार करने के बाद राम सिंह ने ही लड़की के सारे कपड़े उतार कर और बुरी तरह जख्मी हालत में चलती बस से नीचे धकेला था। पवन और विनय ने पुलिस को बताया कि राम सिंह शराब पीने के बाद वहशीपन करने लगता है। उस रात उसने आधी से ज्यादा बोतल शराब पी थी।

पुलिस ने बताया कि मुकेश ने भी रेप और कुकर्म किया था। लड़का-लड़की को मुनीरका से बस में बिठाते वक्त वह ड्राइविंग कर रहा था। उन दोनों को रॉड से पीटने के दौरान भी वह तेज गति से बस चलाता रहा था। उसके पांच साथियों ने बलात्कार और कुकर्म करने के बाद सबसे आखिर में राम सिंह ने अपने भाई मुकेश से कहा था कि वह भी जाए। उसके बाद राम सिंह ने ड्राइविंग सीट संभाली थी और मुकेश ने बस में पीछे आकर दुराचार किया था। पुलिस ने बताया कि गैंग रेप के बाद लड़की और उसके दोस्त के कपड़े अक्षय ठाकुर ने जलाए थे। वह बस हेल्पर है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। वारदात में शामिल राजू की भी तलाश कर रही है। अब तक गिरफ्तार मुलजिमों से लड़के का मोबाइल फोन और जूते बरामद किए हैं। लड़की का फोन बरामद नहीं हुआ है। लड़की के सामान फरार मुलजिमों के पास हैं।
 

साउथ दिल्ली में अब विदेशी लड़की से गैंग रेप


नई दिल्ली।। चलती बस में गैंग रेप पर इतने हो-हल्ले के बीच देश की राजधानी में एक विदेशी लड़की से गैंग रेप की वारदात हुई है। पीड़ित लड़की अफ्रीकी मूल की बताई जाती है। गैंग रेप की वारदात शुक्रवार रात साउथ दिल्ली में मालवीय नगर इलाके के हौजरानी में हुई। खबर मिलते ही दिल्ली पुलिस के आला अफसरों में हड़कंप मच गया।

रात को ही पीड़ित लड़की को मदन मोहन मालवीय हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। बताया जाता है कि युवती के प्राइवेट पार्ट्स में गहरी चोटें आई हैं। डीसीपी छाया शर्मा के मुताबिक, 'युवती से ठीक से बात नहीं हो पा रही है। उससे बात करने के बाद ही सही स्थिति का पता चलेगा। लड़की की भाषा समझने के लिए उसके साथियों को बुलाया गया है। वह यदि रेप का बयान देती है तो उसी हिसाब से ऐक्शन लिया जाएगा।' डीसीपी ने बताया कि मेडिकल रिपोर्ट भी दोपहर तक आने की संभावना है। अभी इस मामले में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। मामले की तहकीकात में मालवीय नगर थाना पुलिस जुटी है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि 25 साल की युवती कुछ समय पहले दिल्ली घूमने आई थी और यहां मालवीय नगर के हौजरानी एरिया में रह रही थी। रात करीब साढ़े दस बजे वह अपने घर की तरफ जा रही थी। तभी दो युवकों ने उसके साथ गैंग रेप किया। शुरुआती जांच में सामने आया है कि युवती किसी आरोपी को पहचानती नहीं है। रात साढ़े दस बजे युवती के चीखने-चिल्लाने की आवाज सुनकर किसी राहगीर ने पुलिस को सूचना दी थी।

दिल्ली गैंगरेपः सरकार ने कहा, रेप के लिए फांसी का प्रावधान होगा

नई दिल्ली।। चलती बस में गैंगरेप पर दिल्ली समेत पूरे देश में उबाल के आगे आखिर झुक गई। सरकार ने रेप के मामले में फांसी की सजा तय करने के लिए सीआरपीसी में संशोधन की बात मान ली है। गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे ने दिल्ली में जबर्दस्त विरोध प्रदर्शनों के बाद देर शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सरकार रेप के रेयरेस्ट ऑफ रेयर मामले में फांसी की सजा शामिल करने के लिए कानून में संशोधन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि दिल्ली गैंगरेप के लापरवाह पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए मामले की न्यायायिक जांच करवाई जाएगी। इसके अलावा उन्होंने दिल्ली के विजय चौक पर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज की घटना की जांच की बात भी कही। प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिंदे ने कहा, 'जनता के गुस्से को समझा जा सकता है। उनकी भी तीन बेटियां हैं।'

इससे पहले शनिवार को दिल्ली का विजय चौक विरोध प्रदर्शनों का केंद्र बन गया। सैकड़ों की तादाद में युवा सुबह से वहां डटे रहे। लाख मनाने के बाद भी लोग वहां से हटने को तैयार नहीं हुए, तो पुलिस ने शाम को तीसरी बार लाठीचार्ज कर विजय चौक को खाली करवा दिया। जनता के इस उबाल ने मिस्र के 'तहरीर चौक' के विरोध-प्रदर्शनों की याद ताजा कर दी है। इससे पहले शनिवार सुबह भी हजारों की संख्या में लोगों ने प्रदर्शन करते हुए रायसीना हिल्स से राष्ट्रपति भवन की ओर मार्च किया। भीड़ ने इस दौरान कई बार फिर सुरक्षा घेरा तोड़ा। इस पर प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज, आंसूगैस के गोलों और पानी की बौछार की गई। बाद में पुलिस कुछ लोगों को राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के पास लेकर गई और उन लोगों ने राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा। इसे देखते हुए पुलिस ने विजय चौक को बंद कर दिया है और लोगों से उस रास्ते की तरफ न आने की गुजारिश की है। सूत्रों ने बताया कि सरकार प्रदर्शनकारियों से बातचीत के लिए तैयार हो गई है। इसके बाद भी प्रदर्शनकारी नहीं हटे तो पुलिस ने फिर से लाठीचार्ज किया, आंसूगैस के गोले दागे और पानी की बौछार छोड़ी। कुछ प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव भी किया।

शुक्रवार, 21 दिसंबर 2012

गैंग रेप: युवती ने पूछा, 'क्या वे पकड़े गए?'


नई दिल्ली।। दिल्ली में रविवार की रात चलती बस में गैंगरेप का शिकार बनी पैरा-मेडिकल स्टूडेंट ने गुरुवार को अस्पताल में मिलने आए परिवार के सदस्यों से पूछा, 'क्या वे पकड़े गए?'

सूत्रों ने बताया कि मुंह में ट्यूब लगे होने के कारण बोल पाने में अक्षम यह स्टूडेंट कागज पर लिख कर अपनी बात कह रही है। उन्होंने बताया कि इस स्टूडेंट को पता है कि उसका मामला मीडिया में आ चुका है। उसने अपने परिवार से पूछा कि क्या आरोपी पकड़े गए हैं? ऐसी जानकारी मिली है कि लड़की का परिवार मीडिया का आभारी है, लेकिन अपनी पहचान को सार्वजनिक नहीं होने देना चाहता है। इस लड़की ने बुधवार को अपनी मां से कहा था, 'मैं जीना चाहती हूं।'

इससे पहले लड़की का इलाज कर रहे सफदरजंग अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया कि वह अब 'स्थिर, चौकस और होश में है।' डॉक्टरों को उसके पेट का ऑपरेशन कर उसकी छोटी आंत निकालनी पड़ी जो बिल्कुल डैमेज हो चुकी थी।

सफदरजंग हॉस्पिटल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. बी. डी. अथानी ने बताया, 'रात शांत रही। सुबह उसकी हालत स्थिर थी। वह अब भी आईसीयू में वेटिंलेटर पर है। उसके ब्लड प्रेशर, पेशाब, सांस लेने की गति जैसे महत्वपूर्ण पैमामीटर दायरे के भीतर हैं।'

डॉ. अथानी ने कहा, 'वह खुद से सांस लेने की कोशिश कर रही है और हम उसे टोटल पैरेंटेरल न्यूट्रिशन (टीपीएन) देने वाले हैं, जिसके मतलब नसों के जरिए पोषण देना है क्योंकि आंत नष्ट होने के कारण वह मुंह से खाना नहीं खा पाएगी।' डॉक्टरों का कहना है कि दो और सर्जरी करने के बाद उनके शरीर के इंफेक्शन को कंट्रोल करने की कोशिश की जा रही है। उनकी चिंता पीड़ित लड़की के शरीर पर कई जगह घाव और एक लीटर से ज्यादा ब्लड निकल जाने को लेकर है। सरकार की ओर से अब उसे इलाज के लिए विदेश भेजने के भी संकेत मिल रहे हैं।

मुझे जीना हैः पीड़ित छात्रा अभी भी कुछ बोल नहीं पा रही हैं लेकिन उन्होंने अपनी मां को संदेश लिखा कि मुझे अभी जीना है। उन्होंने लिखा,'उस रात मेरा क्रेडिट कार्ड भी चला गया। दरिंदे मेरा मोबाइल भी उठा कर ले गए, लेकिन घर पर जो मेरा पुराना मोबाइल पड़ा है उसमें मेरे दो दोस्तों के नंबर हैं। उन्हें फोन करके बोल दीजिएगा कि मैं तीन महीने के लिए बाहर गई हूं।'

आखिरकार नरेंद्र मोदी ने माफी मांग ही ली?


नई दिल्ली।। गुजरात में लगातार तीसरी बार जीत के बाद नरेंद्र मोदी जोश से ज्यादा विनम्र मूड में दिखे। चुनाव परिणाम आने के बाद वह केशुभाई पटेल से आशीर्वाद लेने गए। नरेंद्र मोदी को इससे कोई फर्क नहीं पड़ा कि केशुभाई पटेल बीजेपी छोड़ अलग पार्टी बनाकर उनके खिलाफ चुनावी मैदान में थे। जीत के बाद गांधीनगर में जब वह अपने समर्थकों को संबोधित कर रहे थे तो ऐसा माना जा रहा था कि कांग्रेस पर करारा हमला करेंगे। चुनाव प्रचार के दौरान सोनिया और राहुल गांधी के साथ मोदी की जुबानी जंग खूब हुई थी। इसके उलट जीत के बाद मोदी ने कांग्रेस के किसी नेता का नाम तक नहीं लिया।

नरेंद्र मोदी के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने अब-तक के राजनीतिक जीवन में किसी से सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांगी है। यहां तक कि 2002 के गुजरात दंगों के बाद उन पर काफी दबाव था कि वह अल्पसंख्यकों से माफी मांग लें। कई मुस्लिम संगठनों ने भी मोदी से अपील की थी कि वह माफी मांग लें तो उनके साथ हम आने पर विचार कर सकते हैं। नरेंद्र मोदी इसे हमेशा सिरे से खारिज करते रहे। जब मनमोहन सिंह पहली बार देश के प्रधानमंत्री बने थे तो उन्होंने 1984 के दंगों के लिए सिखों से कांग्रेस की तरफ से सार्वजनिक तौर पर माफी मांगी थी।

लेकिन नरेंद्र मोदी माफी मांगने से हमेशा इनकार करते रहे। उन्होंने यहां तक कह दिया था कि यदि मेरी गलती है तो फांसी पर लटका दो लेकिन माफी मांगने का सवाल ही नहीं उठता है। लेकिन मोदी ने जीत के बाद अपने समर्थकों से कहा कि यदि मुझसे कोई अनजाने में भी गलती हुई हो तो माफ कर दीजिएगा। मोदी की तरफ से माफी मांगने से लोग हैरान रह गए। वह भी तब जब उन्होंने गुजरात में धमाकेदार वापसी की है। नरेंद्र मोदी ने जीत के बाद लोगों से कहा कि मुझे जो संस्कार मिला है उसका पालन करने के लिए अडिग रहा हूं। मैंने गुजरात के 6 करोड़ जनता की सेवा करने की पूरी कोशिश की है। इसके बावजूद यदि भूल से मुझसे कोई गलती हुई हो तो माफ कर दीजिएगा।

राजनीतिक एक्सपर्ट का कहना है कि मोदी अपनी उदार और विकासवादी छवि को हर हाल में पेश करना चाह रहे हैं ताकि दिल्ली की दहलीज तक पहुंच आसान बने। मोदी की माफी को 2002 के गुजरात दंगों से जोड़कर भी देखा जा रहा है। वह अप्रत्यक्ष रूप से अल्पसंख्यकों को भी संदेश देना चाहते हैं कि हम आपको भी लेकर चल सकते हैं। इस बार नरेंद्र मोदी को गुजरात के मुस्लिम प्रभाव वाले इलाकों में कांग्रेस से ज्यादा सीटें मिली हैं। मोदी को जहां 11 सीटें मिली हैं वहीं कांग्रेस को महज 7 सीटें मिलीं। मतलब मुस्लिमों ने भी मोदी की तरफ अपनी दिलचस्पी दिखाई है। नरेंद्र मोदी ने इसी को ध्यान में रखकर अप्रत्यक्ष रूप से माफी मांगी है। 

सब झूठ है, सलामत है दुनिया हमारी

ई दिल्ली।। तमाम भविष्यवाणियों, अनुमानों और दावों के बीच आज वह दिन आ ही गया जिसका हमें बेसब्री से इंतजार था। 21-12-12 को डूम्स डे यानी कयामत के दिन से जुड़ी तमाम अफवाहें सफेद झूठ साबित हुईं। दुनिया पहले की तरह ही नॉर्मल है और आगे भी ऐसी बनी रहेगी। अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा के अलावा कई वैज्ञानिक संगठन डूम्स डे की आशंकाओं को सिरे से नकार चुके हैं लेकिन फिर भी दुनिया के कई देशों में इसका डर गुरुवार शाम तक कम नहीं हुआ था।

चीन में छाया रहा खौफ
एक विदेशी एजेंसी के सर्वे के मुताबिक, चीन की करीब 20 प्रतिशत जनता ने कयामत की अफवाहों पर विश्वास जताया। यहां अफवाह फैलाने वाले करीब 450 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया। बहुत सारे लोगों ने तो कयामत के दिन की तैयारियों के मद्देनजर घर में रसद और मोमबत्तियां जैसी दैनिक जरूरत से जुड़ी चीजें इकट्ठी कर लीं। लोग खास किस्म के 'सर्वाइवल पॉड्स' बनवाने का ऑर्डर करते रहे। इनकी खासियत यह है कि इसमें एक बार में 14 लोग समा सकते हैं और यह सुनामी की तेज लहरों को झेलने में सक्षम है।

बेफिक्री का भी रहा आलम

चीन में ही बहुत सारे ऐसे लोग हैं जिन पर इन अफवाहों का कोई असर नहीं पड़ा। कुछ का कहना था कि वे आज के दिन को वर्ल्ड ह्यूमर डे के तौर पर मनाना पसंद करेंगे। भारत और दूसरे देशों के तमाम एस्ट्रॉलजर्स ने भी डूम्स डे जैसी कोई चीज न होने की दलीलें दीं। भारत समेत दुनिया भर में आज के दिन बेहद खास किस्म की थीम पार्टीज के जरिए सेलिब्रेशन हो रहा है। एक अमेरिकी कंपनी आज स्पेस कैमरे के जरिए आसमानी गतिविधियों का प्रसारण करेगी ताकि लोग सोलर एक्टिविटीज को लाइव देख सकें।

पहले भी उड़ चुकी है अफवाह
दुनिया के अंत के संबंध में समय-समय पर कई प्रकार की भविष्यवाणियां की जाती रही हैं। 21 मई, 2011 और उससे पहले 6 जून 2006 को दुनिया के विनाश का दिन बताया जा रहा था। नास्त्रेदमस ने भी 2012 में धरती के खत्म होने की भविष्यवाणी की थी। जर्मनी के वैज्ञानिक रोसी ओडोनील और विली नेल्सन ने 21 दिसंबर 2012 को एक्स ग्रह की पृथ्वी से टक्कर की बात कहकर धरती के विनाश की अफवाहों को और हवा दे दी। ऐसी ही एक अफवाह 1910 में फैली थी जब हेली पुच्छल तारा पृथ्वी के आसपास से गुजरा था और आशंकाएं जताई गई थीं कि यह पृथ्वी से टकरा सकता है।

क्या थी अफवाह?
दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक माया सभ्यता के एक कैलेंडर में 21 दिसंबर 2012 के आगे किसी तारीख का कोई जिक्र नहीं है। इस वजह से माना जा रहा था कि इस दिन पूरी दुनिया समाप्त हो जाएगी। माया कैलेंडर की एक व्याख्या के मुताबिक 21 दिसंबर 2012 में एक ग्रह पृथ्वी से टकराएगा, जिससे धरती खत्म हो जाएगी। 

'फेसबुक और मैट्रिमनियल साइट्स पर फोटो डालना हराम'

बरेली।। अगर आप मुस्लिम हैं और आपने फेसबुक, ट्विटर या फिर शादी के लिए किसी मैट्रिमनियल साइट पर फोटो अपलोड किया, तो आपके खिलाफ फतवा जारी हो सकता है। उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में दरगाह आला हजरत के एक मदरसे ने फेसबुक, ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग और मैट्रिमनियल साइट्स पर फोटो अपलोड करने को नाजायज करार देते हुए मुसलमानों को इससे परहेज करने की सलाह दी है।

इजहार नाम के शख्स ने मदरसा मंजर-ए-इस्लाम के फतवा विभाग से सवाल किया था कि मैट्रिमनियल साइट्स और फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स पर फोटो डालना किस हद तक जायज है।

इस पर मुफ्ती सैयद मोहम्मद कफील ने कहा कि इस्लाम में तस्वीर को नाजायज करार दिया गया है। ऐसे में इंटरनेट पर शादी के लिए या फिर फेसबुक पर फोटो अपलोड करना हराम होगा। उन्होंने कहा कि शादी के लिए फोटो लगाना बेहयाई है और मुसलमानों को इससे बचना चाहिए।

हालांकि उन्होंने कहा कि बगैर तस्वीर वाला बायोडाटा इंटरनेट पर डाला जा सकता है। इसके अलावा पासपोर्ट, हज या फिर अन्य आवेदनों के लिए फोटो लगाई जा सकती है, बशर्ते ऐसा करना जरूरी हो। कफील ने कहा कि इस्लाम में तस्वीर की मनाही का मूल उद्देश्य किसी साकार चीज की पूजा को रोकना है।

गैंगरेप: इंसाफ के लिए अब सड़कों पर 'फेस-टु-फेस'

नई दिल्ली।। दिल्ली गैंगरेप मामले में फेसबुक पर अपना विरोध जताने वाले लोग शुक्रवार को कंप्यूटर और लैपटॉप को छोड़कर रोड पर उतर आए, तो दूसरी तरफ लापरवाह अफसरों के नाम न देने पर हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को कड़ी फटकार लगाई। पुलिस ने इस मामले पर शुक्रवार को अपनी स्टेटस रिपोर्ट हाई कोर्ट को सौंपी। पुलिस ने स्टेटस रिपोर्ट में सामूहिक जिम्मेदारी लेते हुए लापरवाह अधिकारियों के नाम नहीं दिए। कोर्ट ने इस पर नाराजगी जताते हुए अब 9 जनरवरी को विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।

पुलिस ने थपथपाई अपनी पीठः हाई कोर्ट की इस फटकार के बाद पुलिस कमिश्नर नीरज गुप्ता ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर अपनी पीठ खुद थपथपाते हुए कहा कि इस केस को रेकॉर्ड समय (18 घंटे) में सुलझाया गया है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने एक फरार आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद गृह सचिव आर. के. सिंह ने कहा कि वह आग्रह करेंगे कि इस मामले की सुनवाई दिन प्रतिदिन के आधार पर की जाए। उन्होंने कहा कि आरोपियों के लिए कम से कम उम्रकैद की मांग की जाएगी। आरोपियों पर हत्या के प्रयास का मुकदमा भी दर्ज किया गया है। यह पूछने पर कि इस मामले में बलात्कारियों को मौत की सजा देने की मांग उठ रही है, सिंह ने कहा कि ऐसे मामलों में अधिकतम दंड मौत की सजा हो, इस प्रस्ताव पर विचार करेंगे लेकिन फिलहाल कानून में अधिकतम सजा उम्रकैद है। दिल्ली पुलिस की पीठ थपथपाते हुए सिंह ने कहा कि इस मामले में पुलिस ने अच्छा काम किया है। मामले की जांच पूरी तत्परता से की है जबकि यह ऐसा मामला था, जिसमें कोई सुराग नहीं था। सिंह ने दिल्ली की सड़कों पर दौड़ रही बिना परमिट की बसों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की बात कही।

राष्ट्रपति भवन पर हल्ला बोलः इससे पहले सुबह लोगों ने बड़ी तादाद में राष्ट्रपति भवन के बाहर प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारी राष्ट्रपति भवन के मेनगेट तक पहुंच गए। प्रदर्शनकारियों में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल थीं। प्रदर्शनकारी गैंग रेप के दोषियों को जल्द कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों ने जंतर-मंतर पर इकट्ठा होने के बाद दिल्ली गैंग रेप विक्टिम की सलामती के लिए दुआ की और फिर राजपथ से राष्ट्रपति भवन तक रैली निकाली। छात्राओं और महिलाओं ने बेहद सुरक्षा वाले नॉर्थ ब्लॉक और साउथ ब्लॉक के रास्ते को जाम कर दिया। प्रदर्शनकारियों में इतना ज्यादा गुस्सा था कि उन्होंने रास्ते में कई वीआईपी लोगों का गाड़ियां रोक लीं। हाल के दिनों में ऐसा पहली बार हुआ है जब राष्‍ट्रपति भवन के बाहर इस तरह का विरोध प्रदर्शन हुआ हो। प्रदर्शनकारी राष्‍ट्रपति भवन के गेट तक पहुंच गए थे। इसके अलावा देश के कई हिस्सों से ही प्रदर्शन की खबरें आ रही हैं।
सोनिया के घर पर भी प्रदर्शनः विरोध प्रदर्शनों का यह सिलसिला देर शाम तक चलता रहा। शाम को कुछ प्रदर्शनकारी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के घर 10 जनपथ तक पहुंच गए और जमकर हंगामा किया। इसके अलावा लोग काफी तादाद में सफदर जंग अस्पताल के बाहर भी जमा रहे। गौरतलब है कि पीड़ित लड़की का इसी अस्पताल में इलाज चल रहा है।

गौरतलब है कि बीती रात वेस्ट दिल्ली के उत्तम नगर ईस्ट मेट्रो स्टेशन के नीचे 30-32 साल की एक महिला के साथ दो लड़कों ने जोर-जबरदस्ती की कोशिश की, शुक्र है कुछ लोगों का, जिन्होंने शोर मचाती महिला की आवाज सुन ली और बचा लिया। इस घटना को लेकर लोगों में काफी गुस्सा है।

फेस-टु-फेस प्रोटेस्ट के ऑर्गनाइजर्स ने कहा कि लोगों ने उनके वॉल पर आकर बड़ी संख्या में प्रदर्शन में आने की सहमति दी थी। उन्होंने बताया कि इस केस पर आपस में एक-दूसरे को न पहचानने वाले लोग भी आपस में मिलकर प्रोटेस्ट कर रहे हैं। लोग इस घटना पर इस कदर गुस्से में है कि बिना किसी इन्वाइट के सब एक जगह इकट्ठे हो गए। इसमें स्टूडेंट, प्रफेशनल, कारोबारी हर कोई हिस्सा ले रहा है। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के प्रवीण खंडेलवाल ने बताया कि कारोबारी भी इसमें हिस्सा ले रहे हैं। देश का सारा डिवेलपमेंट एक तरफ है और ऐसी शर्मनाक घटना ने सब मटियामेट कर दिया है।

दिल्ली ही नहीं देशभर में लोग इसके विरोध में तरह-तरह के आंदोलन कर रहे हैं। लखनऊ, पटना में भी प्रदर्शन की खबरें हैं। लोगों ने अपने गुस्से का इजहार ऑफिस और कॉलेज छोड़कर भी किया है। इस बीच पुलिस शुक्रवार को ही पांचवें आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

मंगलवार, 18 दिसंबर 2012

सेकुलर' भी चाहते हैं मोदी का परचम लहराए



नई दिल्ली।। 'सेकुलर' नेताओं का एक धड़ा (ग्रुप) ऐसा भी है जो चाहता है कि गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजे नरेंद्र मोदी के पक्ष में आएं और वही एक बार फिर से जीत का बिगुल बजा दें। अंदर की बात यह है कि यह धड़ा ऐसा इसलिए चाहता है क्योंकि उसकी नजर 2014 में होने वाले आम चुनाव में कांग्रेस के साथ 'बेस्ट डील' करने में है।

गुजरात चुनाव पर जिस बारीकी से कांग्रेस और बीजेपी नेता नजर गड़ाए हुए हैं, उसी गहराई से यूपीए के सहयोगी दलों को भी अपनी कैलकुलेशन करनी पड़ रही हैं क्योंकि वे जानते हैं कि मोदी की जीत और हार के अलावा, मोदी की परफॉर्मेंस ही अगले आम चुनावों में उनके (सहयोगी दलों के) भविष्य की दिशा तय करेगी।

यूपीए के अलग-थलग पड़े सहयोगी दलों के ये सेकुलर नेता मानते हैं कि बीजेपी की गुजरात में जीत से 2014 के आम चुनावों का समीकरण काफी हद तक प्रभावित होगा। तर्क है कि यदि इन चुनावों में मोदी कमजोर पड़ते हैं तो रीजनल पार्टियों को कांग्रेस की ओर देखने पर विवश होना पड़ेगा। इससे कांग्रेस के साथ उनकी डील कमजोर पड़ेगी। जाहिर है, उनका सपोर्ट तब उनकी खुद की शर्तों पर कम और कांग्रेस की शर्तों पर अधिक होगा।

इस धड़े के अनुसार, मोदी की विधानसभा चुनाव में परफॉर्मेंस से यह तय होगा कि मुस्लिम वोटर बीजेपी और कांग्रेस में से किसकी ओर रुख करता है। यदि मोदी जीतते हैं तो अल्पसंख्यक इन दोनों ही पार्टियों से दूरी बना लेगा और उसका झुकाव क्षेत्रीय पार्टियों की ओर हो जाएगा जिससे आम चुनावों में क्षेत्रीय पार्टियों का पलड़ा भारी हो जाएगा।

सूत्रों का कहना है कि समाजवादी पार्टी अल्पसंख्यक समुदाय को रिझाने की पूरी कोशिश कर रही है। वह जानती है कि यदि कांग्रेस के पक्ष में अल्पसंख्यक वोटों का प्रतिशत अधिक रहा तो उसके लिए लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के साथ डील करना बहुत हद तक घाटे का सौदा साबित हो सकता है। एसपी नेता मानते हैं कि कांग्रेस की हार से रीजनल पार्टियां मजबूत होंगी और आम चुनावों में उनका रोल अहम हो जाएगा।

साथ ही कांग्रेस की हार मुस्लिम पार्टियों के लिए भी फायदे का सौदा साबित होगी क्योंकि तब वे सेकुलर अलायंस के साथ बनी रहेंगी। यूपीए के आरजेडी और एलजेपी जैसे सहयोगी दलों के लिए भी यह कांग्रेस के सामने अपनी मजबूत और जरूरत दर्शाने का मौका होगा। ऐसे ही एक दल के नेता का कहना है कि भले ही कांग्रेस ने एफडीआई और कोटा पर संसद में वोट हासिल कर लिए हों लेकिन गुजरात में हार का मतलब यह होगा कि कांग्रेस का ग्राफ काफी नीचे खिसक गया है।

दुनिया तो खत्म नहीं होगी, लेकिन खास होगा 21 दिसंबर

कोलकाता।। प्रसिद्ध ऐस्ट्रोनॉमर डी. पी. दुरई ने 21 दिसंबर को दुनिया के खात्मे की भविष्यवाणी को महज अफवाह करार देते हुए खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि अगला शुक्रवार भी एक सामान्य दिन होगा। नासा के एजुकेटर और एमपी बिरला तारामंडल के डायरेक्टर दुरई ने कहा कि 21 दिसंबर को कुछ अलग माना जाएगा, क्योंकि यह शीत संक्रांति का दिन होगा और दुनिया इस दिन खत्म नहीं होने वाली।

उन्होंने कहा, '21 दिसंबर 2012 भी एक अन्य सामान्य दिन ही होगा। इसकी खासियत बस इतनी होगी कि इस दिन शीत संक्रांति होगी। इस अवसर पर सूर्य आकाश में दक्षिणतम बिंदु पर होगा और दिन की लंबाई सबसे छोटी होगी।' दुरई ने कहा कि प्रलय की ये कहानियां इंटरनेट और सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए हाल के हफ्तों में दुनिया भर में चर्चा का विषय बनी हुई हैं और भारत भी इनसे कुछ अछूता नहीं है।

दुनिया भर में फैली इस अफवाह के बारे में उन्होंने कहा कि इस अफवाह के पीछे कई लोगों का यह यकीन है कि लैटिन अमेरिका की माया सभ्यता के कैलेंडर में 21 दिसंबर 2012 को अंतिम दिन के रूप में दर्शाया गया है और इसके बाद धरती पर जीवन चक्र खत्म हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि धरती के नष्ट होने के बारे कई अन्य सिद्धांत भी प्रचलन में हैं। उनमें से एक यह है कि धरती और 'निबुरू' नामक सौरमंडल के एक ग्रह के बीच की टक्कर से यह नष्ट होगी। यह सौरमंडल अब तक खोजा नहीं जा सका है। उन्होंने कहा, 'खगोलविदों ने दूरबीनें और अंतरिक्ष संसूचकों की मदद से सौर मंडल का व्यापक सर्वेक्षण किया है। हमारे सौरमंडल में ऐसी कोई चीज नहीं मिली है जिसे हम परिकल्पित एक्स ग्रह या निबुरू कह सकें।'

दुरई ने कहा, एक अन्य सिद्धांत में पृथ्वी, सूर्य और पृथ्वी की आकाशगंगाओं के केंद्र के एक ऐसे दुर्लभ संकेंद्रण की बात कही गई है जो बहुत ज्यादा गुरूत्वीय अस्थिरता पैदा कर देगा। लेकिन अभी तक ऐसी किसी व्यवस्था की खोज नहीं की जा सकी है। इसे विस्तार से बताते हुए उन्होंने कहा कि हर साल में एक बार पृथ्वी, सूर्य और आकाशगंगाओं केंद्र लगभग एक सीधी रेखा में आते हैं लेकिन इससे सूर्य के चारों ओर पृथ्वी या आकाशगंगाओं के चारों ओर सूर्य की गति की व्यवस्था में कोई फर्क नहीं पड़ता।

उन्होंने यह भी कहा, '1998 में ऐसी व्यवस्था एक बार बन चुकी है। ऐसा फिलहाल दोबारा नहीं होने जा रहा। इसलिए ऐसे किसी संरेक्षण से पृथ्वी के नष्ट होने की घटना भी बिल्कुल असंभव है।' उन्होंने कहा, 'माया कैलेंडर के द्वारा दर्शाया गया 21 दिसंबर 2012 दुनिया के अंत का दिन नहीं है। इसकी बजाय यह माया सभ्यता के लोगों के अनुसार एक युग का अंत है, जो कि 5,125 वर्षों के अंतराल या 13 बख्तुनों का था। एक बख्तुन लगभग 393 वर्षों का होता है।'

उन्होंने बताया कि माया सभ्यता के लोग मानते थे कि 13 बख्तुन खत्म होने के बाद एक नया युग शुरू होगा। इसलिए कुछ लोगों की ओर से 21 दिसंबर 2012 को धरती का आखिरी दिन बताने की बात को तो माया सभ्यता का भी समर्थन प्राप्त नहीं है।'

दुनिया तो खत्म नहीं होगी, लेकिन खास होगा 21 दिसंबर

कोलकाता।। प्रसिद्ध ऐस्ट्रोनॉमर डी. पी. दुरई ने 21 दिसंबर को दुनिया के खात्मे की भविष्यवाणी को महज अफवाह करार देते हुए खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि अगला शुक्रवार भी एक सामान्य दिन होगा। नासा के एजुकेटर और एमपी बिरला तारामंडल के डायरेक्टर दुरई ने कहा कि 21 दिसंबर को कुछ अलग माना जाएगा, क्योंकि यह शीत संक्रांति का दिन होगा और दुनिया इस दिन खत्म नहीं होने वाली।

उन्होंने कहा, '21 दिसंबर 2012 भी एक अन्य सामान्य दिन ही होगा। इसकी खासियत बस इतनी होगी कि इस दिन शीत संक्रांति होगी। इस अवसर पर सूर्य आकाश में दक्षिणतम बिंदु पर होगा और दिन की लंबाई सबसे छोटी होगी।' दुरई ने कहा कि प्रलय की ये कहानियां इंटरनेट और सोशल नेटवर्किंग साइट के जरिए हाल के हफ्तों में दुनिया भर में चर्चा का विषय बनी हुई हैं और भारत भी इनसे कुछ अछूता नहीं है।

दुनिया भर में फैली इस अफवाह के बारे में उन्होंने कहा कि इस अफवाह के पीछे कई लोगों का यह यकीन है कि लैटिन अमेरिका की माया सभ्यता के कैलेंडर में 21 दिसंबर 2012 को अंतिम दिन के रूप में दर्शाया गया है और इसके बाद धरती पर जीवन चक्र खत्म हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि धरती के नष्ट होने के बारे कई अन्य सिद्धांत भी प्रचलन में हैं। उनमें से एक यह है कि धरती और 'निबुरू' नामक सौरमंडल के एक ग्रह के बीच की टक्कर से यह नष्ट होगी। यह सौरमंडल अब तक खोजा नहीं जा सका है। उन्होंने कहा, 'खगोलविदों ने दूरबीनें और अंतरिक्ष संसूचकों की मदद से सौर मंडल का व्यापक सर्वेक्षण किया है। हमारे सौरमंडल में ऐसी कोई चीज नहीं मिली है जिसे हम परिकल्पित एक्स ग्रह या निबुरू कह सकें।'

दुरई ने कहा, एक अन्य सिद्धांत में पृथ्वी, सूर्य और पृथ्वी की आकाशगंगाओं के केंद्र के एक ऐसे दुर्लभ संकेंद्रण की बात कही गई है जो बहुत ज्यादा गुरूत्वीय अस्थिरता पैदा कर देगा। लेकिन अभी तक ऐसी किसी व्यवस्था की खोज नहीं की जा सकी है। इसे विस्तार से बताते हुए उन्होंने कहा कि हर साल में एक बार पृथ्वी, सूर्य और आकाशगंगाओं केंद्र लगभग एक सीधी रेखा में आते हैं लेकिन इससे सूर्य के चारों ओर पृथ्वी या आकाशगंगाओं के चारों ओर सूर्य की गति की व्यवस्था में कोई फर्क नहीं पड़ता।

उन्होंने यह भी कहा, '1998 में ऐसी व्यवस्था एक बार बन चुकी है। ऐसा फिलहाल दोबारा नहीं होने जा रहा। इसलिए ऐसे किसी संरेक्षण से पृथ्वी के नष्ट होने की घटना भी बिल्कुल असंभव है।' उन्होंने कहा, 'माया कैलेंडर के द्वारा दर्शाया गया 21 दिसंबर 2012 दुनिया के अंत का दिन नहीं है। इसकी बजाय यह माया सभ्यता के लोगों के अनुसार एक युग का अंत है, जो कि 5,125 वर्षों के अंतराल या 13 बख्तुनों का था। एक बख्तुन लगभग 393 वर्षों का होता है।'

उन्होंने बताया कि माया सभ्यता के लोग मानते थे कि 13 बख्तुन खत्म होने के बाद एक नया युग शुरू होगा। इसलिए कुछ लोगों की ओर से 21 दिसंबर 2012 को धरती का आखिरी दिन बताने की बात को तो माया सभ्यता का भी समर्थन प्राप्त नहीं है।'