मंगलवार, 17 अक्तूबर 2017

जिला आयुर्वेद चिकित्सालय का होगा विस्तार : उमाशंकर


नि:शुल्क आयुर्वेद चिकित्सा शिविर में 850 रोगियों का किया इलाज




भोपाल। राजस्व, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने कहा है कि जिला आयुर्वेद चिकित्सालय का विस्तार किया जाएगा। राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस एवं धनवतंरी जयंती पर मंगलवार को शासकीय जिला आयुर्वेद चिकित्सालय, शिवाजीनगर भोपाल में नि:शुल्क आयुर्वेद चिकित्सा शिविर में उन्होंने अधिकारियों को विस्तार का प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिये। श्री गुप्ता ने चिकित्सालय में शल्य कक्ष, पुरुष पंच कर्म केन्द्र और पुरूष वार्ड का लोकार्पण भी किया। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि सांसद आलोक संजर थे, जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती शिखा दुबे ने की। कार्यक्रम का संचालन डॉ. प्रदीप दुबे ने किया।

आयुर्वेद पर लोगों का विश्वास बढ़ा
राजस्व मंत्री ने कहा कि आयुर्वेद पर लोगों का विश्वास बढ़ रहा है। इस विश्वास को पूरी तरह से स्थापित करने की जिम्मेदारी चिकित्सकों की है। उन्होंने कहा कि शिविर में लोगों को बेहतर इलाज के माध्यम से आने के लिये प्रेरित करें।

आयुष पैथी पसंद आ रही : शिखा दुबे
प्रमुख सचिव आयुष श्रीमती शिखा दुबे ने कहा कि देश में सबसे अधिक आयुर्वेद चिकित्सालय भोपाल में हैं। उन्होंने कहा कि अब आयुष पेथी लोगों को पसंद आ रही है।

850 रोगियों का नि:शुल्क इलाज
जिला आयुर्वेद चिकित्सालय के संभागीय अधिकारी डॉ. सुनील कुलश्रेष्ठ एवं आरएमओ डॉ. सुधीर पांडेय ने बताया कि राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस एवं धनवतंरी जयंती पर दर्द (पीड़ा) शिविर में 850 मरीजों का नि:शुल्क परीक्षण और दवाइयाँ दी गयी। जिसमें 67 मरीज डायबिटीज के थे।  इस मौके पर जिला आयुष अधिकारी डॉ. अंतिम नलवाया, डॉ. प्रदीप दुबे, डॉ. अंचलेश मिश्रा सहित स्टॉफ का विशेष सहयोग रहा।

शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

2,000 रुपये से भी कम में लॉन्च होगा एयरटेल 4जी VoLTE फोन, अक्टूबर के पहले सप्ताह में हो सकता है लॉंच


भोपाल। हाल ही में खबर आई थी कि रिलायंस जियो की टक्कर में एयरटेल जल्द ही अपना 4जी फोन लाने वाला है। हालांकि इस फोन को लेकर अब तक बहुत ज्यादा जानकारी नहीं है। कहा जा रहा था कि भारतीय बाजार में इस फोन की कीमत 2,500 रुपये हो सकती है। यह जानकारी हमें एक जानकार से मिली है। प्राप्त जानकारी के अनुसार एयरटेल के इस फोन को भारतीय बाजार में 2,000 रुपये से भी कम में लॉन्च किया जाएगा।


एयरटेल का यह 4जी फोन कंपनी के नेटवर्क के साथ बंडल आॅफर में उपलब्ध होगा और खास बात यह कही जा सकती है कि यह फोन जल्द ही भारत में दस्तक देने वाला है। प्राप्त सूचना के अनुसार कंपनी इसे दिवाली के पहले लॉन्च करना चाहती है। हमें जो खबर मिली है उसके अनुसार अक्टूबर के पहले सप्ताह में ही इस फोन को भारत में प्रदर्शित किया जा सकता है और दूसरे सप्ताह तक यह प्रीबुकिंग के लिए भी जा सकता है।


जानें क्या है  ख़ास एयरटेल के स्मार्ट फ़ोन में

अब तक इस फोन के बारे में कई खबरें आ चुकी हैं जिसके अनुसार एयरटेल 4जी फोन में 4-इंच की स्क्रीन होगी और यह टच आधारित होगा। इसके साथ ही फोन में 1जीबी रैम मैमोरी के साथ क्वॉडकोर प्रोसेर देखने को मिल सकता है। पावर बैकअप के लिए फोन में 1,600 एमएएच की बैटरी होने की संभावना है। एयरटेल अपने इस 4जी फोन के साथ अलग प्लान लॉन्च करेगा


जानें कैसे है ये जियो फ़ोन से अलग

यदि एयरटेल 4जी फोन की तुलना जियोफोन से की जाए तो यह स्पेसिफिकेशन के मामले में काफी अडवांस नजर आ रहा है। बड़ी स्क्रीन और ज्यादा रैम के साथ यह एक स्मार्टफोन होगा जो एंडरॉयड एन पर कार्य करेगा। वहीं जहां दिवाली में​ जियोफोन की डिलीवरी की बात हो रही है ऐसे में एयरटेल अक्टूबर के पहले सप्ताह में अपने 4जी फोन को लॉन्च कर इस खेल में नया ट्विस्ट ला सकता है।


गुरुवार, 31 अगस्त 2017

बेनजीर भुट्टो हत्याकांड में दो को सज़ा, पांच बरी, मुशर्रफ़ भगोड़ा घोषित




इस्‍लामाबाद । बेनजीर भुट्टो हत्‍या मामले पर आतंक निरोधी अदालत (ATC) की ओर से गुरुवार को फैसला सुनाया गया जिसमें दो को कैद और पांच आरोपियों को बरी कर दिया गया। साथ ही परवेज मुशर्रफ को फरार घोषित कर दिया गया है। एक दशक से लंबित इस मामले पर सुनवाई के बाद एटीसी जज अशगर अली खान ने बुधवार को फैसला सुरक्षित रखा था। दो बार पाकिस्तान की प्रधानमंत्री रह चुकीं बेनजीर भुट्टो की 27 दिसंबर 2007 में रावलपिंडी में नृशंस हत्या कर दी गई थी।

जब्‍त होंगी मुशर्रफ की तमाम संपत्‍ति 
एटीसी जज अशगर खान ने बेनजीर भुट्टो मर्डर के हाई प्रोफाइल केस पर आज फैसला सुना दिया। कोर्ट ने पूर्व राष्‍ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ को इस केस में फरार घोषित किया। एटीसी ने अधिकारियों को मुशर्रफ की सभी संपत्‍ति जब्‍त करने का आदेश दिया है। साथ ही इसने पूर्व डिप्‍टी इंस्‍पेक्‍टर जनरल सऊद अजीज को 17 साल कैद की सजा सुनाई है। एफआइए अधिकारियों के अनुसार सऊद अजीज इस अपराधा में शामिल था क्‍योंकि उसने बेनजीर को पर्याप्‍त सुरक्षा मुहैया नहीं कराया था।

सबूतों के अभाव में बरी हुए पांच आरोपी
सऊद अजीज के वकील ने कोर्ट में कहा कि बेनजीर का पोस्‍टमार्टम अजीज की जिम्‍मेवारी नहीं थी बल्‍कि जरदारी ने इसकी अनुमति नहीं दी थी। रफाकत, हसनैन, राशिद अहमद, शेर जमान और एतजाज शाह को पर्याप्‍त सबूतों के अभाव में बरी कर दिया गया।

कल खत्‍म हुई सुनवाई

दो बार पाकिस्तान की प्रधानमंत्री रह चुकीं बेनजीर भुट्टो की 27 दिसंबर 2007 में रावलपिंडी में नृशंस हत्या कर दी गई थी। हत्या के तत्काल बाद मामला दर्ज किया गया था जिसकी सुनवाई कल रावलपिंडी में खत्म हुई। आतंकवाद निरोधक अदालत की ओर से पाकिस्तान आतंकी गुट तहरीक-ए-तालिबान के पांच आतंकियों तथा दो वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों पर फैसला सुनाया जाएगा।

2008 में सुनवाई की शुरुआत
पांचों संदिग्धों के खिलाफ मुख्य सुनवाई जनवरी 2008 में शुरू हुई जबकि मुशर्रफ, अजीज तथा शहजाद के खिलाफ सुनवाई फेडरल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी की नई जांच के बाद 2009 में शुरू की गई। इस अवधि में आठ अलग-अलग न्यायाधीशों ने मामले की सुनवाई की। .बेनजीर की हत्या के लिए शुरू में टीटीपी के प्रमुख बैतुल्ला मेहसूद को जिम्मेदार ठहराया गया। मुशर्रफ की सरकार ने मेहसूद की एक अन्य व्यक्ति के साथ बातचीत का टेप जारी किया जिसमें वह हत्या के लिए व्यक्ति को बधाई दे रहा है। बता दें कि पीपीपी सरकार ने 2009 में बेनजीर मर्डर केस में फिर से जांच के आदेश दिए और एफआइए के जेआइटी ने जनरल मुशर्रफ, सऊद अजीज और एसएसपी खुर्रम शहजाद को आरोपी बताया था।

बेनजीर की हत्‍या के आरोपी-
जब बेनजीर की हत्या की गई थी तब परवेज मुशर्रफ पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे और वह भी बेनजीर मामले में एक आरोपी हैं। उनके पाकिस्तान लौटने पर उनके खलाफ सुनवाई अलग से होगी। बेनजीर की हत्या के बाद गिरफ्तार किए गए पांचों संदिग्ध- रफाकत हुसैन, हसनैन गुल, शेर जमान, ऐतजाज शाह और अब्दुल राशिद जेल में हैं। आरोपियों में रावलपिंडी के तत्कालीन पुलिस प्रमुख सऊद अजीज तथा एसएसपी कुर्रम शहजाद भी शामिल हैं। दोनों की ही गिरफ्तारी शुरुआत में हुई थी लेकिन 2011 में जमानत पर रिहा कर दिया गया था।

आरोपियों में एक मुशर्रफ भी
संघीय जांच एजेंसी (एफआइए) के मुख्‍य अधिवक्‍ता मोहम्‍मद अजहर चौधरी ने प्रतिबंधित तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तान (टीटीपी) के पूर्व मुखिया व एक मौलाना के बीच बातचीत के ऑडियो रिकॉर्ड के प्रमाण तथा फोन कॉल्‍स के सबूतों को खारिज कर दिया जिसमें बेनजीर की हत्‍या के लिए आतंकियों को बधाई दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मुशर्रफ ने जांचकर्ताओं को गुमराह करने और अपने आपको बचाने के लिए यह कहानी गढ़ी है। चौधरी ने दावा किया कि जनरल मुशर्रफ ने अपने सहयोगी रिटायर्ड ब्रिगेडियर जावेद इकबाल चीमा के जरिए मनगढंत कहानी बनाई। उनके अनुसार, जनरल मुशर्रफ भी आरोपी थे और बेनजीर की हत्‍या के लिए साजिश की थी।

बेनजीर के पोस्‍टमार्टम से इंकार
बेनजीर मर्डर केस की जांच के लिए गठित जेआइटी के वरिष्‍ठ सदस्‍य वाजिद जिया को काउंसल ने पोस्‍टमार्टम के लिए कहा लेकिन उनके पति आसिफ अली जरदारी ने इससे इंकार कर दिया।

जानें पूरा मामला
पाकिस्‍तान की पूर्व प्रधानमंत्री बेनजीर भुट्टो की 2007 के दिसंबर माह में रावलपिंडी में एक चुनाव प्रचार के दौरान हत्या कर दी गई थी। पाकिस्तान का एक बड़ा तबका उन्हें भ्रष्टाचारी के तौर पर देखने लगा था और बाद में भ्रष्‍टाचार का दोषी ठहराए जाने के बाद बेनज़ीर ने 1999 में पाकिस्तान छोड़ दिया। वे दुबई में रहने लगीं। लेकिन पाकिस्तान की सैनिक सरकार ने बेनजीर पर लगे विभिन्न आरोपों की जांच में उन्हें निर्दोष पाया जिसके बाद वे 18 अक्टूबर 2007 में पाकिस्तान वापस आ गयीं। इसके कुछ दिनों बाद 27 दिसंबर 2007 को एक चुनाव रैली के बाद उनकी हत्या कर दी गई।

नगर निगम ग्वालियर नवसंवत्सर-2074 विज्ञापन


गुरुवार, 24 अगस्त 2017

ब्राह्मण समाज ने डीजीपी को ज्ञापन देकर की आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग


भोपाल अखिल भारतीय ब्राह्मण समाज के प्रदेश अध्यक्ष पुष्पेन्द्र मिश्रा के नेतृत्व में समाज के पदाधिकारियों ने गुरुवार को डीजीपी से मुलाकात की। उन्होंने रीवा जिले के मऊगंज तहसील में गत 17 अगस्त को हुए विपिन मिश्रा नामक युवक पर तलवार के प्राणघातक हमले के आरोपियों को पकड़ने का मांग को लेकर कर ज्ञापन भी सौंपा। डीजीपी ने ब्राह्मण समाज के पदाधिकारियों को आश्वासन दिया कि आरोपी शीघ्र पकड़े जाएंगे। उन्होंने जिले के एसपी को इसके लिए निर्देशित भी किया गया। उन्होंने पदाधिकारियों को आश्वस्त किया कि आरोपी चाहे कितनी भी पहुंच क्यों न रखते हो, उन्हें किसी भी हालत में बख्शा नहीं जाएगा। उधर इसी मुद्दे को लेकर अभा ब्राह्मण समाज के पदाधिकारियों ने खनिज एवं उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ला के नाम उनके निज सचिव आनंद भट्ट को भी ज्ञापन सौंपा। दरअसल मंत्री जी के सिंगरौली में होने के कारण उनसे मुलाकात नहीं हो पाई। उन्होंने तत्काल घटना की जानकारी ली और बताया कि मप्र भवन दिल्ली से लाइजनर को अस्पताल भेजकर विपिन का हालचाल जानने की कोशिश की गई है। प्रदेश अध्यक्ष पुष्पेन्द्र मिश्रा तथा मीडिया सलाहकार श्याम मिश्रा ने बताया कि प्रतिनिधि मंडल के मिलने के बाद मुख्यमंत्री द्वारा दो लाख रुपए विपिन के इलाज के लिए स्वीकृत किए गए हैं।